कर्म ही पूजा है पर निबंध- Work is Worship Essay in Hindi

Hello Welcome, Here We Bring For You information about Work is Worship in Hindi- Mean Short Work is Worship Essay in Hindi Language. Karm Hi Pooja Hai Par Nibandh कर्म ही पूजा है पर निबंध In 100, 200, 250, 300, 500 Words.

कर्म ही पूजा है पर निबंध- Work is Worship Essay in Hindi

कर्म ही पूजा है पर निबंध- Work is Worship Essay in Hindi

इस प्रकृति में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ प्राणी माना जाता हैं. मानव की श्रेष्ठता उसके कर्मों के कारण ही बन पाई हैं. मानव की गति व प्रगति उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं. भारतीय संस्कृति में कर्म की महत्ता दी गई हैं.

भगवद् गीता में भी कहा गया कि कर्म ही पूजा हैं. मानव बिना कर्म किये कुछ भी अर्जित नहीं कर सकता हैं. कर्म करते रहना मानव होने का प्रमाण हैं.

परिणाम अच्छे हो या बुरे उसके कर्मों पर ही निर्भर करते हैं. यदि आपके कर्म भले हैं तो निश्चय कर लो, नतीजा ही अच्छा ही होगा. यानी जैसा कर्म करोगे वैसा ही फल पाओगे.

कर्म का आशय उस कार्य से जो पूर्ण लग्न व आवश्यक क्षमता के साथ किया गया हो, यदि हम अपने कर्म में श्रद्धा को भी समा हित कर दे तो यह पूजा बन जाती है.

और इस प्रकार के समन्वित कर्म से सफलता मिलना पूर्ण निश्चित हो जाता हैं. आप और हम जो भी कार्य करे पूर्ण लग्न, इच्छा शक्ति तथा उत्साह से करे तो वह पूजा बन जाता है तथा इससे सकारात्मक नतीजे प्राप्त होती हैं.

कार्य बेहद सरल और बिना उत्साह व मन के साथ करे तो वह कर्म न होकर हमारे लिए बोझ बन जाता हैं इसकी पवित्रता व गुणवत्ता भी समाप्त हो जाती हैं.

हमें अपने नित्य कर्मों को पूजा के भाव से पूर्ण पवित्रता के साथ करना चाहिए, क्योंकि कर्म ही मानव का वह हथियार हैं जिसके दम पर वह अन्य प्राणियों से अलग हैं.

हमें अपने जीवन में कर्मों का संतुलन रखना चाहिए, सम्पूर्ण जीवन के कर्मों में अच्छे कर्म का अधिक वजन मानव को महामानव में श्रेणी में ला देता हैं.

मानव स्वभाव से हमेशा व्यस्त रहता हैं उसकी कर्मेन्द्रिया हमेशा सक्रिय रहती हैं जब हम सोचते है वह भी कर्म की पूर्व तैयारी होती हैं. इसलिए पूर्ण श्रद्धा के साथ अपने कर्म में लगे रहिये, कर्म करते रहना मानव का पहला धर्म हैं.

अगर हम समझें कि काम का असली अर्थ पूजा है, तो काम ही असली पूजा है क्योंकि बिना काम के हमारा जीवन बेकार है। यदि हम जीवन भर इसका अच्छी तरह से पालन करते हैं, तो यह सफलता, प्रगति और खुशी की कुंजी के रूप में कार्य करता है।

अगर लोग सही अर्थों में इसका अर्थ समझेंगे, तो यह निश्चित रूप से विश्व अर्थव्यवस्था के परिदृश्य को सकारात्मक रूप से बदल देगा और लोगों को जीवन में कठिन चुनौतियों का दृढ़ता से सामना करने में मदद करेगा।

हालाँकि, हम इस ग्रह पर एक साथ रहने वाले लोगों के प्रकार को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते। कामगार ईमानदारी से कमाता है, बेकार लोग दूसरों पर परजीवी आदि पर निर्भर रहते हैं।

अगर हम इसे बिना किसी काम, उद्देश्य या उद्देश्य के खर्च करते हैं तो हमारे जीवन और शरीर में जंग लग जाती है। कठिन परिश्रम ही जीवन में महानता प्राप्त करने का मार्ग है।

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों कर्म ही पूजा है पर निबंध- Work is Worship Essay in Hindi का यह निबंध आपको पसंद आया होगा. यदि आपको कर्म पर दिया यह निबंध पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें.

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *