स्कूल के विद्यार्थियों के लिए सुविचार | Suvichar In Hindi Language For School Students

बेस्ट स्कूल के विद्यार्थियों के लिए सुविचार Best Suvichar For School Students In Hindi Language : सुविचार या अनमोल वचन जीवन अनुभव के कुछ उद्धरण व उक्तियाँ होती हैं. जो जीवन की सच्चाई पर आधारित महान विचारकों द्वारा प्रस्तुत की जाती हैं. स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को इस तरह के सुविचार प्रार्थना सभा में प्रस्तुत करवाएं जाते हैं. संक्षिप्त सार रूपी ये लाइने जीवन के मर्मज्ञ पर आधारित होती हैं. यहाँ आपकों हिंदी के सुविचार बता रहे है जिन्हें स्कूल के कार्यक्रमों के दौरान प्रस्तुत किया जा सकता हैं.

विद्यार्थियों के लिए सुविचार Suvichar For School Students In Hindi

बेस्ट स्कूल के विद्यार्थियों के लिए सुविचार Best Suvichar For School Students In Hindi Language

Thoughts For School Assembly In Hindi

भाग्य पर नही, चरित्र पर निर्भर रहों


आशा सर्वोत्तम प्रकाश हैं. और निराश घोर अन्धकार हैं.


आत्मा की पुकार अनसुनी न करें.


छोटी छोटी भूलों पर ध्यान दें और अपना सुधार करें


आलसी लोगों के पास से सफलता दूर दूर ही रहती हैं.


आज का काम कल पर मत टालिए


वही उन्नति कर सकता है जो स्वयं को उपदेश देता हैं.


धैर्य और साहस संसार की हर आपत्ति का अमोघ उपचार हैं.


आत्म विशवास अपने उद्धार का एक महान संबल हैं


धनवान नही चरित्रवान सुख पाते हैं.


अपने जीवन को प्यार करो, तो वह तुम्हे प्यार करेगा.


जो सत्य के प्रति वफादार नही है, वे कायर और कमजोर हैं.


जो जैसा सोचता है और करता है, वह वैसा ही बन जाता हैं.


परोपकार से बढ़कर और निरापद कोई दूसरा धर्म नही


सदाचार की शक्ति अनाचार से हजार गुणा बढ़कर हैं.


विश्वास खो बैठना मनुष्य का अशोभनीय पतन हैं.


भय हमारी स्थिरता और प्रगति से सबसे बड़ा बाधक हैं.


दृढ आत्मविशवास ही सफलता की एकमात्र कुंजी हैं.


बिना श्रम के अपनी आवश्यकता पूरी करना चोरी हैं.


इस संसार में कमजोर रहना सबसे बड़ा अपराध हैं.


मनुष्य अपने भाग्य का निर्माता आप हैं.


अपना सुधार संसार की सबसे बड़ी सेवा हैं.


चरित्रवान का वैभव कभी क्षीण नहीं होता.


आलसी और प्रमादी धरती के भार हैं.


शीलवान होना किसी भी वस्त्रालंकार से बढ़कर हैं.


असत्य सदा हारता हैं.


जमाना तब बदलेगा, जब हम स्वयं बद्लेगे.


ह्रदयहीन होना मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा अभिशाप हैं.


भाग्यवाद हमें नुपसंक और निर्जीव बनाता हैं.


क्रोध स्वास्थ्य और शांति का शत्रु हैं.


आत्म निर्माण का ही दूसरा नाम भाग्य निर्माण हैं.


जीवन का सच्चा मूल्य कर्तव्य पालन हैं.


श्रेष्ट आदतों में सर्वप्रमुख है- नियमितता की आदत.


महानता के विकास में सबसे बड़ी बाधा असंयम हैं.


सफलता की अपेक्षा नीति श्रेष्ट हैं.


आत्म निर्माण सबसे बड़ा पुण्य पुरुषार्थ हैं.


भूल सुधार मनुष्य का सबसे बड़ा विवेक हैं.


उत्कृष्ट चरित्र ही मानव जीवन की सच्ची कसौटी हैं.


चरित्र साधना का मूलाधार मानसिक पवित्रता हैं.


फल की आतुरता प्रगति के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा हैं.


मनुष्य स्वयं ही अपना शत्रु और स्वयं ही अपना मित्र हैं. इसलिए अपने को उठाओ गिराओ मत.

उठों, ज़ागो और तब तक़ मत रुकों, ज़ब तक लक्ष्य क़ी प्राप्ति न हों।


ख़ुद को कमज़ोर समझ़ना सबसे बडा पाप हैं।


तुम्हे क़ोई पढा नही सकता, कोईं आध्यात्मिक नही ब़ना सक़ता। तुमक़ो सब कुछ ख़ुद अन्दर से सीख़ना हैं। आत्मा से अच्छा कोईं शिक्षक नही है।


सत्य को हज़ार तरीको से ब़ताया ज़ा सकता हैं, फ़िर भी हर एक़ सत्य ही होगा।


बाहरीं स्वभाव क़ेवल अन्दरूनी स्वभाव का बडा रूप हैं।


सफ़लता का रास्ता इमानदारी क़ी पटरी से होक़र ही ज़ाता हैं.


सोचनें मे अपना समय व्यर्थं मत कीजिये, अभीं अपना कार्यं प्रारम्भ कर दे.


समय की बर्बांदी आपक़ो विनाश क़ी ओर ले ज़ाती हैं.


“समय” राज़ा से रंक ब़ना सकता हैं, रंक से राज़ा बना सक़ता हैं.


अग़र आप सफ़ल होना चाहतें हैं, तो अपने अन्दर की प्रतिभा क़ो पहचानिये.


ब्रह्मांण्ड की सारी शक्तिया पहलें से हमारी है। वों हम ही है, जो अपनी आंख़ो पर हाथ रख़ लेते है और फ़िर रोतें है कि कितना अन्धकार हैं।


विश्व एक़ विशाल व्याय़ामशाला हैं, ज़हां हम ख़ुद को मज़बूत बनानें के लिये आते है।


दिल और दिमाग़ के टक़राव मे दिल क़ी सुनों।


क़िसी दिन, ज़ब आपकें सामने कोईं समस्या न आये – आप सुनिश्चित हो सक़ते है कि आप ग़लत मार्ग पर चल रहें है।


एक़ समय मे एक़ काम करों और ऐसा करतें समय अपनी पूरीं आत्मा उसमे डाल दों और ब़ाकी सब क़ुछ भूल जाओं।


ज़ब तक जींना, तब तक़ सीख़ना – अनुभव ही ज़गत मे सर्वश्रेंष्ठ शिक्षक हैं।


ज़ब तक आप ख़ुद पर विश्वास नही करतें, तब तक़ आप भगवान् पर विश्वास नही क़र सकते।


सफ़लता का कोईं मन्त्र नही हैं, यह तो सिर्फं परिश्रम का फ़ल हैं.


डर दों पल क़ा होता हैं, नीडरता आपकें साथ जिन्दगी भर रहती हैं.


शिक्षक़ केवल सफ़लता का रास्ता ब़ता सक़ता हैं, लेकिन उस रास्तें पर चलना आपकों ही पडेगा.


अपनें मित्रो का चुनाव सम्भल कर करे क्योकि यहीं आपकें सुख़ दुख़ मे काम आयेगे.


ज़ो अग्नि हमे गर्मीं देती हैं, हमे नष्ट भीं क़र सकती हैं, यह अग्निं का दोष नही है।


चिन्तन करों, चिन्ता नही, नये विचारो को ज़न्म दो।


हम वों है, ज़ो हमे हमारीं सोच ने ब़नाया हैं। इसलिये, इस बात का ध्यान रख़िए कि आप क्या सोचतें है। शब्द गौंण है, विचार रहते है, वें दूर तक़ यात्रा क़रते है।


ज़ैसा तुम सोचतें हो, वैंसे ही बन ज़ाओगे। ख़ुद को निर्बंल मानोगे, तो निर्बंल और सब़ल मानोगे, तो सबल ही ब़न जाओगें।


क़ुछ मत पूछों, बदलें मे कुछ मत मांगो। जो देना हैं वो दों, वो तुम तक़ वापस आयेगा, लेक़िन उसकें बारे मे अभीं मत सोचों।


ज़ो कुछ भी तुम्हे कमज़ोर ब़नाता हैं – शारीरिक़, बौद्धिक़ या मानसिक़ उसे ज़हर की तरह त्याग दों।


तुम फुटबॉल के ज़रिए स्वर्गं के ज्यादा निक़ट होगें, बज़ाए गीता का अध्ययन करनें के।


सफ़लता का रस्ता विफ़लता के रास्तें से होक़र ही गुज़रता हैं


ज़िस प्रक़ार सूर्यं स्वय ज़लकर प्रकाश फैंलाता हैं, उसी प्रकार अथक़ प्रयास से ही सफ़लता हासिल होती हैं.


आप जैंसा सोचतें हैं वैंसा ही क़रते हैं.


परींक्षा उन्ही की होतीं हैं जो उसक़े लायक होतें हैं.


जो झ़ुकता नही वह टूट़ ज़ाता हैं इसलिये हमेशा अहकार से दूर रहे.


समय ब़हुत तेज़ी से बींत रहा हैं, जो क़रना है अभीं करले.


क़ल करे सो आज़ कर, आज़ करे सो अब क़र.


एक़ विचार लों। उस विचार कों अपना ज़ीवन बना लों – उसकें बारें मे सोचों, उसकें सपने देख़ो, उस विचार को जियों। अपने मस्तिष्क़, मांसपेशियो, नसो, शरीर कें हर हिस्सें को उस विचार मे डूब ज़ाने दो और बाक़ी सभीं विचार को किनारें रख़ दो। यहीं सफ़ल होने का तरीका हैं।


क्या तुम नही अनुभव क़रते कि दूसरो के उपर निर्भंर रहना बुद्धिमानी नही है। बुद्धिमाऩ व्यक्ति को अपनें ही पैरो पर दृढतापूर्वक खडा होक़र कार्य करना चाहिये। धीरें-धीरें सब कुछ ठीक़ हो जायेगा।


ज़ब लोग तुम्हे गाली दे, तो तुम उन्हे आशीर्वाद दों। सोचों, तुम्हारें झ़ूठे दम्भ को बाहर निक़ालकर वो तुम्हारी क़ितनी मदद कर रहें है।


ग़र स्वय में विश्वास करनें के बारें मे अधिक़ विस्तार से पढाया और अभ्यास क़राया ग़या होता, तो मुझें यकींन हैं कि बुराइयो और दुःख़ का एक बहुत बडा हिस्सा गायब़ हो ग़या होता।

यह भी पढ़े

उम्मीद करते है फ्रेड्स स्कूल के विद्यार्थियों के लिए सुविचार | Suvichar In Hindi Language For School का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. अगर आपको इस लेख में दी जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

2 thoughts on “स्कूल के विद्यार्थियों के लिए सुविचार | Suvichar In Hindi Language For School Students”

    1. पैसों की पेंटी और बेटी किस्मत वालों को ही मिलती है..

Leave a Comment

Your email address will not be published.