साहस ही जीवन है पर निबंध | Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi

Here article, we are providing about courage is life Essay in Hindi. साहस ही जीवन है पर निबंध Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi, The Spirit of Adventure Par Nibandh class 1,2, 3, 4, 5, 6, 7, 8,9, 10, 11, 12 Students.

Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi

साहस ही जीवन है पर निबंध | Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi

संघर्ष का दूसरा नाम ही जीवन हैं, जीवन में ऐसे सैकड़ों कार्य है जहाँ हमे कई मुश्किलों और परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं. बहुत से लोग जीवन में छोटी छोटी समस्याओं पर झुंझला जाते है और वह राह तक छोड़ जाते हैं. हमें जीवन में साहस के साथ हर समस्या का सामना करना चाहिए, क्योंकि ऐसा कोई कार्य नहीं जिसमें जोखिम और परेशानियाँ न हो इसलिए हार मान लेने की बजाय हमें डटकर उसका सामना करना चाहिए.

साहस वह अद्भुत क्षमता है जो तकदीर और तस्वीर दोनों का स्वरूप बदल देती हैं. साहसी व्यक्ति न केवल अपने जीवन को अच्छे ढंग से जीता है बल्कि अपने दोस्तों के लिए भी मददगार होता हैं. साहस रुपी आंतरिक शक्ति को जितना सींचा जाए वह उतना ही अधिक बढ़ता जाता हैं. हर कोई चाहता है कि जीवन में वह कुछ बड़ा करे जैसा कोई न कर पाए मगर उसके लिए भी पर्याप्त साहस की आवश्यकता होती हैं.

बड़े कार्य के आगाज से पूर्व कई सवाल दिमाग में कोंध्ते हैं क्या मैं यह कर पाउगा, क्या मुझे सफलता मिलेगी या विफलता मिलेगी. यदि आप साहस के साथ सकारात्मक सोच रखते हुए कार्य की शुरुआत करे तो निश्चय ही उस कार्य में न सिर्फ आपकों सफलता मिलेगी बल्कि आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा जो आपकों हमेशा बड़े रिस्क लेने के लिए प्रेरित करेगा.

जीवन में कुछ करना और पाना हो तो रिस्क उठाना ही पड़ता हैं. चाहे वो जीवन का कोई भी क्षेत्र क्यों न हो. संसार में हमें ऐसे हजारों उदहारण मिल जाएगे जिन्होंने शारीरिक अक्षमता, जीवन की कठिनाइयों और विपरीत परिस्थतियों में भी साहस के साथ कार्य करते हुए दुनिया के समक्ष उदाहरण प्रस्तुत किये.

आज के परिपेक्ष्य में यदि ऐसे किसी साहसी व्यक्ति का जीवन जो हमें प्रेरणा दे सकता है वह है नरेंद्र मोदी, भले ही हम किसी एक विचारधारा को मानने वाले हो मगर मोदी का जीवन और दुनियां के सबसे बड़े लोकतंत्र के दूसरे प्रधान बनने की कहानी कम साहसी नहीं हैं. क्या कोई कल्पना कर सकता था कि रेलवे स्टेशन पर चाय की थड़ी पर काम करने वाला बालक आगे जाकर देश का नेतृत्व करेगा तथा दुनिया उसका लोहा मानेगी.

Telegram Group Join Now

वैसे तो एक बार कोई भी अनजान इन्सान नरेंद्र मोदी के जीवन की साहस भरी कहानी पर यकीन नहीं करेगा, मगर यदि परत दर परत उनके जीवन और पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बनने और बाद के गुजरात दंगों से उनके जीवन की विपरीत परिस्थतियों को समझना शुरू करे तो हम जान पाएगे कि उनका जीवन सफलता का पर्याय न होकर कथन परिश्रम और संघर्ष पर साहस की विजय के द्योतक के रूप में उभरकर सामने आता हैं.

स्पेन के रहने वाले कोलंबस ने अपने एशों आराम के जीवन, नौकरी आदि का त्याग कर साहसिक यात्राओं के लिए निकल गये, ऐसे अन्य साहसिक यात्रियों में ह्वेनसांग और फाह्यान ने अपने राज्य को छोड़कर हिमालय व पहाड़ी मार्ग होते हुए भारत आए कई बार जान पर जोखिम आने के बाद भी वे अपने लक्ष्य पर डटे रहे.

१० वीं से १५ वीं सदी के मध्य खोजी यात्राओं के लिए काल के समतुल्य दौर था. एक बार घर से निकल जाने के बाद उनके घर में वापिस लौट जाने की संभावना न के बराबर होती थी. खतरनाक समुद्री यात्राओं, डाकुरों तथा लुटरों के भय से बचना लगभग ना मुमकिन था. यदि वो वापिस घर लौट आते तो वाकई उनके लिए यह नया जन्म माना जाता हैं.  फिर भी लोगों के साहस का अनुमान लगाया जा सकता है जो इस तरह की यात्राओं के लिए निकलते थे.

जीवन में साहस का महत्व निबंध 700 शब्द

कोई व्यक्ति अगर साहसी है तो वह दुनिया को बदलने की ताकत रखता है। साहस वाला व्यक्ति दुनिया में सबसे अलग होता है और उसके अंदर की निडरता ही उसे अन्य लोगों से खास बनाती है  क्योंकि साहस इंसान की सबसे बड़ी शक्ति होती है और साहस ही जीवन होता है। अगर आपने अपनी जिंदगी में किसी काम को साहस के साथ नहीं किया या फिर आपने हिम्मत से काम नहीं लिया, तो आप कभी भी अपनी जिंदगी में सफलता की ऊंचाइयों को प्राप्त नहीं कर सकेंगे।

क्योंकि साहस ना होने की वजह से आपको एक अनजाना डर हमेशा सताता रहेगा और आपका यही डर एक दिन आपके ऊपर इतना हावी हो जाएगा कि आप परेशान हो जाएंगे और ना आप अपने कदम आगे बढ़ा पाएंगे ना ही अपने कदम पीछे खींच पाएंगे बल्कि आप त्रिशंकु की अवस्था में आ जाएंगे, जहां पर आपको कुछ भी ना सूझेगा ना ही कुछ आप कर सकेंगे।

मेरा तो मानना यह है कि साहस के बिना जिंदगी में कुछ भी पाना असंभव ही है। मान लेते हैं कि आप कोई बड़ा काम करने के लिए जा रहे हैं परंतु आप उस काम को चालू करने से पहले ही यह सोचने लगते हैं कि आपको उस काम में सफलता मिलेगी या फिर असफलता मिलेगी और ऐसी अवस्था में आप उस काम को लेकर के अपने कदम आगे पीछे खींचते रहते हैं।

परंतु इसी टाइम पर अगर आप साहस दिखाते हैं तो आपका भविष्य कुछ और ही होता है। कहा जाता है कि अगर आपको किसी चीज से डर लगता है तो एक बार आपको उस चीज को कर डालना चाहिए क्योंकि तालाब कितना गहरा है इसका अंदाजा तभी लगता है जब तालाब में उतरा जाता है।

जिंदगी में किसी भी काम को अगर आप करते हैं तो उसमें थोड़ा बहुत जोखिम तो होता ही है। हालांकि कुछ काम ऐसे भी होते हैं, जिसमें काफी ज्यादा जोखिम होता है परंतु अगर आप यह सोच कर के बैठे रहेंगे कि उस काम में जोखिम है और आपको उस काम को नहीं करना चाहिए, तो हमारा यकीन मानिए कि आप कभी भी अपनी जिंदगी में अपनी मंजिल को प्राप्त नहीं कर सकेंगे।

क्योंकि जब तक आप के अंदर किसी भी काम को करने का साहस नहीं आएगा, तब तक आपकी अंतरात्मा आपको यह इजाजत बिल्कुल भी नहीं देगी कि आप किसी काम को करें। इसलिए व्यक्ति के अंदर साहस यानी की हिम्मत होना बहुत ही आवश्यक माना जाता है।

आज के समय में दुनिया में ऐसे कई लोग हैं, जो एक बार अगर किसी काम में असफल हो जाते हैं तो उनकी हिम्मत ही टूट जाती है। आपने भी कई बार देखा होगा कि कई विद्यार्थी सिर्फ इसीलिए आत्महत्या कर लेते हैं, क्योंकि वह परीक्षा में फेल हो जाते हैं। वहीं कई लोग इसलिए भी दोबारा धंधा करने के बारे में नहीं सोचते हैं क्योंकि उन्हें एक बार धंधे में नुकसान हो चुका होता है। 

इसलिए अधिकतर लोगों का माइंडसेट यही है कि वह नौकरी ही करें क्योंकि नौकरी में उन्हें नुकसान होने का खतरा नहीं होता है परंतु आपने देखा होगा कि जिन लोगों ने हिम्मत की और जिन्होंने बिजनेस को आजमाया, आज वो लोग काफी उतार-चढ़ाव के बाद एक सफल व्यक्ति बन चुके हैं और उनकी इनकम नौकरी करने वाले लोगों से कहीं ज्यादा अधिक है।

साहस के प्रत्यक्ष प्रमाण हमारे भारत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी जी हैं, जिन्होंने बिना किसी की परवाह किए हुए हिम्मत करके चाय बेचने का काम रेलवे स्टेशन पर किया था और वह अपने साहस और हिम्मत के बल पर ही आज भारत देश के प्रधानमंत्री के पद पर काबिज हैं। यह साहस का ही परिणाम है कि कल्पना चावला जैसी महिलाएं अंतरिक्ष तक चली गई थी और उनके साहस के ही परिणाम स्वरूप आज इतिहास की किताबों में उनका नाम सम्मान के साथ लिया जाता है।

जिस प्रकार दिन आता है और उसके बाद रात आती है, उसी प्रकार रात के बाद दिन भी आता है। कहने का तात्पर्य यह है कि अगर आपकी जिंदगी में वर्तमान के समय में अंधेरा चल रहा है और आपको कोई भी रास्ता नहीं दिखाई दे रहा है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपको कोई रास्ता मिलेगा ही नहीं। एक न एक दिन अंधेरा हटेगा और रोशनी आएगी और आपको रास्ता दिखेगा।

इसलिए किसी भी काम में अगर आप असफल हो चुके हैं और असफलता के कारण आपको बुरे ख्याल आ रहे हैं तो 1 मिनट ठहरे। अपने अंदर साहस पैदा करें। अपने परिवार के बारे में सोचें और अपनी मुट्ठी बांधे और अपने मन, दिल और दिमाग से यह कहे कि मैं फिर से उठ खड़ा होऊंगा और उन तमाम लोगों का मुंह अपनी सफलता से बंद कर दूंगा, जो मुझे कमजोर समझते हैं। अगर आपके अंदर साहस है तो आप हर मैदान फतेह करेंगे।

यह भी पढ़े

आशा करते हैं दोस्तों Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा, यदि इस निबंध में दी जानकारी आपकों पसंद आई हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

1 thought on “साहस ही जीवन है पर निबंध | Sahas Hi Jeevan Hai Essay in Hindi”

Leave a Comment