डोमेन क्या होता है कैसे खरीदा जाता है | What Is Domain Name In Hindi

डोमेन नाम क्या होता है कैसे खरीदा जाता है कीमत | What Is Domain Name In Hindi | How to buy Price : किसी भी व्यक्ति के द्वारा जब इंटरनेट पर अपनी खुद की वेबसाइट बनाई जाती है, तब उसके द्वारा डोमेन नेम की खरीदारी की जाती है, साथ ही होस्टिंग भी ली जाती है। इसके पश्चात ही एक प्रोफेशनल वेबसाइट इंटरनेट पर बन करके तैयार होती है। ऐसे में काफी लोगों के मन में यह सवाल पैदा होता है कि आखिर यह डोमेन नेम होता क्या है और इसकी आवश्यकता क्यों वेबसाइट तैयार करने के लिए होती है।

What Is Domain Name In Hindi डोमेन क्या होता है

What Is Domain Name In Hindi डोमेन क्या होता है

Google Domain name kya hai

बता दें कि डोमेन नेम हर वेबसाइट के लिए आवश्यक है। दुनिया में जितनी भी वेबसाइट है, सभी के डोमेन नेम अलग-अलग होते हैं। दो वेबसाइट के डोमेन नेम एक समान नहीं हो सकते हैं। डोमेन नेम की पूरी जानकारी आज हम इस आर्टिकल में उपलब्ध करवाएंगे। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि “डोमेन नेम क्या है” और “डोमेन नेम कैसे खरीदें।”

डोमेन नेम क्या है? What Is Domain Name In Hindi

इंटरनेट पर बनी हुई हर वेबसाइट के पास अपना खुद का डोमेन नेम है। यह एक ऐसी पद्धति है जिसके द्वारा इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट को आसानी से सर्च किया जा सकता है या फिर किसी भी वेबसाइट को पहचाना जा सकता है। डोमेन नेम हमेशा अलग ही होता है।

इंटरनेट पर जितनी भी वेबसाइट है उन सभी का डोमेन अलग अलग होता है। दो वेबसाइट का डोमेन नेम एक जैसा नहीं हो सकता है। एग्जांपल के तौर पर google.com, youtube.com यह सभी बेहतरीन डोमेन नेम है। इसके अलावा yahoo.com, hotmail.com, gmail.com यह भी डोमेन नेम के ही उदाहरण है।

जिस प्रकार से हर व्यक्ति के मकान का कुछ ना कुछ नंबर होता है अथवा एड्रेस होता है ताकि उस व्यक्ति के घर तक आसानी से पहुंचा जा सके, उसी प्रकार इंटरनेट पर बनी हुई हर वेबसाइट का अपना खुद का अलग-अलग डोमेन नेम होता है जिसे आप ब्राउज़र में टाइप करके तुरंत ही उस वेबसाइट तक पहुंच सकते हैं।

Telegram Group Join Now

टेक्निकल भाषा में बात की जाए तो सभी वेबसाइट एक आईपी एड्रेस के साथ कनेक्ट होती है, जो कि नंबर के तौर पर होता है। वेब ब्राउज़र को इसी आईपी एड्रेस के द्वारा यह बताया जाता है कि कौन सी वेबसाइट इंटरनेट पर किस जगह पर उपलब्ध है।

आईपी एड्रेस नंबर के तौर पर होता है और ip-address को याद रखना आसान काम नहीं होता है। इसलिए डोमेन नेम का निर्माण किया गया है ताकि डोमेन नेम के द्वारा आसानी से उस वेबसाइट तक पहुंचा जा सके। डोमेन नेम बेचने वाली प्रमुख वेबसाइट के द्वारा आप डोमेन नेम अपनी वेबसाइट अथवा अपने ब्लॉग के लिए खरीद सकते हैं। आप गोडैडी, नेमचीप और अन्य डोमेन बेचने वाले पोर्टल से डॉमेन की खरीदारी कर सकते हैं।

डोमेन के भाग parts of domain in hindi

डोमेन नेम के दो पार्ट होते हैं जिसमें पहला पार्ट (.) से पहले होता है और दूसरा पार्ट (.) के बाद में होता है जैसे कि google.com है।

बता दें कि डॉट से पहले का भाग यूजर अपने द्वारा क्रिएट कर सकता है परंतु उसके पश्चात का भाग एक एक्सटेंशन होता है जो हमेशा फिक्स रहता है, जो अलग-अलग प्रकार के होते हैं। आप अपनी आवश्यकता के हिसाब से किसी भी डोमेन बेचने वाली वेबसाइट से एक्सटेंशन की खरीदारी कर सकते हैं। अलग-अलग एक्सटेंशन की कीमत डोमेन बेचने वाली वेबसाइट पर अलग-अलग होती है।

डोमेन नेम कैसे काम करता है? how does a domain name work in hindi

इंटरनेट पर उपलब्ध सभी वेबसाइट एक सर्वर में होस्ट होती है, क्योंकि सरवर के द्वारा ही वेबसाइट को लाइव किया जाता है और सरवर ही वेबसाइट को इंटरनेट से कनेक्ट करके रखता है। जितने भी सर्वर हैं सभी का एक आईपी एड्रेस भी अवश्य होता है और जो वेबसाइट होती है उन्हें इसी आईपी एड्रेस पर पॉइंट किया जाता है।

जब आप किसी भी ब्राउज़र में डोमेन नेम को सर्च करते हैं तो डोमेन नेम सिस्टम के द्वारा डोमेन नेम को आईपी एड्रेस में कन्वर्ट किया जाता है, क्योंकि कंप्यूटर के द्वारा डोमेन नेम को नहीं समझा जा सकता है। इसलिए डोमेन नेम सिस्टम के द्वारा डोमेन नेम को आईपी एड्रेस में बदलना आवश्यक होता है, क्योंकि आईपी एड्रेस आसानी से कंप्यूटर पढ़ लेता है।

ब्राउज़र जब आपके ip-address को समझ लेता है तो उसके पश्चात सर्च किए जा रहे डोमेन नेम को उसके सर्वर से कनेक्ट कर दिया जाता है जिसकी वजह से उस वेबसाइट का होम पेज या फिर कोई भी पेज आपके ब्राउज़र की स्क्रीन पर दिखाई देता है और इस प्रकार से आप उस वेबसाइट को एक्सेस कर पाते हैं।

डोमेन नेम के प्रकार domain name types in hindi

एक्सटेंशन के आधार पर डोमेन नेम को मुख्य तौर पर तीन प्रकारों में बांटा गया है, जिसमें पहला है टॉप लेवल डोमेन नेम। दूसरा है कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन और तीसरा है सब्डोमेन। इन तीनों ही प्रकार के डोमेन की जानकारी नीचे हमारे द्वारा आपको उपलब्ध करवाई जा रही है।

1: Top Level Domain

संक्षेप में टॉप लेवल डोमेन को टीएलडी कहा जाता है। टॉप लेवल डोमेन दुनिया के सभी देशों के लिए बनाए गए होते हैं, क्योंकि टॉप लेवल डोमेन की खरीदारी दुनिया भर के अलग-अलग देशों के लोगों के द्वारा की जाती है। 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन फ्रेंडली होने के नाते टॉप लेवल डोमेन जल्दी से गूगल पर रैंक हो जाते हैं। इसलिए जो लोग गूगल पर अपनी वेबसाइट को जल्दी से लिंक करवाने की इच्छा रखते हैं वह लोग अधिकतर टॉप लेवल डोमेन की खरीदारी करते हैं। 

टॉप लेवल डोमेन के प्रमुख एग्जांपल नीचे बताए अनुसार हैं।

  • .Com (Commercial)
  • .Org (Organization)
  • .Net (Network)
  • .Gov (Government)
  • .Biz (Business)
  • .Edu (Education)
  • .Info (Information)

2: Country Code Top Level Domain

कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन को संक्षेप में सीसीटीएलडी कहा जाता है। इस प्रकार के डोमेन का निर्माण किसी पर्टिकुलर कंपनी के लिए किया जाता है। जैसे कि अगर आप भारत देश में रहते हैं तो आप कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन के तहत .in एक्सटेंशन वाला डोमेन ले सकते हैं। 

मुख्य तौर पर इस प्रकार के डोमेन नेम का इस्तेमाल किसी स्पेसिफिक कंट्री में अपनी वेबसाइट को रैंक करवाने के लिए किया जाता है। इस प्रकार का डोमेन किसी भी देश के 

Two Letter ISO Code के अंतर्गत दिए गए होते हैं। कुछ प्रमुख कंट्रीकोड टॉप लेवल डोमेन की लिस्ट निम्नानुसार है।

  • Us (United States)
  • In (India)
  • Ch (Chaina)
  • Uk (United Kingdom)
  • Ru (Russia)

3: सबडोमेन 

जो मुख्य डोमेन नेम होता है, उसी का एक महत्वपूर्ण भाग सब्डोमेन होता है। इसे आप को खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है। अगर आपके द्वारा सीसीटीएलडी अथवा TLD डोमेन नेम की खरीदारी की जा चुकी है तो आप उसे सब्डोमेन में डिवाइड कर सकते हैं। 

एग्जांपल के तौर पर गूगल वेबसाइट का डोमेन नेम google.com है और इसके सब्डोमेन को हम Hindi.google.com,en.google.com बना सकते हैं। ऐसा करना बिल्कुल फ्री है। इसके लिए आपको ₹1 देने की आवश्यकता नहीं है।

डोमेन कहाँ से खरीदें? Where to buy domain in hindi

अगर आप अपनी खुद की वेबसाइट का निर्माण करने के लिए या फिर अपना खुद का ब्लॉग बनाने के लिए किसी बेहतरीन डोमेन नेम को खरीदना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको यह पता होना चाहिए कि डोमेन नेम सर्विस प्रोवाइडर वेबसाइट कौन सी है। 

नीचे हमने आपके सामने कुछ महत्वपूर्ण डोमेन बेचने वाली वेबसाइट की लिस्ट दी हुई है, जिसके द्वारा आप कम दाम में अच्छे से अच्छा डोमेन खरीद सकते हैं। फिर चाहे आप किसी भी एक्सटेंशन का डोमेन क्यों न प्राप्त करना चाहते हो।

  • Hostinger
  • Godaddy
  • Bigrock
  • Namecheap

डोमेन नाम कैसे बनायें? How to create domain name in hindi

  • डोमेन नेम की खरीदारी करने से पहले आपको कुछ आवश्यक बातों का ध्यान रखना चाहिए, जो कि निम्नानुसार है।
  • प्रयास करें कि आप जो डोमेन नेम खरीद रहे हैं वह कम शब्दों वाला हो ताकि आसानी से आपको भी डोमेन नेम याद रहे और यूजर को भी डोमेन नेम याद रहे।
  • आपको हमेशा टॉप लेवल डोमेन नेम लेना चाहिए क्योंकि यह पूरी दुनिया भर में चलता है।
  • डोमेन नेम मे आपको किसी स्पेशल अंक या फिर शब्द का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।
  • हमेशा आपको नया डोमेन लेना चाहिए जो किसी दूसरी वेबसाइट के डोमेन नेम से बिल्कुल भी ना मिलता जुलता हो।
  • आप जिस सब्जेक्ट पर ब्लॉगिंग करना चाहते हैं आपको उसी सब्जेक्ट से रिलेटेड डोमेन नेम की खरीदारी करनी चाहिए।
  • पॉपुलर वेबसाइट की देखा देखी कभी भी आपको डोमेन नेम नहीं लेना चाहिए वरना आपकी वेबसाइट को रैंक होने में काफी दिक्कत आएगी।

डोमेन और URL में अंतर क्या है

काफी लोग डोमेन नेम और यूआरएल को एक ही समझते है, परंतु ऐसा नहीं है। यूआरएल और डोमेन नेम दोनों एक दूसरे से काफी भिन्न होते हैं। 

आप किसी वेबसाइट को ढूंढने के लिए उसके डोमेन नेम का इस्तेमाल कर सकते हैं परंतु यूआरएल अर्थात यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर के द्वारा आप किसी पर्टीकूलर वेब पेज को सर्च कर सकते हैं। यूआरएल के अंतर्गत आपको डोमेन नेम के अलावा दूसरी जानकारी भी प्राप्त होती है। जैसे कि प्रोटोकोल, किसी स्पेशल पेज का एड्रेस, फोल्डर का नाम, Www इत्यादि।

नीचे आपको डोमेन और यूआरएल का उदाहरण दिया गया है।

• डोमेन नेम:google.com

• यूआरएल:Https://Www.google.com/Domain-Name-Kya-Hai-Hindi/

डोमेन क्या होता है FAQ: 

Q: डोमेन कितने प्रकार के होते हैं?

ANS: डोमेन मुख्य तौर पर 3 प्रकार के होते हैं, जिसकी जानकारी आर्टिकल में दी गई है।

Q: डोमेन नाम कैसे खरीदें?

ANS: डोमेन नेम खरीदने के लिए आप डोमेन सेलिंग वेबसाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप गोडैडी से डोमेन खरीद सकते हैं।

Q: डोमेन नाम की आवश्यकता क्यों होती है?

ANS: वेबसाइट को प्रोफेशनल लुक देने के लिए और वेबसाइट की अलग पहचान बनाने के लिए डोमेन नाम की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़े

मित्रों डोमेन क्या होता है कैसे खरीदा जाता है | What Is Domain Name In Hindi शीर्षक से दिए गये इस लेख में हमने डोमेन नेम के बारे में सरल और आसान भाषा में जानकारी दी है. हमें उम्मीद है ये जानकारी आपको उपयोगी लगी होगी तथा कुछ नया सीखने को मिलेगा.

डोमेन क्या होता है यह जानकारी आपको कैसी लगी, आपका कोई प्रश्न अथवा सुझाव हो तो कमेंट कर जरुर बताएं. साथ ही आप इस तरह के आर्टिकल नित्य पढना पसंद करते है तो आपके इस ब्लॉग पर आते रहिए.

Leave a Comment