ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में जानकारी | About Australia Continent In Hindi

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में जानकारी | About Australia Continent In Hindi: ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड, तस्मानिया और निकटवर्ती द्वीप समूहों को मिलाकर इसे आंशेनिया भी कहा जाता है. यह विश्व का सबसे छोटा महाद्वीप है. यह पूर्णत दक्षिणी गोर्लाद्ध में स्थित है जो चारो ओर से जल से घिरा हुआ है. इसके पूर्वी भाग में महाद्वीप का सबसे लम्बा पर्वत ग्रेट डिवाइडिंग रेंज है.

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में About Australia Continent In Hindi

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में जानकारी About Australia Continent In Hindi

विश्व की सबसे लंबी मूंगा निर्मित दीवार ग्रेट बैरियर रीफ इसके पूर्वी तट के प्रशांत महासागर पर स्थित है. ऑस्ट्रेलिया के मध्यवर्ती निचले भागो में भेड़ो और मवेशियों को पाला जाता है, कंगारू यहाँ का सबसे प्रसिद्ध जीव है.

ऑस्ट्रेलिया एवं न्यूजीलैंड में ऊन के लिए विश्व प्रसिद्ध मेरिनो भेड़ पाली जाती है. ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी भाग पर विश्व का तीसरा बड़ा गर्म मरुस्थल (सहारा और अरब मरुस्थल) के बाद स्थित है.

दक्षिणी मध्य ऑस्ट्रेलिया में कालगुर्ली एवं कुलगार्डी नामक दो सोने की विश्व प्रसिद्ध खाने है. मर्रे डार्लिंग यहाँ की दो प्रमुख नदियाँ है.

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के देश (countries in australia Continent)

इस महाद्वीप के देशों के नाम इस प्रकार है- ऑस्ट्रेलिया, फिजी, किरिबाती, न्यूजीलैंड, मार्शल द्वीप, माइक्रोनेशिया, नॉरू, पलाऊ,पापुआ न्यू गिनीआ, सामोआ, सोलोमन आइलैंड्स, टोंगा, टुवालू, वानातू

ऑस्ट्रेलिया के बारे में तथ्य Australia Continent in HINDI

  • ऑस्ट्रेलिया एकमात्र दुनिया का ऐसा देश है, जो अपने आप में महाद्वीप भी है जिनके अंतर्गत कई देश आते है.
  • यह दुनिया का छठा बड़ा मुल्क है इसका क्षेत्रफल भारत के क्षेत्रफल से दो गुना से कुछ अधिक है. ऑस्ट्रेलिया का क्षेत्रफल 73 लाख वर्ग किमी है.
  • ऑस्ट्रेलिया दुनिया की सबसे बड़ी 12वीं अर्थव्यवस्था है, प्रति व्यक्ति आय के पेरामीटर पर विश्व में इसका चौथा स्थान है.
  • मेलबोर्न शहर को खेलों की राजधानी कहा जाता है, यहाँ के लोग खेल के बेहद शौकीन होते है हफ्ते में एक बार कोई खेल अवश्य खेलते है.
  • मानवीय विकास सूचकांक में ऑस्ट्रेलिया दुसरे पायदान पर है.
  • इस महाद्वीप में समुद्री मार्गो का जाल हैं, एक व्यक्ति इन सभी को देखना चाहे तो जीवन के 30 वर्ष निकल जाएगे.
  • ऑस्ट्रेलिया वही महाद्वीप है, जहाँ मानव ने सबसे पहले बसना शुरू किया था.
  • यहाँ के विक्टोरिया शहर में हर कोई विद्युत बल्ब नही बदल सकता इसके लिए उन्हें विशेष प्रकार के लाइसेंस की जरुरत पडती है.
  • इस महाद्वीप में एक अजीबोगरीब नदी है जिसका नाम नेवर नेवर रिवर है.
  • इस महाद्वीप की प्लेट एक साल में 7 सेंटीमीटर नार्थ की ओर खिसक जाती है.
  • तक़रीबन 8 हजार छोटे छोटे जलीय द्वीप इस महाद्वीप को घेरे हुए है.
  • इस देश का राष्ट्रीय पशु कंगारू है, ऑस्ट्रेलिया को कंगारुओं का देश भी कहा जाता है, इनकी संख्या यहाँ की जनसंख्या से भी अधिक है. ऊंट भी बड़ी संख्या में यहाँ पाले जाते है.

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप का परिचय Important GK Facts About Australia In Hindi

संपूर्ण सात महाद्वीप है। सातों महाद्वीपों में जनसंख्या और क्षेत्रफल दोनों दृष्टि से देखें तो ऑस्ट्रेलिया सबसे छोटा महाद्वीप है । ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप की खोज का श्रेय जेम्स कुक को दिया जाता है जेम्स कुक ने इस महाद्वीप का नाम न्यूहोलैंड रखा था ।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप को द्वीपीय महाद्वीप कहा जाता है क्योंकि यह चारों ओर से जल से घिरा हुआ है। इसे प्यासी भूमि का महादेश भी कहा जाता है।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में एक और रोचक तथ्य यह है कि यह स्थिर भूखंड का भाग है अर्थात ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप जिस प्लेट पर बसा हुआ है वह गति नहीं कर रही। एक लंबे समय से ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप पर किसी भी प्रकार की ज्वालामुखी नहीं देखी गई है।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के दक्षिण पूर्व में न्यूजीलैंड तथा तस्मानिया स्थित है। इसके पूर्व में प्रशांत महासागर है वहीं पश्चिम में हिंद महासागर स्थित है।

इसके उत्तर में महिला ने किया और उसके ऊपर माइक्रोनेशिया स्थित है। माइक्रोनेशिया के दक्षिण पूर्व में पोलिनेशिया स्थित है इन सभी द्वीपों के समूह को ओसेनिया कहा जाता है।

मकर रेखा ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप को दो भागों में विभाजित करती है। ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप की अधिकांश आबादी यूरोपियन लोगों की है यहां के मूल निवासियों को  अबरोविजनल कहा जाता है जो कुल आबादी के 10% है।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के मुख्य भूभाग को तीन भागों में बांटा जाता है.

1. ग्रेट डिवाइडिंग रेंज

ऑस्ट्रेलिया की उच्च भूमि जिसका विस्तार उत्तर में कैपमार्क प्रायद्वीप से विक्टोरिया और बांस जलसंधि तक है। ऑस्ट्रेलिया की प्रमुख नदियां मरे तथा डार्लिंग इसी पर्वत श्रेणी से निकलती है। यह पर्वत श्रेणी जल विभाजक रेखा भी कहलाती है

2. मध्यवर्ती मैदान

ग्रेट डिवाइडिंग रेंज से निकलने वाली मरे तथा डार्लिंग नदियों के द्वारा इस मैदान का निर्माण किया जाता है जिससे यहां की मिट्टी उपजाऊ है। इसी मैदान में स्थित एयरसील ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप की सबसे गहरी झील है इसकी गहराई समुद्र तल से 12 मीटर है। मध्यवर्ती मैदान को दो भागों में बांटा जाता है उत्तरी मैदान तथा दक्षिणी मैदान।

3. पश्चिमी पठार भूमि

प्रीकैंब्रियन काल में निर्मित इस बुक भाग में कई मरुस्थल स्थित है। जैसे ग्रेट सैंडी तथा विक्टोरिया

ग्रेट विक्टोरिया ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप का सबसे बड़ा मरुस्थल है इसमें स्थित दो सोने की खाने विश्व प्रसिद्ध है। यह क्षेत्र शुष्क है क्योंकि यहां पर वर्षा बहुत कम मात्रा में होती है।

ऑस्ट्रेलियन सड़कों को कॉमनवेल्थ कहा जाता है। ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप में मेरिनो भेड़ भाई जाती है जो सर्वश्रेष्ठ ऊन देने के लिए जानी जाती है.

ऑस्ट्रेलिया के शीतोष्ण कटिबंधीय घास के मैदानों को डाउंस तथा न्यूजीलैंड में स्थित शीतोष्ण कटिबंधीय घास के मैदानों को कैटरबरी कहा जाता है. ऑस्ट्रेलिया को तस्मानिया से अलग बांस जलसंधि करती है वही उतरी न्यूजीलैंड और दक्षिणी न्यूजीलैंड के बीच कुक जलसंधि स्थित है.

न्यूजीलैंड को दक्षिण का ग्रेट ब्रिटेन भी कहा जाता है इसकी खोज 1769 ईस्वी में की गई थी यह 1931 में ब्रिटेन से आजाद हुआ . न्यूजीलैंड की सबसे प्रमुख पर्वत श्रेणी आल्पस है जिस की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट कुक है जिसकी ऊंचाई 3754 मीटर है.

पापुआ न्यू गिनी द्वीप ऑस्ट्रेलिया से टॉरेंस जल संधि के द्वारा अलग होता है यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा द्वीप है।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप का प्रमुख रेल मार्ग ग्रेट ऑस्ट्रेलियन है यह हिंद महासागर के समुद्र पतन नगर तक को प्रशांत महासागर की समुद्र पतन से जोड़ता है।

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के प्रमुख तटवर्ती नगरों में ब्रिसबेन सिडनी कैनबरा मेलबॉर्न एडिलेड तथा पर्थ है जहां क्रिकेट के मैदान भी है.

यह भी पढ़े

ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बारे में जानकारी | About Australia Continent In Hindi के बारे में दी गई information आपकों अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करे.

अपने विचार यहाँ लिखे