खजाइन उल फुतूह | Khazain Ul Futuh In Hindi | Amir Khusro Books

खजाइन उल फुतूह Khazain Ul Futuh In Hindi Amir Khusro Books: दिल्ली सल्तनत काल के इतिहास के लेखकों में अमीर खुसरो का नाम विशेष रूप से लिया जाता हैं. वे राजदरबार में श्य पाने वाले परिवार से सम्बन्ध रखते थे. कैकूबाद,जला लुद्दीन खिलजी, अलाउद्दीन खिलजी, मुबारकशाह व गयासुद्दीन तुगलक के दरबार में खुसरो काफ़ी करीब रहा उसने खजाइन उल फुतूह नामक प्रसिद्ध किताब की रचना भी की. आज के लेख में हम amir khusro books के बारें में विशेष रूप से जानेगे.

Khazain Ul Futuh In Hindi

Khazain Ul Futuh In Hindi

books written by ameer khusro kalam books list pdf works खजाइन उल फुतूह (तारीखे अलाई):  इसका लेखक भारत के फ़ारसी कवियों में सर्वश्रेष्ठ अमीर खुसरों था. वह सुल्तान जलालुद्दीन खिलजी से मुहम्मद बिन तुगलक   तक सभी दिल्ली सुल्तानों का समकालीन था. १२९० ई से १३२५ ई तक उसने राजकवि का पद धारण किया. अमीर खुसरों  ने गुरात उल कमालमिफताह उल फुतूह, तुगलकनामा, नुहुसिपिहर, देवलरानी आदि अनेक ग्रंथों की रचना भी की.

खजाइन उल फुतूह जिसे तारीखे अलाई भी कहा जाता हैं. की रचना १३११ ई में की थी. और इसमें सुलतान अलाउद्दीन की विजयों के साथ साथ उनके आर्थिक सुधारों और बाजार भाव नियंत्रण का उल्लेख भी किया हैं. परन्तु खुसरो ने उन घटनाओं की तरफ ध्यान नहीं दिया जो उसके संरक्षक के विरुद्ध थी. जैसे कि जलालुद्दीन की हत्या.

खुसरो ने कही कही पर अत्यधिक अलंकृत फ़ारसी का प्रयोग किया हैं जिसकी वजह से रहस्य का पर्दा उठ नहीं पाता हैं. उसने कई हिंदी शब्दों का प्रयोग भी किया हैं. इस ग्रंथ में तिथि कर्म की कमी खटकती हैं, फिर भी यह एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक ग्रंथ हैं. डॉ इश्वरीप्रसाद ने इस ग्रंथ के बारे में लिखा हैं कि खजायन दक्षिणी अभियानों का इतिहास हैं.

यह तिथि एवं वृतांत दोनों ही दृष्टियों से सही हैं और इससे हमें अलाउद्दीन के शासन काल की उपयुक्त तिथिक्रम के निश्चय करने में सहायता मिलती हैं. इसमें कतिपय प्रशासकीय सुधारों का भी वर्णन हैं. परन्तु यह वर्णन अत्यंत संक्षिप्त हैं. यह खेद की बात हैं कि इस युग की प्रवृत्तियों के अनुसार खुसरो भी एक कट्टर मुसलमान था और जिन लोगों को वह काफिर समझता था उनके विषय में विचार प्रकट करते हुए उसने धर्मान्धता का परिचय दिया.

खुसरो की काव्य रचनाओं से भी कुछ ऐतिहासिक सामग्री प्राप्त होती हैं. तूहफतूह रिगार से बलवन के सम्बन्ध में वस्तुल हयात से निजामुद्दीन औलिया, मलिकछज्जु आदि के बारे में गुरात उल कमाल से निजामुद्दीन औलिया, कैकूबाद आदि के बारे में तथा देवलरानी से खिज्र खां एवं देवलरानी के बारे में जानकारी मिलती हैं.

Amir Khusro Books Khazain Ul Futuh

अमीर खुसरो की रचनाओं को सत्यापित इतिहास स्रोत के रूप में नहीं लिया जा सकता इसकी वजह यह हैं कि उसकी रचनाएँ इतिहास को ध्यान में रखकर नहीं लिखी गई बल्कि अपने शासकों की प्रशंसा में लिखी गई. उसकी कविता शायरी में भी शासक के एक ही पक्ष पर प्रकाश डाला गया हैं, हालांकि ऐतिहासिक तथ्यों तथा घटनाओं के क्रम को जानने में खुसरो की पुस्तकें मदद गार साबित हो सकती हैं.

अमीर खुसरो की किताबों के नाम इस प्रकार हैं- किरान-उस-सादेन, मिफता-उल-फुतूह, खजाइन-उल-फुतूह, आशिका, नूह सिपि हर, तुगलकनामा आदि अपनी अंतिम पुस्तक तुगलकनामा में खुसरो गयासुद्दीन तुगलक की खुसरोशाह पर युद्ध में मिली विजय का वर्णन करता हैं. खुसरो तथा अल बरुनी के इतिहास लेखन में खुसरो को ही अधिक प्रमाणिक माना गया हैं  इसका कारण यह हैं कि अन्य सल्तनत काल के लेखकों की तुलना में इसने तिथियों तथा घटनाओं के क्रम को अधिक महत्व दिया.

यह भी पढ़े- 

Khazain Ul Futuh In Hindi के बारे में दी जानकारी आपकों पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ इस लेख को जरुर शेयर करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.