अमित शाह का जीवन परिचय Amit Shah Biography In Hindi

अमित शाह का जीवन परिचय Amit Shah Biography In Hindi: अमित भाई शाह भारत के गृहमंत्री और भाजपा के स्टार पोलिटिशियन है जिन्होंने 1997 से भाजपा के लिए सारथी की तरह काम करते रहे. अमित शाह की जाति, जीवनी, परिवार इनके बारे में जानकारी और इतिहास के बारे में आपकों यहाँ शाह की जीवनी में एक व्यवसायी का बेटाः किस तरह अपनें पुश्तैनी बिजनेस को छोड़कर एक संगठन से जुड़ते हैं | अपराजेय और स्पष्ट वक्ता शाह के जीवन की कहानी किसी आदर्श नेता से कही बेहतर हैं |

अमित शाह का जीवन परिचय Amit Shah Biography In Hindi

अमित शाह का जीवन परिचय Amit Shah Biography In Hindi

शाह का जन्म एक अमीर व्यवसायी के घर 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई में हुआ था. उनके पिता का नाम अनिलचंद्र शाह हैं जो अमेरिका में अपना बिजनेस चलाते थे. इनकी माँ का नाम कुसुमबा था 2010 में इनकी गिरफ्तारी से पहलें कुसुमबा जी का देहांत हो गया था |

अमित शाह का जीवन परिचय

इनका गृह जिला पाटन (गुजरात) हैं. यही से इन्होने स्कूली पढाई की . 12 व़ी के बाद पढ़ाई के लिए अहमदाबाद चले गयें. यहाँ से इन्होने बॉयोकेमिस्ट्री में बीएससी की डिग्री हासिल की.

अपने कॉलेज के दिनों में ही अमित शाह ने आरएसएस और abvp की सदस्यता ग्रहण कर ली. इनके पोलिटिकल कैरियर की शुरुआत गुजरात के मुख्यमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी के मिलन से हुईं |

एक राजनितिक कार्यक्रम के दौरान दोनों की भेट हुई. इसके बाद मोदी-शाह के बिच अच्छी दोस्ती हो गईं. जिन्हें आज भी दुनिया सलाम करती हैं |

शाह ने कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद अपनें पिता के व्यापार में हाथ बटाना शुरू कर दिया कुछ वर्षो तक प्लास्टिक और PVC पाइप का व्यापार भी किया. मगर उनका मन बिजनेस में कम राजनीती की तरफ अधिक झोले मार रहा था |

अमित शाह का परिवार

शाह अपनें पिता के इकलौते बेटें हैं, इनकें चार बहिन भी हैं | शाह का विवाह सोनल शाह के साथ 23 साल की उम्र में वर्ष 1987 को हुआ था. इनके एक ही बेटा हैं जय शाह जिनकी शादी 2014 में हर्षिता शाह के साथ हुई थी.

अमित शाह बनिया जाति के हैं, जो जैन और हिन्दू धर्म के अनुयायी हैं. नपी तुली एक स्पष्ट बात कहने वाले शाह इरादों के पक्के पर जब तक मंजिल प्राप्त नही हो जाती डटे रहने में विश्वास करतें हैं. कुछ लोग इन्हे प्रधानमन्त्री के करीबी होने की वजह से यहाँ तक पहुचने का आरोप लगाते हैं | वे इनके दमदार राजनीती करियर से वाकिफ नहीं हैं |

आपकी जानकारी के लिए बता दे इन्होने स्थानीय निकाय से लेकर सासंद और विधायक के पदों के लिए 50 से अधिक चुनाव एक प्रत्याशी की भूमिका से लड़े हैं | वर्ष 2017 तक अमित शाह अपराजेय हैं अपनें जीवन के राजनितिक करियर में इन्होने एक बार भी हार का मुह नही देखा हैं |

विलक्षण प्रतिभा के धनी इस महानेता का पोलिटिकल करियर और उपलब्धिया इस प्रकार हैं |

अमित शाह की राजनीती में शुरुआत

मोदी और शाह पहली बार 1982 में कॉलेज के दिनों में मिले थे, शायद यह राजनीती में आने का न्योता ही था | एक साल तक अपना बिजनेस करने के बाद 18 साल की उम्र में गुजरात की राजनीती में आ गयें | इन्होने वर्ष 1985 में विधिवत रूप से भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली |

राजनीती के आरम्भिक दिनों में इन्हे अधिक अनुभव ना होने के कारण कोई विशेष पदभार नही दिया गया | पहला अवसर था जब वर्ष 1990 में राजधानी क्षेत्र से लोकसभा चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार और प्रभावशाली नेता लाल कृष्ण आडवाणी जी के लिए चुनाव प्रचार का पूरा काम शाह को दिया गया |

इसके बाद इन्हें बीजेपी के प्रधानमन्त्री पद के प्रत्याशी अटल बिहारी वाजपेयी के चुनाव प्रचार का कार्य दिया गया | इन दोनों चुनाव प्रचारों में बीजेपी को भरमार वोट मिले. तभी उच्च पद के नेताओ ने इन्हें पार्टी की तरफ से गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए सरखेज विधानसभा सीट से नामित कियें गये |

यह अमित शाह का राजनितिक डेब्यू था इसके बाद 1997 से 2021 तक 25 वर्षो के सफर में अपराजेय रहने वाले शाह आज के प्रभावशाली नेताओ में से एक हैं | शाह वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी से देश के गृहमंत्री हैं.

अमित शाह का राजनीतिक करियर

सरखेज विधानसभा सीट से शाह ने अपने राजनितिक करियर की शुरुआत 1997 में की इसके दो साल बाद अहमदाबाद कोपरेटिव बैंक के अध्यक्ष चुने गये |

इसके बाद शाह को गुजरात क्रिकेट संघ के उपाध्यक्ष चुने गये. उस समय GCA के अध्यक्ष स्वय मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी थे. नरेंद्र मोदी के प्रधानमन्त्री बनने के बाद अमित भाई शाह को गुजरात क्रिकेट बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया |

शाह सरखेज सिट से चार बार MLA चुने जा चुके हैं | 2002 से 2010 तक शाह गुजरात की केबिनेट का मुख्य चेहरा और मोदी के परम मित्र थे. गुजरात दंगो से पहले हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 75 फीसदी सिट जीती थी.

उन चुनावों में शाह ने सबसे अधिक वोटों से जीत हासिल की | उन्होंने 1.50 से अधिक वोट से जीत दर्ज की थी. दंगो के बाद फिर से कराए गयें चूनावो में शाह 2.50 लाख से अधिक वोटों से विजयी हुए |

शाह वर्तमान में लगातार दूसरी बार भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष हैं।,इनके अतिरिक्त गुजरात के गृहमंत्री और क्रिकेट संघ के अध्यक्ष और बीजेपी के राष्ट्रिय महासचिव के पद पर काम कर चुके हैं |

अमित शाह ने लोकसभा चुनाव 2019 को गांधीनगर से लड़ा और भारी मतो से विजयी भी हुए. शाह चुनाव जीतने के बाद भारत के गृहमंत्री बने और जम्मू कश्मीर से धारा 370 और 35A हटाने में उनका बड़ा योगदान था. ये अब तक की उनकी सबसे बड़ी उपलब्धी भी मानी जा सकती हैं.

अमित शाह को जेल

अमित शाह और विवाद कोई नईं बात नहीं हैं, राजनितिक द्वेष हो या जातीय दुश्मनी के कई मामले दर्ज हो चुकें हैं, हालाँकि किसी भी मामले में इन्हे जेल या सजा नही हुई हैं | गुजरात दंगो के कुछ साल बाद एक मुठभेड़ में दो युवकों की हत्या हुई थी. ये वाकया अहमदाबाद का ही हैं |

बाद में इस मामले की स्पेशल जांच में ये नतीजें सामने आए कि मारे गये लोग मुख्यमंत्री पर दंगो का बदला लेने के लिए हमला करने आए थे. इस मामले की सुनवाई के दौरान एक रोचक मोड आया | पिल्लई नाम अधिवक्ता द्वारा कोर्ट में याचिका दर्ज की गयी |

याचिकाकर्ता ने कोर्ट से दरखास्त कि इस मामले में अमित शाह को भी आरोपी बनाया जाए | इस पर याचिकाकर्ता द्वारा सबूत और दस्तावेज भी कोर्ट में प्रस्तुत कियें गये. मगर अपर्याप्त सबूतों के कारण कोर्ट ने इस याचिका को रद्द कर दिया था |

अमित शाह को 25 जुलाई 2010 को गिरफ्तारी भी देनी पड़ीं थी सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात कोर्ट द्वारा जमानत के बाद शाह को रिहा कर दिया गया था | इस मामले में शाह के अधिवक्ता राम जेठमलानी थे | जेठमलानी और सीबीआई के वकील तुलसी कई बार कोर्ट में ही उलझ पड़े थे |

Amit Shah BJP President Contact Number : ईमेल,मोबाइल नंबर, निवास पता,सोशल साइट्स

अमित शाह ईमेल,मोबाइल नंबर, निवास पता,सोशल साइट्सके बारे में, हम सभी जानतें हैं , आप एक आम नागरिक की हैसियत से किस तरीकें से अपनीं बात उन तक पंहुचा सकतें हैं अथवा उनसें मिल सकते हैं| जरुरी नहीं सभी लोग इस शख्सियत से परिचित हो , यहाँ आपकों अमित जी के बारे में शोर्ट जानकारी उपलब्ध करवा रहे हैं |

55 वर्षीय शाह वर्तमान में भारत के गृहमंत्री है ये दो बार भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके है , इनका जन्म अक्टूबर 1964 में हुआ था. इनका सम्बन्ध गुजरात राज्य से हैं. गुजरात केबिनेट में गृहमंत्री रह चुकें हैं साथ ही गुजरात क्रिकेट संघ के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पर भी अपनी सेवाए दे चुके है, आप पार्टी के राष्ट्रिय महासचिव  के पद पर भी रह चुकें हैं |

आपकों नरेंद्र मोदी के सबसे करीबी और दोस्त दुनिया मानती हैं, शाह अपनें राजनैतिक करियर में कोई चुनाव नही हारे हैं पूरी बायोग्राफी पढनें के लिए यहाँ जाए-

Amit Shah Contact Number
  • ट्विटर
  • वेबसाइट
  • Instagram Handlelink
  • Facebook Pagelink
  • Phone Number: 09824010090, 079-27499070, 26881140 (not sure)
  • WhatsApp Number: Not Available
  • Email Id: amitshah.bjp@gmail.com
  • House Address: 10, Shivkunj Soc., Naranpura, Opp. Sanghavi High school, Ahmedabad- 380013
  • Hometown: Ahmedabad, India
  • Residence: Ahmedabad, India
  • Office Address: 11, Ashok Road, New Delhi – 110001

पार्टी अध्यक्ष भी प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की तरह सोशल साइट्स और अपनी निजी वेबसाइट पर काफी सक्रिय रहते हैं | आप उनकी ऑफिस में काल कर सकते हैं | अथवा सभी सोशल मिडिया के लिंक दिए हैं जिनके द्वारा आप अपनें विचार अथवा समस्या अमित शाह तक पंहुचा सकतें हैं |

कांग्रेस और गांधी परिवार के बारे में

छत्तीसगढ़ में एक सभा के सम्बोधन का .. यहाँ शाह ने कांग्रेस की लीडरशिप सहित राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को भी आड़े हाथो लिया. कांग्रेस पार्टी की विचारधारा पर बोलते हुए शाह ने कहा – यह कोई विचारधारा अथवा सिद्दांतो की पार्टी नहीं हैं, इसका एक ही मकसद था आजादी प्राप्त करना. स्पेशल पर्पज व्हीकल इनकी देश की आजादी तक ही था.

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने अपने भाषण के दौरान महात्मा गाँधी एक चतुर बनिया का उपमान दिया. रायपुर की इस सभा में शाह ने आगे खा ये पार्टी देश की प्रगति और पुन्र उत्थान की बात करती हैं. इनके नेताओं का कहना हैं, हम फिर से भारत को विश्व गुरु और सोने की चिड़िया बना देगे |

अमित शाह ने देश के सभी राजनितिक दलों को भी आड़े हाथ लिया . देश में 1500 से अधिक राजनितिक दल पार्टिया हैं, मगर मात्र दो ही पार्टी हैं. सीपीआई और भारतीय जनता पार्टी जो अपने सिद्द्न्तो पर चलती हैं,

अपनें आंतरिक अनुशासन (लोकतंत्र) को बनाए रखा हैं. दूसरी तरह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के पद छोड़ने पर उनका बेटा राहुल गाँधी ही पार्टी अध्यक्ष होगा, जबकि कोई नही जानता भारतीय जनता पार्टी का अगला अध्यक्ष कौन होगा ?

इस भाषण में शाह ने न सिर्फ महात्मा गाँधी पर आक्षेप किया बल्कि इन्होने गाँधी की दूरदर्शिता के बारे में कहा – उन्हें पहलें ही पता था आजादी के बाद क्या होने वाला हैं आजादी तो बस एक साधन ही था.

वह बहुत बहुत चतुर बनिया था. जिन्होंने आजादी के तुरंत बाद कहा था. कांग्रेस पार्टी को अब बिखेर देना चाहिए, मगर उनकी बात पर किसी ने कोई ख़ास ध्यान नही दिया.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों अमित शाह का जीवन परिचय Amit Shah Biography In Hindi का यह लेख आपको पसंद आया होगा. यदि आपको अमित शाह की जीवनी बायोग्राफी में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करें.

अपने विचार यहाँ लिखे