देशभक्ति शायरी संग्रह 2021 Desh Bhakti Shayari in Hindi

देशभक्ति शायरी संग्रह 2021 Desh Bhakti Shayari in Hindi: जब बात वतन ही हो, सब अपना-पराया, तेरा मेरा छोड़कर एक धागे में बंध जाते है. यही देशभक्ति है, हर भारतीय अपने वतन के सम्मान की खातिर सर्वस्व नौछावर कर देता है. यहाँ आपके लिए कुछ बेहतरीन patriotic shayari, Desh Bhakti Shayari, rashtriya shayari का संग्रह किया है. उम्मीद करते है, यह आपकों पसंद आएगा. चलिए पढ़ना आरम्भ करते है.

देशभक्ति शायरी संग्रह 2021 Desh Bhakti Shayari in Hindi

देशभक्ति शायरी संग्रह 2021 Desh Bhakti Shayari in Hindi आवों झुक के सलाम करे उनकों जिनके हिस्से में यह मुकाम आता है कितने किस्मत वाले है वे लोग जिनका लहू वतन के काम आता है. (Desh Bhakti Shayari)

इंडियन आर्मी शायरी इन हिंदी

सो गया अपनी भारत माँ के लिए ,माँ मुझे अपने आंचल में तुम भी छुपा लो ! हाथ अपना फेर कर मेरे बालों में , फिर से बचपन की लोरिया सुना दो !! ?? I love my Indian Army..!!

देशभक्त शायरी हिंदी, उर्दू

लोट आई वो साहिल पे वो खोई हुई कस्ती अभी इस नदी की मौजो में रवानगी बाकी है

मै भारतीय हु, हिंदी शायरी देशभक्ति पर

समय आ चूका है अब सभी को साफ़ साफ़ कहना होगा देशभक्ति की प्रबल धारा में हर मन को अब बहना होगा जिसे लगे ये पराया तिरंगा मेरा वतन छोड़ जाए यहाँ तो भारतीय बनकर रहना होगा ||

Desh Bhakti Status In Hindi

सर-फरोशी ki तमन्ना अब हमारें दिल मे हे देखना है जोर कितना बाजूए कातिल मे है, वक्त आनें दें बता देगे तुझें ए आसमा, हम अभी सें क्या बताए क्या हमारें दिल मे है.
जमानें भर में मिलतें हैं आंशिक कई मगर वतन से सुनदर कोईं सनम नही होतां
पैसों में भी लिपटकर सोंने में सिमटकर मरें हैं कई , मगर तिरंगें से सुनदर कोईं कफन नहीं होता !!
नसीब वाले है वो लोग जो वतन पर मिट जाते है मरके भी वो लोग अमर हो जाते है करता हु, उन्हें सलाम ऐ वतन पर मिटने वालों तुम्हारी हर सास में तिरंगे का नसीब बसता है !!
अब तक जिसका खून न खौला वह खून नही पानी है जो वतन के काम न आए वो बेकार जवानी है !!
मेरा यही अंदाज जमाने को खलता है कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है मै अमन पसंद हू मेरे शहर में दंगा रहने दो लाल व हरे में न बाटों मेरी छत पे तिरंगा रहने दो (Desh Bhakti Shayari)
मुझे न तन चाहिए न मन चाहिए अमन से भरा यह वतन चाहिए जब तक जिन्दा रहू इस मातृभूमि के लिए और मरु तो तिरंगा कफन चाहियें !!
तैरना हे तों समुदर में तेरों नालो मे कया रखा हे पयार करना हे तो देश सें करों औंरों मे क्या रखा हे !!
हमे नशा तिरंगें कीं आंन का हे, कुछ नशाँ मातृभूमि कीं शांन का हे लहरायेगें यें तिरंगां, नशा ये भारत माँ के शांन का हे !!

Desh Bhakti Shayari Hindi

देशभक्ति शायरी डाउनलोड देशभक्ति शायरी कविता राष्ट्रीय शायरी वतन शायरी देशभक्ति sms शहीदों की शायरी वतन परस्ती शायरी देशभक्ति शायरी download जों वतन के कुर्बान के हुए उन्हें मेरा सलाम हे इस धरती को जिसने अपने लहू से सींचा उन् शूरवीरों को मेरा सलाम है !!
जिन्हें पयार है मातृभूमि से, वो अपना खून बहाते हे माँ की चरणों में अपना प्राण न्यौछावर करते हे देश के लिए हसते हसते अपनी जान दे देते है वहीँ सपूत अंत में अमर शहीद कहलाते है !!
जिन्दगीं तो अपनें दम पर जी जाती हे दुसरों के कन्धो पर तों सिर्फं जनाजे निकालें जाते है (bhagat singh quotes)
पल वो यहाँ के इतिहास के इस वतन के सीने में स्थापित हो गयें, जो लड़े, जो भिड़े वो शहीद हो गयें, जो डरे, जो झुकें वो वजीर हो गयें.

Desh Bhakti Shayari 2021 In Hindi

हर रोज नया दिन हर दिन नया पर्व है विविधताओं से भरे इस देश पर मुझे गर्व है !!
गददार थें जिन्होनें वों सीमा पर सरहदी रेखा बनाइं यूं हीं नहीं स्वतंत्र हुए हे इसें शहीदों के खून से सींचा हे !!
ऐसा नहीं हैं वतन कोई जिसनें ये रित हैं अपनाई देश को कहते हैं माँ और देशवासियों को भाई
लिख रहा हू मे अजाम जिनका कल आगाज़ आएगां
मेरें खून का एक-एक कतरा इन्कलाब लाएगा…
मे रहु ना रहु पर मेरा वादा है तुमसे मेरें जानें कें बाद देश पर मरनें वालों का सैलाबं आएगा !! (भगतसिंह शायरी | देशभक्ति शायरी )
मिटा दिया है वजूद उनका जिसनें भी हमारी तरफ है देखा वतन की रक्षा का वायदा किये जवान खड़ा है सरहद पर !!
यहाँ आरती हे अजां हे मुसलमान हे हिन्दू हे फक्र हे मुझे इस वतन पर कयोंकि ये मेरा हिन्दुस्थान है !!

Patriotic Shayari In Hindi

देशभक्ति की शायरी दस भक्ति शायरी: नमस्कार दोस्तों आपका हार्दिक स्वागत करते हैं आज के लेख में हम दस भक्ति शायरी (DasBhakti Shayari) का छोटा सा कलेक्शन आपके साथ साझा कर रहे हैं. देश की शान को बढ़ाने वाली इन भक्ति शायरी को आप भी पढ़े तथा अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.
Das Bhakti Shayari

उनके हौसले का मुकाबला ही नही है कोई जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूकि सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है….


मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है, देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है।


Shayari On Das Bhakti

दे सलामी इस तिरगे को जिस से तेरी शान हैं, झंडा हमेशा ऊचा रखना जब तक शरीर में प्राण हैं


देश को आजादी के नए अफसानो की जरूरत है भगत-आजाद जैसे आजादी के दीवानो की जरूरत है…….. वतन को फिर देशभक्त परवानो की जरूरत है


Desh Bhakti Lines Shayari In Hindi

गगा, यमुना, यहा नर्मदा मदिर, मस्जिद के सग गिरजा, शाति प्रेम की देता शिक्षा, मेरा भारत सदा सर्वदा.


अपने वतनकी हिफाजत करूगा ये वतन मेरी जान है इसकी हिफाजत की खातिर हर भारतवासी का दिल और जान कुर्बान है


hindi poem das bhakti

hindi poem das bhakti

अकबर तो था आक्रमणकारी, उसे महान मत बताओ राणा प्रताप के गीत गाओ प्रताप के स्वाभिमान को मत भूल जाओ अकबर को महान बताना मक्कारी है, गद्दारी है. अपना प्रताप लाखो मुगलों पर अकेले भारी है


भारत की फजाओ को सदा याद रहूगा, आजाद मुल्क था, आजाद हू, आजाद रहूगा।


Best das bhakti photo shayari sms massage status In hindi Language

das bhakti photo

das bhakti photo 2

das bhakti photo 3

Desh Bhakti Par Shayari

हर वक़्त मेरी आँखो मे मातृभूमि का सपना हो जब कभी मरू तो तिरंगा मेरा कफ़न हो , और कोई तमन्ना नही है जीवन मे , जब कभी भी जन्म लू तो भारत मेरा वतन हो ..!


बोझ उठाए हुए फिरती है हमारा अब तक ऐ ज़मी मा तिरी ये उम्र तो आराम की थी


चलो आज पुनः वह जमाना याद कर ले। शहीदो के दिल मे थी जो ज्वाला वो ताजा कर ले। उनके जोश व जज्बे को सलाम कर ले।


Desh Bhakti Shayari Attitude

das bhakti shayari hindi

पास वतन के आओ तो कोई बात बने, बुझी मशाल को जलाओ तो कोई बात बने, सूख गया है जो लहू शहीदो का, उसमे अपना लहू मिलाओ तो कोई बात बने।


है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर, इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं, है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय, जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.


वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियाँ रगड़ने दे मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा


खीच दो अपने ख़ू से जमीं पर लकीर इस तरफ आने पाये ना रावण कोई तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे छू ना पाये सीता का दामन कोई राम भी तुम तुम्ही लक्ष्मण साथियो अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो


लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर भारत का ही नाम होगा सबकी जुबान पर ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर कोई जो उठाएगा आँख हिंदुस्तान पर


लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है उछल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी


जरा गौर से सुन ले दुश्मन, तुम लोग कभी न बच पाओगे, देख रूप रौद्र तुम सब, नतमस्तक हो जाओगे


यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों देशभक्ति शायरी संग्रह 2021 Desh Bhakti Shayari in Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. देश शायरी, देशभक्ति शायरी अथवा दस देशभक्ति शायरी का यह आर्टिकल आपकों पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे जरुर शेयर करे.

मित्रों उम्मीद करता हु आपकों Desh Bhakti Shayari का संग्रह पसंद आया होगा. आप अपनी इस वेबसाइट पर स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, गणतंत्र दिवस पर शायरी, शहीदों पर शायरी, देशभक्ति शायरी संग्रह इत्यादि पढ़ सकते है.

अपने विचार यहाँ लिखे