हास परिहास पर सुविचार | Humour Quotes In Hindi

हास परिहास पर सुविचार | Humour Quotes In Hindi : हास्य (humor, laughter, jocularity, jocosity, humour) के बिना व्यक्ति का जीवन दुखों से भरा रहता हैं. कहा जाता है जिसकी मस्ती जिन्दा है उसकी हस्ती जिन्दा हैं. मनोरंजन का बड़ा महत्व हैं. आजकल तो इसके साधन भी एक से बढ़कर एक हैं. यदि आप नित्य आधा  घंटा निकालकर भी ठहाके मार के हंस लिए तो बीमारियों के चक्कर में आप कभी नही  पड़ेगे. आज हम  मनोरंजन हास परिहास पर सुविचार (Humour Quotes Hindi) में दार्शिनिकों के थोट्स जानेगे.

Humour Quotes In Hindi | मजेदार हास परिहास पर सुविचार

हास परिहास पर सुविचार | Humour Quotes In Hindi

1#. मनोरंजन व्यक्तित्व का नमक हैं.


2#. वास्तव में अच्छा मनोरंजन आनन्द के लिए एकत्र गोष्ठी में तेल एवं मदिरा का काम करता हैं.


3#. प्रेम प्रसंग इतना अधिक कोई नष्ट नहीं करता है, जितना एक नारी में हंसी मजाक का भाव.


4#. अच्छा हास-परिहास समाज में जाते समय धारण करने योग्य परिधान का सर्वोत्तम अवयव हैं.


5#. अपनी तारीफ़ स्वयं करे, बुराई करने के लिए तो बहुत हरामखोर बैठे हैं.


6#. जापानी सोच- अगर वह कर सकता है तो मैं भी कर सकता हूँ अगर कोई नही कर रहा हैं तो मुझे करना चाहिए, भारतीय सोच- अगर वह कर रहा है तो उसे करने दो, अगर कोई नही कर सकता तो फिर मैं कौन सा जेम्स बांड हूँ.


7#. ये जरुरी नही कि हर रिश्ता खून का हो, कुछ रिश्ते खून चूसने के लिए भी होते हैं.


8#. जीवन में जो आपके साथ अच्छा करे उसे धन्यवाद दो, जो आपका बुरा करे उन्हें यह सोच कर माफ़ कर दो कि सभी रोगी अस्पताल में नही मिलते कुछ खुले में भी घूमते हैं.


9#. जीवन कठिन है। यह बहुत छोटा नहीं है, यह बहुत लंबा है। लेकिन आपको सीखना है कि कैसे जीना है; आपको विनोद की भावना होनी चाहिए।


10#. हंसी एक अच्छे रिश्ते का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह एक बड़ी उपलब्धि है जब आप अपनी सोच से आगे बढ़ सकते हैं कि आपका साथी केवल यह सोचने के लिए मूर्ख है कि वे एक अद्भुत जटिल चीज हैं जिसे एक प्रेमपूर्ण बेवकूफ कहा जाता है। और अक्सर इसका मतलब है कि उनकी त्रुटियों के बारे में हास्य की भावना थोड़ी सी है।


11#. घर पर मुझे विनोद की एक बहुत ही अश्लील, किशोर भावना मिली है।

हास परिहास पर सुविचार

जीवन में हास परिहास स्वास्थ्य दृष्टि से लाभदायक होता है जो स्वास्थ्य को एक डॉक्टर की भाँति अच्छा कर देता है। डॉक्टर भी हास परिहास की सलाह देते हैं।


कई डॉक्टर अपने मरीज़ों को ठीक करने के लिए हास परिहास का उपयोग करते हैं।


हास परिहास से मन को शांति और स्फूर्ति का आभास होता है।


हास परिहास जीवन में आने वाली अनेक बाधाओं को पार करने में सहायक सिद्ध होता है।


हास परिहास जीवन की परेशानियों को दूर करने का उपाय है।


एक सुकून भरी जिंदगी जीने के लिए जीवन में हास परिहास ज़रूरी हो जाता है।


मनुष्य चाहे कितना भी परेशान क्यों ना हो थोड़ा हास परिहास करने से ही अच्छा महसूस करता है।


हास परिहास से चेहरे की कांति बनी रहती है क्योंकि हास परिहास एक प्रकार का व्यायाम भी है। हर दिन थोड़ा बहुत हास परिहास हो तो जीवन खुशहाल हो जाता है।


जिंदगी में से नीरसता को भगाने का समाधान है हास परिहास।


एक साथ हास परिहास करने से माहौल खुशनुमा रहता है।


हास परिहास से मन को अच्छा महसूस होता है और अगर मन अच्छा महसूस करेगा तो शरीर भी अच्छा होगा।


मनुष्य की कई बीमारियाँ हास परिहास से कई बार दूर हो जाती हैं।


एक खुशनुमा मनुष्य हास परिहास करने के कारण अन्य लोगों द्वारा पसंद किया जाता है।


मनुष्य हास परिहास द्वारा दूसरों को खुशी देता है, दूसरों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाता है तो ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है।


मनुष्य अपने जीवन के कठिन रास्तों को हास परिहास से आसान बना सकता है।


जिंदगी में हास परिहास ज़िन्दगी खुशी पूर्वक जीने के लिए प्रेरित करता है।


हास परिहास औषधि समान है जो मनुष्य के रोगों से मुक्ति दिलाती है।


हास परिहास जिंदगी में मस्ती का संचार करती है जिससे जिंदगी प्रफुल्लित हो जाती है।


जीवन में मनोरंजन के द्वारा हास परिहास जीवन बदल देता है।


नित्य प्रतिदिन हास परिहास जीवन को आनंद प्रिय बना देता है।


जीवन में अच्छा हास परिहास वास्तव में ज़िन्दगी जीना होता है।


ज़िन्दगी में दुख दर्द  का तो आना जाना लगा रहता है अतः जिंदगी में हास परिहास का पुट सुकून देता है।


हंसता हुआ चेहरा सुंदर लगता है और हास परिहास से मुस्कुराहट आ जाती है, चेहरा खिल जाता है।


सार्वजनिक रूप से हास परिहास एक दूसरे में हंसी की एकत्व भावना का सुखद संचार करते हैं।


दुनिया जो मनुष्य में कमियाँ ही ढूँढ़ती है, बुराई ही करती है अतः स्वयं अपनी तारीफ कर मुस्कुराए, जीवन में खुद को हास परिहास के निकट ले जायें।


खुश रहना है तो जीवन मुश्किल करने वालों को छोड़ो और जीवन को खुशियों से भरने वालों को अपना लो।


जीवन में कब क्या हो जाए किसको पता होता है। ज़िन्दगी अल्प सी है दीर्घायु का पता नहीं इसलिए अपने जीवन को हास परिहास से निखार लेना चाहिए।


मनुष्यों के मध्य रिश्तो में अगर हास परिहास हो तो रिश्ते खुशहाल होते हैं। हास परिहास को जीवन का हिस्सा बना लेना चाहिए।


मनुष्य चाहता है जीवन में सफलता मिले, खुशी मिले लेकिन अनेक परेशानियों से घिर जाता है और मनुष्य समझ नहीं पाता कि क्या करे इसलिए जीवन में हास परिहास हो तो परेशानियों का सामना भी सहज रूप से किया जा सकता है।


परिवार में अगर रोज़ हास परिहास हो तो परिवार खिला लगता है। परिवार एक आदर्श परिवार अपने माहौल व लोगों के व्यवहार से जाना जाता है।


जीवन में हास परिहास नई उमंग भर देता है जो जीवन में खुशियों से समां सुहाना कर देता है, विशेष अनुभूति का संचार हो जाता है।


हास परिहास करता हुआ मनुष्य का जोड़ा प्यारा ही लगता है। हास परिहास जोड़े की खूबसूरती में चार चाँद लगा देते हैं।


मनुष्य को उन लोगों के साथ अपना समय व्यतीत करना चाहिए जो हमें देख कर खुश होते हैं। खुशी देने वाले के साथ तो लोग वैसे ही मतलब से भी जुड़ते हैं लेकिन हमें देख कर खुश होने वाले दिल से जुड़े होते हैं।


दोस्तों का साथ खुशी देता है और अगर उनके साथ हास परिहास किया जाए तो सोने पर सुहागा होता है वह जीवन में जान डाल देते हैं और माहौल को खुशनुमा कर देते हैं। दुख दर्द को भूलाकर कुछ पल जी लेते हैं और सबके संग हंसते हुए अपना समय मूल्यवान बना देते हैं।


लोगों की खुशी के बारे में सोचेगें तो भी सबको खुशी देना नामुमकिन है, जिंदगी में मज़ा हमेशा अपने तरीके से प्राप्त करना चाहिए दूसरे से अपेक्षा करनी छोड़ देनी चाहिए।


हास परिहास जीवन के लिए ज़रूरी है क्योंकि हमें अपना ख्याल रखना चाहिए। हंसता हुआ चेहरा ईश्वर को भी प्यारा लगता है। आँसुओं या अनेक कारणों से अपनी हंसी को फीका नहीं पड़ने देना चाहिए।


चेहरे पर चमचमाती मुस्कुराहट जो हास परिहास से आती है अनेक कष्टों का निवारण कर देती है।


जीवन में हास परिहास हो तो घर परिवार में सकारात्मकता छाई रहती है और जीवन रोशन रहता है।


हास परिहास संपूर्ण वातावरण को सुखद पूर्वक बना देती है जिससे जीवन जीने में जोश आ जाता है।


मनुष्य खुद भी हंसे और दूसरों के साथ भी हंसे तो जीवन में मस्ती रहती है जो जीवन में जवां होने की हर उम्र में अनुभूति महसूस कराती है।


एक हँसमुख और समझदार व्यक्ति हास परिहास की वजह से सबको प्रिय लगता है और उसका साथ सबको खुशी देता है।


हास परिहास का कोई निश्चित समय नहीं होता है जब मन करे हंस लेना चाहिए और खुद को खुश रखना चाहिए यह भी एक प्रकार की स्वयं के प्रति ज़िम्मेदारी है जो जीवन में आनंद भर देती है।


परिवार के साथ हास परिहास करना परिवार में  खुशियाँ ला देता है, एक दूजे के साथ समय बिताना अच्छा लगता है।


सच्चे रूप से व दिल से प्रेम करने वाले आपस में हास परिहास करते हैं, अपने जीवन को नीरस नहीं बनने देते हैं।


मनुष्य हास परिहास करता है ताकि अन्य दिल दुखाने वाली बातें भूल सके जो आशावादी की श्रेणी में आते हैं और निराशावादी जीवन में बस निराशा को अपना लेते हैं हंसना भूल जाते हैं।


वो जीवन ही क्या जिसमें हास परिहास न हो बिना हास परिहास के जीवन मृत समान महसूस होता है।


हास परिहास सिर्फ शरीर को ही तंदुरुस्त नहीं करता बल्कि अंतर्मन को भी सुकून देता है और आत्मा भी सुखद महसूस करती है।


अगर हम मुस्कुराते हैं तो प्रकृति भी हमें खूबसूरत लगती है और प्रकृति का संग जीवन में आलोक का अनुभव कराता है।


सबके साथ हंसने में दिल जवां होता है और वृद्धावस्था भी दूर होती जाती है।


ईश्वर ने मनुष्य को सिर्फ दुखी रहने के लिए धरती पर नहीं भेजा बल्कि हास परिहास से जीवन में मुस्कुराते चेहरों संग जीवन उल्लास से जीने के लिए भी भेजा है।


खुद हंसना अच्छी बात है लेकिन दूसरों को हंसाना किसी पुण्य से कम नहीं है।


जीवन में हास परिहास से आयु बढ़ती है क्योंकि अगर मनुष्य हंसता रहे तो अंतर्मन भी हंसता है और जब मन प्रसन्न हो तो बीमारियाँ भी दूर भाग जाती हैं। स्वस्थ मन स्वस्थ शरीर का द्योतक होता है।


जीवन में मुस्कुराहट से भी ईश्वरीय आराधना की जाती है। हंसता चेहरा और हंसता मन ईश्वर कृपा से जुड़ाव का अनुभव करता है।


मनुष्य को हँसना चाहिए जब हो सके दिल से मुस्कुराना चाहिए। हँसने का कोई समय नहीं होता है। चेहरे में हंसी चार चाँद लगा देती है और चेहरे का नूर बढ़ा देती है।

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ फ्रेड्स आपकों Humour Quotes In Hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा, यदि आपकों मनोरंजन हास परिहास पर सुविचार का यह लेख पसंद आया हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ शेयर करे हुमौर हिंदी कोट्स आपके पास हो तो हमारे साथ भी साझा करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.