26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण | Republic Day Speech In Hindi 2022

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण Republic Day Speech In Hindi 2022 में आपका हार्दिक स्वागत हैं. आज हम 72 वाँ गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं. 26 January Speech का भाषण आज हम स्कूल तथा कॉलेज के स्टूडेंट्स के लिए लाए है. जो 26 जनवरी 2022 के गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में प्रस्तुती देना चाहते हैं. आज के Republic Day Speech को छोटे स्टूडेंट्स को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है. भारतीय गणतंत्र दिवस पर स्पीच तथा रिपब्लिक डे स्पीच (गणतंत्र दिवस पर भाषण) को आप कागज पर उतारकर अपने विद्यालय में भी प्रस्तुत कर सकते हैं.

गणतंत्र दिवस पर भाषण Republic Day Speech In Hindi 2022

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण Republic Day Speech In Hindi 2022

बिना वक्त गवाएं चलिए हम Republic Day Speech in Hindi For School Students की शुरुआत करते हैं. यदि आप एक स्टूडेंट्स है और 26 जनवरी का हिंदी भाषण तलाश कर रहे है तो इस स्पीच को आप भी पढ़े तथा सोशल मिडिया के जरिये अपने सभी दोस्तों तक भी पहुचाएं ताकि वे भी इसका लाभ ले सके.

Short Republic Day Speech in Hindi For Teacher

सुप्रभात, आदरणीय मुख्य अतिथि महोदय, समस्त विद्वान गुरुजनों और मेरे प्यारे भाइयो और बहिनों. आज हम सब 69 वाँ गणतंत्र दिवस मनाने के लिए यहाँ एकत्रित हुए हैं.

इस स्वर्णिम आभा की प्रभात में आप सभी को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं. आज इस अवसर पर कार्यक्रम आयोजकों ने मुझे बोलने का अवसर दिया, उनका बहुत बहुत धन्यवाद. मैं आपके समक्ष गणतंत्र दिवस का भाषण प्रस्तुत करने जा रहा हूँ.

Republic Day Speech in Hindi For Students 

15 अगस्त को हम स्वतंत्रता दिवस तथा 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में हर साल मनाते हैं. ये हमारे राष्ट्रीय पर्व है. गणतंत्र का अर्थ होता है- समूह द्वारा शासन संचालित करने की व्यवस्था. जिसे दूसरे शब्दों में जनता का शासन भी कहा जाता हैं.

आज से 72 वर्ष पूर्व तक हमारा भारत अंग्रेजों के अधीन था. हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने देश की आजादी के लिए लम्बी लड़ाई लड़ी जिसके परिणामस्वरूप 15 अगस्त 1947 को हमारा देश स्वतंत्र हो गया था.

स्वतंत्रताप्राप्ति के बाद भारत में संविधान निर्माण की प्रक्रिया शुरू हुई. 2 वर्ष 11 माह और 18 दिनों के अथक प्रयासों के बाद हमारे देश का संविधान बनकर 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था.

26 जनवरी के ऐतिहासिक दिन को याद रखते हुए, इसे यादगार दिवस बनाने के उद्देश्य से ही 26 जनवरी 1950 के दिन भारत का संविधान लागू किया गया था तथा इसी दिन को हम गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं. 26 जनवरी के दिन ही लाहौर अधिवेशन में रावी नदी के तट पर पहली बार तिरंगा फहराया गया था.

1950 के बाद से आज तक हम 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस मनाते आ रहे हैं. इस दिन को मनाने का महत्व इसलिए भी हैं. क्योंकि 26 जनवरी के दिन ही भारत को पूर्ण रूप से आजादी मिली थी. हालांकि औपचारिक तौर पर स्वतंत्रता तो 15 अगस्त 1947 के दिन ही मिल गई थी.

मगर भारत में अंग्रेजों द्वारा बनाए गये कानूनों के आधार पर ही शासन चलाया जाता था. इसलिए 26 जनवरी को भारत पूरी तरह अंग्रेजी हुकुमत से मुक्त हो गया. इस दिन को स्मरण के रूप में गणतंत्र दिवस को बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता हैं.

इस दिन देशभर के स्कूलों, कार्यालयों में झंडारोहण कर हर्षोल्लास के साथ गणतंत्र दिवस मनाया जाता हैं. इस अवसर पर राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यक्रम का आयोजन किया जाता हैं. जिसकी अध्यक्षता माननीय राष्ट्रपति महोदय द्वारा की जाती है.

गणतंत्र दिवस पर सवेरे ही परेड निकाली जाती हैं. साथ ही साथ भारत के सभी राज्यों की संस्कृति को प्रतिबिम्बित करने वाली झाकियां प्रस्तुत की जाती हैं.

इंडिया गेट पर राष्ट्रपति परेड की सलामी लेते हैं. 26 जनवरी उत्सव का दिन है इस अवसर पर राजधानी दिल्ली को दुल्हन की तरह सजाया जाता हैं. दिल्ली के भव्य कार्यक्रम को देखने के लिए दूर दूर के राज्यों के लोग आते हैं.

विद्यालयों में इस दिन तिरंगा फहराया जाता हैं तथा कई तरह के देशभक्ति गीतों से आसमान गूंज उठता हैं. छोटे छोटे बच्चे मनमोहक प्रस्तुतियां देते हैं. गणतंत्र दिवस जैसे अवसर हमारे लिए न केवल एक दिवस है बल्कि हमारे करोड़ो स्वतंत्रता सेनानियों को याद करने का अवसर भी हैं.

इस अवसर पर मैं भारत की आजादी के लिए लड़ने वाले प्रत्येक सिपाही को सिर झुकाकर नमन करता हूँ तथा आज यह वायदा करता हूँ कि उन्होंने जिस भारत का सपना देखा था उसे हम साकार करेगे. जय हिंदी जय भारत.

गणतंत्र दिवस : हमारा राष्ट्रीय पर्व 2022 भाषण स्पीच

स्वतंत्रता मानव मात्र का जन्म सिद्ध अधिकार है. पशु पक्षी भी बंधन और पराधीनता में दुखी रहते है. हमारे देश में समय चक्र और हमारी भूलों के कारण परतंत्र हो गया, सैकड़ों वर्षों तक हमे पराधीनता का अपमानजनक जीवन बिताना पड़ा.

किन्तु देश भक्तों के संघर्ष और बलिदान ने परतन्त्रता की जंजीरे तोड़ डाली और 15 अगस्त 1947 को हमारा प्यारा भारत स्वतंत्र हो गया.

गणतन्त्र की स्थापना (republic day essay)

15 अगस्त को हम स्वतंत्र तो हो गये लेकिन देश में विदेशियों के बनाए विधान और कानून बने रहे. अतः 26 जनवरी 1950 को हमारे देश में अपना संविधान लागू किया गया.

हमने देश में पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न लोकतन्त्रात्मक गणतंत्र की स्थापना की. 26 जनवरी 1929 को ही हमारे नेताओं और जनता ने रावी नदी के तट पर पूर्ण स्वतंत्रता का संकल्प लिया था.

इसी कारण 26 जनवरी को ही गणतंत्र की स्थापना का दिन निश्चित किया गया.

देश में तथा दिल्ली में मनाया जाना

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस बड़े उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है. लेकिन दिल्ली में इसका आयोजन बड़े धूमधाम और भव्यता से किया जाता है.

इस दिन प्रातकाल प्रधानमन्त्री दिल्ली के इण्डिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति पर जाकर देश के शहीदों के प्रति पुष्पांजली अर्पित करते है. विजय चौक पर मुख्य आयोजन होता है.

राष्ट्रपति के मुख्य आयोजन स्थल पर आने पर प्रधानमंत्री उनका स्वागत करते है. किसी देश के प्रमुख को इस दिन मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया जाता है.

सेना के तीनों अंग तथा पुलिस दल राष्ट्रपति को सलामी देते हुए गुजरते है. सेना के प्रमुख अस्त्रों शस्त्रों का प्रदर्शन किया जाता है. विद्यालय के बच्चों तथा विभिन्न राज्यों से आए लोक कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करते है.

वीरतापूर्ण कार्यों के लिए पुरस्कार प्राप्त बच्चें हाथी पर बैठकर राष्ट्रपति को अभिवादन करते निकलते है. अंत में देश के सभी राज्यों की विविध झाकियां निकाली जाती है.

रात को सरकारी भवनों तथा राष्ट्रपति भवन को बिजली की बतियों से सजाया जाता है. दिल्ली के साथ ही देश के सभी राज्यों के सरकारी विभागों में विद्यालयों में गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

गणतंत्र दिवस का संदेश (Message of Republic Day)

गणतन्त्र दिवस हमें देश की स्वतंत्रता के लिए बलिदान देने वाले वीर सपूतों की याद कराता है. और राष्ट्रीय एकता बनाए रखने का संदेश देता है.

राष्ट्रीय पर्वों का हमारे लिए अत्यंत महत्व है. ये दिवस हमे राष्ट्रीय गौरव से ओत प्रेत करते है. और देश भक्ति की भावना को जगाते है. हम सभी को इनमें उत्साह के साथ भाग लेना चाहिए.

गणतंत्र दिवस पर भाषण स्पीच 2022 | Short Speech On Republic Day In Hindi

गणतंत्र दिवस हमारे देश भारत का राष्ट्रीय पर्व है । यह दिन भारत के गणतंत्र बनने की खुशी में मनाया जाता है, आज ही के दिन हमारा भारत देश 26 जनवरी, 1950 को गणतांत्रिक राष्ट्र घोषित किया गया था गणतंत्र दिवस पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के स्टूडेंट्स के लिए 100, 200, 250, 500 शब्दों में यहाँ गणतंत्र दिवस पर हिंदी में भाषण उपलब्ध कराया जा रहा है.

स्वतंत्रता मानव मात्र का जन्म सिद्ध अधिकार है पशु पक्षी भी बधन और परतन्त्रता में दुखी रहते है हमारा देश समय -चक्र और हमारी भूलो के कारण परतंत्र हो गया सेकड़ो वर्षो तक हमे पराधीनता का अपमानजनक जीवन बिताना पड़ा .किन्तु देश -भक्तो के संघर्ष और बलिदान ने परतन्त्रता की जंजीरे तोड़ डाली और 15 अगस्त 1947 को हमारा प्यारा भारत स्वतंत्र हो गया.

गणतन्त्र की स्थापना -15 अगस्त को हम स्वतंत्र तो हो गये लेकिन देश में विदेशियों के बनाये विधान और कानून बने रहे .अतं 26 जनवरी ,1950 को हमारे देश में अपना संविधान लागू किया गया .हमने देश में पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न लोकतन्त्रात्मक गनतंत्र की स्थापना की.

26 जनवरी ,1929 को ही हमारे नेताओं और जनता ने रवि नदीं के तट पर पूर्ण स्वतंत्रता का संकल्प किया गया इसी कारण 26 जनवरी को ही गणतन्त्र स्थापना का दिन निश्चित किया गया.

गणतंत्र दिवस कार्यक्रम (Republic Day Events)

देश में तथा दिल्ली में मनाया जाना 26 जनवरी को पुरे देश में गणतन्त्र दिवस बड़े उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है. लेकिन दिल्ली में इसका आयोजन बड़ी धूमधाम और भव्यता से होता है. इस दिन प्रात ;काल प्रधानमन्त्री इंडिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति पर जाकर देश के शहीदों के प्रति पुष्पांजली अर्पित करते है.

विजय चौक मुख्य आयोजन होता है .राष्ट्रपति के आयोजन स्थल पर आने पर  प्रधानमन्त्री उनका स्वागत करते है .किसी देश के प्रमुख को इस दिन मुख्य अथिति के रूप में आमंत्रित किया जाता है .राष्ट्रपति राष्ट्रीय ध्वज फहराते और आयोजन आरम्भ हो जाता है .

सेना तीनों अंग तथा पुलिस बल राष्ट्रपति को सलामी देते हुए गुजरते है .सेना के प्रमुख अस्त्र -शस्त्रों का प्रदर्शन किया जाता है. विद्यालयों के बच्चें तथा विभिन्न राज्यों से आए लोक -कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करते है.

वीरतापूर्ण कार्यो के लिए पुरस्कार प्राप्त बच्चे हठी पर बैठकर राष्ट्रपति अभिवादन करते निकलते है. अंत में देश के सभी राज्यों की विविध झाँकियाँ निकलती है .रात को सरकारी भवनों तथा राष्ट्रपति भवन को बिजली की बतियों से सजाया जाता है.

दिल्ली के साथ ही देश के सभी राज्यों के सरकारी विभागों में तथा विद्यालयों में गणतन्त्र दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है .

गणतंत्र दिवस का संदेश (Republic Day Message)

गणतन्त्र दिवस हमें देश की स्वतंत्रता के लिए बलिदान होने वाले वीर सपूतों की याद कराता है. और राष्ट्रीय एकता बनाए रखने का संदेश देता है .

राष्ट्रीय पर्वो का हमारे लिए अत्यंत महत्व है. ये दिवस हमें राष्ट्रीय गौरव से ओत -प्रोत करते है और देश भक्ति की भावना जगाते है, हम सभी को इनमें उत्साह के साथ भाग लेना चाहिए .

यह भी पढ़े

प्रिय दोस्तों, आपको यह 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण Republic Day Speech In Hindi 2022 कैसा लगा, कमेंट कर अपनी राय जरुर दे. साथ ही यह छोटा सा भाषण आपकों पसंद आया हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे, एक बार फिर से हैप्पी रिपब्लिक डे.

अपने विचार यहाँ लिखे