गीर सोमनाथ जिला गुजरात का इतिहास | History Of Gir Somnath District In Hindi

History Of Gir Somnath District In Hindi: नमस्कार दोस्तों आज हम गीर सोमनाथ जिला का इतिहास यहाँ जानेंगे, यह गुजरात का महत्वपूर्ण जिला है जो सौराष्ट्र क्षेत्र में आता है इसका मुख्यालय वेरावल में हैं. यह प्राचीन गिर वन व सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के कारण समूचे भारत में प्रसिद्ध हैं. गीर सोमनाथ में 6 तालुका है इसका क्षेत्रफल 3,755 किमी² तथा जनसंख्या 9,46,790 हैं. वर्ष 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गीर सोमनाथ को पृथक जिला बनाया था, इससे पूर्व यह जूनागढ़ जिले का भाग था.

History Of Gir Somnath District In Hindi

History Of Gir Somnath District In Hindi

सोमनाथ इतिहास में डूबा हुआ है और कई मंदिरों का स्थल रहा है, जो कई बार विस्मित और पुनर्निर्मित हुए हैं। सोमनाथ मंदिर में एक समृद्ध वास्तुकला है। यह शहर नए राष्ट्र के जन्म का प्रतीक है क्योंकि यह भारत को स्वतंत्रता प्राप्त करने के तुरंत बाद बनाया जाना प्रस्तावित था, और महात्मा गांधी के आशीर्वाद के साथ भारत के लौह पुरुष, सरदार वल्लभभाई पटेल की देखरेख के रूप में।

सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक मंदिरों और सामान्य भारतीय विरासत में से एक के रूप में सोमनाथ की प्रासंगिकता केवल स्वतंत्रता के बाद के वर्षों में बढ़ी है और महा शिवरात्रि के दौरान विशाल समारोह हैं। देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में, सोमनाथ आमतौर पर सबसे पहले आता है और हिंदुओं द्वारा अत्यंत पवित्र माना जाता है।

Gir Somnath District History

सोमनाथ एक शानदार मंदिर है जो गुजरात राज्य के सौराष्ट्र के सागर कांत में स्थित है। भगवान शिव के 12 पवित्र ज्योति र्लिंगों में से एक ज्योतिर्लिंग यहाँ सोमनाथ में है। ऋग्वेद में भी सोमनाथ का उल्लेख है। सोमनाथ का यह मंदिर कई विनाशकारी विदेशी आक्रमणकारियों के सामने बहुत आकर्षक रहा है जो मंदिर की महिमा का लालच और रूपांतरण करना चाहते हैं। जब भी मंदिर ने इसे नष्ट करने की कोशिश की है, तब इसे फिर से बनाया गया है।

कहा जाता है कि सोमनाथ का पहला मंदिर 2000 साल पहले अस्तित्व में था। है। 649 ईस्वी में, वल्लभिनी के राजा मैत्रे ने मंदिर के स्थान पर दूसरा मंदिर बनवाया और इसका जीर्णोद्धार कराया। 725 में, सिंध के पुराने शासक ने अपनी सेना ले ली और मंदिर पर हमला किया और मंदिर को नष्ट कर दिया। प्रतिष्ठा राजा नाग भट्ट द्वितीय ने 815 में लाल पत्थर (बलुआ पत्थर) का उपयोग कर तीसरी बार मंदिर का निर्माण किया।

1026 में, महमूद गजनी ने सोमनाथ मंदिर के बहुमूल्य रत्नों और संपत्ति को उधार दिया। लूटपाट के बाद, मंदिर के असंख्य तीर्थयात्रियों को मार डाला और मंदिर को जलाकर नष्ट कर दिया। १०२६-१०४२ के दौरान सोलंकी राजा भीमदेव ने भोज के चौथे मंदिर और अनिलवाड़ पाटन, मालवा के परमार राजा का निर्माण किया। जब १२ ९९ में दिल्ली सल्तनत ने गुजरात पर कब्जा कर लिया। तब १३ ९ ४ में इसे फिर से नष्ट कर दिया गया। 1706 में, मुगल शासक औरंगजेब ने फिर से मंदिर को ध्वस्त कर दिया।

Telegram Group Join Now

भारत के लौह पुरुष और प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने 13 नवंबर, 1947 को मंदिर के पुनर्निर्माण का वादा किया। आज का सोमनाथ मंदिर अपने मूल स्थान पर सातवें स्थान पर बना है। जब 1 दिसंबर, 1995 को मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था, तब भारतीय राष्ट्रपति डॉ। शंकर दयाल शर्मा ने मंदिर को देश को समर्पित किया था। 1951 में, जब भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ। राजेंद्र प्रसाद ने ज्योतिर्लिंग को शुद्ध करने का प्रस्ताव रखा, तो उन्होंने कहा, “सोमनाथ का यह मंदिर विनाश पर निर्माण की जीत का प्रतीक है”। [उद्धरण वांछित] मंदिर श्री सोमनाथ ट्रस्ट के तहत बनाया गया है और यह ट्रस्ट अब मंदिर की निगरानी कर रहा है। वर्तमान में ट्रस्ट के अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल हैं और सरदार पटेल इस ट्रस्ट के पहले अध्यक्ष थे।

चालुक्य शैली से निर्मित कैलाश महामेरु प्रसाद मंदिर में गुजरात के सोमपुरा के कारीगरों की कला का शानदार प्रदर्शन है। इस तरह का निर्माण पिछले 800 वर्षों में नहीं हुआ है। तट पर संस्कृत में लिखे गए शिलालेख के अनुसार, केवल समुद्र मंदिर और ग्रह के दक्षिणी भाग के बीच मौजूद है और कोई भूमि नहीं है।

भालका तीर्थ

भारत के पश्चिमी तट पर सौराष्ट्र में वेरावल के पास प्रभास पाटन में स्थित भालका तीर्थ (भालका तीर्थ), वह स्थान है जहाँ कृष्ण को एक बाण से मारा गया था.

तुलसीशम

तुलसीशम अमरेली जिले की सीमा पर स्थित है और गुजरात में गिर वन राष्ट्रीय उद्यान में सोमनाथ के लिए अब गिर सोमनाथ जिले की सीमा पर स्थित है।

गिर सोमनाथ के प्रमुख पर्यटन स्थल

1: सोमनाथ मंदिर

गिर सोमनाथ इलाके में आने वाला सोमनाथ मंदिर भारत के अलावा दुनियाभर में प्रसिद्ध है। गुजरात राज्य के वेरावल बंदरगाह के पास में सोमनाथ मंदिर मौजूद है, जो कि भगवान शंकर जी को समर्पित है। सोमनाथ मंदिर में 12 ज्योतिर्लिंग में से 1 ज्योतिर्लिंग की स्थापना हुई है और काफी लंबे समय से यह मंदिर चट्टान की तरह खड़ा हुआ है।

इस मंदिर की भव्यता अलौकिक है जिसकी वजह से हर साल लाखों श्रद्धालु इस मंदिर का दर्शन करने के लिए आते हैंव लोक मान्यता के अनुसार मंदिर के निर्माण कर्ता चंद्रदेव हैं। कई मुगल शासकों के द्वारा इस मंदिर को तोड़ने का प्रयास किया गया था परंतु वह नाकामयाब रहे।

इस मंदिर का निर्माण महा सुमेरू नागर शैली में किया गया है। मंदिर में आपको बहुत ही बेहतरीन नक्काशी दिखाई देती है। इसके अलावा विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियां भी यहां पर मौजूद हैं। 

मंदिर में स्मार्टफोन और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान ले जाने की मनाही है। मंदिर के सबसे ऊपर भगवा रंग का झंडा लगा हुआ है और मंदिर के गर्भ गृह में भोलेनाथ जी का शिवलिंग विराजमान है।

2: प्रभास पट्टन संग्रहालय वेरावल 

यह गिर सोमनाथ इलाके के अंतर्गत आने वाले वेरावल नाम की जगह पर मौजूद बहुत ही बेहतरीन म्यूजियम है, जिसका उल्लेख महाभारत काल में भी है, ऐसा कहा जाता है। आपको इस संग्रहालय में घूमने के दरमियान ऐसी ऐसी प्राचीन वस्तुएं दिखाई देंगी, जिन्हें शायद ही आपने कभी अपनी निगाहों से देखा होगा।

आपको इस संग्रहालय में सोमनाथ मंदिर के अवशेष देखने को मिलेंगे क्योंकि कई बार जब मुगलों के द्वारा सोमनाथ मंदिर को तोड़ने का प्रयास किया गया था तब उसके कई अवशेष यहां वहां पड़े थे जिसे अब इस संग्रहालय में लाकर के सुरक्षित रखा गया है, ताकि लोग उसे देख सके। यहां पर कई टूटी फूटी मूर्तियां भी मौजूद है जिनमें मुख्य तौर पर गणेश, भैरव, पार्वती, शिवजी, विष्णु जी की मूर्ति है।

3: श्री चंद्रप्रभु जैन मंदिर 

यह गिरसोमनाथ इलाके का एक बहुत ही महत्वपूर्ण जैन धर्म का मंदिर है, जहां पर रोजाना जैन धर्म के लोगों का आना जाना लगा रहता है। इस मंदिर में जैन धर्म के चंद्रप्रभु स्वामी जी की मूर्ति विराजमान है। इसके अलावा यहां पर श्री शांतिनाथ स्वामी जी, श्री पाश्र्वनाथ स्वामी जी, श्री संभावनाथ स्वामी जी की भी मूर्तियां विराजमान है, जिनके दर्शन आप कर सकते हैं। 

यही नहीं मंदिर में जैन तीर्थ कारो की दूसरी मूर्तियां भी मौजूद है। यहां पर आपको आने के पश्चात काफी शांति का अहसास होता है। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए हर प्रकार के यातायात सुविधा उपलब्ध है।

4: श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर 

इस मंदिर को भगवान विष्णु जी को समर्पित किया गया है, जो कि गिर सोमनाथ इलाके में आने वाले भगवान विष्णु जी के सबसे सुंदर मंदिरों में गिना जाता है। मंदिर के गर्भ गृह में लक्ष्मी जी के साथ ही साथ भगवान विष्णु जी की सफेद मार्बल से बनी हुई मूर्ति को स्थापित किया गया है।

यह मंदिर प्राण प्रतिष्ठित है अर्थात यहां पर विष्णु जी और लक्ष्मी जी की जागृत मूर्ति विराजमान है। कहा जाता है कि इस मंदिर में जा कर के जो भी भक्त अपनी मनोकामना पूर्ण करने की इच्छा व्यक्त करता है उसकी मनोकामना अवश्य ही पूर्ण होती है।

इस मंदिर का निर्माण साउथ इंडिया में बने हुए मंदिरों की शैली के तौर पर किया गया है। आपको मंदिर के गेट के ऊपर की साइड में देवी देवताओं की बहुत ही सुंदर मूर्ति लगी हुई दिखाई देती है जो कि मार्बल की बनी हुई है।

5: श्री राम मंदिर

गिरसोमनाथ इलाके में यह मंदिर जिस रास्ते से त्रिवेणी संगम जाया जाता है उसी रास्ते पर मिलता है जिसका मैनेजमेंट सोमनाथ मंदिर के ट्रस्ट के द्वारा किया जाता है। आपको श्री राम मंदिर में श्री राम भगवान की सुंदर मूर्ति के साथ माता सीता जी और लक्ष्मण जी की मूर्ति भी दर्शन करने के लिए प्राप्त होती है।

मंदिर के बाहर खूबसूरत एक छोटा सा बगीचा भी है जहां पर आप अपने परिवार वालों के साथ समय व्यतीत कर सकते हैं। मंदिर में आपको भगवान सूरज की भी मूर्ति दिखाई देती है जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां पर स्थापित भगवान सूर्य देव की मूर्ति 800 साल से भी ज्यादा पुरानी है।

इसके अलावा आपको मंदिर में ऑडिटोरियम भी प्राप्त होता है जहां पर जा कर के आप मंदिर के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। मंदिर में दूसरे देवी देवताओं की मूर्ति भी स्थापित की गई है। प्रत्येक शनिवार और मंगलवार को यहां पर राम भक्तों की भीड़ लगी हुई होती है।

6: त्रिवेणी संगम 

गिर सोमनाथ में स्थित यह बहुत ही महत्वपूर्ण और पवित्र पर्यटन स्थल अथवा पवित्र स्थल है, जहां पर तीन नदियों का संगम है। इसीलिए इसे त्रिवेणी संगम कहा जाता है। उन तीन नदियों के नाम कपिला, सरस्वती और हिरण नदी है। यहां पर आपको सरस्वती नदी बिल्कुल भी नहीं दिखाई देती है क्योंकि सरस्वती नदी यहां पर छुपी हुई है।

इसके अलावा कपिला और हिरण नदी आपको यहां पर अपनी आंखों से दिखाई देती है। आप इस संगम पर जाकर के स्नान कर सकते हैं और अपनी आत्मा को तृप्त कर सकते हैं। 

ठंडी के मौसम में यहां पर अलग-अलग प्रकार के देशी और विदेशी पक्षी भी आपको दिखाई देते हैं जो कि देखने में बहुत ही आकर्षक लगते हैं। यहां पर लोग अपने पूर्वजों का पिंडदान करने के लिए भी आते हैं। यहां पर शाम का नजारा काफी अद्भुत होता है। मानसिक शांति हेतु यह जगह सबसे बढ़िया है।

7: सूर्य मंदिर 

गिर सोमनाथ इलाके में मौजूद इस मंदिर की गिनती भी प्राचीन सूर्य देव के मंदिरों में होती है। मंदिर में काफी बेहतरीन नक्काशी की गई है जो इस मंदिर की खूबसूरती में चार चांद लगा देती है। इस मंदिर के गर्भ गृह के अंदर सूर्य देव भगवान की प्रतिमा को स्थापित किया गया है।

इसके अलावा आपको इस मंदिर के पास में ही एक स्थान भी दिखाई देता है जिसका नाम सूर्यकुंड है जिसके अंदर भी एक छोटा सा मंदिर बनाया गया है। इसके अलावा यहां पर आपको पांडव गुफा भी देखने को मिलती है जिसमें आप को पांचो पांडव की प्रतिमा स्थापित हुई दिखाई देती है।

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों History Of Gir Somnath District In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों गीर सोमनाथ जिला गुजरात का इतिहास पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Comment