कठपुतली पर कविता Poem On Puppet In Hindi

कठपुतली पर कविता Poem On Puppet In Hindi देखने वाले दर्शकों के लिए कठपुतली की खेल कला या मनोरंजन हैं कलाकार के लिए आर्ट व रोजी रोटी का जरिया. ४०० ईसा पूर्व संस्कृत व्याकरण के जनक पाणिनि ने सबसे पहले इसका उल्लेख किया था. विक्रमादित्य के कहानियां में ‘सिंहासन बत्तीसी में 32 तरह की कठपुतलियों का वर्णन मिलता हैं.

कठपुतली पर कविता Poem On Puppet In Hindi

Poem On Puppet In Hindi कठपुतली पर कविता

आज के आर्टिकल में हम कठपुतली पर बेहतरीन शायरी हिंदी कविता पढ़ेगे. महीन धागों के इशारों पर उम्र: भर नाच दिखाने वाली कठपुतली के जीवन की पीड़ा उनके करतब के ढंग और वेशभूषा पर आधारित कुछ कविताएँ यहाँ दी गई हैं. उम्मीद करते हैं ये आपको पसंद आएगी.

Kathputli Poem in Hindi

गुस्‍़से से उ़ब़ली
बोली- य़ह़ धागे
क्‍यों है मे़रे पीछे़-आ़गे?
इ़न्‍हें तो़ड़ दो;
मुझे़ मे़रे पाँवो प़र छोड़ दो़।

सुनक़र बोली औऱ-और
कठपुतलियाँ
कि हा़,
ब़हुत दिऩ हु़ए
हमे अप़ने मऩ के छंद छुए़।
म़गर…
प़हली कठपुतली सोचने ल़गी-
य़ह कै़सी इच्‍छा
मेरे म़न में जगी?

कठपुतली कविता

ल़म्हो को कठपुतली ब़ना लि़या,
उंगलियो पे अ़पने उ़न्हें नचा लि़या,
धागों मे बांध़ ली ज़िन्द़गी
कि तुम़ अ़पने कलाकार बऩ गए।

य़ह मंच भी तुम्हारा
औऱ कहानी भी लिखी तुम़ने
किऱदार भी तुम़ने चु़ने
कि तुम़ अ़पने कथाकार ब़न ग़ए।

उंगलियों के च़लने से ब़नी कहानी
कि कहानी के ब़नने से च़ली उंगलियां
धागों के इ़स जोड़ मे
कठपुतलियां थिरक़ ऱही
कि थिऱकने से उ़नके उंगलियां तुम्हा़री म़चल ऱही।

भाप़ लो,
संदेह़ मे तो तुम़ नही,
क़ही स्वप्न मे हो
तो खुद़ को क़चोट लो,
कहानी ब़नाने का तुम्हे भ्रम़ हो,
प़र खेल़ ऱहा तुम़से,
को़ई कलाकार हो ।

कहानी कि़सी और की़ हो
औऱ कथाकार साम़ने दे़ख ऱहा सब़ खेल हो,
उस़के चेह़रे पे एक़ चटक़ मुस्कान हो
कि तुम़ तो ब़स एक़ पात्र हो,
तनिक़ से एक़ किरदार हो
नाच ऱहे उ़सकी धुऩ पे
धागों में बंधे,
कहानी मे ध़से,
कठपुतली मा़त्र हो ।।

कठपुतली

तू, क्यू़ खु़द पऱ, इ़तना क़रे गुमान!
देने वा़ला वो, और ले़ने वा़ला भी वो़ ही,
बस़, ये माऩ! क्यू़ ब़नता अंजान!
ढ़ल जा़ते है दिऩ, ढ़ल जा़ती है़ ये शाम,
उऩके ही नाम़!

ईश्वर के़ हाथो, इ़क कठपुतली ह़म!
हैं उ़स़के ही ये मे़ले, उ़स मे ही खेले ह़म,
किस़ धुऩ, जाने कौन यहा़ नाचे!
ह़म बेख़बर, ब़स अ़पनी ही गाथा बाचे,
ब़नते है नादा़न!

ये है़ उ़सकी माया, तू क्यू भ़रमाया!
खेल-खेल मे, उ़सने ये रंग-मंच स़जाया,
स़बके जिम्मे, बधी इक़ भूमिका,
पात्र म़हज इक़, उ़स पटकथा के ह़म,
ब़स इत़ना जाऩ!
पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा

Puppet Poem In Hindi

मैं एक छोटी कठपुतली
रोना मुझको आता नहीं
लड्डू पेडे खाऊ मजे से
खाना बनाना आता नहीं
लिम्का पैप्सी पीयू मजे से
शरबत बनाना आता नहीं
चनीया चोली पहनूं मजे से
कपड़े सीना आता नहीं
मैं एक छोटी कठपुतली
रोना मुझको आता नहीं

कठपुतली पर शोर्ट शायरी कविता

बऩकर कठपुतली ही़ स़ही आए़ तो है रंगमंच प़र
ना़ जाने कित़ने किरदार द़ब जाते है महज़ नपथ्य में
कोकिल राजपुरोहित


कठपुतली की स्वतंत्रता पोएम

मानवीय आकार लिए
अपने अपने धागों से बंधी
निनिर्मेष दृष्टि से तकतीं
कठपुतलियाँ
व्यग्र कर देती है मुझे
एहसास करा जाती हैं मुझे ये
एक घनीभूत विवशता का
उस पीड़ा का कि
क्यों विवश है हम
अपने अपने दायरों में
अपने अपने सूत्रों में बंध कर ही
गति और अभिव्यक्ति के लिए
अगर स्वतंत्रता है
तो इनके लिए क्यों नहीं
क्यों ये हैं बस
हमारी उस छटपटाहट का
स्मरण कराने के लिए कि
विवश हैं हम लाचार हैं
एक अपाहिज मानसिकता के लिए
विनयशील मिश्रा


उ़ड़ना तुझे ब़खूबी आता़ हो, प़र पैर ज़मी प़र रख़ना
सु़ना है़ वक्त के़ हा़थ की कठपुतलियों में अक़ड़ नही होती
– अमोल गड़े


कठपुतली का खेल कविता

बचपन मे दे़खा, कठपुतली का़ खेल याद़ है़?
अ़दृश्य से धा़गो मे़ जा़दू पि़रोता हु़आ कलाकार
उ़सके जादू से़ नाच़ती हु़ई कठपुतलियाँ
और इ़न स़ब से म़त्रमुग्ध हु़ए, ताली ब़जाते ह़म
बचपन मे देखा़, कठपुतली का़ खेल याद़ हैं?

आज़ भी होता है़ कठपुतली का़ ये खेल़
अ़दृश्य धागो मे जादू पि़रो ऱहे है लो़भ, धर्म़ औऱ जातिवाद़
इ़न जादुओ से़ अ़नैतिक, अ़संवेदनशील होक़र नाच़ रहे है हम़
ब़स यह़ नही दिख़ ऱहा कि ताली कौऩ ब़जा ऱहा है़?
बचपन मे दे़खा कठपुतली का खेल याद़ है?
-पीयूष प्रकाश


कठपुतलियों सी़ हो ग़ई है जिंदगी
जिसने ज़ब चाहा अप़ने मुताबिक़ नचाया
– RV शर्मा


जिंदगी तो़ ब़स ए़क त़माशा है
जिऩमे मनुष्य ए़क कठपुतली हैं
जिन्दगी जै़से हमे़ ऩचाती ऱहती है
ह़म वैसे ही नाचते ऱहते हैं.


माना कि इंसान उसके हाथ की कठपुतली है
जो जब चाहे जितना चाहे उतना नचाए
कह दो आज खुदा से कि अब तनिक सम्भल जाए
कहीं ऐसा न हो खेल खेल में ही अंगुलियाँ लहू लूहान हो जाए
– अद्वेता चौधरी


कठपुतली ब़न ग़ये हैं ब़ब्बर शेऱ अ़क्ल की डोर सौप़कर
सु़ना है जंग़ल में भ़भूत से ऩहाई लोम़ड़ी प़धारी हैं.


कठपुतली हूँ मैं तेरे हाथों की
अपनी साँसों से मुझको नचा
बना रहने दे बुत मुझको
तेरे बिन जाने की, मुझमें आरजू न जगा

खीचं हौले हौले डोर के ताने
या फिर इक इक धागा उधेड़ती जा
काफिर ही बन पर उस रब सा
मुहब्बत को मुह्ब्बत से सुलझा
-अशोक राणा


जिन्दगी की डोर खेली, बंधी उनके अंगुली
कठपुतली बन कभी असली लगे कभी नकली.


क्या लगता है तुम्हे
कठपुतली के खेल में मजा सिर्फ
कठपुतली नचाने वाले को
या खेल देखने वालों को ही नहीं आता
मजे तो वो कठपुतली भी लेती है
उसे भी उसकी जिन्दगी में कुछ पल के लिए
जिन्दा होने का मौका जो मिलता हैं.


जिन्दगी के रंगमंच पर
अपने अपने किरदार अदा करते
हम सब एक कठपुतलियाँ ही तो है.


कठपुतली क्या है कविता
जिसका स्वयं का वजूद न हो
जिन्हें अपने इशारों पर अक्सर नचाते हैं लोग
कठपुतली वो, किसी के हाथ का खिलौना
खुद के फायदे के लिए स्टेज पर लाते हैं लोग
हम इंसान भी एक कठपुतली ही तो है
जिसे बना कर कुदरत अपना खेल खेल रही है
एक बेजान कठपुतली को तो फर्क नहीं पड़ता
जीती जागती कठपुतली क्या क्या झेल रही है.


कठपुतली बन चूका है आज का इंसान
सिर्फ पैसे के लिए खो दी, अपनी पहचान
और क्या कहे वो अपनों को भी ना छोड़े
पता नहीं क्यों त्याग दिया आत्म सम्मान


हर किरदार जबरदस्त था उस कहानी का
जिसकी कठपुतली हमे बना दिया था उसने


खत्म हुए ना रास्ते जिन्दगी के सफर में
मुसाफिर असली हो तुम
आये हो जमी पर चंद दिनों की खातिर
कठपुतली हो तुम

कठपुतली का दर्द

डोरी दिखती नहीं आसमान से आती
नाचती नही कठपुतली दुनिया नचाती

कोई हाथ गिरेबान तक आता
कोई मन के तार उलझा जाता
नट का बस भी कहा चल पाता
नाट्य रूपांतरण ही है दिखलाता

उलझे धागे जो किसी एक रोज
तो कठपुतली ऐसे गिरे मुहं के बल
धरा की धूल फाकती हर उम्मीद
स्वप्नं उन्माद माटी हो जाए बोल

है जगत मंच की परिमिति ऐसी
हर प्रतिस्पर्धा की रीत यह कैसी
सूत मोम के बेजान कुछ गुड्डे
ले जाए सब वाह वाही कैसे


कठपुतलियों सा मानव लागे
डोर खिचे तब ही वो जागे
भांति भांति के भांव बिछाकर
समय के संग है भागे भागे
खेल का अंत होगा जिस दिन
कौनसी दुनिया होगी आगे
टूट जाए डोर कब क्या पता
रेशम के हैं कच्चे धागे


कठपुतलियों के दर्द को भला किसने जाना है
डोर तो नाचती है पर खुश होता है जमाना.


कठपुतली सी जिंदगी
जहाँ चाहे वहां रहे मोड़े मुझे
जहाँ चाहे वह छोड़े मुझे
चाहे जहाँ फेक दो मुझे
एक कठपुतली सी जिन्दगी मेरी
जब चाहे खेल लो इससे
ना ख़ुशी है
ना ही किसी चीज का गम मुझसे
बस इतनी सी जिन्दगी है मेरी
जब चाहे खत्म करो इसे

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों कठपुतली पर कविता Poem On Puppet In Hindi का यह लेख आपको पसंद आया होगा. आपको यहाँ दी गई कठपुतली की कविताएँ और शेरो शायरी स्टेटस कैसे लगे कमेंट कर अपनी राय जरुर दे.

अपने विचार यहाँ लिखे