रानी दुर्गावती की जीवनी व इतिहास | Rani Durgavati Biography History Information In Hindi

रानी दुर्गावती की जीवनी व इतिहास | Rani Durgavati Biography History Information In Hindi भारत में अनेक वीरांगनाएं हुई, उनमें एक कालिंजर महाराजा कीर्तिसिंह की पुत्री दुर्गावती थी. बालिका दुर्गावती बचपन से ही घुड़सवारी, तलवार चलाने और तैराकी में तेज थी. उनका तीर, भाले, बंदूक का निशाना अचूक था. दोनों हाथों से तलवारे चलाने का अभ्यास अद्भुत था. बालिका दुर्गा एवं शिव की परम भक्त थी. वे गढ़ा राज्य की महारानी बनी, उनके पति दलपति शाह थे. दलपति शाह की मृत्यु के बाद ये राज्य की महारानी बनी.

दुर्गावती की जीवनी व इतिहास Rani Durgavati Biography History Hindi

रानी दुर्गावती की जीवनी व इतिहास Rani Durgavati Biography History In Hindi

तकरीबन 15 वर्षों तक गढ़ा राज्य पर शासन करने वाली रानी दुर्गावती वीरता की अटल मूर्त थी. इनका जन्म 5 अक्टूबर 1524 को बांदा के कालिंजर किले में (वर्तमान उत्तरप्रदेश में) हुआ था.

इनके पिता का नाम कीरत राय था. गोंडवाना राज्य की इस वीरांगना ने एक पुत्र को जन्म दिया उसका नाम वीर नारायण था. 24 जून 1564 को इनका देहांत हो गया.

रानी दुर्गावती और अकबर का युद्ध (Battle of Rani Durgavati and Akbar)

गढ़ा राज्य के शासक दलपति शाह की मृत्यु के उपरांत मुगल शासक अकबर के पास इस महत्वपूर्ण प्रदेश को हड़पने का शुभ अवसर था. बिना वक्त गवाएं अकबर ने अपने सेनापति आसफ खां को गोंडवाना राज्य पर आक्रमण के लिए भेजा, जिस पर रानी दुर्गावती का सम्राज्य था.

आसफ खां ने अपने सैनिकों सहित किले पर धावा बोल दिया, दुर्गावती के सैनिक भी वीरतापूर्वक मुगलों का सामना कर रहे थे. कुछ दिन तक युद्ध चलता रहा. इसी समय कालिंजर के किले में गोले बारूद ने जवाब दे दिया, जिसके चलते युद्ध अंतिम सौपान पर आ चुका था.

रानी घोड़े की लगाम को दांतों से पकड़ कर दोनों हाथों में तलवार लेकर वीरता से लड़ी. मुगल सैनिकों को गाजर मूली की तरह काटती रही, अंत में स्वयं को विकट परिस्थति में पाकर अपने ही खंजर से वीर गति को प्राप्त हो गई.

रानी दुर्गावती का शासनकाल

जब रानी दुर्गावती ने गोंडवाना राज्य के शासक के तौर पर गद्दी संभाली तो उन्होंने सबसे पहले अपनी राजधानी के बारे में विचार किया और विचार करने के बाद उन्होंने अपनी राजधानी को 

सिंगौरगढ़ से हटा करके चौरागढ़ को बनाया। चौरागढ़ वर्तमान के समय में मध्य प्रदेश राज्य के नरसिंहपुर जिले के पास गाडरवारा में स्थित है। इसके पहले उनकी राजधानी सिंगौरगढ़ थी जो कि आज के टाइम में मध्य प्रदेश के दमोह जिले के सिंग्रामपुर गांव में स्थित है। 

राजधानी को चेंज करने के बाद रानी दुर्गावती ने अपने राज्य के सैनिक व्यवस्था पर विशेष तौर पर ध्यान दिया और उन्होंने कई कदम राज्य की सैनिक व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए उठाए। उन्होंने अपनी सेना में कुशल घुड़सवार को भर्ती किया है। इसके अलावा सैनिकों को उन्होंने शस्त्र कला की शिक्षा देने के लिए विशेष शिविर का आयोजन करवाया।

इसके साथ ही उन्होंने अपने शासनकाल के दरमियांन बहुत से प्रकार के हिंदू मंदिरों, भवनों और धर्मशाला का निर्माण करवाया। रानी दुर्गावती के समय में इनका राज्य धीरे धीरे समृद्ध और संपन्न हो गया था और यही वजह थी कि इनके राज्य की प्रशंसा दूर-दूर तक फैलने लगी थी।

सुजात खान के द्वारा आक्रमण 

साल 1556 के आसपास में मुगल बादशाह शेरशाह सूरी की अज्ञात कारणों से मृत्यु हो गई थी। इसके बाद सुजात खान ने मालवा पर अपना अधिकार जमा लिया क्योंकि जब शेर शाह सूरी की मृत्यु हुई तब शेरशाह सूरी के बेटे बाज बहादुर के द्वारा अपने राज्य पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया और इसी मौके को भाप करके सुजात खान ने मालवा पर अपना अधिकार जमा लिया।

इसके बाद सुजात खान के मन में रानी दुर्गावती के ऊपर आक्रमण करने का ख्याल आया, जिसके पीछे वजह यह थी कि उसे लगा की रानी दुर्गावती एक महिला है।

इसीलिए वह आसानी से उन पर आक्रमण करके उनके राज्य को अपने अधीन कर लेगा परंतु जब सुजात खान ने रानी दुर्गावती पर आक्रमण किया तो सुजात खान का पासा उल्टा पड़ गया और रानी दुर्गावती के साथ हुए युद्ध में सुजात खान को मुंह की खानी पड़ी और उसे इस युद्ध में काफी ज्यादा नुकसान हुआ। सुजात खान के कई सैनिक इस युद्ध में मारे गए थे। 

दुर्गावती द्वारा किए गए प्रयासों के फलस्वरूप उनके राज्य में हर कोई खुश था। यहां तक कि उनके राज्य में लेनदेन के लिए सोने की मुद्रा का इस्तेमाल किया जाता था जो इस बात की गवाही देता है कि रानी दुर्गावती प्रजा की भलाई के लिए हमेशा सोचती थी।

संग्रहालय

रानी दुर्गावती की याद में मध्य प्रदेश राज्य के जबलपुर शहर में इनके नाम का संग्रहालय बनाया गया है जिसे रानी दुर्गावती संग्रहालय हिंदी में कहा जाता है और अंग्रेजी में इसे रानी दुर्गावती म्यूजियम कहा जाता है।

इस संग्रहालय में रानी से संबंधित कई मूर्तियां, शिलालेख और अन्य वस्तुएं रखी गई है। इस संग्रहालय का निर्माण साल 1964 में किया गया था।

म्यूजियम के अंदर आपको देवी दुर्गा की एक बहुत बड़ी मूर्ति भी रखी हुई दिखाई देती है जिसका निर्माण बलुआ पत्थर से किया गया है। इसके अलावा महात्मा गांधी से संबंधित कई वस्तुएं भी यहां पर रखी गई है। यहां पर आपको कई सोने के सिक्के, अभिलेख और अवशेष भी मिलेंगे। हर साल इस म्यूजियम में काफी लोग आते हैं।

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर

मध्य प्रदेश राज्य के जबलपुर शहर में ही रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी भी स्थापित है जिसकी स्थापना साल 1956 में 12 जून के दिन हुई थी।

यहां पर जबलपुर जिले के अलावा आसपास के जिले के विद्यार्थी जैसे कि नरसिंहपुर, कटनी, छिंदवाड़ा, डिंडोरी, सिवनी, रीवा, सतना, शहडोल के विद्यार्थी पढ़ने आते हैं। इंडिया की बेस्ट यूनिवर्सिटी में इस यूनिवर्सिटी का नाम शामिल है।

रोचक तथ्य

  • दुर्गावती रानी का जन्म उस दिन हुआ था जब दुर्गा अष्टमी थी। इसीलिए दुर्गा अष्टमी के दिन को आधार बनाकर के इनका नाम दुर्गावती रखा गया।
  • हर साल रानी की बरसी पर यहां पर काफी बड़ी मात्रा में गोंड जनजाति के लोग आते हैं और उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं।
  • बता दे कि कलिंजर के महाराजा कीर्ति सिंह की सिर्फ एक ही संतान थी जो थी रानी दुर्गावती। कीर्ति सिंह चंदेल राजपूत राजा थे।
  • मुगल सेना के साथ एक भयंकर युद्ध में दुर्गावती की मौत उस समय हो गई जब दुश्मन सेना के सैनिक का एक तीर आकर रानी दुर्गावती को लगा। इसी तीर के कारण इनके प्राण पखेरू गए।
  • रानी वीरगति को साल 1564 में 24 जून के दिन प्राप्त हुई।
  • दुर्गावती चंदेल राजपूत राजा की बेटी थी और यह बाद में गोंडवाना साम्राज्य की महारानी बनी थी।
  • वर्तमान के समय में मध्य प्रदेश राज्य के जबलपुर शहर में मदन महल में रानी दुर्गावती की समाधि मौजूद है।
  • रानी दुर्गावती के पति का नाम दलपत शाह था।

मृत्यु व समाधि (Death and Samadhi of Rani Durgavati)

24 जून सन 1524 का दिन भारतीय इतिहास में बलिदान दिवस के रूप में याद किया जाता है. एक शूरवीर वीरांगना ने काफिरों के हाथों मारे जाने की बजाय अपना जीवन अपने ही सैनिकों के हाथों समाप्त करने की इच्छा जताई, मगर माँ रुपी इस देवी को मारने का पाप भला कौन कर सकता था.

सैनिकों ने अपनी मज़बूरी बतलाते हुए, ऐसा करने से इनकार कर दिया. तब रानी दुर्गावती जो खून से लथपथ अवस्था में अपने ही खंजर को भोककर स्वयं की जीवन लीला को समाप्त कर लिया.

भले ही एक हिन्दू रानी अकबर के साथ इस लड़ाई में पराजित हो गई, मगर अपने शौर्य एवं पराक्रम से तीन बार मुगल सेना को वापिस लौटने के लिए मजबूर कर दिया था.

वर्तमान मंडला और जबलपुर नगर में रानी ने अपनी देह त्यागी थी. रानी के प्रति लोगों में श्रद्धा के भाव के कारण इन्होने यही पर रानी दुर्गावती की समाधि बनाई, जहाँ बलिदान दिवस पर लोग इस शक्ति को नमन करने जाते है.

रानी दुर्गावती का सम्मान (Respect of Queen Durgavati)

भारतीय जनता हमेशा अपने पराक्रमी पूर्वजों की यादों को सजोकर रखती है. महान पराक्रमी रानी के सम्मान के लिए भी सरकार द्वारा इनके कई स्थानों को स्मारक बनाया है, जिसकी जानकारी नीचे दी जा रही है.

  • चूँकि रानी का अंतिम युद्ध मध्यप्रदेश में हुआ था, सिंगरामपुर ही वह स्थान था, जहाँ उन्होंने आसिफ खान के साथ युद्ध किया था. एमपी सरकार द्वारा दुर्गावती के सम्मान में रानी दुर्गावती विश्वविध्यालय जबलपुर का नाम तब्दील किया है.
  • 24 जून सन 1988 बलिदान दिवस के अवसर पर केंद्र सरकार द्वारा दुर्गावती के नाम का डाक टिकट जारी किया था.
  • सरकार द्वारा बरेला (समाधि स्थल) जबलपुर तथा मंडला के पास इनकी भव्य समाधि का निर्माण करवाया है.
  • साथ ही  बुंदेलखंड में रानी दुगावती कीर्ति स्तम्भ, रानी दुर्गावती संग्रहालय एवं मेमोरियल, और रानी दुगावती अभयारण्य बनाए गये है.
  • मध्यप्रदेश के जबलपुर में मदन मोहन दुर्ग है,  यहाँ पर दुर्गावती दलपति शाह के साथ विवाह के बाद निवास करती थी.

दुर्गावती व महाराणा प्रताप (rani durgavati and maharana pratap)

मध्यकालीन भारत जब दिल्ली सल्तनत पर अकबर का आधिपत्य था. देशी राजाओं के पास दो विकल्प थे, या तो वे अकबर की अधीनता स्वीकार कर ले, अथवा युद्ध के लिए तैयार हो जाए. चन्देल राजवंश में जन्मी रानी दुर्गावती ने अपने पड़ौसी गौड़ राज्यों से मिलकर सूरी की शक्ति पर लगाम लगाने का कार्य कर रही थी.

राजपूताना वीरांगना किसी भी सूरत में अकबर की अधीनता के प्रस्ताव को स्वीकार नही करने वाली थी. भले ही उनके पास मात्र दस हजार राजपूत सैनिक थे, वह गुलामी स्वीकार करने की बजाय अपने क्षत्रिय धर्म की खातिर मर मिटना शुभ मानती थी.

दूसरी तरफ मेवाड़ के सूरज महाराणा प्रताप भी अकबर के खिलाफ आक्रमण की तैयारी में थे. इनकी वीरता बार बार दुर्गावती को प्रोत्साहन दे रही थी.

दोनों राजपूती वीरों ने आजीवन मुगलों की अधीनता स्वीकार नही की, दुर्गावती ने कठिन संकट के समय भी हार मानने की बजाय युद्ध में डटा रहना उचित समझा और अंत समय में अपने सतीत्व की रक्षा के लिए मुगलों के हाथ पड़ने की बजाय स्वयं को समाप्त कर दिया.

रानी दुर्गावती पर कविता, कोट्स (Rani Durgavati quotes Poem)

चंदेलों की बेटी थी,
गोंद्वानों की रानी,
चण्डी थी रणचण्डी थी,
वह दुर्गावती भवानी थी।
जय रानी दुर्गावती महारानी।
महँ वीरांगना रानी दुर्गावती की जय ।

यह भी पढ़े

उम्मीद करते है दोस्तों रानी दुर्गावती की जीवनी व इतिहास Rani Durgavati Biography History In Hindi का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. यदि आपको इस लेख में दी जानकारी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें.

Leave a Comment

Your email address will not be published.