मध्य प्रदेश पर कविता | Poem On Madhya Pradesh In Hindi

Poem On Madhya Pradesh In Hindi भारत के ह्रदय प्रदेश अर्थात मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस पर मध्य प्रदेश पर कविता आपके लिए लेकर आए हैं. बहु संस्कृतियों के संगम एमपी को मिनी वर्ल्ड भी कहा जाता हैं. सुनहरी प्राकृतिक छटा में बसे म.प्र. के बारे में Poem On Madhya Pradesh In Hindi में आपके लिए कुछ कविताएँ संग्रह की हैं. आप यहाँ मध्य प्रदेश की संस्कृति इतिहास से जुड़ी कई कविताएँ पढ़ेगे.

मध्य प्रदेश पर कविता | Poem On Madhya Pradesh In Hindi

मध्य प्रदेश पर कविता | Poem On Madhya Pradesh In Hindi

Read Here Short & Big Poem On Madhya Pradesh In Hindi Language For Students & Kids.

Short Poem On Madhya Pradesh In Hindi Language

मेरा मध्यप्रदेश

मेरा प्यारा प्यारा मध्यप्रदेश है
विश्व को देता शांति का संदेश हैं

यहाँ हिन्दू मुस्लिमों की होती हैं होली
पहचान हमारी विविधता और भाषा बोली

कहते इसे बाधो का प्रवेश हैं
यहाँ उज्जैन और अमरकंटक विशेष है

प्रकृति ने दिया इसे वरदान है
पंचमढ़ी और साँची स्तूप महान हैं

चित्रकूट में राम ने काटा वनवास है
आज यहाँ चारो ओर हरियाली और विकास हैं

उद्योगों ने यहाँ फैलाया जाल है
मैहर में शारदा देवी और उज्जैन महाकाल

किसानों ने दिलाया इसे कृषि कर्मठ पुरस्कार है
मध्यप्रदेश में तेज विकास की रफ्तार है

poems on incredible madhya pradesh in hindi

देश का ह्रदय मध्यप्रदेश है
यहाँ कला साहित्य विशेष है

सुख शांति और सम्रद्धि का प्रतीक है
बुंदेलखंड का विशिष्ट रहा अतीत है

कृषि में मध्यप्रदेश ने रचे कीर्तिमान है
साँची खजुराहो भी बड़ा रहे मान हैं

सघन वन, रत्न और खनिज संपदा अशेष हैं
एकता और सभ्यता आज भी शेष है.

मेरा मध्यप्रदेश है… मेरा मध्यप्रदेश हैं.

poem on madhya pradesh in hindi

खजुराहों की शिल्प कला और भीमबेटका विश्व धरोहर
चित्रकूट पौराणिक स्थल, साँची के स्तूप यहाँ
भेड़ाघाट का सुंदर झरना, पानी का कल कल संगीत
ओंकार और महाकाल की होवे जय जयकार यहाँ

सतपुड़ा के घने जंगल, कान्हा नेशनल पार्क मंडला
शिवपुरी पर्यटन नगरी बाघ शेर चिन्कार यहाँ
मैहर माँ शारदे मन्दिर, उदयगिरि प्राचीन गुफाए
ओरछा में राम मंदिर, चंदेरी का दुर्ग यहाँ.

पचमढ़ी का हिल स्टेशन, चम्बल के घड़ियाल यहाँ
वन विहार पर्यटन स्थल, ग्वालियर मांडू महल यहाँ
ह्रदय देश का इतना सुंदर, आओ हम सब इसे निहारें
आ जाओ मध्य प्रदेश घूमने, तानसेन की तान पुकारे

मध्य प्रदेश पर कविता

सुख का दाता सब का साथी शुभ का यह संदेह हैं
माँ की गोद, पिता का आश्रय मेरा मध्यप्रदेश है

विध्यांचल सा भाल नर्मदा का जल जिसके पास है
यहाँ ज्ञान विज्ञान का लिखा गया इतिहास है
उर्वर भूमि, सघन वन, रत्न संपदा जहाँ अशेष है
स्वर सौरभ सुषमा से मंडित मेरा मध्यप्रदेश है.

सुख का दाता सब का साथी शुभ का यह संदेश है
माँ की गोद पिता का आश्रय मेरा मध्य प्रदेश है.

चम्बल की कल कल से गुंजित कथा तान बलिदान की
खजुराहो में कथा कला की, चित्रकूट में राम की
भीमबैठका आदिकला का पत्थर अभिशेक है
अमृत कुंड अमरकंटक में, ऐसा मध्यप्रदेश है.

क्षिप्रा में अमृत घट छलका मिला कृष्ण को ज्ञान यहाँ
महाकाल को तिलक लगाने हमें मिला वरदान यहाँ
कविता, न्याय, वीरता, गायन, सब कुछ यहाँ विशेष है
ह्रदय देश का है यह मैं इसका, मेरा मध्यप्रदेश है.

सुख का दाता सब का साथी शुभ का यह संदेश है
माँ की गोद पिता का आश्रय मेरा मध्य प्रदेश है.

मध्य प्रदेश की झलक

कुंभ का मेला लगता है,
यहां नर्मदा का वेग बेहता है,
ज्ञान-विज्ञान की कला का इतिहास यहाँ,
विंध्याचल, नर्मदा का जल बहता यहां,

चंबल के घड़ियाल हैं यहां पर,
ग्वालियर, मांडू महल है यहां पर,
हृदय देश को आओ निहारें,
आओ तानसेन की तान पुकारें,

मध्य प्रदेश की जमीन है जहां,
मिलते हैं डायमंड और ताम्बे वहां,
यहां का कुंभ का मेला है मश्हूर,
राष्ट्रीय पर्यटन के लिए यहां जाना जरूर,

भारत का हृदय ये कहलाता है,
यहां भिन्‍न-भिन्‍न तरह की भाषा है,
खूबसुरती से भरपूर अपना मध्य प्रदेश,
भिन्‍न-भिन्‍न हैं यहां के परवेश,

तीर्थ स्थल है बहुत यहाँ पर,
आओ दर्शन करें भोले के यहां आ करें,
एक बार जो मध्य प्रदेश आ जाएगा,
वो कभी भी इसे भूल ना पायेगा,
Aruna Gupta

मध्यप्रदेश की ख़ूबसूरती

मध्य प्रदेश की राजधानी है भोपाल,
इसका क्षेत्र फल है बड़ा विशाल,
पांच राज्यों की सीमाएँ हैं इससे मिलती हैं,
महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश आदि से हैं मिलती,

हीरे, ताम्बे का यहाँ बड़ा भंडार है,
खनिज संसाधनो का यहां अंबर है,
राष्ट्रीय पर्यटन के लिए जाना जाता,
कुंभ मेले का स्थल है ये कहलाता ,

अलग-अलग यहाँ की भाषा,
अलग-अलग है चाहे परवेश,
फिर भी ये हृदय देश कहलाता,
बहुत खूबसूरत है अपना मध्य प्रदेश,

अमृत ​​बेहता है यहाँ नदियों में,
वाणी में नहीं है कोई द्वेष,
पग-पग पर सद्भावना से भरा हुआ है,
मध्य प्रदेश काई भाषाओ से जुड़ा हुआ है,

अलग अलग भाषा यहां है बोली जाती,
रंग-रूप से ना तोली जाती,
संस्कृति को जीवित रखा है इसमें,
माँ को गोद पिता का आश्रय ये जिसमें,
Aruna Gupta

यह भी पढ़े-

मैं उम्मीद करता हूँ दोस्तों यहाँ दिए गये Poem On Madhya Pradesh In Hindi आपकों पसंद आए होंगे यदि आपकों यहाँ दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. Poem On Madhya Pradesh In Hindi का लेख आपकों कैसा लगा यदि आपके पास भी इस तरह के स्लोगन हो तो कमेंट कर हमें अवश्य बताए.

Leave a Comment

Your email address will not be published.