Paragraph On Raksha Bandhan In Hindi – रक्षा बंधन पर अनुच्छेद

Paragraph On Raksha Bandhan In Hindi – रक्षा बंधन पर अनुच्छेद: Here Is A Article About Few Lines Good Information in 5,10 Line Paragraph On Raksha Bandhan Short Essay & Speech On Rakhi 2019. प्रिय दोस्तों आज के लेख में हम राखी पर हिंदी में अनुच्छेद (Raksha Bandhan Paragraph) साझा कर रहे हैं. कक्षा 1,2,3, 4,5,6,7,8,9,10 के स्टूडेंट्स के लिए यह उपयोगी हो सकता हैं.

Paragraph On Raksha Bandhan In Hindi – रक्षा बंधन पर अनुच्छेद

Paragraph On Raksha Bandhan In Hindi - रक्षा बंधन पर अनुच्छेद

प्रस्तावना : रक्षा बंधन के पर्व को भाई बहिन का उत्सव कहा जाता हैं. मूल रूप से यह हिन्दुओं का त्योहार हैं, वर्तमान काल में यह धर्म की सीमाओं से बाहर निकलकर भारत के सभी मत एवं सम्प्रदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता हैं. सभी धर्मों के लिए प्रेम एवं मेलजोल से इस पर्व को मनाते हैं ऐसा हो भी क्यों न क्योकि यह भाई बहिन के स्नेह का प्रतीक पर्व हैं, जो भारत की संस्क्रति का परिचायक हैं.

वैसे तो हमारे समाज में बहिन भाई के रिश्ते की पवित्रता, आपसी समझ कर्तव्यनिष्ठां के भाव को किसी दिन विशेष पर प्रकट नहीं किया जा सकता हैं. मगर इस दिन का अपना सामाजिक एवं धार्मिक महत्व इसे बड़ा दिन बना देते हैं. भारत में राखी का त्योहार रक्षा बंधन सैकड़ों वर्षों से मनाया जाता रहा हैं.

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार राखी का पर्व श्रावण महीने की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता हैं. अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार यह अगस्त माह में पड़ता हैं. रक्षा बंधन के दिन बहिन अपने भैया के घर जाती हैं तथा उन्हें मुहं मीठा करवाकर तिलक लगाकर राखी बांधती हैं. भाई बहिन को उनकी रक्षा का वचन देता हैं तथा ही वह उन्हें कुछ भेंट उपहार देकर विदा करता हैं.

राखी का अपना एक सांकेतिक महत्व हैं, यह हिन्दू धर्म के अनुसार एक भाई को अपनी बहिन के प्रति दायित्वों की याद दिलाता हैं. इस पर्व के सम्बन्ध में पुराणों में राजा बलि एवं इंद्र की एक कथा का प्रसंग मिलता हैं जिसके मुताबिक देवराज इंद्र के राज्य को बलि हडप लेता हैं.

राज्य प्राप्ति के लिए इंद्र भगवान् विष्णु की मदद से बलि से तीन पग जमीन मांगते हैं. वे जानते थे कि बलि बड़ा दानी राजा हैं वह ब्राह्मण को मना नहीं करेगा. उनकी हामी पर विष्णु ने विराट रूप दिखाकर तीनों लोक को अपने पैरों से नापकर बलि को पाताल लोक भेज दिया था.

हमें इतिहास की पुस्तकों में रक्षा बंधन से जुड़ा एक और प्रसंग कर्मावती और हुमायूं का बताया जाता हैं. कुछ भी मान्यता रही हो, वाकई साल के 365 दिनों में एक दिन भाई बहिन के समर्पण के दिन को हमें अपनी परम्पराओं के अनुसार मनाना चाहिए.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Paragraph On Raksha Bandhan In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा, यदि यहाँ दी गई जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *