नींबू के फायदे और नुकसान | Lemon Benefits And Side Effects In Hindi

नींबू के फायदे और नुकसान Lemon Benefits And Side Effects In Hindi गोलाकार आकृति के नीबू फल की झाड़ी होती है. जिन पर पीले व हरे रंग के नींबू लगते है. विटामिन सी का यह सबसे समर्द्ध स्रोत है. इसमे 5 प्रतिशत तक साइट्रिक अम्ल पाया जाता है. इसका ph मान 2 से 3 होता है. निम्बू को भारत में मुगल काल में शाही फल की श्रेणी में गिना जाता था. इसकी भारत में पहली खेती असम में की गई थी. पैदावार की दृष्टि से भारत नीम्बू का सबसे बड़ा उत्पादक देश है.

नींबू के फायदे और नुकसान Lemon Benefits And Side Effects In Hindi

नींबू के फायदे और नुकसान Lemon Benefits And Side Effects In Hindi

इसके पौष्टिक गुणों में तीन विटामिन (सी सबसे अधिक) के अतिरिक्त -पोटेशियम, आयरन, सोडियम, मैगनेशियम, तांबा, फास्फोरस और क्लोरीन भी भरपुर मात्रा में पाया जाता है. गर्मी ऋतु में नीम्बू का रस पीना फायदेमंद रहता है.

जो लू से बचने का कारगर उपाय है. खून की कमी से पीड़ित लोगों का नीम्बू का पानी पीना चाहिए, जिससे जल्दी खून बनता है. साथ ही इस गुणकारी फल के क्या फायदे (nimbu ke fayde) एवं क्या नुकसान है. इस बारे में जानकारी नीचे दी जा रही है.

nimbu ke fayde –

  1. पेट दर्द के लिए- नमक, अजवायन, जीरा, चीनी सब दो दो ग्राम बारीक करके थोड़ा नींबू निचोड़कर खाने से दर्द को फायदा करता है, इसे गर्म पानी से खाए.
  2. दांत दर्द- थोड़ा लौंग पीसकर नीम्बू निसोड़कर मलने से दर्द ठीक हो जाता है, खाने का सोडा मिलने से भी यह दर्द ठीक हो जाता है.
  3. पेचिश- आधा पाव ताजा पानी में नीम्बू निचोड़कर दिन में तीन बार पीये, पशिच को फायदा करेगा.
  4. सिर चकराना- पेट की गैस की वजह से सिर चकराता हो, दौरा पड़ता हो तो एक प्याली गर्म पानी में नींबू निचोड़कर आठ दिन पिलाएं, सिर चकराना जल्दी ठीक हो जाएगा.
  5. सीने में जलन- 250 ग्राम ठंडे पानी में नीम्बू निचोड़कर पीने से सीने की जलन और दिल घबराने पर आराम मिलता है.
  6. खूनी बवासीर- 1 नींबू काटकर 4 ग्राम कत्था पीसकर नींबू पर छिडक दे और रात को छत पर रखे, सुबह दोनों टुकड़े चूस ले, यह खून बंद करने की बढिया दवा है. 5 दिन तक इसका इस्तमोल करे.
  7. मोटापा दूर करना- 1 नींबू 250 ग्राम पानी में निचोड़कर खाली पेट पीये. गर्मियों में इसे दो महीने तक पीने से शरीर का वजन हल्का हो जाता है.
  8. नुस्खा पेट रोग का- त्रिफला, अजवायन, काला नमक 50-50 ग्राम, काली मिर्च 1-1 तोला, घी गवार आधा किलों सबकों कूटकर छानकर घी ग्वार के छोटे छोटे टुकड़े करके मिट्टी के बर्तन में 15 दिन तक धूप में रखे, नमक सेधा 30 ग्राम मिलाए, दवा तैयार है. पेट में बाय दर्द, कब्ज, भूख न लगना इत्यादि के लिए दो टुकड़े गर्म पानी के साथ दिन में दो बार खाने के बाद खाए, पेट के रोग दूर होंगे, पेट का फूलना, जी मचलना, खट्टी डकार आना बंद होगा, तथा गैस को ठीक करेगा.
  9. मुंहासे- एक तोला मलाई में चौथाई नींबू निचोड़कर रोजाना मुह पर लगाने से चेहरे का रंग साफ़ होगा तथा मुंहासे खत्म हो जाएगी, इसे गीले मुहासों पर न लगाएं.
  10. उल्टी के लिए- आधे नींबू का रस, एक छटांक पानी, एक माशा छोटी इलायची के दाने सबकों मिलाकर दो-दो घंटे बाद पिलाएं, उलटी बंद करने के लिए बहुत अच्छा नुस्खा है.

मित्रों घरेलू नुस्खों के रूप में आप इन 10 तरह से nimbu ke fayde ले सकते है. इसके अतिरिक्त नींबू के हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में जानकारी नीचे दी जा रही है.

lemon benefits in hindi (nimbu ke fayde) लेमन के फायदे

  1. नीम्बू के सेवन से चेहरे पर कील व मुंहासों को दूर किया जाता है, इसमें एल्कलाइन तत्व पाया जाता है, जो मुहासों के संक्रामक बैक्टीरिया को समाप्त कर देते है.
  2. नाखूनों का पीला व भद्दा दिखने का इलाज भी नीबू वाले पानी से किया जा सकता है, इसके लिए नाख़ून को कुछ समय तक नींबू रस में डुबो के रखे, ऐसा 6-7 दिन करे, फिर देखे अपने नाखूनों की चमक.
  3. बाहे अक्सर पसीने से छिपसीपी रहती है, जिसके कारण धूल, गंदगी के कारण यह स्थान काला पड़ने लगता है, इसके इलाज के लिए नींबू रस में रुई भिगोकर लगाए अथवा एक छिलके को भुजा के निचले भाग में रगड़े.
  4. सूखी तथा रुखी त्वचा व होठों को मुलायम व चमकदार बनाने के लिए नींबू रस बेहद फायदेमंद है. इसके लिए नींबू का एक टुकड़ा चर्म पर रगड़ने से एक नया सौन्दर्य व निखार उभरकर आता हाउ. इस नुस्खे को 6,7 दिन अपनाए और जबरदस्त लाभ पाए.
  5. नीम्बू के पानी में विटामिन सी, एंटी-ऑक्सीडेंट तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता का बड़ा स्रोत है.
  6. सुबह एक गिलाश नींबू पानी पीने से दिन भर शरीर में ताजगी बनी रहती है, तथा समय पर भूख प्यास लगती है.
  7. मोटापे से परेशान लोगों को कसरत करने से पूर्व एक गिलाश नींबू पानी पीने से बहुत फायदा मिलता है.
  8. नीम्बू पानी शरीर पेट में एसिडिटी की समस्या को समाप्त कर immune system को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है.

नींबू के नुकसान (Lemon Side Effects In Hindi)

इसमें कोई दो राय नही है, कि नीम्बू सेवन के अनगिनत फायदे है. मगर इनके कुछ नुकसान भी है. जिनसे हम मुह नही मोड़ सकते है. अधिक मात्रा में निम्बू के सेवन से शरीर में कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है, जो निम्न है.

  • पेट खराब होना
  • दांतो का खराब होना
  • जीभ पर छाले पड़ जाना
  • छाती में दर्द
  • अधिक सेवन से शरीर में जल की कमी
  • आवश्यक पोषक तत्वों की कमी
  • माइग्रेन और दमा की समस्या हो सकती है.

नींबू के पेड़ की जानकारी व भारत में खेती (lemon tree information in hindi)

विश्व में सबसे अधिक नींबू का उत्पादन भारत में ही किया जाता है. इसके बाद इसकी सबसे अधिक खेती मेक्सिकों व अर्जेन्टिना में की जाती है. पाला नींबू की खेती के लिए सबसे बड़ा खतरा है. इसके अतिरिक्त नींबू रोग इसके पेड़ को नुकसान पहुचाते है.

असार, सब्जी तथा विभिन्न स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होने के कारण भारत के पहाड़ी तथा मैदानी इलाकों में नींबू की खेती बड़ी मात्रा में की जाती है. इसके एक वृक्ष से लगभग 200 से 500 तक फल प्राप्त किये जाते है. कागजी नीम्बू की सबसे अच्छी किस्म, जो साल में दो बार फल देती है. इस वृक्ष की विशेष देखभाल से अच्छी कमाई की जा सकती है.

अच्छा नीम्बू कैसे चुने?

मार्केट में दिखने में नींबू तो काफी अच्छे लगते हैं परंतु उनमें से अच्छा नींबू कौन सा है इसे परखने की समझ काफी कम लोगों को ही होती है। इसीलिए जाने अनजाने में लोग कभी-कभी ऊपर से अच्छे दिखने वाले नींबू को खरीद कर लाते हैं परंतु उसे काटने पर वह खराब निकल जाता है। 

ऐसे में आपको अच्छा नींबू कैसे पसंद किया जाता है इसकी जानकारी होनी चाहिए। बता दे कि जो अच्छा नींबू होता है उसके ऊपर के छिल्के पतले होते हैं।

इस प्रकार से आप यह जान सकते हैं कि जिस नींबू के ऊपर का छिलका पतला है समझ लीजिए वह अच्छा नींबू है और जिस निंबू के ऊपर के छिलके में काले काले धब्बे होते हैं वह नीम्बू अंदर से सड़ा हुआ होता है।इसलिए आपको ऐसे नीम्बू को नहीं खरीदना चाहिए। 

अच्छे नींबू की पहचान करने का एक आसान तरीका यह भी है कि आप उसे दबा कर देखें। अगर वह धीरे-धीरे दबता तो समझ लीजिए कि वह अच्छा नीम्बू है और अगर वह एकदम से ही दब जाते हैं तो समझ लीजिए कि वह खराब नींबू है।

नींबू से बनने वाली चीजें कौन सी है?

बता दें कि, नीम्बू का स्वाद खट्टा होता है। इसीलिए मुख्य तौर पर गर्मियों का मौसम जब आता है तब नीम्बू की डिमांड सबसे ज्यादा बढ़ जाती है, क्योंकि इसके जरिए स्वादिष्ट और टेस्टी सरबत बनाया जाता है।

हालांकि सरबत ही एक ऐसी चीज नहीं है जिसका निर्माण करने के लिए नींबू का इस्तेमाल किया जाता है। नींबू का इस्तेमाल करके बहुत सारी चीजें बनाई जाती है जिन की सूची नीचे आपको दी जा रही है।

  1. नीबू का शरबत 
  2. नीबू का अचार
  3. नीबू पुदीना शरबत 
  4. नीबू चिया सीड शरबत 
  5. नीबू अदरक का शरबत 
  6. नीबू का अचार 
  7. नीबू की आइसक्रीम 
  8. नीबू के कैंडी 
  9. नीबू का विनेगर

नींबू के अन्य नाम क्या है?

सिट्रस औरंटीफोलिया यही वह नाम है जिसे नीम्बू का वानस्पतिक नाम कहा जाता है। हालांकि यह नाम पढ़ने में थोड़ा सा अटपटा लगता है। इसके अलावा भी नींबू के बहुत सारे नाम है, जिसकी सूची नीचे आपको दी जा रही है।

  • अंग्रेजी में: बीटर ऑरेंज, बीगेरेड ऑरेंज, सेवील्ले ऑरेंज, लाइम सौर ऑरेंज, खट्टा नींबू, कागजी नींबू
  • संस्कृत में: बृहत् जम्बीर, निम्बुक
  • उर्दू में: लिमू
  • कन्नड़ में: बीजपूर
  • तमिल में: चामपलम
  • तेलुगु में: बीजपूरम
  • बंगाली में: लेबू
  • नेपाली में: बिमिरो
  • मणिपुरी में: चाम्प्रा
  • मराठी में: अंबटनिंबू
  • अरेबिक में: लीबू
  • परिसियन में:लीबू

निंबू के उपयोगी भाग कौन से हैं?

बता दे कि नीम्बू के जो उपयोगी भाग हैं उनके नाम, नींबू, नींबू के पत्ते और नींबू के बीज हैं। इन तीनों चीजों का इस्तेमाल अलग-अलग प्रकार की समस्याओं के लिए अलग-अलग प्रकार से किया जाता है। नीम्बू की जिस चीज का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है वह है इसका रस।

नींबू का इस्तेमाल कैसे करते हैं?

बता दें कि आपको नीम्बू का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए यह इस बात पर डिपेंड करता है कि आप अपनी किस प्रकार की समस्या के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर आप किसी बीमारी की समस्या के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको जिस प्रकार से उस बीमारी के लिए नीम्बू फायदेमंद हो उस प्रकार से इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

अगर आप किसी अन्य चीज के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसकी विधि अलग-अलग होती है। अगर औषधि के तौर पर नींबू का इस्तेमाल आप करना चाहते हैं तो आपको चिकित्सक की राय सलाह के अनुसार इसका यूज करना चाहिए।

नींबू कहां पाया जाता है?

बता दे कि हमारे भारत में जितने भी राज्य हैं उन सभी जगह पर नीम्बू की खेती की जाती है परंतु कुछ राज्य ऐसे हैं, जहां पर भारी मात्रा में नीम्बू की खेती की जाती है जिसमें प्रमुख तौर पर दक्षिण भारत में आने वाले राज्य जैसे कि केरल, तमिलनाडु, कर्नाटकाौ आंध्र प्रदेश इत्यादि जगह पर इसकी खेती भारी मात्रा में होती है।

इसके अलावा मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भी इसकी खेती अच्छी खासी की जाती है। नींबू को आप अपने घर में भी लगा सकते हैं। इसके अलावा बाग बगीचे में भी इसकी पैदावार होती है।

यह भी पढ़े

मित्रों उम्मीद करता हु, नींबू के फायदे और नुकसान Lemon Benefits And Side Effects In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यहाँ दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर करे.

2 thoughts on “नींबू के फायदे और नुकसान | Lemon Benefits And Side Effects In Hindi”

  1. Pingback: नींबू के फायदे और नुकसान - Knowledge Dhamaka

  2. Pingback: नींबू के फायदे और नुकसान - Knowledge Dhamaka हिन्दी % %

Leave a Comment

Your email address will not be published.