रिलायंस इंडस्ट्रीज का इतिहास Reliance industries history in hindi

Reliance industries history in hindi: नमस्कार दोस्तों इस आर्टिकल में आपका स्वागत करते है आज हम रिलायंस इंडस्ट्रीज का इतिहास पढेगे. भारत की सबसे बड़ी एवं विश्व की शीर्ष कम्पनियों में शुमार रिलायंस इंडस्ट्री के जन्म उत्थान और विकास के बारे में आज इस आर्टिकल में हम विस्तार से जानने का प्रयास करेंगे.

रिलायंस इंडस्ट्रीज का इतिहास Reliance industries history in hindi

रिलायंस इंडस्ट्रीज का इतिहास Reliance industries history in hindi

सम्भवतः प्रत्येक भारतीय रिलायंस के नाम से परिचित हैं हो भी क्यों न यह देश की सबसे बड़ी कम्पनी जो हैं वर्तमान में मुकेश अम्बानी इसके मालिक (अध्यक्ष व एमडी) हैं. कच्चे तेल पेट्रोलियम उत्पादन व परिशोधन तथा विपणन, पेट्रोकेमिकल, खुदरा तथा टेलिकॉम के क्षेत्र में रिलायंस ने नयें नयें कीर्तिमान स्थापित कर स्वयं को हर बार सर्वश्रेष्ठ साबित किया हैं.

वर्ष 1966 में रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की स्थापना धीरूभाई अम्बानी के द्वारा की गई थी. इसका मुख्यालय मुंबई महाराष्ट्र में स्थित हैं. कम्पनी से कच्चे माल और खुदरा बाजार में शेयर मार्केट से अपनी शुरुआत की. आज एक अनुमान के मुताबिक़ सर्वाधिक शेयर लगभग साढ़े तीन लाख शेयरधारक रिलायंस से जुड़े हुए हैं. भारतीय शेयर बाजार के चार धारकों में से एक निवे शक रिलायंस का होता हैं. एक आंकड़े के मुताबिक़ भारत के कुल एक्सपोर्ट में रिलायंस का योगदान १४ प्रतिशत है जो इंडियन ऑयल के बाद सर्वाधिक योगदान हैं.

भारत के लगभग सभी उद्यम क्षेत्रों में रिलायंस की बड़ी दखल हैं. हाल ही में रिलायंस जिओ ने टेलिकॉम क्षेत्र में जो क्रांति लाइ है वह अद्भुत है कम्पनी से अपने भविष्यद्रष्टा एवं सस्ते प्लान उपलब्ध करवाकर न केवल ग्राहकों को महंगे टैरिफ से राहत दिलाई बल्कि विदेशी कम्पनियों के दांत खट्टे तक कर दिए. भारत के अलावा कई देशों में भी रिलायंस काम कर रही हैं भारतीय शेयर मार्केट की मजबूती की महत्वपूर्ण आधारशिला रिलायंस को ही माना जाता हैं.

धीरुभाई अम्बानी के दोनों बेटे मुकेश और अनिल अम्बानी के बीच विवाद के चलते 2006 में कम्पनी का विभाजन भी हुआ मगर इन सबके बावजूद अपनी रिलायंस की प्रगति दिनोदिन जारी रही. 2013 तक कम्पनी में कुल 24 हजार कर्मचारी कार्यरत थे जबकि इनके पास 123 सहायक कंपनियां तथा 10 सहयोगी कंपनियां थी.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी फोबर्स पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक़ संसार के नौवें सबसे अमीर व्यक्ति हैं इससे पूर्व इन्हें टॉप 100 हस्तियों में बाहरवा स्थान प्राप्त था. नवम्बर 2019 की इस सूची के मुताबिक़ एक मिलियन करोड़ रूपये का मार्केट कैप हासिल करने वाली यह पहली भारतीय कम्पनी बन चुकी हैं.

Telegram Group Join Now

दुनिया के नौवें सबसे अमीर शख्स बन गए हैं. फोर्ब्स की रियल टाइम बिलियनेयर लिस्ट के अनुसार, अंबनी ने तीन पायदानों की छलांग लगाते हुए 12वें से नौवां स्थान हासिल किया है.

साल 2019 की फोर्ब्स की सबसे धनवान लागों की सूची में अंबानी 13वें पायदान पर थे. यह लिस्ट इस साल की शुरुआत में जारी हुई थी. गुरुवार को रिलायंस इंडस्ट्रीज 10 लाख करोड़ रुपये का मार्कटकैप हासिल करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई. रिपोर्ट में भारतीय उद्योगपति मुकेश अम्बानी की कुल सम्पति $60.8 अरब बताई गई हैं इस सूची में प्रथम स्थान जेफ़ बेजोस का हैं जो अमेजन के संस्थापक हैं.

रिलायंस ने सम्पूर्ण भारत में अपने सहउत्पादों का विशाल नेटवर्क तैयार किया है देश के प्रत्येक जिले में रिलायंस खुदरा दुकाने खोली गई हैं. रिलायंस फ्रेश , रिलायंस डिजिटल , रिलायंस टाइम आउट , रिलायंस फुटप्रिंट , रिलायंस ट्रेडर्स , रिलायंस वैलनेस , रिलायंस ऑटो जोन , रिलायंस होम किचन , रिलायंस सुपर , रिलायंस आई स्टोर , रिलायंस मार्ट , रिलायंस ज्वेलरी और रिलायंस मार्केट आदि क्षेत्रों में देशभर में रिलायंस ने 1500 से अधिक स्टोर खोले हैं.

रिलायंस इंडस्ट्री का कार्य क्षेत्र

वर्तमान के समय में रिलायंस इंडस्ट्री का हेड क्वार्टर ऑफ़ भारत देश के महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में मौजूद है। इस शहर से रिलायंस इंडस्ट्री के पूरे बिजनेस को संभाला जाता है और इसी शहर में रिलायंस इंडस्ट्री के मुख्य मालिक मुकेश अंबानी और उनके परिवार के अन्य सदस्य भी रहते हैं।

हाल ही में रिलायंस इंडस्ट्री के द्वारा आकाश अंबानी को रिलायंस का चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफीसर बनाया गया है जो कि मुकेश अंबानी के बेटे हैं। रिलायंस इंडस्ट्री मुख्य तौर पर पांच इलाके में काम करती है जिनमें पेट्रोकेमिकल,रिटेल बिजनेस, पेट्रोलियम अन्वेषण, प्रोडक्शन और दूरसंचार शामिल है। 

रिलायंस इंडस्ट्री के द्वारा नेचुरल गैस, कच्चा तेल, पेट्रोकेमिकल, पेट्रोलियम, कपड़ा पॉलिस्टर और टेलीकॉम के प्रमोशन का काम किया जाता है। यह हमारे भारत देश में तो काम करती ही है। इसके अलावा एशिया के कई देशों में साथ ही विदेशों में भी व्यापार कर रही है।

हाल ही में रिलायंस कंपनी के द्वारा 5G लॉन्च करने की शुरुआत की जा रही है जिसे लेकर के पूरा भारत देश बेताब है। 5G लॉन्च होने पर भारत देश में इंटरनेट की काफी फास्ट स्पीड लोगों को प्राप्त होगी।

रिलायंस इंडस्ट्रीज शेयर की ग्रोथ

वर्तमान के समय में रिलायंस इंडस्ट्री का मार्केट केपीटलाइजेशन 16.25 लाख करोड़ है। कंपनी के द्वारा पिछले 5 सालों में ही 200% से अधिक रिटर्न दिया गया है और वर्तमान के समय तक 4,400 प्रतिशत से भी ज्यादा रिटर्न कंपनी अपने इन्वेस्टर को प्रदान कर रही है जो कि बहुत ही तारीफ के लायक है। कहने का अर्थ यह हुआ कि अगर किसी व्यक्ति ने साल 2002 में रिलायंस इंडस्ट्री में ₹100000 लगाए होते तो वर्तमान के समय में उसके ₹100000, 44 लाख रुपए बन गए होते।

7 लाख करोड़ की कंपनी बनने तक सफ़र

रिलायंस इंडस्ट्री के बारे में यह बात कही जाती है कि इस कंपनी की शुरुआत सिर्फ ₹1000 से ही हुई थी और वर्तमान के समय में दुनिया भर में इस कंपनी में तकरीबन 280000 से अधिक कर्मचारी काम कर रहे हैं।

रिलायंस इंडस्ट्री की शुरुआत सिर्फ ₹1000 के इन्वेस्टमेंट में हुई थी और वर्तमान के समय में वही ₹1000, अब 7 लाख 36 हजार करोड़ में तब्दील हो चुके हैं जो अंबानी परिवार की मेहनत का ही परिणाम है। इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्री का कारोबार 1 शहर से बढ़कर के तकरीबन 28000 शहर में पहुंच चुका है तथा 400000 से भी अधिक गांव में रिलायंस इंडस्ट्री अपनी पहुंच बना चुकी है।

ऐसे शुरू हुआ सफर

रिलायंस इंडस्ट्री की स्थापना करने वाले धीरूभाई अंबानी का जन्म सन 1932 में 28 दिसंबर के दिन भारत देश के गुजरात राज्य के जूनागढ़ जिले के चोरवाड नाम के गांव में हुआ था। इनका बचपन से ही बड़ा आदमी बनने का सपना था परंतु पैसे की तंगी की वजह से उन्होंने अपनी 10वीं की क्लास की पढ़ाई छोड़ दी और उसके पश्चात यह पकौड़ी बेचने का काम करने लगे और इस प्रकार से धीरूभाई अंबानी का पहला बिजनेस पकोड़े बेचना ही था।

रिलायंस की स्थापना

धीरूभाई अंबानी ने सिर्फ ₹300 हर महीने की पगार पर यमन के अदन शहर में एक गैस स्टेशन पर अटेंडेंन का काम करना स्टार्ट किया। यहां पर इन्होंने तकरीबन 8 साल तक नौकरी की। 8 साल नौकरी करने के पश्चात साल 1958 में यमन से सिर्फ ₹500 लेकर के यह भारत देश चले आएं और भारत देश आने के पश्चात यह अपने कजिन चंपकलाल दमानी के साथ एक टेक्सटाइल ट्रेडिंग कंपनी की शुरुआत करने पर विचार करने लगे और कंपनी की शुरुआत की। इसके पश्चात धीरूभाई अंबानी के द्वारा साल 1960 के दशक में रिलायंस इंडस्ट्री की स्थापना की गई।

आज है देश की सबसे बड़ी कंपनी

आज के समय में हमारे भारत देश की सबसे बड़ी कंपनी के तौर पर रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड का नाम लिया जाता है। इसका मार्केट पूंजीकरण वर्तमान के समय में 736,602 लाख करोड रुपए है और इस प्रकार से इस मामले में यह हमारे देश की सबसे बड़ी कंपनी है।

फिलहाल रिलायंस इंडस्ट्री के द्वारा लांच किए जा रहे 5G टेक्नोलॉजी पर काफी लोगों की निगाहें टिकी हुई है। इसकी शुरुआत सबसे पहले राजस्थान के नाथद्वारा शहर से की जाएगी और धीरे-धीरे पूरे देश में इसका विस्तार किया जाएगा।

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Reliance industries history in hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा. यहाँ हमने रिलायंस इंडस्ट्री के बारे में संक्षिप्त इतिहास दिया है यह आपकों कैसा लगा कमेंट कर जरुर बताएं यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Comment