कैंसर क्या है | What is Cancer in Hindi

कैंसर क्या है | What is Cancer in Hindi दुनिया भर में कैंसर से होने वाली मृत्यु की घटनाएं आम है। इसलिए विभिन्न देशों की सरकारें अपने नागरिकों को इस जानलेवा बीमारी से बचने के लिए जागरूक करती हैं। अगर आपने भी कैंसर नामक इस भयानक बीमारी को बहुत सुना है? परंतु यह बीमारी कैसे जन्म लेती है? इस बीमारी के क्या लक्षण है? यदि आप नहीं जानते तो आज हम इस टॉपिक पर विस्तारपूर्वक जानकारी देने वाले है।

कैंसर क्या है | What is Cancer in Hindi

कैंसर क्या है | What is Cancer in Hindi

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है जो इंसान को धीरे धीरे मारती है कहने का तात्पर्य यह है कि कैंसर एक ऐसा रोग है जिसका इलाज अभी तक खोजा नहीं गया है। यह दुनिया के सबसे खतरनाक रोगों में से एक हैं कैंसर से अधिकतर लोगों की मृत्यु हो जाती हैं। 

अन्य रोगों के तरह कैंसर केवल शरीर के एक हिस्से में या फिर किसी खास हिस्से में नहीं होता बल्कि यह बीमरी किसी भी हिस्से में हो सकती है यहां तक कि दिमाग में भी! इसलिए इसका इलाज हो पाना बहुत मुश्किल होता है। 

Cancer क्या है ? 

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारा शरीर कोशिकाओं से मिलकर बना है और साधारणतया हमारे शरीर में कोशिकाएं धीरे-धीरे बढ़ती रहती है, यानी की कोशिकाओं का विभाजन होते रहता है।

इन सभी कोशिकाओं को हमारा मस्तिष्क नियंत्रण करता है। लेकिन वह स्तिथि जब शरीर के किसी खास हिस्से में या फिर किसी भी भाग में कोशिकाओं का विभाजन मस्तिष्क के नियंत्रण से बाहर हो जाता है तो उसे कैंसर कहते हैं। 

कैंसर जब किसी खास अंग में होता है तो वहां की कोशिकाओं का विभाजन नियंत्रण के बाहर हो जाता है जिसके कारण सभी कोशिकाएं एक साथ होकर गांठ यानी कि ट्यूमर का निर्माण करती है। 

वैसे तो ट्यूमर का अलग से इलाज हो जाता है लेकिन अगर किसी ट्यूमर में कैंसर के अंश है तो उसका इलाज होना बहुत मुश्किल है क्योंकि कैंसर के ट्यूमर का इलाज करते समय जब डॉक्टर ट्यूमर को काटकर बाहर निकालते हैं। 

तब कैंसर वाला ट्यूमर अपना कुछ अंश कोशिकाओं में छोड़ ही देता है जिसके बाद उसका जितना भी इलाज कर लिया जाए वह कभी खत्म नहीं होता और ऐसे व्यक्ति की मृत्यु हो जाती हैं। यही कारण है कि कैंसर को दुनिया के सबसे खतरनाक लोगों में से एक माना जाता है। 

कैंसर होने का कारण क्या है?

पहले के मुकाबले आज के समय में कैंसर पीड़ितों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई है। हालांकि हर व्यक्ति में कैसर के होने के कई अलग अलग कारण होते है  कैंसर होने के कई अलग-अलग कारण हो सकते हैं। जिनमें से सबसे जरूरी कारणों का उल्लेख हमने नीचे किया है – 

धूम्रपान या सिगरेट के कारण – 

धूम्रपान सिगरेट तंबाकू जैसे चीजों का सेवन करने के कारण सबसे ज्यादा कैंसर होता है। 60% लोगों को केवल धूम्रपान या सिगरेट के कारण ही कैंसर होता है। इन चीजों का अधिक सेवन करने से मुंह और गले का कैंसर होता है। 

तंबाकू पान सुपारी गुटका के कारण – तंबाकू पान सुपारी गुटखा जैसी चीजे भी कैंसर के लिए बहुत बड़ा कारण मानी जाती है। 40% लोगों में मुंह का कैंसर पाया जाता है जो लोग तंबाकू या गुटखा का सेवन करते हैं। 

शराब के कारण – शराब भी कैंसर का एक बहुत मुख्य कारण माना जाता है क्योंकि अत्यधिक शराब पीने से शरीर के कई अंगों में कैंसर पैदा होता है। शराब के सेवन करने से मुंह, गले की नली, खाने की नली, छाती में कैंसर होने कि संभावना होती है। 

धीमे व कम आंच में पके भोजन या धुआं में बनने वाले भोजन के कारण – कम या धीमें धुआं में अगर भोजन पकाया जाता है या फिर धुएं में बनने वाले भोजन के सेवन से भी लोगों के शरीर में कैंसर रोग होता है। 

रसायन व दवाइ के कारण – कई सारे राशन व दवाइयां ऐसी है जो लोगों में कैंसर रोग को उत्पन्न करती है। इन दवाइयों का अधिक सेवन करने से भी कैंसर होता है। 

घाव के कारण – अगर किसी व्यक्ति के शरीर में बार-बार घाव होता है तो घाव के कारण भी कई बार कैंसर की कोशिकाओं का जन्म हो जाता है जिससे एक अच्छे खासे व्यक्ति को कैंसर हो जाता है। 

कम उम्र में यौन संबंध बनाने के कारण – 

अगर कोई स्त्री कम उम्र में ही पुरुषों के साथ यौन संबंध बनाती है तो उसके गर्भाशय में कैंसर होने के चांस बढ़ जाते हैं। 

कैंसर के शुरुआती लक्षण क्या है?

जैसा कि हमने आपको बताया कि कैंसर शरीर के किसी एक अंग में नहीं बल्कि किसी भी अंग में हो सकता है तो इसके शुरुआती लक्षण भी अलग-अलग होते हैं – 

  • अगर किसी व्यक्ति के शरीर में कोई घाव या फुंसी ऐसा है जो ठीक नहीं हो रहा है तो वह कैंसर के शुरुआती लक्षणों में से एक माना जा सकता है।  जिसे आसानी से पहचाना जा सकता है। 
  • किसी व्यक्ति के शरीर में अगर लंबे समय तक दर्द है और उसका कोई अंग सूझा या फुला हुआ है तो वह भी कैंसर की निशानी हो सकती हैं। 
  • स्तनों में गांठ होना या मल, मूत्र, मुंह से अगर खून आता है तो वह भी कैंसर के लक्षणों में से एक है।
  • अगर किसी व्यक्ति की आवाज में बदलाव होता है या फिर खाने को निगलने में परेशानी आती है साथ ही साथ मल मूत्र के समय में भी परिवर्तन हो गया है तो वह भी कैंसर के कारण हो सकता है। 
  • अगर किसी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में अचानक खून की कमी आ जाती है या फिर अचानक से उसका वजन घर जाता है तो वह भी कैंसर के लक्षण हो सकते हैं।

कैंसर की गांठ की पहचान कैसे करें?

कैंसर की गांठ की पहचान करना बहुत ही ज्यादा आसान है। अगर किसी व्यक्ति के शरीर में कोई फुंसी या घाव लगातार बढ़ रहा है लेकिन दर्द नहीं हो रहा है तो वह कैंसर के लक्षण हो सकते हैं ऐसे हालात में व्यक्ति को जल्द से जल्द डॉक्टर से अपने शरीर की जांच करानी चाहिए। ‌

कैंसर कितने Types के होते हैं ? 

कैंसर के अलग-अलग लक्षणों की तरह कैंसर अलग अलग तरीके के होते हैं क्योंकि यह शरीर के विभिन्न अंगों में होते हैं। मुख्यत: कैंसर के यही कुछ प्रकार है जो अधिकतर लोगों में देखे जाते है। 

Blood cancer –

लोगों के शरीर में सबसे तेजी से फैलने वाले कैंसर का नाम ब्लड कैंसर है। ब्लड कैंसर के अंतर्गत लोगों के रक्त में कैंसर की कोशिकाएं बढ़ने लगती है और बहुत जल्दी पूरे शरीर में फैल जाती है इसके कारण शरीर में खून की कमी भी हो जाती है। 

Lung cancer –

अगर किसी व्यक्ति को फेफड़े का कैंसर होता है तो उसकी हालत बहुत खराब हो जाती है। अगर किसी व्यक्ति को फेफड़े का कैंसर होता है तो उसे सांस लेने में परेशानी होती है खाने को हजम करने में व हड्डियों में भी बहुत ज्यादा दर्द होता है। फेफड़े के कैंसर को इन लक्षणों से पहचाना जा सकता है। 

Brain cancer –

 ब्रेन कैंसर दुनिया के सबसे खतरनाक कैंसर में से एक माना जाता है क्योंकि यह व्यक्ति के दिमाग में होता है ब्रेन कैंसर को ब्रेन ट्यूमर के नाम से भी जानते हैं।

 जिस व्यक्ति को ब्रेन कैंसर होता है उस व्यक्ति के दिमाग में गांठ पढ़ने लगती है जिससे दिमाग फूला हुआ नजर आता है। जिस व्यक्ति को ब्रेन कैंसर होता है एक समय के बाद उस व्यक्ति के सोचने समझने की शक्ति भी खत्म हो जाती हैं। 

Skin cancer –

 देश में स्किन कैंसर से संबंधित कई सारे मामले आए हैं और यह आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। डॉक्टर्स के अनुसार किसी व्यक्ति के शरीर में स्किन कैंसर गर्मी में रहने, सही से भोजन ना करने और बिल्कुल काम ना करने की स्थिति में होता है। 

Breast cancer –

Breast cancer अधिकतर औरतों को होता है।  ब्रेस्ट कैंसर के अंतर्गत औरत के स्तन में गांठ बनने लगती है जो समय के साथ साथ बढ़ती रहती है इसलिए इसका इलाज जल्द से जल्द करवाना बहुत जरूरी है। लेकिन यह बात सोचना कि यह पुरुषों को नहीं होगा यह बिल्कुल गलत है क्योंकि यह पुरुषों को भी हो सकता है।

कैंसर को ठीक करने के उपाय क्या हैं ? 

कैंसर को ठीक करने कि सबसे योगफल उपाय है –

  • कैंसर से बचने के लिए व्यक्ति को धूम्रपान सिगरेट शराब तंबाकू आदि को हमेशा हमेशा के लिए छोड़ना होगा। 
  • कैंसर से लड़ने के लिए व्यक्ति को पौष्टिक भोजन व शाक सब्जियों से भरा भोजन खाना चाहिए। 
  •  भोजन पकाने से पहले भोजन को अच्छे से धो कर खाना पकाना चाहिए ताकि उससे सभी राशायन और कीटनाशक पदार्थ धूल कर निकल जाए। 
  • बार बार प्रयोग किए जाने वाले तेल, पूरी तरह से जले हुए तेल में पका हुआ खाना खाना छोड़ दे क्योंकि ऐसे तेल में पके खाने को खाने से कैंसर होता है। 
  • अपने वजन को मेंटेन करके रखें। 
  • मेडिटेशन और एक्सरसाइज ऐसी चीजों को अपने डेली रूटीन में अपनाएं। 
  • मुंह में सफेद दाग या किसी भी तरह के घाव होने पर डॉक्टर को तुरंत दिखाइए। ‌
  • औरतों को हर महीने अपने पीरियड्स के बाद डॉक्टर से अपने स्तन की जांच करवानी चाहिए या फिर उन्हें खुद डॉक्टर से जांच करने का तरीका सीख लेना चाहिए। 
  • शरीर के किसी भी अंग में बदलाव या फिर सूजन, फुंसी घाव जैसी समस्या होने पर डॉक्टर से जल्द से जल्द बातचीत करें। 
  • कैंसर से बचने के लिए सबसे अच्छा उपाय यह है कि उसे शुरुआत में ही पकड़ लिया जाए क्योंकि शुरुआत में कैंसर को ठीक करना थोड़ा आसान होता है। 

कैंसर में क्या नहीं करना चाहिए ? 

कैंसर के समय कुछ मुख्य बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए और इन्हें नहीं करना चाहिए – 

  • कैंसर के समय कोशिकाओं में कैंसर का अंश मौजूद होता है जिसके कारण इस समय यौन संबंध बिल्कुल नहीं बनाना चाहिए। 
  • कैंसर के समय तेल में बनी हुई चीज और मसालेदार खाना बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। 
  • कैंसर के समय लोगों को ज्यादा ट्रैवल बिल्कुल नहीं करना चाहिए और अधिक से अधिक समय आराम करना चाहिए। 
  • कैंसर के समय लोगों को बार-बार अपनी दवाइयां नहीं बदलनी चाहिए बल्कि एक अच्छे डॉक्टर से अपना इलाज करवाना चाहिए। 

कैंसर का लास्ट स्टेज क्या है?

कैंसर का लास्ट स्टेज सबसे खतरनाक माना जाता है क्योंकि इस स्टेज में इलाज होना लगभग नामुमकिन होता है और ऐसे में लोगों की अधिकतर मृत्यु हो जाती है।

कैंसर के लास्ट स्टेज में कोशिकाओं में कैंसर की मात्रा इतनी अधिक बढ़ जाती है कि वह गांठ बहुत बड़ी हो जाती है और एक बड़ी आकार का ट्यूमर बन जाती हैं।

यह कैंसर का लास्ट स्टेज माना जाता है। इसके अलावा जब कैंसर एक अंग से दूसरे अंग में हो जाता है तो उसे भी कैंसर का लास्ट स्टेज कहते हैं। 

सारे कैंसर में से सबसे खतरनाक कैंसर कौन सा है?

वैसे तो सभी कैंसर बहुत खतरनाक होते हैं क्योंकि सभी में जान जाने की नौबत आ जाती हैं। लेकिन सभी कैंसर में सबसे ज्यादा खतरनाक कैंसर की अगर बात करें तो वह ब्रेन कैंसर माना जाता है क्योंकि वह दिमाग में होता है तो उसका इलाज होना बहुत ज्यादा मुश्किल होता है। इतना ही नहीं दिमाग से कैंसर को पूरी तरह से निकाल पाना भी लगभग नामुमकिन है क्योंकि इसका इलाज अभी तक पूरी तरह से बना नहीं है। 

कैंसर का इलाज क्या है?

पहले ऐसा माना जाता था कि कैंसर का इलाज नामुमकिन है लेकिन टेक्नोलॉजी के बढ़ने के साथ-साथ साइंस ने भी काफी तरक्की कर ली है।

 जिसके कारण अब कैंसर के भी कई सारे इलाज मुमकिन है। कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी और सर्जरी कैंसर यह सबसे अच्छे इलाज में से एक है। कैंसर का सबसे पक्का इलाज ब्रेकीथेरेपी है। लेकिन इन सभी तरीकों से कैंसर का इलाज तभी हो सकता है जब वह पहले स्टेज में किया जाए क्योंकि कैंसर के चौथे स्टेज का कोई इलाज नहीं है। 

कैंसर का दवा कौन सा है?

कीमोथेरेपी रेडियोथेरेपी और सर्जरी जैसी चीजों के कैंसर का इलाज किया तो जा सकता है लेकिन अभी तक वैज्ञानिकों ने कैंसर के लिए कोई दवाइयों को नहीं खोजा है लेकिन आयुर्वेद में कैंसर के लिए कुछ दवाएं जरूर है जिसकी जानकारी आपको इंटरनेट से मिल जाएगी। 

कैंसर के इलाज में कितना खर्च आता है?

कैंसर के इलाज में कितने रुपए खर्च होंगे यह कह पाना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि इसका कोई सही पैमाना नहीं है लेकिन कैंसर के इलाज में मिनिमम डेढ़ लाख रुपए और मैक्सिमम की कोई लिमिट नहीं है। 

कैंसर का सबसे बड़ा हॉस्पिटल कौन सा है? 

भारत में कैंसर का सबसे बड़ा हॉस्पिटल हरियाणा के झज्जर में स्थित अस्पताल-नैशनल कैंसर इंस्टिट्यूट (NCI) है। 

कैंसर किस उम्र में होता है ? 

वैसे तो कैंसर एक ऐसा रोग है जो किसी भी उम्र में हो सकती है ऐसा नहीं है कि बच्चों को नहीं होगी। लेकिन अब तक डॉक्टर ने अपने रिसर्च से जो पता लगाया है उसके अनुसार आजकल 10 से 40 वर्ष के लोगों को अधिक हो रहा है।

निष्कर्ष

तो साथियों अब हमें यह पूर्ण आशा है इस लेख को पढ़ने के पश्चात कैंसर क्या है? इस बीमारी के कारण लक्षण इत्यादि की पूर्ण जानकारी हमने आपके साथ साझा की है। यदि जानकारी से संतुष्ट हैं तो इसे शेयर करना न भूलें।

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों कैंसर क्या है | What is Cancer in Hindi का यह लेख आपको पसंद आया होगा. यदि आपको इस भयानक बिमारी के बारे में दी बेसिक जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *