प्रार्थना पर निबंध | Essay on Prayer in Hindi

प्रार्थना पर निबंध Essay on Prayer in Hindi: नमस्कार दोस्तों आपका हार्दिक स्वागत है आज हम जीवन में प्रार्थना के महत्व पर निबंध पढ़ेगे. इस निबंध भाषण अनुच्छेद में हम जानेगे कि ईश्वर की प्रार्थना क्या है इसका अर्थ महत्व तथा इसका तरीका इस निबंध में विस्तार से जानने वाले हैं.

प्रार्थना पर निबंध | Essay on Prayer in Hindi

प्रार्थना पर निबंध | Essay on Prayer in Hindi

400 शब्द प्रार्थना निबंध

प्रार्थना हमारी मानसिक शांति के लिए बहुत ही आवश्यक होती है क्योंकि जब प्रार्थना की जाती है तब हमारी आंखें बंद होती है और हमारा सारा ध्यान हमारे भगवान की तरफ लगा हुआ रहता है, जिससे हमें भगवान की साधना करने में भी आसानी होती है और हमें मानसिक शांति प्राप्त होती है। 

सभी धर्म के लोग अपने अपने धर्म के हिसाब से प्रार्थना करते हैं परंतु मुख्य तौर पर प्रार्थना सुबह के समय में करना ज्यादा फलदाई मानी जाती है। प्रार्थना करके हम भगवान से अपने जीवन में सुख समृद्धि और वैभव देने की कामना करते हैं। प्रार्थना करने से हमारे अंदर पॉजिटिव ऊर्जा का संचार भी होता है, जो कि नेगेटिव एनर्जी को दूर भगाने के लिए बहुत ही आवश्यक होती है।

मंदिर में जाने के बाद जब हम भगवान की पूजा करने के बाद प्रार्थना करते हैं तो ऐसा लगता है जैसे साक्षात भगवान हमें दर्शन दे रहे हैं और वह यह कह रहे हैं कि तुम्हारी प्रार्थना का फल तुम्हें अवश्य मिलेगा। प्रार्थना का महत्व स्कूलों में भी काफी होता है। 

जब हम सुबह स्कूल जाते हैं तो स्कूल में भी सभी विद्यार्थी खड़े होकर के सामूहिक तौर पर प्रार्थना करते हैं। प्रार्थना करने के लिए दोनों हाथों को आपस में जोड़ा जाता है जिसका अर्थ यह होता है कि हम भगवान से विनय पूर्वक अपनी किसी इच्छा की पूर्ति हेतु कामना अथवा प्रार्थना कर रहे हैं और उन्हें हमारे काम में हमारी सहायता करनी ही पड़ेगी ताकि हमारा काम सफल हो सके।

हाथ जोड़कर जब भगवान से प्रार्थना की जाती है तो भगवान भी हमारे साथ धीरे-धीरे जुड़ते चले जाते हैं और वह हमें जिंदगी में आगे बढ़ने के रास्ते दिखाने लगते हैं। हालांकि हमें भगवान नजर नहीं आते हैं परंतु वह एक अदृश्य शक्ति के तौर पर हमारी प्रार्थना से प्रभावित होकर के ही हमारा साथ देते हैं। 

Telegram Group Join Now

प्रार्थना करने से इंसानों के अंदर मानवता की भावना पैदा होती है और जब किसी व्यक्ति के अंदर मानवता की भावना पैदा होती है, तो वह इंसानों के हितों के लिए काम करता है।

प्रार्थना करने वाला व्यक्ति दिल से बहुत ही साफ और इमानदार होता है। ऐसे लोग किसी के भी साथ धोखाधड़ी करने के बारे में कभी भी नहीं सोचते हैं क्योंकि प्रार्थना करने से हमारा मन साफ होता है। 

इसलिए हमारे मन में गंदे विचारों की जगह पर हमेशा अच्छे विचारों का ही आदान-प्रदान होता है। प्रार्थना करने से हमें सद्बुद्धि मिलती है, हमारी वाणी में कठोर शब्द नहीं आते हैं और हमें सभी लोगों के साथ प्यार से व्यवहार करने का मन भी करता है।

700 Words प्रार्थना पर निबंध

मानव के अन्य प्राणियों से अधिक सामर्थ्यवान होने का प्रतीक प्रार्थना हैं. जो मनुष्य मात्र को अपने इष्ट से सम्बन्ध स्थापित करवाती हैं. विश्व के सभी धर्मों में प्रार्थना को सर्वोच्च स्थान प्राप्त हैं. यहाँ तक कि आत्मा को मोक्ष प्राप्त करने का आधार प्रार्थना को ही माना हैं. महापुरुषों एवं संतों ने भी प्रार्थना के महत्व पर बल दिया है.

जीवन में प्रार्थना के कई ध्येय होते हैं. मुख्य रूप से धार्मिक अथवा अपने भगवान् से की गई प्रार्थना के उद्देश्य अपने परमेश्वर की प्रशंसा, उनकी स्तुति, साधुवाद, कोई कामना, पथ प्रदर्शन की गुजारिश अथवा स्वयं या सर्व हित की भावना निहित होती हैं. प्रार्थना करने की कई विधियाँ है कभी गाकर बजाकर तो कभी मौन रूप से भी प्रार्थना की जाती हैं. प्रार्थना का स्वरूप व्यक्तिगत या सामूहिक हो सकता हैं. यह किसी पवित्र ग्रंथ के पाठन या एकाकार ध्यान मुद्रा में भी हो सकती हैं.

आमतौर पर लोग प्रार्थना के लिए माला, मंत्र, गीत या संगीत का उपयोग करते हैं. मगर इन सभी साधनों के सिवाय भी प्रार्थना की जा सकती हैं. प्रार्थना की सभी विधियां अपने आप में श्रेष्ठ है तथा किसी भी विधि को अपनाया जा सकता हैं. सरल शब्दों में समझे तो प्रार्थना ईश्वर एवं भक्त के मध्य का वार्तालाप हैं. जिसमें साधक अपने परमेश्वर से जीवन से हालातों को स्पष्ट रूप से बया करता है तथा अपनी इच्छाओं को बताता हैं.

सभी का मानना है कि सच्चाई, सफाई, तन्मयता और समर्पण-भाव से की गई प्रार्थना को अधिक प्रभावी समझा जाता हैं. ऐसा माना जाता हैं कि प्रार्थना के लिए सभी स्थान व समय स्वीकार्य होते हैं. इसे कभी भी और कही भी किया जा सकता हैं. मगर बहुत से लोग सवेरे दिन की शुरुआत और शाम के समय ही प्रार्थना करते हैं. इसके लिए चुना गया स्थल पूर्ण शांत, स्वच्छ होना भी आवश्यक माना गया हैं. 

एक अच्छी प्रार्थना के लिए एकान्तता का होना बेहद जरुरी हैं. जिसमें साधक का ध्यान न बटे तथा अधिक शोरगुल न हो. सभी धर्मों के अपने अपने पूजा स्थल हैं. मन्दिर, मस्जिद, गिरजाघर, चर्च आदि पूजा स्थल माने गये हैं. प्रकृति के वातावरण में भी मन की शान्ति व एकाग्रता के साथ प्रार्थना करने का अच्छा वातावरण मिलता हैं.

व्यक्ति को प्रार्थना करने से कई लाभ प्राप्त होते हैं. इससे मन को आत्मबल, विश्वास, प्रेरणा तथा आशा मिलती हैं. एक आम व्यक्ति में प्रार्थना से दया, अहिंसा, ममता, परोपकार, सहनशीलता, सहयोग, सादगी, उच्च विचार से मानवीय गुणों का जन्म होता हैं. तथा वह एक उत्कृष्ट चरित्र का निर्माण कर सकते हैं. विपत्ति के समय में इन्सान को प्रार्थना से मन को बल तथा आत्म विश्वास और शान्ति के भाव मिलते हैं. ईश्वरीय सहयोग की आशा से उनकी उलझने समाप्त हो जाती है उसे आत्मिक शक्ति मिलती है तथा दुःख के दिन में भी आशा की रोशनी नजर आती हैं.

प्रार्थना एक बड़ी आध्यात्मिक क्रियाकलाप तो है ही साथ ही इसका अपना बड़ा मनोवैज्ञानिक महत्व भी हैं. इससे मन को शांति तथा मन को एकाग्र करने तथा अपने संस्कारों तथा परम्पराओं के परिवर्द्धन में भी एक आम जरिया हैं. धैर्य, ऊर्जा, पवित्रता, चरित्र की दृढ़ता के गुण विकसित किये जा सकते हैं. प्रार्थना में स्वहित के भाव के साथ परहित के भाव तथा औरों की भलाई के भाव भी छिपे होते हैं. विश्व के कई बड़े संतों, महापुरुषों एवं विद्वानों ने प्रार्थना के दम पर ही कई असम्भव कार्य कर दिखाए.

किसी महान व्यक्ति के जीवन में प्रार्थना के महत्व को समझना हो तो महात्मा गांधी का जीवन इसका एक उदाहरण हैं. वे अपने दिन का एक बड़ा भाग सुबह और शाम की सर्वधर्म प्रार्थना में गुजारते थे. वे अपने हर दिन की शुरुआत सार्वजनिक प्रार्थना सभा से करते थे. यह प्रार्थना की ही ताकत थी कि वे सदी के नायक कहलाए.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों प्रार्थना पर निबंध | Essay on Prayer in Hindi का यह निबंध स्पीच आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों इस निबंध में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Comment