मीडिया पर निबंध | Essay on Media in Hindi

In this article, we are providing information about Essay on Media in Hindi. मीडिया पर निबंध | Essay on Media in Hindi, Media Par nibandh class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 Students.

मीडिया पर निबंध- Essay on Media in Hindi

मीडिया पर निबंध | Essay on Media in Hindi

मीडिया पर निबंध 400 शब्द

मीडिया को भारत के लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है और मीडिया ही वह शक्ति है जो संसद, विधायिकी कार्यपालिका तथा न्यायपालिका के द्वारा जो भूल चूक की जाती है उसे लोगों के सामने लाने का प्रयास करती है और लोकतंत्र की सुरक्षा में महत्वपूर्ण किरदार अदा करती है। विभिन्न प्रकार के बड़े-बड़े घोटाले को उजागर करने में मीडिया काफी अहम किरदार निभाती है और जनता को सच के साथ वाकिफ कराती है। 

गवर्नमेंट के द्वारा जो भी योजना चलाई जाती है उन्हें जनता तक पहुंचाने के लिए मीडिया एक अहम कड़ी साबित होती है क्योंकि मीडिया ही बार बार उन खबरों के बारे में जनता को बताने का काम करती है जिससे जनता को यह पता चलता है कि गवर्नमेंट के द्वारा उनके फायदे के लिए कौन सी योजना चलाई गई है।

मीडिया के टोटल दो प्रकार है इसमें पहला प्रकार है प्रिंट मीडिया और दूसरा है इलेक्ट्रॉनिक मीडिया। प्रिंट मीडिया के अंतर्गत समाचार, साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक, पाक्षिक, पत्र और पत्रिकाएं आते हैं साथ ही दैनिक पत्रिका भी प्रिंट मीडिया के अंतर्गत आती है।

प्रिंट मीडिया के अंतर्गत खबरें हमें अखबारों के द्वारा या फिर किसी कागज पर लिखे गए माध्यम के द्वारा प्राप्त होती है, वही इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अंतर्गत खबरें हमें टीवी पर या फिर रेडियो पर सुनाई अथवा दिखाई जाती है। प्रिंट मीडिया को आगे बढ़ाने में अमर उजाला, दैनिक जागरण, हरिभूमि, संदेश, दिव्यभास्कर, दिव्य गुजरात जैसे अखबारों का महत्वपूर्ण योगदान है।

वर्तमान के समय में प्रिंट मीडिया की जगह पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया काफी कामयाब रहा है क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दुनिया भर में घटित होने वाली घटनाओं की तुरंत ही जानकारी प्रदान करती है, वही प्रिंट मीडिया के द्वारा हमें घटना घटित हो जाने के अगले दिन उस घटना की जानकारी प्राप्त होती है।

Telegram Group Join Now

इसलिए लोग इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को ज्यादा देखते हैं। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अंतर्गत हमारे भारत देश में कुछ लोकप्रिय चैनल है जिसे लोग देखना पसंद करते हैं। जैसे कि ज़ी न्यूज़, स्टार न्यूज़, एबीपी लाइव, आज तक, रिपब्लिक भारत टीवी, इंडिया टीवी, न्यूज़ नेशन, दूरदर्शन इत्यादि।

मीडिया के द्वारा ही हमें बिजनेस, सामाजिक जीवन, मनोरंजन इत्यादि के बारे में विभिन्न प्रकार की खबरें प्राप्त करने का मौका मिलता है। इसके अलावा देश और दुनिया में घटित होने वाली घटनाओं की जानकारी भी हमें मीडिया ही देती है, साथ ही लोगों तक सरकारी योजनाओं की जानकारी पहुंचे, इसके लिए भी मीडिया प्रयासरत रहती है। मीडिया हर मुद्दे से संबंधित महत्वपूर्ण कवरेज करती है और सच को उजागर करने का काम करती है

500 शब्द निबंध

प्रस्तावना–  जनतंत्र  में मीडिया का महत्वपूर्ण स्थान हैं. मीडिया को लोकतंत्र का प्रहरी तथा चौथा स्तम्भ  माना  जाता हैं. संसद, विधायिका कार्यपालिका तथा न्यायपालिका द्वारा हुई चूक को सामने लाकर वह लोकतंत्र की सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान देता हैं. मीडिया के कारण ही अनेक घोटाले उजागर होते है तथा जनता के अधिकारों की रक्षा होती हैं.

मीडिया का स्वरूप– मीडिया पत्रकारिता को कहते हैं. यधपि पत्रकारिता शब्द समाचार पत्रों से सम्बन्धित हैं किन्तु आज उसका व्यापक रूप मीडिया ही हैं. मीडिया के दो रूप हैं. एक मुद्रित या प्रिंट मिडिया तथा दूसरा इलेक्ट्रॉनिक मिडिया. मुद्रित मिडिया के अंतर्गत दैनिक समाचार पत्र, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक त्रैमासिक पत्र पत्रिकाएँ आदि आते हैं.

इनमें  समाचारों के अतिरिक्त विभिन्न घटनाओं और सामाजिक, साहित्यिक , सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनैतिक इत्यादि विषयों के   बारे में  प्रकाशित   किया जाता हैं. टेलीविजन, रेडियो, इंटरनेट आदि इलेक्ट्रानिक मीडिया के अंतर्गत ही आते हैं. आज इलेक्ट्रानिक मीडिया का प्रभाव तथा प्रसार बढने के कारण मुद्रित पत्रकारिता पिछड़ गयी हैं किन्तु उसकी आवश्यकता कम नहीं हुई हैं.

समाचार पत्रों का विकास– समाचार पत्र शब्द आज पूरी तरह से लाक्षणिक हो गया हैं. अब समाचार पत्र केवल समाचारों से पूर्ण पत्र नहीं रह गया है बल्कि यह साहित्य, राजनीति, धर्म, विज्ञानं आदि विविध विधाओं को भी अपनी कलेवर सीमा में सम्भाले चल रहा हैं. किन्तु वर्तमान स्वरूप में आते आते समाचार पत्र ने एक लम्बी यात्रा तय की हैं. भारत में अंग्रेजी शासन के साथ समाचार पत्र का आगमन हुआ. इसके विकास और प्रसार में ईसाई मिशनरियों, ईश्वरचंद्र विधासागर और राजा राममोहन राय का योगदान महत्वपूर्ण रहा.

प्रचलित पत्र पत्रिकाएँ तथा चैनल– देश के स्वतंत्र होने के पश्चात समाचार पत्रों का तीव्रता से विकास हुआ और आज कल अनेक अखिल भारतीय एवं क्षेत्रीय समाचार पत्र प्रकाशित हो रहे हैं. हिंदी भाषा में प्रकाशित होने नवभारत टाइम्स हिंदुस्तान जनसत्ता पंजाब केसरी, नवजीवन, जनयुग, राजस्थान पत्रिका, अमर उजाला, भारत, आज, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर आदि हैं. तथा अंग्रेजी में प्रकाशित टाइम्स ऑफ़ इंडिया इंडियन एक्सप्रेस हिंदुस्तान टाइम्स नार्दन इंडिया स्टेट्समैन आदि हैं. इसके  आलावा  अनेक साप्ताहिक पाक्षिक एवं मासिक पत्रिकाएँ भी प्रकाशित हो रही हैं.

इलेक्ट्रानिक मीडिया का भी खूब प्रचार हुआ हैं. दूरदर्शन के विकास में आज तक, जी न्यूज, सहारा, स्टार, सेट मेक्स इत्यादि अनेक देशी विदेशी चैनलों ने अपनी भूमिका अदा की हैं. समाचार पत्र मीडिया का एक प्रमुख अंग हैं. दूरदर्शन और रेडियो के रहते हुए भी समाचार पत्रों की व्यापकता और विश्वसनीयता बराबर बनी हुई हैं.

मीडिया का महत्व– जीवन के हर क्षेत्र के लिए आज मीडिया महत्वपूर्ण बन गया हैं. जनमत को प्रभावित करने और राजनीतिक जागरूकता बढ़ाने में उसकी भूमिका सराहनीय हैं. व्यापारिक गतिविधियों को प्रकट करना,  ग्राहक को सचेत करना,  धार्मिक और सांस्कृतिक गतिविधियों पर चर्चा करना, सामाजिक परिवर्तनों पर सही दृष्टिकोण रखना, और मनोरंजन समुचित स्थान देना तथा नवीनतम वैज्ञानिक प्रगति को प्रकाश में लाना आदि अनेक ऐसे कार्य हैं जिन्होंने मीडिया को जीवन का महत्व पूर्ण अंग बना दिया हैं.

मीडिया का दायित्व– मीडिया के जीवनव्यापी महत्व को देखते हुए उससे कुछ दायित्वों के निर्वहन की आशा भी की जाती हैं. उससे यह भी अपेक्षा हैं कि वह विश्व शान्ति और विश्व बन्धुता की भावना को प्रोत्साहित करे.

उपसंहार– पत्रकारिता को एक गौरवशाली आजीविका माना गया हैं. अतः क्षुद्र लाभों से और भयादोहन से मुक्त रहकर उसे सामाजिक नेतृत्व की महती भूमिका निभानी चाहिए. मीडिया की स्वतन्त्रता प्रजातंत्र की सुरक्षा का आधार हैं. अतः जनता और शासन दोनों को इसका सम्मान करना चाहिए.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों मीडिया पर निबंध | Essay on Media in Hindi का यह निबंध आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों यहाँ दी गयी जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

3 thoughts on “मीडिया पर निबंध | Essay on Media in Hindi”

    • हम जिस फॉण्ट का उपयोग करते हैं उसमें पूर्ण विराम नहीं है इस कारण हमें अंग्रेजी के फुल स्टॉप का उपयोग लेना पड़ता हैं.

      Reply

Leave a Comment