मतदान का महत्व निबंध | importance of voting essay in hindi

मतदान का महत्व निबंध | importance of voting essay in hindi: लोकतांत्रिक व्यवस्था में मतदान का बड़ा महत्व है क्योंकि लोकतंत्र का मूल आधार जनता की सहभागिता ही होता हैं. लोग मतदान के जरिये अपने प्रत्याशी को चुनते है जो शासन चलाते हैं. आज हम डेमोक्रेसी में वोटिंग के महत्व पर निबंध स्पीच अनुच्छेद यहाँ बता रहे हैं.

मतदान का महत्व निबंध | importance of voting essay in hindi

importance of voting essay in hindi

essay on importance of voting in democracy in hindi: 26 जनवरी 1950 के दिन भारत का संविधान लागू हुआ, भारत के इतिहास की यह महत्वपूर्ण घटना थी क्योंकि पहली बार एक आम आदमी को सत्ता का भागीदार बनाया गया. शासन में उसकी भूमिका निश्चित हुई थी. अब के विदेशी शासन अथवा देशी राजाओं के दौर में शासन कुछ लोगों के हाथ में ही रहा मगर संविधान की लोकतांत्रिक व्यवस्था के साथ सभी को अधिकार प्रदान किये गये जिनमें एक था सार्वभौतिक वयस्क मताधिकार.

संविधान निर्मात्री सभा में यह एकमात्र विषय था जो बिना वाद विवाद के सर्वमत से पारित किया गया. सभी मौलिक अधिकारों में राजनीतिक भागीदारी अथवा मतदान के अधिकार को सर्वोच्च माना गया है क्योंकि इस अधिकार का उपयोग करते हुए हम यह तय कर पाते है कि कौन सरकार में रहेगा कौन नही. सरकार जनता स्वयं निर्मित करती है आज हम मतदान के महत्व का निबंध बता रहे है जिन्हें 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 , 10, 11, 12 के बच्चों के लिए निबंध दिया गया हैं.

मतदान का महत्व निबंध (200 शब्द)

जनतंत्र में मतदान को एक बड़ा पर्व माना जाता है तथा सभी मतदाताओं को अपने विवेक से मतदान करने के लिए जागरूक किया जाता हैं. नागरिक अपने अमूल्य मतदान के अधिकार का उपयोग करते हुए अपना जन प्रतिनिधि चुनते है जो सरकार का निर्माण करते हैं.

भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है जिसमें प्रत्येक व्यक्ति के मत का अहम योगदान हैं. जो देश की राजनीति और शासन की दिशा को तय करता हैं. एक तरफ मतदान एक अधिकार है तो एक जागरूक नागरिक के लिए यह एक कर्तव्य भी हैं क्योंकि अपने मत का बिना लोभ, लालच के समझदारी से उपयोग करने की जिम्मेदारी हम पर हैं.

लोकतंत्र में मतदान की प्रक्रिया द्वारा ही तय किया जाता है कि जनता किस प्रकार की सरकार चाहते है अथवा कौन लोग सरकार में रहेगे तथा कौन नहीं. जब एक प्रत्येक नागरिक अपने अमूल्य मत की शक्ति से परिचित नहीं होगा, तब तक वह उसका सही ढंग से उपयोग नहीं कर पाएगा. भारत के प्रत्येक नागरिक का यह दायित्व है कि वो मतदान प्रक्रिया में हिस्सा ले तथा ईमानदारी के साथ मतदान करते हुए राष्ट्र को एक सशक्त सरकार प्रदान करने में अपने यथेष्ठ योगदान देवे.

Telegram Group Join Now

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (250 शब्द)

matdan ka mahatva in hindi essay: भारत में लोकतांत्रिक व्यवस्था अपनाएं हुए सात दशक से अधिक का समय हो चूका है मगर आज भी चुनावों के समय मतदाता जागरूकता अभियान चलाए जाते है ताकि नवमतदाता अपने एक वोट की कीमत को समझ सके तथा उसकी सही उपयोग कर सके.

भारत और दुनियां ने एक वोट की ताकत को बार बार देखा हैं फ्रांस में एक वोट के कारण ही वहां लोकतंत्र की स्थापना हो सकी, आज फ़्रांस विश्व के महान लोकतांत्रिक देशों में से एक हैं. मात्र एक वोट के कारण ही हिटलर जर्मनी पर अपनी सत्ता स्थापित कर सका. एक गलत व्यक्ति को सत्ता में लाने के क्या परिणाम हो सकता है इसकों पूरी दुनिया ने देखा.

भारत में तो एक वोट कम पड़ने के कारण अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार गिर जाती हैं तथा उन्हें मात्र 13 दिनों के बाद ही चुनावों के लिए जाना पड़ा. अमेरिका की राजभाषा का निर्णय भी एक वोट ही कर सका तो हमने इतिहास में देखा है कि एक वोट की ताकत सरकार ही नहीं लोगों के भविष्य को भी बदलनें का सामर्थ्य रखता हैं.

हमारे देश में लोगों को पांच वर्ष में एक बार वोट करने का अवसर मिलता हैं. ऐसे में सत्ता के स्वार्थी लोग जाति-धर्म-वर्ण-वर्ग धन के कार्ड खेलकर लोगों से उनका अधिकार खरीद ले जाते हैं. इस पकार की खिडकियों से भारतीय मतदाता लामबंद होता रहा हैं. चुनाव आयोग प्रत्येक बार मतदाता जागरूकता अभियान चलाकर नागरिकों को अपने विवेक से वोट करने के लिए प्रशिक्षित करता हैं.

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (500 शब्द)

essay on voting in hindi : हमारा भारत एक लोकतांत्रिक गणराज्य है यहाँ के समस्त नागरिकों की सत्ता में भागीदारी है, देश की व्यवस्था के अनुसार के अनुसार सरकार, संगठन तथा तंत्र जनता की इच्छा पर ही चलेगा. जनता जब चाहती है तब उन्हें बदल देती हैं.

आम जनता के पास लोकतंत्र का सबसे बड़ा हथियार है जिसे हम मतदान के रूप में जानते हैं. एक दौर था जब कहा जाता था इंदिरा इज इंडिया, इंडिया इज इंदिरा मगर आपातकाल के बाद 1977 के आमचुनावों में जनता ने उसी इंदिरा गांधी को दर किनार कर जनता दल की सरकार स्थापित की. आजाद भारत के इतिहास में यह पहला उदाहरण था जब जनता ने अपनी स्वेच्छा से सत्ता को बदलने में कामयाबी पाई थी.

मतदान का अर्थ होता है लोकतंत्र के लिए अपने मत का दान करना. इसमें सबसे महत्वपूर्ण यह है आमजन को अपने मत का दान करते समय यह ध्यान रखना जरुरी है कि हम किस प्रकार के व्यक्ति को अपना समर्थन दे रहे है उसकी पृष्टभूमि क्या है क्या उसका चरित्र है तथा आने वाले समय में यह क्या करना चाहता हैं.

भारत के लोकतंत्र का भविष्य इसी में निहित है कि जनता जागरूक बने तथा जाति, धर्म, वर्ग, भाषा के अवरोधों तथा जातीय व धार्मिक आधार पर अपना वोट बेचने की बजाय अपने विवेक से अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग करे. यदि देश के सभी नागरिक अपने मत का महत्व समझने लगेगे तो यकीनन हमारी विधानसभा या संसद में अच्छे लोग चुनकर आएगे.

यदि भारत के लोग लालच से ऊपर उठकर योग्य व्यक्ति का चुनाव करेगे तो राजनीति में अपराधिकरण की प्रवृत्ति को लगाम कसेगी तथा ईमानदार लोग सत्ता में आएगे तो समाज व देश को भी तरक्की की राह पर आगे बढ़ाएगे. अक्सर देखा जाता है कि विपक्ष या सत्ताधारी लोग केवल पांच साल पुरे होने के बाद घर घर गली गली चक्कर लगाते हैं.

वे भली भांति जानते है कि भोले लोगों को धर्म, जाति, वर्ग या सरकार के किसी कदम के विरुद्ध भड़काकर लामबंदी से वोट अर्जित कर लेगे. राजनेता अपनी चुनावीं रेलियों में अनगिनत वायदे करते है जिन्हें कभी पूरा किया जाना सम्भव नहीं हैं अतः लोगों की चाहिए कि वे जागरूक बने तथा चुनावी माहौल की सरगर्मी में सही झूठ तथा सच्चे ईमानदार तथा झांसेबाज लोगों में फर्क करना सीखे.

यदि हम लोग चुनाव से पहले नेताओं से अपने पिछले कार्यकाल के वायदों के बारे में उनके कार्यों के बारे में जानकारी रखना शुरू करेगे तो निश्चय ही वे सतर्क होकर जनता के हित में कार्य करने के लिए प्रवृत्त होंगे. सच्चे मायनों में तभी एक वोट की कीमत हमारे लोकतंत्र को और अधिक सशक्त बना सकेगी. वर्ना आज तो लोग झूठ, लालच आदि के जरिये ही मासूम लोगों के मत को अपने पक्ष में कर लेते हैं.

मतदान का महत्व निबंध (600 शब्द)

essay on importance of election voting in democracy in hindi language:लोकतंत्र का सरल सा अर्थ हैं आम जनता के वोट की ताकत. चुनाव एवं मतदान प्रक्रिया के जरिये ही लोकशक्ति उजागर होती हैं. बिना चुनाव अथवा मतदान के तंत्र को कभी लोकतंत्र का नाम नहीं दिया जा सकता अतः ये दोनों एक दूसरे के पर्याय हैं. चुनाव की बड़ी ताकत है इसका उपयोग निरंतर सरकारे बनाने और गिराने में किया जा रहा हैं.

जनता क्या चाहती है अथवा उसके मन में क्या है, वह मतदान के समय अपने इरादे जाहिर कर देती हैं. आमजन के बीच का सर्वाधिक प्रिय चेहरा देश के भावी शासक के रूप में चुनावों के द्वारा ही सामने आता हैं. भारतीय लोकतांत्रिक प्रणाली में कोई भी व्यक्ति जो इच्छित पद की न्यूनतम योग्यताएं पूर्ण करता हो चुनाव लड़ सकता हैं इसके लिए कोई आवश्यकता नहीं है कि वह किस धर्म, जाति, व्यवसाय या क्षेत्र से हैं.

भारतीय चुनावों में धन बल तथा लालच व धर्म के कार्ड का उपयोग हमेशा से होता आया है मतदाताओं को भ्रमित करने तथा घटिया या अपराधी प्रवृत्ति के उम्मीदवारों को जिताने के लिए ऐसे हथकंडे अक्सर अपनाएं जाते हैं. मतदान की तिथि से पूर्व ही पूरा गणित बिठा लिया जाता हैं मतदान के दिन तो बस पूर्व निर्धारित योजना की खानापूर्ति भर होती हैं. यही वजह है कि हमारी व्यवस्थापिका में अपराध के दिग्गज लोग बैठे हैं. लोकतंत्र के मूल्यों के बचाव के लिए जरुरी है कि लोग अपने मताधिकार का उपयोग भय व लालच के बिना करें.

नगर पालिका, नगर निगम, विधानसभा, पंचायत के चुनावों में हिंसा, धन तथा बल का सर्वाधिक उपयोग होता हैं. राज्य तथा राष्ट्रीय चुनाव आयोग निरंतर इस दिशा में कार्य करते हुए चुनावों को निष्पक्ष तथा पारदर्शी बनाने के प्रयासों में लगा हैं. पिछले कुछ चुनावों में जनता में भी अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर जागरूकता उत्पन्न हो रही हैं. अब भारत का मतदाता भले ही कमजोर, गरीब तथा परिस्थतियों के हाथों मजबूर हो मगर वह अपना वोट ऐसे नकेल कस उम्मीदवारों को कभी नहीं देता.

लोकतंत्र में मतदान को प्राण माना हैं इसे अधिक प्रभावी बनाने के लिए समय पर चुनाव करवाने के साथ ही चुनाव आयोग को चाहिए कि अपराधी बेकग्राउंड वाले लोगों को चुनावों में अयोग्य करार दिया जाए तथा चुनावों में खर्च होने वाली राशि पर अंकुश लगाया जाए, क्योंकि यह बेशुमार धन लोगों के मत को खरीदने के लिए ही उपयोग में लाया जाता हैं.

निबंध 900 शब्द : मतदान का महत्व | importance of Voting 

Importance of Voting अर्थात मतदान का महत्व यूं तो हर कोई जानता है क्योंकि देश की तरक्की के लिए जनता को मिली सबसे बड़ी ताकत यही तो है। हैरानी इस बात की रहती है की जब इस ताकत को आजमाने का समय आता है तब हर राज्य के voting percentage हमेशा उम्मीद से कम रहते हैं। ऐसा क्यों होता है इसपर शोध जरूरी है। 

दोस्तों आज इस लेख के जरिए हम मतदान का महत्व जानेंगे। इस निबंध के जरिए हम सभी को मतदान करने के फायदों की जानकारी जरूर मिलेगी और हम सभी यह प्रण लेंगे की जब भी कभी अपने मत का इस्तेमाल करने का अवसर मिलें उससे चुकेंगे नहीं। आइए जानते हैं मतदान का महत्व

मतदान का महत्व निबंध 

26 जनवरी 1950 से देश भर में गणतंत्र दिवस मनाया जाता रहा है क्योंकि इसी दिन देश का संविधान यानी Constitution of India लागू हुआ था। भारत के संविधान में विशेषतः भारतीय नागरिकों को काफी राइट्स दिए गए हैं, इसी में एक ‘ राइट टू वोट’ भी आता है। अगर कोई व्यक्ति 18 साल से ऊपर है, और डिसीजन लेने में सक्षम है तो वे भारत में वोटिंग देने का भी हक रखता हैं। 

वोटिंग का महत्व देश के हर नागरिक के लिए है, सही प्रतिनिधि चुनेंगे तभी समाज के हर वर्ग का विकास हो पाएगा। किंतु आज भी भारत में अधिकांश लोग voting day को मात्र एक छुट्टी का दिन कहकर अपने जिम्मेदारियों से भागते हैं। वोटिंग देना अपने मत का इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है।

मतदान की ताकत सबसे बड़ी

आम जानता को मिली सबसे बड़ी ताकत है मतदान करने की ताकत। इसी एक खास ताकत की वजह से एक आम इंसान भी भगवान की श्रेणी में डाले जा चुके हैं, तभी वोटिंग के दिन आम इंसानों को मत दाता कहा जाता है। इसी ताकत के माध्यम से देश को तरक्की के मार्ग पर आगे बढ़ा सकते हैं लेकिन इसके लिए हर व्यक्ति (जिसकी उम्र 18 वर्ष से अधिक हो) को अपने मत का इस्तेमाल करना होगा। 

हर देश का नागरिक चाहते हैं की देश आगे बढ़े तरक्की करे इसी लिए हर पांच साल में नागरिकों को सरकार चुनने का समय मिलता है। मतदाताओं की ताकत को बढ़ाने के लिए ही भारत में evm मशीनों में Nota बटन भी जोड़ा गया। 

यह बटन जनता को अपने मत का प्रयोग करने के लिए उत्साह देता है। हर शख्स की सोच भिन्न होती है यानी की यह जरूरी नहीं की आपको कोई नेता को सपोर्ट करना जरूरी ही है आप Nota का प्रयोग करके भी एक संदेश दे सकते हैं। 

अपना नेता कैसे चुनें

यह सवाल बेहद कॉमन हो चला है, अपना नेता या सही नेता कैसे चुनें। इस सवाल का जवाब ढूंढने की भी क्षमता आपके पास है, इसमें टीवी मीडिया का रोल बेहद अहम हो जाता है। आप टीवी के जरिए रिसर्च कर सकते हैं इसके अलावा आपके रिसर्च करने का जरिया आपके हाथ में ही है अपने सेल फोन के इंटरनेट से भी यह रिसर्च की प्रक्रिया की जा सकती है की आपके एरिया का नेता कैसा है क्या वे चुनें जाने के लिए आदर्श है। अगर वह आदर्श है तो ही वे सही नेता है। 

नोट:- कभी भी वोटिंग जाति या धर्म पर नहीं करनी चाहिए, क्योंकि आप देश का प्रतिनिधि तलाश रहे हैं न की धर्म का नेता। ऐसे नेता देश की नहीं बल्कि धर्म की चिंता भी नहीं करते। 

मतदान की अहमियत

हर देश के नागरिक चाहते हैं की उनका देश पूरे विश्व में एक मिसाल कायम करें। मिसाल कायम करने का कार्य हमेशा देश के नागरिक ही करते हैं। जिसमें हमारा प्रतिनिधि हमारे देश के नेता करते हैं। हमने अपने मत का सही से इस्तेमाल किया होगा तो सही नेता ही हमारे देश की बागडोर संभालेगा। 

मतदान का महत्व सिर्फ मतदाताओं के लिए ही नहीं बल्कि नेताओं के लिए भी बेहद महत्व देती है। दरअसल मतदान नेता और जनता में एक अदृश्य जुड़ाव बनाती है। दोनो को एक दूसरे के साथ खड़े होने का एहसास मिलता है। इससे सही डिसीजन लिए जाते हैं। 

उदहारण के तौर पर हाल ही में हुई दो देशों में युद्ध की घटना। हमने जो सरकार चुनी उस पर हमारे मत की ताकत का प्रभाव ही था की जो देश के बच्चों को वापस भारत ला पाए और ऐसा ही एक उदहारण जब वोटिंग मत सही से नहीं मिलने पर अटल बिहारी वाजपाई जी की सरकार 13 दिन में ही गिर गई। 

मतदान देने की प्रक्रिया

  • देश में मतदान देने की प्रक्रिया बेहद सरल है। वोट डालने के लिए मतदाताओं के पास सरकारी पहचान पत्र साथ में होना चाहिए जैसे की आधार कार्ड या वोटिंग कार्ड। 
  • इसके बाद आपको यह लेकर वोटिंग की जगह पर पहुंचना होगा, जहां से आपका वोटिंग लिस्ट में आपका नाम वेरिफाई किया जाएगा।
  • आपके एक उंगली पर स्याही लगाई जाएगी। यही निशानी आपके वोटिंग की निशानी होगी। इसके बाद ईवीएम मशीन में मतदाता अपना मत डाल सकते हैं। 
  • इस दौरान आपसे कोई जबरदस्ती नहीं कर सकते की आपको किस को वोट डालना है। इस प्रक्रिया में वोट डालने के समय कोई भी शख्स आपके साथ नहीं खड़ा रहना चाहिए। 

निष्कर्ष

वोट देना बेहद जरूरी है, इसके लिए जरूर घर से निकलें और वोट दें और अपना सही प्रतिनिधि चुनें। क्योंकि अगर आपने अपने मत का इस्तेमाल ही नहीं किया तो आप सरकार से सवाल पूछने में भी हिचकेंगे। Importance of Voting को समझें। इसकी ताकत को आजमाएं। अगर आप 18 साल के हो चुके हैं तो वोटिंग कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन कर दें और आने वाले मत दिवस पर इसका प्रयोग जरूर करें। 

इस मिली ताकत का फायदा उठाएं और देश से गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई को कम करने में अपना योगदान दें। अपने कर्तव्य को समझें और हर बार जब भी आपके एरिया में वोटिंग डालें जाएं तो वोट जरूर डालें। 

धन्यवाद।

FAQ

Q. मतदान क्यों जरूरी है?

Ans: लोकतांत्रिक व्यवस्था में सरकार निर्माण की प्रक्रिया में आमजन की भागीदारी के लिए मतदान आवश्यक हैं.

Q. राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब मनाया जाता हैं?

Ans: प्रतिवर्ष 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता हैं.

यह भी पढ़े

#essay on importance of election in hindi #importance of voting in democracy in hindi

आशा करता हूँ दोस्तों importance of voting essay in hindi का यह निबंध भाषण आपकों पसंद आया होगा, मतदाता मतदान, चुनाव पर दिए गये निबंध में जानकारी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Comment