मृत्यु भोज पर कविता | मृत्यु भोज अभिशाप | Mrityubhoj PAR KAVITA

मृत्यु भोज पर कविता | मृत्यु भोज अभिशाप | Mrityubhoj PAR KAVITA जिस आँगन में पुत्र शोक से बिलख रही माता, वहाँ पहुच कर स्वाद जीव का तुमको कैसे भाता। पति के चिर वियोग में

Read more

हम जंग न होने देंगे | Hum Jung Na Hone Denge | Hindi Kavita

Hindi Kavita पूर्व प्रधानमन्त्री और हिंदी में अपनी लेखनी से सवेदनशील मानवीय मुद्दों और राष्ट्रिय एकता सहित प्राकृतिक मनोरम को लेकर पूज्य श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने कई कवितायेँ लिखी.अटल जी की प्रमुख रचनाओं

Read more