प्रकृति का महत्व पर निबंध | Essay On Importance Of Nature In Hindi

प्रकृति का महत्व पर निबंध Essay On Importance Of Nature In Hindi संसार में वैसे तो सात ग्रह है फिर पृथ्वी पर ही जीवन संभव क्यों? इसी सवाल से हम प्रकृति के महत्व (About Nature In Hindi) को समझ सकते हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रकृति केवल पृथ्वी पर ही मेहरबान है इसका असली एवं सम्पूर्ण स्वरूप केवल धरती पर ही विद्यमान हैं. आज के Nature Importance Essay अर्थात प्रकृति का महत्व पर निबंध में हम यही जानेगे कि प्रकृति क्या है मानव और प्रकृति एक दूसरे के मित्र कैसे तथा ब्यूटी ऑफ नेचर.

प्रकृति का महत्व पर निबंध Essay On Importance Of Nature In Hindi

प्रकृति का महत्व पर निबंध Essay On Importance Of Nature In Hindi

प्रकृति बेहद विस्तृत है. पंचतत्व जल, वायु, अग्नि, आकाश, जल आदि समस्त तत्वों से मिलकर इसका निर्माण होता हैं. मनुष्य इसका मात्र एक छोटा सा अंश भर हैं.

मानव जीवन पूर्ण रूप से प्रकृति पर अधीर है उसे जीवन को सही ढंग से जीने के लिए इन पंचतत्वों के साथ समायोजन करने की आवश्यकता हैं तभी वह सुखी जीवन जी सकेगा.

प्रकृति के महत्व और इसके रहस्य क्या है उसकों समझना बेहद मुश्किल है मगर असम्भव जैसी कोई बात नहीं हैं. यदि जानने की प्रबल इच्छा हो तो प्रकृति के बारे में सब कुछ जाना जा सकता हैं. मगर इसके लिए प्रकृति के सानिध्य की आवश्यकता होगी.

उसके रूप सुंदरता आकार स्वरूप को समझना होगा तथा एक नन्हे बालक भी भांति अंगुली पकड़कर प्रकृति की गोद में बैठकर ही हम इसके महत्व तथा रहस्य को भली भांति समझ सकते है इसका ज्ञान अर्जित कर सकते हैं.

प्रकृति पर निबंध

यदि हम अपने आस-पास की प्रकृति को देखने की कोशिश करे तो हम पाएगे इसका अलग अलग स्वरूप हमें चारों तरफ से घेरे हुए हैं. कही विशालकाय पर्वत है तो कहीं कल कल बहती नदियाँ तो कही घने जंगल है तो कही सुनसान मरु भूमि.

इसका कुछ भाग बर्फ की परतों से दबा पड़ा है तो कहीं सूरज की तपन से जीव जगत परेशान हैं. कुल मिलाकर हम यह जानने की कोशिश करे कि प्रकृति का है इसका अर्थ परिभाषा क्या हैं. तो हम पाएगे कि यह कोई एक वस्तु न होकर बेहद सारे स्वरूपों का समावेश हैं जिसमें सभी जैविक तथा अजैविक तत्व विद्यमान हैं.

प्रकृति की यह विविधता ही उसकी सुंदरता को नया रूप देती हैं. जल, वायु पेड़ पौधे वन पर्वत वन्य जीव पेड़ पौधे ये समस्त मिलकर ही प्रकृति का निर्माण करते हैं. रंग बिरंगे फूलों से लदी वादियों कल कल करती नदियों तथा झरनों का नजारा किसे नहीं भाता.

ये सभी ही प्रकृति का रूप हैं हम अपने मन मस्तिष्क के तनाव को दूर करने के लिए इसी प्रकृति की गोदी में ही तो आते हैं. जहाँ से स्वस्थ मन और ताजे वातावरण की यादों के साथ लौट जाते हैं.

प्रकृति और मनुष्य पर निबंध

प्रकृति पूर्ण रूप से मनुष्य के लिए वरदान ही हैं. जिसने मानव जीवन के लिए सम्पूर्ण संसाधन बिना किसी शुल्क के उपभोग करने के लिए प्रदान किये हैं.

अपने स्वार्थी मन के वशीभूत मानव ने प्रकृति का उपयोग अपने अधिकाधिक विकास के लिए किया यहाँ तक तो ठीक है मगर अपने निजी हितों के लिए वह कुदरत प्रदत्त संसाधनों का इस कदर इस्त्मोल करने लगा है जिससे प्रकृति का संतुलन भी डगमगा गया हैं. यही वजह है कि हमें प्रकृति का अभिशाप तथा वीभत्स रूप भी देखने को मिलता हैं.

ये सब मनुष्यजनित कारण ही है जिन्होंने आज जल वायु का संतुलन बिगाड़ कर रख दिया है तथा वह विकास की अंधी होड़ में यह भी भूल गया है कि वह अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार रहा हैं. आधुनिकता के जमाने ने प्रकृति की सुंदरता को समाप्त कर अपने विकास के राह खोजने आरम्भ कर दिए हैं.

आदिकाल में मानव पूर्ण रूप से प्रकृति पर आश्रित था. वह प्रकृति के साथ खेल खेलने से भयभीत रहता था. कुछ सामाजिक धार्मिक कानूनों की वजह से ही सही प्रकृति को पूज्य माना जाता था इसके विविध स्वरूपों को देवता मानकर उन्हें पूजा जाता था.

बदलते वक्त में मनुष्य ने अपने मानसिक विकास को भी बढाया तथा आज उन्हें लगता है नेचर अर्थात ईश्वर नाम की कोई चीज नहीं हैं. जो कुछ उन्हें दिख रहा है उस पर उन्ही का हक है तथा वह मनचाहे तरीके से इसका उपयोग कर सकता हैं. उसकी यही गलतफहमी उसे अपने पतन की तरफ धकेल रही हैं.

यही वजह है कि आज हम कई जगहों पर प्रकृति का रूठा हुआ स्वरूप देखते है बेमौसम बारिश, सर्दी गर्मी का स्तर खत्म हो चूका है. ऋतुओं का समय तथा अवधि में अंतर् आ जाना.

जहाँ अकाल पड़ा करते थे वहां बाढ़ के हालात पैदा हो जाते है ये सब मनुष्य की बढ़ती लालस और अपने स्वार्थ के कारण प्रकृति के दोहन का ही परिणाम हैं.

जीवन में प्रकृति का महत्व बहुत बड़ा है सूर्य, जल, पेड़ पौधे हवा, भोजन इत्यादि हमारी प्राथमिक आवश्यकताएं है जो कुदरत के विभिन्न स्रोतों के माध्यम से हमें मिलती है और हमें इसके उपयोग का सर्वाधिकार न होकर अपने हिस्से के उपयोग का हैं.

यदि अपने संतुलित विकास के लिए इनका उपयोग किया जाए तो संभवतः हम प्रकृति की रक्षा भी कर पाएगे तथा एक खुशहाल जीवन जी पाएगे.

प्रकृति के संदेश पर निबंध

एक समय था जब मानव अपने आरम्भिक काल में जीवन जीने के लिए संघर्ष कर रहा था. प्रकृति के साथ उनके सामजस्य ने उनके ज्ञान नेत्र खोल दिए वह नया नया ज्ञान पाने लगा.

उसने पेड़ों की छाल व पत्तों का त्याग कर अपने लिए वस्त्रों का निर्माण किया. अन्धकार से जीवन को बाहर निकालने के लिए रोशनी का आविष्कार किया.

पेड़ों को उगाना अनाज फल सब्जियां फिर सवारी के लिए पशुओं का उपयोग धातु का आविष्कार यंत्रों का निर्माण और इस तरह व प्रकृति की छत्रछाया में अपने ज्ञान को फलीभूत करता गया और नयें नयें साधनों के जरिये अपने जीवन के स्तर को बढाता गया.

मनुष्य के द्वारा इन तमाम नई चीजों के आविष्कार की जननी प्रकृति ही थी. वे समस्त साधन उसी के आस-पास मौजूद थे. इसी कारण कहा जाता है कि प्रकृति ही सबसे बड़ी गुरु है उनकी गोद में बैठकर जो ज्ञान पाया जा सकता है वो किसी विद्वान् के पास भी नहीं होता हैं.

प्राचीन समय में ऋषि मुनि तथा साधू तपस्या तथा ज्ञानार्जन के लिए वनों में ही अपनी कुटिया बनाकर रहा करते थे. प्रकृति के बीच रहकर ही वे सत्य की प्राप्ति कर पाते थे. शिक्षा के मुख्य स्रोत गुरुकुल भी जंगलों में ही हुआ करते थे. कवियों तथा कथाकारों के ह्रदय ने काव्य का भाव जगाने वाली यही प्रकृति हैं.

जब तक मानव प्रकृति के सानिध्य में रहा वह उनके रहस्यों को जानता गया. मगर आज हमने प्रकृति को अपनी दासी बना दिया है जो हमारी सभी जरूरतों को पूरा करे मगर अपने इस अमर्यादित आचरण के चलते आज कुदरत का अनुशासन भी भंग हो रहा हैं. जिसका नतीजा हम सभी के समक्ष है.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा, यदि आपकों प्रकृति पर निबंध & Essay On Importance Of Nature In Hindi में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *