विधान परिषद पर निबंध | Essay on Legislative Council in Hindi

नमस्कार आज हम विधान परिषद पर निबंध Essay on Legislative Council in Hindi पढ़ेगे. इसमें जानेगे राज्य विधायिका के पहले सदन कहे जाने वाले विधानपरिषद के बारे में, यह सदन किन राज्यों में हैं. द्विसदनात्मक राज्य शासन प्रणाली के बारे में संक्षिप्त जानकारी इस निबंध में दी गई हैं.

विधान परिषद पर निबंध Essay on Legislative Council in Hindi

विधान परिषद पर निबंध | Essay on Legislative Council in Hindi

विधायिका की द्विसदनीय प्रणाली हैं जिसमें देश की संसद में लोकसभा और राज्य सभा हैं. इसी तरह राज्यों की विधायिका में विधानसभा और विधान परिषद दो सदन हैं. वर्तमान में देश के छः राज्यों में विधान परिषद हैं.

पश्चिम बंगाल सरकार विधान परिषद की स्थापना का निर्णय लिया हैं. इसके लिए राज्य सरकार को विधानसभा में विधेयक प्रस्तुत करना होगा. गर्वनर की मंजूरी के बाद यह संसद के पास प्रस्तावित होगा.

वही वर्ष 2019 में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक के प्रकाश में आने के बाद राज्य की परिषद का दर्जा समाप्त हो गया. वर्ष 2020 में आंध्रप्रदेश विधानसभा ने विधानपरिषद को समाप्त करने के लिए प्रस्ताव पारित किया हैं, अभी तक संसद की मंजूरी बाकी हैं.

भारत में शासन की संघीय व्यवस्था को अपनाया गया है. इस संघीय ढाँचे के अनुसार भारत के प्रशासन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों का नियंत्रण एवं कानून बनाने की शक्ति संघ सरकार में निहित है. तथा इन मामलों पर कानून का निर्माण संसद करती है.

Telegram Group Join Now

स्थानीय एवं राज्य स्तर के मामलों की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है. इन मामलों पर कानून निर्माण राज्य विधानसभा करती है. राज्य की विधायी शक्ति राज्य विधानमंडल में निहित होती है. विधानसभा व विधान परिषद राज्य विधायिका के अंग है.

भारत के प्रत्येक राज्य में एक विधानमंडल है. देश के 22 राज्यों में एक सदनीय विधानमंडल यानि वहाँ विधानसभा है. जबकि 7 राज्यों में द्विसदनीय विधान परिषद है. जिनमें प्रथम सदन को निम्न सदन तथा द्वितीय सदन उच्च सदन के नाम से जाना जाता है. इसे विधान परिषद् भी कहा जाता है.

प्रत्येक राज्य का विधानमंडल राज्यपाल तथा एक दो दोनों सदनों से मिलकर बनता है. भारत के इन 7 राज्यों में द्विसदनीय विधानमंडल है- जम्मू कश्मीर, उत्तरप्रदेश, बिहार, कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश और नवगठित तेलंगाना राज्य में द्विसदनीय विधानमंडल (विधानसभा व विधान परिषद्) है.

विधान परिषद क्या है इसका अर्थ (What is the legislative council)

विधान परिषद राज्य विधानमंडल का उच्च सदन होता है. यह किसी राज्य की विधानमंडल का उच्च सदन होता है. यदि किसी राज्य की विधानसभा अपने कुल सदस्यों के पूर्ण बहुमत अथवा उपस्थित व मतदान करने वाले सदस्यों का दो तिहाई बहुमत से विधान परिषद के गठन का प्रस्ताव पारित करे तो संसद उस राज्य में विधान परिषद स्थापित कर सकती है अथवा उसका लोप कर सकती है. (संविधान के अनुच्छेद 171 के अनुसार)

विधान परिषद में सदस्यों की संख्या (Number of members in the Legislative Council)

न्यूनतम 40 व अधिकतम उस राज्य की विधानसभा के कुल सदस्यों की एक तिहाई विधान परिषद के सदस्यों का निर्वाचन आनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल संक्रमणीय मत पद्दति द्वारा किया जाता है.

विधानपरिषद के सदस्य की योग्यताएं (Qualifications of Member of Legislative Council)

  • वह भारत का नागरिक हो
  • कम से कम 30 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका हो.
  • संसद द्वारा निर्धारित अन्य योग्यताओं से युक्त हो.
  • राज्य या केंद्र सरकार में किसी लाभ के पद पर न हो.

विधान परिषद का कार्यकाल (vidhan parishad/ Legislative tenure)

विधान परिषद के प्रत्येक सदस्य का कार्यकाल 6 वर्षः का होता है. किन्तु हर दूसरे वर्ष एक तिहाई सदस्य अवकाश ग्रहण करते है, तथा उनके स्थान पर नवीन सदस्य निर्वाचित होते है. राज्यसभा की तरह विधान परिषद का भी विघटन नही होता है. यह एक स्थाई सदन है.

विधान परिषद के गत सत्र के अंतिम दिन तथा आगामी सत्र की प्रथम बैठक के लिए नियत तिथि के बिच 6 माह से अधिक का अंतर नही हो सकता.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों विधान परिषद पर निबंध Essay on Legislative Council in Hindi का यह निबंध आपको पसंद आया होगा. यदि आपको विधानपरिषद् के बारे में इस निबंध में दी जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ भी शेयर करें.

Leave a Comment