मेरा शहर चंडीगढ़ पर निबंध | Essay On My City Chandigarh In Hindi

Essay On My City Chandigarh In Hindi: नमस्कार दोस्तों मैं चंडीगढ़ शहर से हूँ और और आपकों आज मेरा शहर चंडीगढ़ पर निबंध बता रहूँ. सरल भाषा में बच्चों  के लिए शोर्ट लॉन्ग एस्से, स्पीच, लेख, अनुच्छेद यहाँ हम चंडीगढ़ शहर पर बता रहे हैं, उम्मीद करते है इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपकों पसंद आएगी, जहाँ हम शहर के इतिहास, निर्माण, भूगोल, संस्कृति, आकर्षक स्थल एवं वर्तमान में इसकी लोकप्रियता पर बात करेंगे.

Essay On My City Chandigarh In Hindi

Essay On My City Chandigarh In Hindi

300 Words Mera shehar chandigarh par nibandh

चंडीगढ़ पंजाब राज्य की राजधानी होने के साथ ही साथ हरियाणा राज्य की भी राजधानी है। चंडीगढ़ शहर अपनी सुंदरता के साथ ही साथ अपने पहाड़ी इलाके के लिए भी जाना जाता है, क्योंकि चंडीगढ़ शहर पहाड़ो के बिल्कुल बीच में मौजूद है। चंडीगढ़ में घूमने लायक गई जगह मौजूद है, जहां पर कई लोग घूमने के लिए आते हैं। 

चंडीगढ़ शहर में माता चंडी का मंदिर मौजूद है और ऐसा भी कहा जाता है कि माता चंडी के नाम के ऊपर ही चंडीगढ़ शहर का नाम रखा गया है। हमारे शहर चंडीगढ़ की समुद्र तल से ऊंचाई तकरीबन 365 मीटर है और यहां का वातावरण काफी सुहावना रहता है। पहाड़ी इलाके से घिरे हुए होने की वजह से चंडीगढ़ का मौसम शुष्क रहता है। गर्मियों के मौसम में चंडीगढ़ को घूमने के लिए काफी लोग आते हैं, क्योंकि गर्मियों के मौसम में भी यहां का वातावरण भारत देश के अन्य इलाके से ठंडा ही रहता है। 

मेरे शहर चंडीगढ़ में रोज गार्डन भी मौजूद है जो बहुत ही शानदार है। इस गार्डन का निर्माण करवाने में स्वर्गीय नेक चंद ने काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। रोज गार्डन की खासियत यह है कि यहां पर 500 से भी अधिक पौधों की प्रजातियों के पेड़ लगे हुए हैं और यही फुल गार्डन की सुंदरता में चार चांद लगा देते हैं। वैसे रोज गार्डन का पूरा नाम जाकिर हुसैन रोज गार्डन है।

हमारे शहर चंडीगढ़ में जब घूमने के लिए जाया जाता है तब काफी भारी मात्रा में अशोक और शहतूत के पेड़ दिखाई देते हैं और इसकी वजह से ही हमारा चंडीगढ़ शहर बहुत ही हरा भरा दिखाई देता है। चंडीगढ़ के विकास का सारा जिम्मा केंद्र सरकार का होता है, क्योंकि चंडीगढ़ शहर के विकास की जिम्मेदारी भारत सरकार के गृह मंत्रालय के पास है और गृह मंत्रालय के द्वारा ही चंडीगढ़ में विकास के सभी कामों को करवाया जाता है और उनकी देखरेख की जाती है। मेरे शहर चंडीगढ़ में कई यूनिवर्सिटी मौजूद है जिनकी गिनती बेस्ट यूनिवर्सिटी में होती है और उन यूनिवर्सिटी में अध्ययन करने के लिए हर साल लाखों विद्यार्थी देश विदेश से आते हैं।

चंडीगढ़ पर निबंध 1000 शब्दों में निबंध

चंडीगढ़ आधुनिक भारत का पहला सुनियोजित शहर हैं यह अपनी बसावट और सुन्दरता के लिए विश्व विख्यात हैं, इसे सिटी ऑफ़ ब्यूटी उपनाम से भी जाना जाता हैं. भारत के दो मुख्य राज्य पंजाब व हरियाणा की यह राजधानी भी हैं, वही यह दोनों राज्यों के अधीन न आते हुए एक केन्द्रशासित प्रदेश हैं. इसके निर्माण की रूपरेखा फ़्रांसिसी वास्तुकार ली कार्बुजिए द्वारा तैयार की गई थी.

Telegram Group Join Now

मेरे शहर चंडीगढ़ का नामकरण देवी दुर्गा के एक अन्य नाम चंडी के नाम पर पड़ा हैं. चंडीगढ़ का अर्थ है चंडी का किला, जो एक हिन्दू देवी थी. शहर को बड़े धार्मिक शहरों में भी गिना जाता हैं जहाँ आज भी माँ चंडी का भव्य मंदिर बना है, एक पर्यटक स्थल के रूप में बड़ी संख्या में लोग इसे देखने के लिए आते हैं. समुद्र तट से साढ़े तीन सौ मीटर की ऊंचाई पर शिवालिक की पहाड़ी में इस शहर को बसाया गया था.

जब भारत विभाजन के समय पंजाब सूबा भी विभाजित होकर एक भाग पाकिस्तान और दूसरा हिस्सा भारत का अंग बना तो भारतीय पंजाब के लिए एक राजधानी की जरुरत पड़ी. पूर्व में पंजाब की राजधानी लाहौर में थी जो पाकिस्तान के क्षेत्र में चली गई अब नई राजधानी के लिए मेरे शहर चंडीगढ़ की नीवं 1952 में रखी गई.

शहर के निर्माण में प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु एवं राज्यपाल चन्देश्वर प्रसाद की गहरी रूचि थी. नेहरु चंडीगढ़ को आधुनिक भारत के सबसे सुंदर शहर के रूप में देखना चाहते थे. इस तरह ली कार्बूजिए के मॉडल पर चण्डीगढ़ का निर्माण हुआ. विश्व के वास्तुकला, सांस्कृतिक विकास एवं आधुनिकीकरण के मामलें में इसकी गिनति विश्व के बड़े शहरों में की जाती हैं.

चंडीगढ़ नगर 24 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हैं. वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की कुल जनसंख्या 1 करोड़ 16 लाख हैं. नगर की नींव 7 अक्टूबर 1953 को पहले राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद द्वारा रखी गई. एक ओर पहाड़ी एवं तीन ओर घने जंगल के मध्य बसा यह शहर कई बड़े भारतीय शहरों के मध्य स्थित हैं. इसके 100 किमी की परिधि में शिमला, अम्बाला व लुधियाना आते हैं.

चंडीगढ़ की मुख्य भाषा हिंदी हैं दो तिहाई लोग हिंदी बोलते एवं समझते है इसके अतिरिक्त पंजाबी यहाँ बोली जाने वाली दूसरी सबसे बड़ी भाषा हैं. यहाँ हिन्दू व सिख अनुयायियों की आबादी बहुल हैं. शहर के सेक्टर 36 में हिन्दुओं का इस्कोन मंदिर एवं नाडा गुरुद्वारा प्रमुख धर्मस्थल हैं. शहर बहुसांस्कृतिक विविधता लिए हुए है जहाँ हिंदी, पंजाबी का अद्भुत समन्वय देखने को मिलता हैं.

चंडीगढ़ शहर सुन्दरता व पर्यटन स्थलों के लिए जाना जाता हैं. रॉक गार्डन इसी शहर में स्थित है जो कचरे व अनुपयोगी सामग्री से निर्मित है. इसके अतिरिक्त 3 किमी क्षेत्र में फैली सुखना झील एक कृत्रिम झील है इसका प्राकृतिक नजारा मन मोह लेने वाला हैं. इसके अतिरिक्त यहाँ रोज गार्डन, सरकारी म्यूजियम व आर्ट गैलरी, गुडिया म्यूजियम, जापानीज गार्डन, म्यूजिकल फाउन्टेन, बटरफ्लाई पार्क और जैविक उद्यान मुख्य दर्शनीय स्थान हैं.

बरगद और यूकेलिप्टस के दरख्त शहर के प्रत्येक बगीचे में मिल जाएगे, यहाँ की वृक्षावली में अशोक, कैसिया और शहतूत के वृक्ष शहर के प्राकृतिक नजारे और निखारते हैं. सुरम्य वन क्षेत्र के बीच बसे चंडीगढ़ का वातावरण बेहद प्राकृतिक एवं स्वच्छता युक्त हैं.

आज के आधुनिक शहरों में अपेक्षित समस्त सुविधाएं एवं साधन मेरे चंडीगढ़ शहर में आसानी से प्राप्य हैं. यहाँ व्यापारिक गतिविधियों के केंद्र है तो पंजाब विवि जैसे बड़े शिक्षण संस्थान एवं इंजीनियरिंग कॉलेज हैं. लोगों के मनोरंजन के लिए टैगोर सिनेमा हैं. यहाँ के पार्कों में सदैव बालकों एवं वृद्ध जनों को भ्रमण करते देखा जा सकता हैं.

फैशन, सौन्दर्य और सभ्यता का संगम यदि कही देखने को मिलता है तो वह चंडीगढ़ में ही हैं. यहाँ का स्वछन्द वातावरण जनजीवन को सुकून भरा दृश्य व ताज़ी भव प्रदान करता हैं. आप भी अपने खाली समय में चंडीगढ़ शहर में आकर प्रसन्नतापूर्वक जीवन के कुछ लम्हों को सुकून से व्यतीत कर सकते हैं.

शहर का चंडीगढ़ हवाई अड्डा 11 किमी की दूरी पर हैं जहाँ से देश के सभी बड़े नगरों के लिए उड़ाने भरती हैं. वहीं रेलवे स्टेशन 8 किमी की दूरी पर हैं जहाँ से दिल्ली व उत्तर, मध्य भारत के लिए प्रतिदिन गाड़ियाँ चलती हैं. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 21 और 22 शहर को अन्य राज्यों से जोड़ती हैं. क्रिकेट प्रेमियों के लिए यहाँ मोहाली क्रिकेट स्टेडियम है जहाँ छोटी बड़ी क्रिकेट प्रतियोगिताओं के लिए मैचों का आयोजन होता रहता हैं.

राजनीति में चंडीगढ़ केन्द्रशासित प्रदेश का प्रतिनिधित्व अल्प मात्रा में हैं. लोकसभा से एक सदस्य चुना जाता हैं, वर्तमान में किरन खेर यहाँ से सांसद है. पंजाब के राज्यपाल सर्वोच्च प्रशासनिक अधिकारी के रूप में नेतृत्व करते हैं. मेरा शहर चंडीगढ़ सभी पैमानों में एक उत्कृष्ट शहर की श्रेणी में आता हैं. देश के सर्वाधिक सम्पन्न राज्यों में इसकी गिनति की जाती हैं. यदि आप आगामी अवकाश के दिनों को कही सुन्दरता के दृश्य वाली भूमि पर व्यतीत करना चाहते है तो देवीचंडी का यह शहर सदा अपने आगंतुकों को बाहों फैलाएं रहता हैं.

चंडीगढ़ में सुंदर सुखना झील

नयें भारत का नया शहर चंडीगढ़ जहाँ सुसंगठित बसावट है आधुनिकता के साथ ही प्रकृति का संगम यही हैं. शहर आने वाला प्रत्येक आगन्तुक यदि सुखना झील के दर्शन नहीं कर पाया तो उनकी यात्रा अधूरी ही समझी जाएगी. आधुनिक निर्माण के साथ हरियाली सुखना झील के नजारे को बेहद ख़ास बनाती हैं.

वर्ष 1958 में शिवालिका की पर्वत श्रंखला को काटकर कृत्रिम रूप से सुखना झील को बनाया गया था. यहाँ सुखना चोई धारा प्रवाहित हुआ करती थी, जिसके जल को संचित कर झील का निर्माण किया गया. झील में मछलियाँ, सारस और साइबेरियन बत्तख समेत कई देशी विदेशी पक्षियों की यह निवास स्थल हैं. देशभर के फोटोग्राफरों के लिए यहाँ मनचाहे नजारे मिलते हैं.

Chandigarh the Beautiful City at a Glance | चंडीगढ़ एक परिचय

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Essay On My City Chandigarh In Hindi का यह निबंध पसंद आया होगा. यदि आपकों चंडीगढ़ पर निबंध में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे. short speech for class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 students kids के लिए निबंध 100 words, 200 words, 250 words, 300 words, 400 words, 500 words, में आप इन्हें अपनी पसंद के अनुसार बना सकते हैं.

1 thought on “मेरा शहर चंडीगढ़ पर निबंध | Essay On My City Chandigarh In Hindi”

Leave a Comment