टेलीविजन पर निबंध Television Essay In Hindi

Television Essay In Hindi प्रिय साथियों आपका स्वागत हैं. इस हिंदी में टेलीविजन पर निबंध में आज हम आपके साथ स्टूडेंट्स के लिए Television Essay दूरदर्शन /टेलीविजन का महत्व इसका अर्थ तथा बच्चों तथा विद्यार्थियों पर इसका प्रभाव, दूरदर्शन की उपयोगिता तथा television ke labh aur hani (लाभ हानि) नुकसान फायदों के बारे में बात करेगे.

Television Essay In Hindi हिंदी में टेलीविजन पर निबंध

टेलीविजन पर निबंध Television Essay In Hindi

नमस्कार आज का निबंध, टेलीविजन पर निबंध Short Essay On Television In Hindi And English दिया गया हैं. स्टूडेंट्स के लिए सरल भाषा में टेलीविजन के महत्व लाभ हानि उपयोगिता आदि पर छोटा बड़ा निबंध यहाँ दिया गया हैं. उम्मीद करते है हिंदी और अंग्रेजी भाषा में लिखे ये निबंध एस्से आपको पसंद आएगे.

Short Essay On Television: In this essay, paragraph we talk about Television Also called Tv In the short term. It’s a part of our daily routine, Television’s importance, benefits, side effects.

Television Essay prepares for students who read in class 5, 6, 7, 8, 9 in multi-language (Hindi And English).

for English students read it as Essay On Television and the Hindi language reader takes it as Tittel “Television par nibandh’‘ before we start it please if you like our article then don’t forget to share with a friend. Because your cooperation gives us new inspiration.

100 शब्द हिंदी निबंध

परिचय– टेलीविजन आधुनिक दुनिया का एक चमत्कार है। यह एक वस्तु की एक छवि को दूर करने के लिए एक उपकरण है। अधिकांश घरों में टेलीविजन सेट हैं। हम न केवल भारत में बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में होने वाली विभिन्न घटनाओं के लाइव प्रसारण को देखकर आनंद लेते हैं।

उपयोगिता– टेलीविजन संचार का एक बहुत ही शक्तिशाली माध्यम है। छात्रों के लिए विशेष रूप से तैयार कार्यक्रम है, किसानों और अन्य लोगों को स्वास्थ्य आदतों, परिवार नियोजन, छोटी बचत और राष्ट्रीय पुनर्निर्माण सिखाया जाता है।

मनोरंजन का स्रोत– टेलीविजन लोगों के लिए मनोरंजन का स्रोत है। छोटे नाटकों और फीचर फिल्मों द्वारा प्रसारित किया जाता है, जो हमें क्रिकेट मैच और अन्य लोकप्रिय खेल वस्तुओं को लाखों लोगों द्वारा बहुत रुचि के साथ देखकर प्रसन्न करते हैं।

शैक्षणिक महत्व– विज्ञान, गणित, इंजीनियरिंग, और कृषि में दिलचस्प विषयों पर वार्ता भी प्रचारित होती है। विभिन्न देशों में जंगल में जानवरों और पक्षियों का जीवन स्पष्ट रूप से टेलीविजन द्वारा दिखाया जाता है।

हम दुनिया के अन्य हिस्सों के सुंदर प्राकृतिक दृश्यों को देखने में सक्षम हैं जिन्हें हम यात्रा करने का भी सपना नहीं देख सकते हैं। इस प्रकार टेलीविजन बड़े शैक्षिक महत्व का उपकरण है। इसका उपयोग वाणिज्यिक विज्ञापन, खोए बच्चों और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताओं की जानकारी के लिए भी किया जाता है।

100 Words English Essay

टेलीविजन पर निबंध Short Essay On Television In Hindi And English

Introduction- Television is a marvel of the world. it is a device to transmit an image of an object far away. most of the houses have Television sets. we enjoy seeing the live telecasts of various events that happen not only in India but in other parts of the world As well.

usefulness- Television is a very powerful medium of communication. there is a program specially prepared for students, farmers, and other people who are taught health habits, family planning, small savings, and national reconstruction.

source of entertainment- Television is a source of entertainment for people. small plays and feature films that are telecast by it delight us cricket matches and other popular sports items are watched on it with great interest by millions.

Educative Value– interesting lessons in science, mathematics, engineering, and agriculture are telecast. life of animals and birds in the forest in various countries is vividly shown by Television.

we are able to see the beautiful natural scenery of other parts of the world which we may not even dream to visit. thus Television is of great educative value. it is also used for commercial advertisement, information about lost children, and quiz competitions.

300 शब्दों में टीवी पर निबंध

वर्तमान काल में अनेक वैज्ञानिक आविष्कार हुए है. इनमें दूरदर्शन  टेलीविजन का आविष्कार काफी चमत्कारी आविष्कार है. इससे घर बैठे ही दूर के द्रश्य एवं समाचार साक्षात देखे और सुने जा सकते है. यह मनोरंजन के साथ ही शिक्षा प्रचार और ज्ञान प्रचार का श्रेष्ट साधन है.

दूरदर्शन का परिचय अर्थ

दूरदर्शन या टेलीविजन का अर्थ है दूर से देखना. यह ऐसा यंत्र है जिससे हम दूर स्थित वस्तुओ कों देख सकते है. और ध्वनि भी सुन सकते है. इंग्लैंड के वैज्ञानिक जॉन बेयार्ड ने 1926 में सर्वप्रथम दूरदर्शन का उपयोग किया था. 

टेलीविजन यंत्र पर शब्द तरंगो के स्थान पर प्रकाश रश्मियाँ विद्युत तरंगो में बदल जाती है, जो फोटो इलेक्ट्रानिक शीशे पर पड़कर साक्षात् चित्र बन जाती है.

इस काम के लिए कैथोड रे ट्यूब काम में लेते है. दूरदर्शन या टेलीविजन वस्तुतः रेडियों का विकसित रूप है. जिनमे ध्वनि तथा चित्र दोनों का प्रसारण होता है.

टेलीविजन की उपयोगिता और महत्व (Usability and importance of television)

हमारे देश में सनः 1959 से टेलीविजन का प्रयोग प्रारम्भ हुआ. वर्तमान में कृत्रिम उपग्रह के द्वारा सारे भारत में दूरदर्शन का प्रचार हो रहा है. दूरदर्शन के सैकड़ो चैनलों से अनेक तरह के कार्यक्रम सीरियल एवं फिल्मे प्रसारित होती है. इनसे तुरंत घटित या आँखों देखा प्रसारण होता है.

दूरदर्शन की सबसे बड़ी उपयोगिता मनोरंजन के कार्यक्रमों के साथ समाचारों का तत्काल प्रचारण है. इससे शिक्षा का प्रचार होता है. तथा रोजगार के साधनों का ज्ञान कराया जाता है.

और राष्ट्रिय कार्यक्रमों एवं खेलकूद आदि का टेलीविजन से सीधा प्रसारण किया जाता है. इस तरह जनचेतना को जाग्रत करने में तथा प्रौढ़ शिक्षा के क्षेत्र में दूरदर्शन विशेष उपयोगी माना जाता है.

टेलीविजन का प्रभाव (Television effect Advantages & Disadvantages)

दूरदर्शन या टेलीविजन के अनेक लाभ है. परन्तु इससे कुछ हानियाँ भी है. बालक दूरदर्शन से चिपके रहते है, इससे उनकी आँखे कमजोर हो जाती है. और पढ़ने में रूचि नही रखते है.

युवक दूरदर्शन के द्रश्यों की नकल करके गलत आचरण करने लगते है. टेलीविजन का वर्तमान नई पीढ़ी पर इस तरह बुरा प्रभाव पड़ रहा है.

आज के युग में टेलीविजन की विशेष उपयोगिता है. जनता में जागृति लाने का यह श्रेष्ट साधन है. परन्तु बालकों एवं युवकों को इससे होने वाली हानि से बचाए रखना चाहिए.

टेलीविजन पर निबंध Television Essay In Hindi

टीवी संस्कृति का प्रदूषण और उसका प्रभाव– आज विज्ञान ने हमें अनेक सुख सुविधा के साधन दिए हैं. जिनमें टेलीविजन भी एक हैं. यह मनोरंजन का सबसे सस्ता साधन हैं. इसकी उपलब्धता आज लगभग सभी घरों में हैं.

अंधाधुंध वैज्ञानिक प्रगति के कारण जिस प्रकार हमारा पर्यावरण प्रदूषित हो रहा हैं. ठीक उसी प्रकार टीवी संस्कृति का प्रदूषण व्यक्ति विशेष को ही नहीं, पूरे समाज को किसी न किसी रूप में प्रभावित कर रहा हैं.

परिणामस्वरूप इसका दुष्प्रभाव बच्चों से लेकर वृद्धों तक देखा जा सकता हैं. उदहारण के लिए टीवी चैनलों पर होने वाला नंगा नाच, सैक्सी वेशभूषा, अनैतिक आचार व्यवहार ने ऐसा वातावरण बनाया हैं कि परिवार के सभी सदस्य एक साथ बैठकर घर में टीवी नहीं देख सकते हैं.

साथ ही टेलीविजन पर विवाहेतर प्रेम सम्बन्धों, हत्याओं, लूटपाट आदि के ऐसे काल्पनिक दृश्य दिखाए जा रहे हैं जिनसे युवा पीढ़ी पथ भ्रष्ट होती जा रही हैं. इतना ही नहीं कोई भी विज्ञापन हो, अर्ध नग्न नारी खड़ी दिखती हैं.

किशोरों के मन पर कलुषित प्रभाव– किशोर मन चंचल और अस्थिर होता हैं. टेलीविजन पर अनेक ऐसे चैनल  हैं जो तरंग,  उल्लास, उमंग और मस्ती भरे कार्यक्रम लेकर आते हैं. किशोर ऐसे कार्यक्रम पर जान देते हैं. और उन्हें अंग बनाना चाहते  हैं. वास्तविक जीवन में चाहे वे  जैसे न बन पाएं.

किन्तु वैसी आकांक्षा अवश्य रखते हैं. इसके लिए वे वैसी ही वेशभूषा, चाल ढाल, बोलचाल और फैशन अपनाते हैं. इसका प्रभाव हमें पार्टियों और बारातों में दिखाई देता हैं. वे पुरानी मर्यादाओं को तोड़कर स्वच्छन्द जीवन धारा को अपनाने लगते हैं.

मर्यादाविहीन आचरण को प्रोत्साहन– भारतीय संस्कृति जन जीवन को संस्कार और मर्यादाओं के बीच रहकर जीने की प्रेरणा प्रदान करती हैं लेकिन पाश्चात्य सभ्यता व संस्कृति के अंधानुकरण से बनने वाले टेलीविजन कार्यक्रम मर्यादाविहीन आचरण को प्रोत्साहित करते हैं.

इनका खुला प्रदर्शन सड़कों, बाजारों और होने वाले सामाजिक कार्यक्रमों में युवा वर्ग के माध्यम से सहज ही देखने को मिलता हैं.

संस्कृतियों मूल्यों में गिरावट– सांस्कृतिक मूल्य हमारी विरासत है जिनमें बंधकर परिवार और समाज अपनी निर्धारित मर्यादा के मध्य संचालित होता हैं. आज टीवी के विभिन्न चैनलों से प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों से हमारे सांस्कृतिक मूल्यों में गिरावट आई हैं.

नैतिक आचरण यार और फार की सीमाओं में बंधकर फलने फूलने लगा हैं. सामाजिक मर्यादाएं ढेर हो रही हैं.किशोर मन सांस्कृतिक मूल्यों की परवाह न कर पाश्चात्य अंधानुकरण कर स्वच्छन्द जीवन जीने को अभ्यस्त हो रहा हैं.

समय का दुरूपयोग– टेलीविजन में आने वाले कार्यक्रमों के प्रति जन मानस की आसक्ति इतनी बढ़ गई हैं कि दिन रात सब कामों को छोड़कर उनसे चिपके रहते हैं. वे दूरदर्शन के कार्यक्रमों के बारे में तो जानते हैं.

पर अपने पड़ोसी के बारे में नहीं जानते हैं. विशेषकर विद्यार्थी वर्ग तो इन कार्यक्रमों के प्रति इतना दीवाना हो गया हैं कि उसे अपने भविष्य का भी ख्याल नही रहता हैं. एक प्रकार से वे अपने जीवन के अमूल्य समय का दुरूपयोग टेलीविजन देखकर करते हैं.

उपसंहार: दूरदर्शन से आत्मसीमितता, जड़ता, पंगुता, अकेलापन आदि दोष बढ़े हैं. कई देशों में तो टीवी के कारण भी अपराध भी बढ़े हैं. परन्तु इसमें दोष टीवी का नहीं हैं. कार्यक्रम प्रसारण समिति का हैं. दूरदर्शन तो मनोरंजन का सशक्त साधन हैं जिसके समुचित उपयोग से हम जीवन को अधिक सुखद स्वस्थ और सुंदर बना सकते हैं.

टेलीविजन के नुकसान निबंध | Television Ke Labh Aur Hani Essay in Hindi

स्वतंत्र व्यवसाय की अर्थनीति के नए वैश्विक वातावरण ने विदेशी पूंजी निवेश को खुली छुट दे रखी है. जिसके कारण दूरदर्शन में में ऐसे विज्ञापन की भरमार हो गई है. जो उन्मुक्त वाँसना हिंसा अपराध लालच और इर्ष्या जैसी हिनतम प्रवर्तियो को आधार मानकर चल रहे है.

यह अत्यंत खेद का विषय है. कि राष्ट्रीय दूरदर्शन ने भी उनकी भौंडी नकल की ठान ली है. आधुनिकता के नाम पर जो कुछ दिखाया जा रहा है. जो सुनाया जा रहा है. उनका भारतीय जीवन और संस्कृति का दूर दूर तक कोई रिश्ता नही है.

वे सत्य से कोसो तक दूर है. नई पीढ़ी जो स्वंय में रचनात्मक गुणों के विकास की जगह दूरदर्शन के सामने बैठकर कुछ सीखना, जानना और मनोरंजन करना चाहती है. उसका तो भगवान् ही मालिक है.

जो असत्य है वो सत्य नही हो सकता. समाज को शिव बनाने का प्रयत्न नही होगा तो वह शव ही होगा. आज तो यह मज़बूरी हो गई है. कि दूरदर्शन पर दिखाएं जा रहे वासनायुक्त असशील युक्त द्रश्य से चार पीढ़िया एक साथ आँखे चार कर रही है. नतीजा आपके सामने है.

बलात्कार, अपहरण, छोटी बच्चियों के साथ निकट सम्बन्धियों द्वारा शर्मनाक यौनाचार की घटनाओं में वृद्धि. ठुमक कर चलते शिशु दूरदर्शन पर दिखाएं जा रहे , सुनाए जा रहे स्वर और भंगिमाओ पर अपनी कमर लचकाने लगे है.

ऐसे कार्यक्रम न शिव है, और न ही इनमे समाज को शिवम सुन्दरम बनाने की ताकत है. फिर जो शिव नही है वो सुंदर कैसे हो सकता है. यदि इस प्रकार की दुष्प्रवृत्तियों से समाज को बचाना है तो एक व्यवस्थित आचार संहिता लागू की जानी चाहिए.

जिसमे यह सम्मलित किया जाए कि समाचार पत्रों, दूरदर्शन व अन्य चैनलों पर प्रसारित सभ्य और मर्यादित कार्यक्रमों को ही प्रचारित किया जाना चाहिए.

समाज के गणमान्य लोगों, माता पिता और अन्य परिवारजनों को आगे आकर एक व्यवस्थित योजना के साथ अपनी वर्तमान पीढ़ी को सुसंस्कारित करने का बीड़ा उठाना होगा. जिससे अश्लित विज्ञापनों, अमर्यादित टीवी कार्यक्रमों पर रोक लगाईं जा सके.

टेलीविजन में आपकों सुबह से शाम तक ऐसे कार्यक्रम बहुत ही सिमित संख्या में ही मिलेगे जिन्हें अपने परिवार के साथ बैठकर देखा जा सके. अधिकतर कार्यक्रम विदेशी संस्कृति को अच्छा दिखाने और उसका अनुसरण करने की सीख देते नजर आते है.

आज के समय में यदि टेलीविजन को ईडीयट बॉक्स या डिब्बा कहा जाए तो गलत नही होगा. लोगों को चीजो को बढ़ा चढ़ाकर दिखाकर अपने झांसे में लेने के अलावा अपराधिक प्रवृतियों को बढ़ाना ही आज टेलीविजन का पर्याय बन चूका है. आज के डिजिटल विश्व में लोगों को जाग्रत होकर टेलीविजन की बजाय इन्टरनेट का सहारा लेना चाहिए.

टेलीविजन का समाज पर प्रभाव पर निबंध | Impact Of Television On Society Essay In Hindi

प्रस्तावना:- जनसंचार के सभी माध्यम समाजो को प्रभावित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इनमें टेलीवीजन भी एक ऐसा सशक्त माध्यम हैं, जो द्रश्य और श्रव्य दोनों माध्यमों को एक साथ प्रसारित करता हैं. जिसके कारण कोई भी प्रसारण जीवंत मालूम होता हैं.

इसलिए इसका प्रभाव भी लोगो पर त्वरित व सर्वाधिक होता हैं. भारतीय समाज में प्रारम्भ में दूरदर्शन प्रसारित धारावाहिकों एवं सिनेमा के कारण और बाद में कई चैनलों के आगमन के साथ यह जनसंचार का ऐसा सशक्त माध्यम बन गया, जिसकी पहुच करोड़ों लोगों तक हो गई.

भारत में टेलीविजन की शुरुआत-भारत में टेलिविज़न की शुरुआत वर्ष 1959 ई में हुई थी. वर्तमान में तीन सौ से अधिक टेलीविजन चैनल २४ घंटे विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम प्रसारित करते हैं.

जो इसकी प्रगति के द्योतक हैं. विभिन्न खेलों का सीधा प्रसारण अब टेलीविजन पर होता हैं. जिसके कारण लोग देश एवं विदेश में आयोजित होने वाले खेलों का आनन्द टेलीविजन के माध्यम से उठाना पसंद करते हैं.

टेलीविजन प्रसारण के उद्देश्य– टेलीविजन प्रसारण के उद्देश्यों से ही समाज पर पड़ने वाले इसके प्रभाव के बारे में पता चल जाता हैं. टेलीविजन प्रसारण के उद्देश्य होते हैं- मनोरंजन, जनमत का निर्माण, सूचनाओं का प्रसार, भ्रष्टाचार एवं घोटालों का पर्दाफाश तथा समाज की सच्ची तस्वीर प्रस्तुत करना.

इस तरह टेलीविजन के माध्यम से लोगों को देश की हर गतिविधि की जानकारी तो मिलती ही हैं चुनाव एवं अन्य परिस्थियों में सामाजिक एवं नैतिक मूल्यों से जन साधारण को अवगत कराने में भी टेलीविजन प्रसारण महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह सरकार एवं जनता के बीच सेतु का कार्य करते हैं.

समाज पर टेलीविजन का प्रभाव– जहाँ तक बात समाज पर टेलीविजन के प्रभाव की हैं तो समाज पर टेलीविजन का प्रभाव की है तो समाज पर टेलीविजन का प्रभाव आजकल स्पष्ट रूप से देखा जा सकता हैं.

टेलीविजन पर प्रसारित धारावहिकों के कलाकार रातो रात स्टार के रूप में लोकप्रियता पाते हैं. करोड़ो लोगों तक टेलीविजन की पहुच के कारण फ़िल्मी दुनियां के बड़े बड़े कलाकार भी अब टीवी पर प्रसारित कार्यक्रमों में भाग लेने लगे हैं. टेलीविजन के रियलिटी शो में भाग लेने के लिए शहरी ही नहीं ग्रामीण युवाओं में भी विशेष आकर्षण देखा जाने लगा हैं.

FAQ

टेलीविजन किस प्रकार का संचार माध्यम हैं?

यह दृश्य श्रव्य संचार माध्यम की श्रेणी में आता हैं.

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया था?

टेलीविजन का आविष्कार जॉन लोगी बेयर्ड ने 1925 में लंदन में किया था.

भारत में टेलीविजन की शुरुआत कब हुई थी?

15 सितम्बर 1959

पहला भारतीय टीवी सीरियल कौनसा था?

हम लोग (1984 में प्रसारित)

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों Television Essay In Hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा. यदि आपकों यहाँ दिया गया हिंदी में टेलीविजन पर निबंध अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे तथा इस लेख से जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट कर जरुर बताएं.

Leave a Comment

Your email address will not be published.