बाल दिवस पर निबंध 2022 | Childrens Day Essay in Hindi

बाल दिवस पर निबंध 2022 Childrens Day Essay in Hindi Bal Divas 14 November Nibandh: नमस्कार मित्रों बालदिवस 2022 (Children’s Day/Bal Divas) की आपकों हार्दिक बधाई. जैसा कि हम सभी जानते है देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु के जन्म दिन 14 November को हम बाल दिवस- Childrens Day के रूप में हर साल मनाते हैं. चाचा नेहरु बच्चों से बेहद लगाव किया करते थे. इस कारण उनके जन्म दिन को चिल्ड्रन डे के रूप में सेलिब्रेट किया जाता हैं. बाल दिवस 2022 आगामी 14 नवम्बर को भारत में मनाया जाएगा. छोटे बच्चों के लिए बाल दिवस का निबंध आज हम लेकर आए हैं. 

बाल दिवस पर निबंध 2022 | Childrens Day Essay in Hindi

बाल दिवस पर निबंध 2022 Childrens Day Essay in Hindi

चिल्ड्रन डे स्पीच बाल दिवस का भाषण एस्से हिंदी में, बाल दिवस के बारे में कोट्स स्लोगन कविता हिंदी निबंध: हर साल 14 नवम्बर को चाचा नेहरु का जन्म दिन हम चिल्ड्रन डे के रूप में मनाते है यह एक राष्ट्रीय पर्व है जो देशभर में मनाया जाता हैं, आपकों बता दे इस अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस( इंटरनेशनल चिल्ड्रन डे) हर वर्ष 20 नवम्बर को महिला अंतर्राष्ट्रीय लोकतांत्रिक संघ द्वारा आयोजित किया जाता हैं. 1 जून 1950 से बाल दिवस मनाते आ रहे हैं. विभिन्न देशों में इसे मनाने की तिथियाँ अलग अलग हैं.

400 शब्द निबंध

बाल दिवस एक पर्व के तौर पर पूरे भारतवर्ष में हर साल 14 नवंबर के दिन मनाया जाता है और इसे सिर्फ हमारे ही जिले में नहीं बल्कि पूरे देश में धूमधाम के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। इसी दिन हमारे भारत देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री साथ ही साथ प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी पंडित जवाहरलाल नेहरु जी भारत की पावन धरा पर पैदा हुए थे जिन्होंने देश की आजादी में महत्वपूर्ण योगदान दिया था साथ ही क्रांतिकारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ाई लड़ी थी।

हमारे देश को आजाद करवाने में पंडित जवाहरलाल नेहरू ने अन्य क्रांतिकारियों की तरह ही महत्वपूर्ण योगदान दिया था और देश आजाद हो जाने के पश्चात उन्होंने भारत देश के प्रधानमंत्री की बागडोर संभाली और प्रधानमंत्री के पद पर रहते हुए भी देश की भलाई के लिए हर संभव प्रयास किया। 

चाचा नेहरू जी को बच्चों से बहुत ही ज्यादा लगाव था और यही कारण है कि बच्चे भी पंडित जवाहरलाल नेहरू को प्यार से चाचा नेहरू के नाम से बुलाते थे। पंडित जवाहरलाल नेहरु यह मानते थे कि बच्चे ही किसी भी देश का भविष्य होते हैं और किसी भी देश के विकास में बच्चों का महत्वपूर्ण योगदान होता है और अगर हर बच्चा शिक्षित हो जाए तो भारत फिर से काफी तेजी के साथ विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर हो जाएगा।

पंडित जवाहरलाल नेहरू का मानना था कि  देश में एजुकेशन के स्तर को सुधार करके ही हम भारत देश का नव निर्माण कर सकते हैं। खैर बात करें अगर बाल दिवस की तो इस दिन बच्चे काफी ज्यादा खुश होते हैं और वह काफी हंसी खुशी के साथ बाल दिवस को सेलिब्रेट करते हैं। 

Telegram Group Join Now

बाल दिवस के मौके पर विभिन्न गवर्नमेंट और प्राइवेट स्कूल या फिर कॉलेज में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन होता है। इसके साथ ही साथ कुछ राज्यों में बाल दिवस के मौके पर बाल मेला भी लगता है।

बाल दिवस सिर्फ खुशी मनाने का ही दिन नहीं है। इस दिन हम सभी को इस बात का निर्णय करना चाहिए कि पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के जो भी आदर्श हैं, हमें भी उनके आदर्शों पर सही उतरने की कोशिश करनी चाहिए।

 और हमें भी अच्छी पढ़ाई लिखाई करके जिंदगी में सफलता को हासिल करने का प्रयास करना चाहिए अथवा अगर हम एक अभिभावक हैं, तो हमें अपनी संतानों को अच्छी एजुकेशन देनी चाहिए, ताकि वह अपनी जिंदगी में आगे बढ़े और साथ ही साथ भारत देश के नाम को भी रोशन करें।

क्योंकि बच्चे ही किसी भी देश का भविष्य होते हैं। बच्चे हैं तो देश का आने वाला कल उज्जवल रहेगा। इसलिए सभी को बच्चों के एजुकेशन पर विशेष तौर पर फोकस करना चाहिए और बच्चों को एजुकेशन देने के साथ ही साथ उन्हें आदर्श नागरिक बनने के गुणों के बारे में सिखना चाहिए।

क्यों मनाते है बालदिवस का महत्व Importance of Children’s Day in Hindi

बाल दिवस का छोटा निबंध, बाल दिवस 2022 निबंध, बाल दिवस पर हिन्दी निबंध, बाल दिवस क्यों मनाया जाता हैं चिल्ड्रन डे स्पीच इन हिंदी: किसी ने ठीक ही कहा है कि बच्चे भगवान का रूप होते हैं इंसान अपने स्वार्थ से रिश्ते बनाता और तोड़ता है, वह दूसरों के साथ व्यवहार भी अपने स्वार्थ के मुताबिक़ ही करता हैं. जबकि बच्चे इस मतलब की दुनियां से बेहद दूरी बनाए रहते हैं. उनके लिए उनकी मित्र मंडली ही संसार का स्वरूप होती हैं.

किसी भी देश का भविष्य उनके बच्चे होते हैं. भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी बच्चों से बेहद लगाव रखते थे., वे जहाँ भी जाते बच्चों से अवश्य मिलते थे. यही वजह हैं कि भारत सरकार द्वारा भी पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्म दिन 14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. यह बच्चों को समर्पित  राष्ट्रीय पर्व हैं. जो चाचा नेहरु की याद में मनाया जाता हैं.

14 नवम्बर को बाल दिवस क्यों मनाया जाता है Why We celebrate Children’s Day on November 14th Essay

Children’s Day India बाल दिवस पर भाषण Bal Diwas In Hindi Wikipedia बाल दिवस पर निबंध बाल दिवस का महत्व चिल्ड्रेन डेपंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहबाद में जन्मे देश के पहले प्रधानमंत्री श्री पंडित नेहरु के जन्म दिन 14 नवम्बर को भारत में बाल दिवस की तरह मनाते हैं. बाल दिवस Children’s day के दिन बच्चों को समर्पित देश भर में कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन होता हैं.

बड़े लोगों द्वारा इस दिन बच्चों को बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं भेजी जाती हैं. नेहरूजी बच्चों को भारत का भविष्य एवं भाग्य विधाता मानते थे, उनका ऐसा कोई दौरा नही था, जिसमें वे बच्चों से नही मिले हो. बच्चें भी प्यार से उन्हें चाचा कहकर संबोधित किया करते थे. यही वजह हैं कि हम उनके जन्म दिवस को बाल दिवस के रूप में सेलिब्रेट करते हैं.

बच्चों के लिए बाल दिवस निबंध इन हिंदी Children’s Day Essay in Hindi

भारत की आजादी के लिए लड़ाई लड़ने वाले पंडित नेहरु के पिता का नाम मोतीलाल नेहरु था. वे देश के बड़े नामी व्यक्तियों में से एक थे. महात्मा गाँधी के साथ सत्य एवं अहिंसा के पथ पर चलकर भारत को स्वतंत्र कराने वालों में नेहरूजी भी एक थे.  जब भारत स्वतंत्र हो गया तो उन्हें देश का पहला प्रधानमंत्री चुना गया था. विकट परिस्थियों में देश की कमान सँभालने वाले नेहरु जी ने भारत के आंतरिक एवं बाहरी हालातों को समझते हुए कई एतिहासिक निर्णय लिए.

द्वि धुर्वीय विश्व की राजनीति में भारत को इन्होने किसी के साथ न जोड़ते हुए स्वतंत्र रूप से अपने जन के कल्याण के कार्य में लगाया. जिस समय उन्होंने देश की सत्ता संभाली भारत कई विकट परिस्थियों से गुजर रहा था. साम्प्रदायिक हिंसा से देश का कोना कोना जल रहा था, गरीबी, भुखमरी, अशिक्षा, बेरोजगारी, राष्ट्रीय सुरक्षा एकता और अखंडता जैसी कठिनाइयों की जकड़ में फसा था.

उन्होंने कई देशों के साथ अच्छे सम्बन्ध बनाए जिनमे साम्यवादी रूस, चीन मुख्य थे. हालाँकि नेहरु जी की चीन निति बेहद घातक साबित हुई तथा 1962 में चीन का आक्रमण किसी विश्वास घात से कम नही था, जिसका सदमा नेहरूजी को ऐसा लगा कि कभी उबर नही पाए और कुछ ही साल बाद उनका देहान्त हो गया था.

चिल्ड्रन डे एस्से Childrens Day Essay in Hindi 

यहाँ हम अध्यापकों तथा बच्चों के लिए 14 नवम्बर 2022 बाल दिवस का भाषण (children’s day speech) लेकर आये हैं. आसान भाषा में लिखा गया यह छोटा निबंध भाषण कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 के बच्चें अच्छी तरह याद कर अपने विद्यालय के बाल दिवस कार्यक्रम में भाषण दे सकते हैं. अथवा निबंध बोल सकते हैं.

बच्चों को समर्पित इस दिन नन्हे बालक बालिका गीत कविता द्वारा अपने स्वर्गीय चाचा पंडित नेहरु का याद कर श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं. बच्चे अपने हुनर का प्रदर्शन ,गायन ,नाटक ,कविता ,नृत्य का प्रदर्शन के द्वारा नेहरु जी के जीवन को दिखाया जाता हैं. आमजन में भी उनके जन्म दिवस पर जागरूकता के लिए रैलियां निकाली जाती है. लाखों लोगो के आदर्शं पंडित जवाहरलाल नेहरु की देशभक्ति, उनके विचारों, सादगी भरे जीवन से हम प्रेरणा लेकर अपने जीवन को राष्ट्र के हित के लिए तैयार कर सकते हैं.

आज का बालक एक ऐसे युग में जी रहा है जहाँ जरा भी उस पर ध्यान न दिया गया तो राह भटकते देर नही लगती. कहा गया है कि अच्छी आदते सीखने में वर्ष लग जाते है मगर बुरी आदते पल भर में ही ग्राह्य हो जाती हैं. एक अभिभावक के तौर पर अपने बच्चें को स्वतंत्रता देने के साथ साथ उसका ध्यान भी रखा जाना चाहिए.

हमारे समाज को चाहिए कि आज के बाल दिवस पर यह संकल्प करे कि हम इन नन्हे बालकों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वाली प्रथाओं को समाप्त करने के लिए आगे आयेगे. बाल विवाह, बाल श्रम, नशाखोरी जैसी वीभत्स बुराइयों से हमारे बालकों को दूर रख एक आदर्श भारत का निर्माण करेगे.

बाल दिवस 2022 इस तरह के विविध रंगारंग कार्यक्रमों के द्वारा बच्चों के सम्मान में यह दिवस सम्पूर्ण भारत में मनाया जाता हैं. इस दिन बालक बालिकाएं अपनी रचना, कविता, गीत के माध्यम से चाचा नेहरु जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं.

देश भर के बड़े नेता, अभिनेता आदि शांतिवन में उनकी समाधि पर जाकर उन्हें याद करते हैं. आज समय की आवश्यकता है कि दुसरे विश्व युद्ध जैसी वर्तमान परिस्थियों में हमें पंडित नेहरु जैसे शांति दूत की फिर से आवश्यकता हैं. उनके द्वारा बताई गई राह और आदर्शों पर चलकर हम देश को सही दिशा दे सकते हैं.

बाल दिवस पर वृत्तांत लेखन in hindi निबंध wikipedia- essay on children’s day in hindi

speech on november 14 children’s day ukg students world children’s day essay: हमारे देश में हर वर्ष 14 सितम्बर के दिन बाल दिवस को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं. इस दिन विद्यालयों व महाविद्यालयों में नेहरु के सम्मान में बच्चों के लिए कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करवाया जाता हैं. इस दिन बहुत सी घटनाओं तथा प्रक्रियाओं का आयोजन करवाया जाता हैं.

इस अवसर पर स्कूल की बिल्डिंग को विभिन्न प्रकार के रंगों, बेलून तथा अन्य प्रकार की सजावट से सजाते हैं. यह दिन देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित नेहरु की जयंती के रूप में सेलिब्रेट किया जाता हैं. बताते है कि नेहरु जी को बच्चों से अति लगाव था, इस कारण उन्हें बच्चे चाचा नेहरू के नाम से जानते थे. इस अवसर पर नेहरु के कार्यों व विचारों को याद किया जाता हैं. स्कूल में बालक हिंदी और अंग्रेजी में गाने, कविता पाठ, भाषण, नृत्य आदि कार्यक्रम प्रस्तुत करते हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों बाल दिवस पर निबंध 2022 का यह लेख आपकों पसंद आया होगा, यदि आपकों इस निबंध में दी गई जानकारी इनफार्मेशन पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Comment