रवींद्र जडेजा का जीवन परिचय Ravindra Jadeja Biography in Hindi

क्रिकेटर रवींद्र जडेजा का जीवन परिचय Ravindra Jadeja Biography in Hindi– रविन्द्र जडेजा भारतीय टीम के मुख्य ऑल राउंडर खिलाडी है. रविन्द्र जडेजा का जीवन संघर्षों से भरा है. आज के आर्टिकल में हम रविन्द्र जडेजा के जीवन के बारे में जानेंगे.

रवींद्र जडेजा का जीवन परिचय Ravindra Jadeja Biography in Hindi

रवींद्र जडेजा का जीवन परिचय Ravindra Jadeja Biography in Hindi
पूरा नाम रवीन्द्र जडेजा
जन्म 6 दिसंबर 1988
पिता अनिरुद्धसिंह जडेजा
माता लता जडेजा
उपनाम सर जडेजा, जड्डू
आयु 30 वर्ष
पेशा अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेटर
शौक घुड़सवारी, गाडी चलाना
धर्म हिन्दू (राजपूत)
जन्म स्थल राष्ट्रीयता जामनगर गुजरात भारत
जर्सी नंबर 8
कोच महेंद्रसिंह चौहान
कमाई 38 लाख
पत्नी रीवा सोलंकी
पुत्र/पुत्री निध्याना (पुत्री)

रवीन्द्र जडेजा वर्तमान समय में भारत के तीनो फोर्मेट के प्लेयर है. जडेजा बाए हाथ के बलेबाज व् गेंदबाज है. जडेजा अपनी स्लो स्पीन की फिरकी के लिए काफी प्रसिद्ध है. जडेजा को जड्डू तथा सर जडेजा के नाम से जानते है.

क्रिकेटर रविन्द्र जडेजा का पूरा नाम रविन्द्रसिंह अनिरुद्धसिंह जडेजा है. जडेजा का जन्म 6 दिसम्बर 1988 को भारत के गुजरात राज्य के जामनगर जिले में हुआ. जडेजा का जन्म एक राजपूत परिवार में हुआ. जो मध्यवर्गीय परिवार था.

जडेजा के पिता का अनिरुद्धसिन्ह जडेजा तथा उनकी माता का नाम लता जडेजा है. जडेजा के पिताजी भारतीय सेना में शामिल थे. और कई सालो तक उन्होंने भारतीय सेना में सेवा दी. पर सेना की मुठभेड़ में चोटिल हो जाने के कारण पिता अनिरुद्धसिंह जडेजा ने आर्मी की नौकरी को त्याग दिया.

चोटिल होने के पश्चात् अनिरुद्धसिंह जडेजा ने प्राइवेट नौकरी सिक्योरिटी एजेंसी में कार्य किया. जडेजा को प्यार से जड्डू के नाम से बुलाते है. जडेजा की माता लता जडेजा एक डॉक्टर तथा गृहणी महिला था.

जडेजा के पिताजी जडेजा को बचपन से जी भारतीय सेना में भर्ती करवाने चाहते थे, पर जडेजा क्रिकेट की ओर अधिक ध्यान देते थे. जिस कारण उनकी माता लता जडेजा ने जडेजा को क्रिकेटर बनने के लिए प्रेरित किया और जडेजा का हौसला बढाया.

जडेजा की माता की बहस के कारण पिताजी भी जडेजा को क्रिकेटर बनाने के लिए राजी हुए. जडेजा सभी की सहमती के बाद क्रिकेटर बनने के लिए मेहनत करने लगे. पर मात्र 17 वर्ष की आयु में जडेजा की माता ने उनका साथ छोड़ दिया.

अपनी माता की मृत्यु के सक्मे को सहन नहीं कर पाने के कारण जडेजा एक बार के लिए टूट गए. हमेशा निराशा में ही रहते थे. लेकिन इस समय उनकी बहन नैना ने उनका हौसला बढ़ाया और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया.

पिताजी ने नौकरी छोड़ दी तथा माता जी का दिहांत होने के पश्चात आर्थिक कमी आने के कारण बहन नैना ने नर्स की नौकरी प्राप्त की और परिवार की स्थिति को संभाला और जडेजा को आगे बढ़ाया.

लता जडेजा की मृत्यु के कुछ समय पश्चात ही वर्ष 2002 में ही रविन्द्र जडेजा का चयन को सौराष्ट्र की टीम में हुआ. सौराष्ट्र की टीम की ओर से खेलते हुए. जडेजा ने डेब्यू मैच में ही 4 विकेट झटके तथा 87 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली.

इस पारी से जडेजा को काफी लोकप्रियता मिली. जडेजा ने आगे भी इस प्रदर्शन को जारी रखा और अच्छे प्रदर्शन के चलते जडेजा को अंडर 19 भारतीय टीम में खेलने का मौका दिया. इस प्रतियोगिता में जडेजा ने अच्छा खेल दिखाया.

अंडर 19 भारतीय टीम फाइनल तक पहुंची पर फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा इस मैच में जडेजा ने 3 अहम विकेट ;लिए तथा काफी रन भी बनाए लेकिन भारत को हार मिली.

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर

रविन्द्र जडेजा के अच्छे प्रदर्शन के कारण 8 फरवरी 2009  को श्रीलंका के खिलाफ चल रही एकदिवसीय सीरिज के अंतिम मैच में जडेजा को खेलने का मौका मिला. अपने डेब्यू मैच में ही जडेजा ने शानदार अर्द्ध शतकीय पारी खेली.

एकदिवसीय क्रिकेट में अच्छा खेल दिखाने के कारण उसी दौरे में अगले मैच 10 फरवरी को T-20 क्रिकेट में डेब्यू किया. इस मैच में भी जडेजा ने अच्छा प्रदर्शन किया.

रविन्द्र जडेजा ने वर्ष 2012 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भारत के पहले खिलाडी बने जिन्होंने प्रथम श्रेणी में तीन तिहरे शतक लगाए. जडेजा का ये रिकॉर्ड आज भी अजेय है. प्रथम श्रेणी के इस आक्रमक प्रदर्शन के बाद उन्हें टेस्ट में डेब्यू करने का मौका मिला.

13 दिसम्बर 2012 को रविन्द्र जडेजा ने इंगलैंड के खिलाफ नागपुर में टेस्ट डेब्यू किया. जडेजा ने अन्तर्राष्ट्रीय टेस्ट में भी अपना आक्रमक रवैया जारी रखा.

रवीन्द्र जडेजा का आईपीएल करियर

जडेजा आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स, गुजरात लॉयंस, राजस्थान रॉयल्स के लिए खेले है. जडेजा का आईपीएल में काफी बेहतर प्रदर्शन रहा है. जडेजा ने पहली बार 2012 के आईपीएल सीजन में चेन्नई की टीम की ओर से खेला.

2012 की आईपीएल नीलामी में जडेजा को चेन्नई ने 14 करोड़ की बड़ी रकम से ख़रीदा इस साल के आईपीएल और अगले साल के आईपीएल में जडेजा ने चेन्नई के लिए खेले और अच्छा प्रदर्शन किया.

राजस्थान और चेन्नई की टीम को दो साल के लिए आईपीएल खेलने से प्रतिबन्ध करने के बाद गुजारत तथा पुणे टीम को आईपीएल में खेलने का मौका मिला जिसमे जडेजा को गुजरात ने ख़रीदा.

दो साल का प्रतिबन्ध हटने के पश्चात् जडेजा को वापस चेन्नई ने खरीद लिया. और जडेजा आज तक चेन्नई की टीम से जुड़े हुए है.  और अपना शानदार प्रदर्शन दिखा रहे है. जडेजा चेन्नई के कप्तान भी रह चुके है. जडेजा ने अपने आईपीएल करियर में 191 मैचो में 2290 रन बनाए है.

जडेजा के साथी तथा स्पिनर आश्विन टेस्ट के टॉप गेदबाज रहे पर 2017 में जडेजा ने आश्विन को पीछे छोड़कर टेस्ट के बेस्ट बॉलर बन गए. टेस्ट के साथ वे वनडे और टी ट्वेंटी में भी अच्छा प्रदर्शन दिखा रहे है.

करियर आंकडें

जडेजा अब तक 168 वनडे खेल चुके है. रविन्द्र ने 2211 रन बनाए है. इस दौरान उन्होंने 10 अर्द्धशतक भी बनाए. और 188 विकेट भी लिए.  टेस्ट क्रिकेट में जडेजा अब तक 54 टेस्ट मैच खेल चुके है. जिसमे उन्होंने 2084 रन बनाए और 221 विकेट झटके।

टी ट्वेंटी में जडेजा को बलेबाजी करने का मौका कम मिलता है. जिस कारण टी ट्वेंटी में जडेजा का प्रदर्शन काफी कमजोर रहा इन्होने 50 ट्वेंटी मैचो में मात्र 217 रन बनाए. और 39 विकेट झटके.

रविन्द्र जडेजा का आईपीएल करियर काफी बेहतर रहा जहां इन्होने 191 मैचो में 2290 रन बनाए. इस दौरान 3 बार चेन्नई आईपीएल ख़िताब की विजेता रही जिसमे जडेजा की अहम भूमिका रही.

रविन्द्र जडेजा का परिवार (Ravindra Jadeja Family)

वर्तमान में जडेजा के साथ उनके पिताजी अनिरुद्धसिंह जडेजा उनकी बड़ी बहन नैना तथा छोटी बहन पद्मिनी जडेजा और क्रिकेट कोच महेंद्र सिंह चौहान है. जो उनका आज भी सहयोग कर रहे है.

जडेजा ने 2016 में सगाई के बाद रीवा सोलंकी से विवाह किया.और आज जडेजा के घर में एक बेटी भी है. जिसका नाम निध्याना है. जिसे जडेजा बहुत प्यार करते है.

ये भी पढ़ें

प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख क्रिकेटर रवींद्र जडेजा का जीवन परिचय Ravindra Jadeja Biography in Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

Leave a Comment

Your email address will not be published.