खेलकूद का महत्व पर निबंध Importance Of Games And Sports Essay In English And Hindi

नमस्कार दोस्तों आज का निबंध खेलकूद का महत्व पर निबंध Importance Of Games And Sports Essay In English And Hindi पर दिया गया हैं. सरल भाषा में विद्यार्थी जीवन में खेलों के महत्व पर दिया गया हैं. आसान भाषा में गेम्स के महत्व का निबंध स्टूडेंट्स के लिए हिंदी व अंग्रेजी भाषा में दिया गया हैं.

खेलकूद का महत्व पर निबंध Importance Of Games And Sports Essay In English And Hindi

खेलकूद का महत्व पर निबंध Importance Of Games And Sports Essay In English And Hindi

health is Wealth. A healthy body is a home to a healthy brain. You have heard this saying many times. Sports & games a big role in keeping the person physically and mentally healthy.

In this Importance Of Games And Sports Essay, we are discussing Importance Of Games in students and our life. why should we have to play games, what the effect on our lives, what is Importance Of Games?.

in Hindi language readers use this paragraph as “khelo ka mahatva par nibandh” Khelkud ka mahatva. so let’s start this.

our life Importance Of Games And Sports Essay In English

Games and sports are very useful for the body. the human body needs exercise to keep fit. so games and sports are an important part of education.

they are helpful in developing the physique and mind of the student. a sound body possesses a sound mind. if we are physically weak, we can not have the fertile brain.

games and sports keep us healthy. they keep us active, makes us smart and alert.

more bookish knowledge is useful. it does not lead to the proper development of personality. all work and no play makes jack dull boy. mere studies would not suffice.

merely sports won’t do. the two should be blended in a suitable proportion. both are essential for a wholesome personality.

games and sports give a sense of duty of loyalty. in every game, there are two teams. one win and another loses.

the winners and the losers should take the victory and defeat alike. both of parties should greet each other heartily after the game.

secondly, games and sports teach us discipline. it is a chief quality of a person. it is quality which makes a character. thirdly, games broaden our outlook. the players always play with the best spirit of a good player.

they need have no bias. there is no question of nationality, caste, creed or color. thus games and sports promote international brotherhood and affection amongst the people of the world. they promote world peace too.

games and sports teach the spirit of sportsmanship. sportsmanship teaches cooperation, team spirit, and proper behavior. they are beneficial to the public also. when matches are played, spectators enjoy it.

radio and tv have increased the number of people taking interest in games. radio commentaries and live relay on television entertain the people all over the world.

in short, games and sports have great value in student’s life. the sports arena develops his mental outlook. cheerful nature, a sense of humor and strong physique. these are the important traits of a successful life.

खेलों के महत्व पर निबंध (Importance Of Games And Sports Essay In Hindi)

खेल कूद शरीर के लिए बहुत उपयोगी हैं। मानव शरीर को फिट रखने के लिए अभ्यास की जरूरत है। इसलिए खेल कूद शिक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

यह विद्यार्थी के शरीर और दिमाग को विकसित करने में कारगर हैं। एक व्यक्ति के पास अच्छा शरीर है तो उसके पास एक अच्छा दिमाग भी है।

अगर हम शारीरिक रूप से कमज़ोर हैं, तो हमारे पास जागरूक मस्तिष्क नहीं हो सकता है। खेल कूद हमें स्वस्थ रखते हैं। हमें सक्रिय रखते हैं, हमें स्मार्ट और सतर्क बनाते है।

अधिक किताबों का ज्ञान जीवन के लिए उपयोगी है. मगर अच्छे व्यक्तित्व के निर्माण के लिए इतना पर्याप्त नही है. अच्छा व्यक्तित्व बनाने के लिए खेल जरुरी होते है, मात्र किताबी ज्ञान व अध्ययन से ऐसा संभव नही है.

पुरे दिन खेलते रहना भी अधिक अच्छा नही है. हमारी दिनचर्या में एक संतुलन होना चाहिए. जिनमें पढ़ने व अन्य कार्य करने के साथ साथ खेल कूद के लिए भी पर्याप्त वक्त होना चाहिए. क्योंकि एक व्यक्ति के लिए जितना जरुरी अन्य कार्य होते है, उतना खेल भी जरुरी है.

एक अच्छा खेल व्यक्ति में वफादारी व अपने कर्तव्य के प्रति जागरूक रहने के गुणों का विकास करता है. जब दो टीम के मध्य एक मुकाबला होता है. तो निश्चित रूप से उसमें एक ही टीम को विजय मिलती है, तथा एक को हार का सामना करना पड़ता है.

खेल हमें हार व जीत दोनों को एक ही तरह लेने की सीख देते है. हमें जितना जीत में प्रसन्न होना चाहिए, उतना ही हार को स्वीकार करने का गुण होना चाहिए.

दूसरी बात, खेल कूद हमें अनुशासन सिखाते हैं। यह एक व्यक्ति की अहम गुण होता है। साथ ही यह गुण हमारे चरित्र को एक नया रूप देता है. खेलों का तीसरा फायदा यह है कि, खेल हमारे दृष्टिकोण को विस्तृत करते हैं। खिलाड़ी हमेशा एक अच्छे खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ भावना के साथ खेलना चाहिए।

एक खेल खिलाड़ी किसी तरह के पूर्वाग्रह से मुक्त रहता है। राष्ट्रीयता, जाति, पंथ या रंग की दूरियां खेल खत्म कर देते है। इस प्रकार खेल-कूद दुनिया के लोगों के बीच अंतरराष्ट्रीय भाईचारे और स्नेह को बढ़ावा देते हैं। तथा विश्व शांति को भी बढ़ावा देते हैं।

खेल कौशल की भावना सिखाते हैं। खेल कौशल सहयोग, टीम भावना, और उचित व्यवहार सिखाता है। वे आम जनता के लिए भी फायदेमंद हैं। जब मैच खेले जाते हैं, दर्शक इसका आनंद लेते हैं।

रेडियो और टीवी ने गेम में रुचि लेने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि की है। टेलीविजन पर रेडियो कमेंट्रीज और लाइव रिले दुनिया भर के लोगों का मनोरंजन करते हैं।

संक्षेप में, खेल कूद का विद्यार्थी के जीवन में बहुत महत्व है। खेल क्षेत्र उनके मानसिक दृष्टिकोण विकसित करता है। हंसमुख प्रकृति, विनोद और मजबूत शरीर खेलों से ही विकसित होते है. । ये एक सफल जीवन के महत्वपूर्ण लक्षण हैं।

विद्यार्थी जीवन में खेलों का महत्व Essay on Importance of Games in Hindi

खेल कूद हर व्यक्ति के जीवन का एक अहम हिस्सा है, जिस तरह पढ़ना, कमाना और वक्त पर खाना हमारी सेहत एवं जीवन के लिए आवश्यक है, ठीक उसी प्रकार खेलों की उपयोगिता भी एक विद्यार्थी के जीवन में अति महत्वपूर्ण है.

शरीर में तंदुरस्ती लाने के साथ साथ खेल मानसिक रूप से भी परिपक्व बनाते है. Importance of Games के इस निबन्ध में हम स्टूडेंट लाइफ में गेम्स के महत्व पर सक्षिप्त में प्रकाश डालेगे.

‘पढोगे लिखोगे ,बनोगे नवाब .खेलोगे कूदोगे होगे खराब .’वयोवर्द्ध लोग बच्चों को प्राय ;इस प्रकार की उक्तियाँ सुनाया करते है. उनका आशय यही होता है कि बालक खेलें नहीं ,वे सदा पढ़ने में ही लगे रहे उनका यह सोचना उचित नहीं है.

बालक के विकास के लिए खेलना भी उतना ही आवश्यक है जितना कि पढ़ना.

खेलकूद का महत्व (Importance of sports)

क्रीडा एक स्वाभाविक प्रक्रिया है .मर्गो की कुलांचें ,वानरों की उछलकूद कुत्तों की किलोलें यदि क्रीडा के ही विभिन्न रूप नहीं तो क्या है. वायु में हिलती हुई कोमल कलियाँ भी क्रीडा करती हुई सी प्रतीत होती है .वे वस्तुत खेलते -खेलते ही खिलती है.

चिड़ियाघर अथवा सर्कस के कठघरों में केद सिंहों ,व्यघ्रों आदि के लिए भरपेट भोजन और भरपेट विश्राम मिलता है. किन्तु वे दुर्बल और निस्तेज से दिखते है. ऐसा क्यों उन्हें जंगल में घूमने वाले पशुओं के समान उछल -कूद की सुविधा जो नहीं मिलती.

स्वास्थ्य और खेलकूद

खेलकूद का स्वास्थ्य से सीधा सम्बन्ध है .खेलते समय हम श्वास के द्वारा ऑक्सीजन अधिक ग्रहण करते है .इससे रक्त की शुद्धी होती है .खेल के समय पसीने के माध्यम से शरीर के दूषित तत्व बाहर निकल जाते है

.खेलने से पाचन -शक्ति तीव्र होती है और भूख अच्छी लगती है शरीर सदेव हल्का और फुर्तीला रहने के कारण हर समय आनद का अनुभव होता है .

शिक्षा और खेलकूद अंग्रेजी में अक कहावत है SOUND MIND in a SOUND BOBI अर्थात स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है. शिक्षा केवल पढ़ने लिखने को नही, अपितु व्यक्ति के बहुमुखी विकास को कहते है. भला शरीर के विकास की उपेक्षा करके इस लक्ष्य की प्राप्ति कैसे हो सकती है?

खेल मनोरंजन का ही एक साधन है, खेलकूद अध्ययन से थके हुए मस्तिष्क को विश्राम देते है. अब तो कुछ विषयों की शिक्षा खेलों के माध्यम से दी जाने लगी है.

खेलों के लाभ (Benefits of sports)

खेल हमे अनुशासन की व्यवहारिक शिक्षा देते है. खेलकूद हमे आपसी प्रेम और भाईचारे की शिक्षा देते है, खेल में सभी खिलाड़ी प्रेम और सहयोग की भावना से खेलते है. वहां हार भी आनन्ददायक होती है और जीत भी, इसलिए खिलाड़ी न कभी हताश होता है और न ही अहंकारी.

आज सारे संसार में खेलों की धूम मची हुई है. युवा वर्ग के लिए खेलों के प्रति आकर्षण किसी दीवानगी से कम नही है. खेलकूद में भाग लेना या उनमे रूचि रखना बुरी बात नही है.

किन्तु शिक्षा के मूल्य पर खेलों को महत्व देना बुद्दिमता नही कही जा सकती. अतः छात्रों को अध्ययन में बाधा न डालकर खेलों में अवश्य भाग लेना चाहिए.

Essay on Importance of Games in Hindi Language | खेलकूद का महत्व पर निबंध

इंसान का मस्तिष्क सभी जीवों तथा प्राणियों में श्रेष्ठ माना गया हैं. उसने अपने दिमाग के बल बूते पर ही सम्पूर्ण पृथ्वी को अपने अधिकार में करने में सफलता अर्जित की हैं. अपने इस मुकाम तक पहुचने के उनके प्रयास अभी भी जारी है.

स्वस्थ मस्तिष्क ही विकास का परचम लहरा सकता है तथा मस्तिष्क के विकास में खेलों का बड़ा महत्व हैं. यह कहावत सत्य है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ दिमाग का वास होता हैं. अतः व्यक्ति को शरीरिक तथा मानसिक रूप से पूर्ण चुस्त रहने के लिए नियमित खेल खेलने चाहिए तथा व्यायाम करना चाहिए.

खेल और व्यायाम हमारे शरीर के शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं. खेलकूद तथा स्वस्थ जीवन के सामजस्य तथा आपसी सम्बन्धों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि स्वस्थ जीवन के लिए खेल बेहद जरुरी हैं.

आज के खेलकूद पर निबंध में बच्चों के लिए सरल भाषा में खेलों के महत्व पर छोटे अनुच्छेद पेरोग्राफ में निबंध (एस्से) उपलब्ध करवा रहे हैं. जिन्हें आप 100, 200, 250, 300, 400, 500 शब्दों में एस्से ओन इम्पोर्टेंस ऑफ़ गेम्स एंड स्पोर्ट्स यहाँ दिया गया हैं.

Short Essay On Importance Of Games In Hindi Language

खेल खेलने के कई सारे फायदे है. इनसे न सिर्फ शरीर की हड्डियों तथा मांसपेशियों को मजबूती मिलती हैं बल्कि शरीर में रक्त का संचार भी उचित तरीके से होता हैं.

शरीर की पाचन क्षमता को बढाने में खेलों का बड़ा योगदान हैं. खेलकूद से शरीर में अतिरिक्त प्राणवायु मिलती हैं. जिसके कारण फेफड़ों को मजबूती मिलती हैं.

खेल में शरीर के विभिन्न अंग सुचारू रूप से चलते है जिसके कारण उनमें सक्रियता बढ जाती हैं. शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा मिलता हैं. इस प्रकार खेल न सिर्फ व्यक्ति की फिजिकल देलोपमेंट के लिए जरुरी है बल्कि मानसिक फिटनेस में भी खेलकूद का बड़ा योगदान हैं.

व्यक्ति को मानसिक उद्देल्नाओं तथा समस्याओं से निपटने की क्षमता खेलों से ही मिलती हैं. पूज्य स्वामी विवेकानन्द जी ने खेलकूद के महत्व को प्रतिपादित करते हुए कहा था कि यदि आप गीता के रहस्य को समझना चाहते है तो खेल के मैदान में जाओ और फुटबॉल खेलो.

उनके कहने का अर्थ यह था कि व्यक्ति द्वारा खेलों को खेलने से उनमें मानसिक क्षमता का विकास होता हैं. प्लेटों ने खेलों के महत्व के सम्बन्ध में कहा था कि बच्चें को सजा देकर नियंत्रित करने की बजाय उन्हें खेलों के माध्यम में कंट्रोल में लेना अधिक सरल हैं.

जीवन के हर पडाव में खेलों का बड़ा महत्व है चाहे वह बाल्यावस्था हो या किशोरावस्था या युवावस्था. बाल्यवस्था में खेलकूद का अधिक महत्व होता है क्योंकि उम्रः के इस दौर में बच्चें का शारीरिक एवं मानसिक विकास अन्य आयु सीमा की तुलना में बेहद तीव्र गति से होता हैं.

बच्चे की ऊर्जा तथा शक्ति का सही उपयोग खेलों के माध्यम से ही संभव हैं. यदि उसे बाल्यकाल से ही खेलों में रूचि है तो यह सभव है कि वह अपने खाली समय का उपयोग गलत कार्यों में करने की बजाय उसे खेलकूद में ही व्यतीत करेगा.

हरेक शिक्ष्ण संस्थान में खेल की पर्याप्त व्यव्स्थाए इसी उद्देश्य से की जाती है ताकि बच्चा खाली समय को खेल में व्यतीत कर बुरे कार्यों की ओर प्रवृत ना हो उसे उसके लिए वक्त ही ना मिले.

खेलकूद से जीवन में कई गुणों का विकास होता हैं. संयम, द्रढ़ता, गंभीरता, एकाग्रता, सहयोग, टीम भावना तथा सबसे महत्वपूर्ण अनुशासन की शिक्षा बच्चों को खेलों में ही मिल सकती हैं. खेल की हार जीत बच्चे को जीवन में उत्साह तथा निराशाओं के मध्य संतुलन बनाने के लिए बहुत अच्छे तरीके से तैयार करती हैं.

एक समय बच्चों को खेलों से दूर रखने के लिए एक कहावत चलन में हुआ करती थी कि पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब खेलोगे कूदोगे तो होंगे खराब. आज यह बिलकुल भी प्रासंगिक नजर नही आता हैं. देशभर में लाखों होनहार खिलाड़ियों के लिए खेल उनके जीवन में रोजगार एवं शोहरत का कारण भी बना हैं.

देश दुनियां में आज खेलों की लाखों प्रतियोगिताएं होती है जिनमें भाग लेने वाले खिलाड़ियों को पद और पैसे दोनों की प्राप्ति होती हैं. भारत में खेलों को धर्म से बढकर सम्मान मिलता हैं.

एक खेल के खिलाड़ी के सुपर स्टार के तौर पर माना जा हैं. देश भर में खेलों को बढ़ावा देने के लिए स्कूल स्तर से राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर तक कई संस्थाएं बनी हुई हैं.

खेलों के दो प्रकार होते है इनडोर तथा आउटडोर. लोगों की ऐसी धारणा बनी हुई है कि आउटडोर गेम्स जैसे हॉकी, क्रिकेट, कबड्डी, बैडमिंटन जैसे खेल ही शारीरिक तथा मानसिक विकास के द्योतक है.

जबकि इनडोर गेम्स जैसे शतरंज, ताश, लूडो जैसे खेल केवल समय की बर्बादी है, ऐसा सोचना गलत है क्योंकि इन खेलों में सर्वाधिक मानसिक परिपवक्ता आती है तथा ये हर समय मस्तिष्क को व्यस्त रखने में कारगर होते हैं.

जिस तरह जीवन में हम शिक्षा को महत्वपूर्ण मानते हैं ठीक उसी तरह खेलकूद का भी जीवन तथा इसके अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक अंग हैं. दिनभर के काम की थकान के बाद खेल ही है जो व्यक्ति के मनोरंजन के साधन बनते हैं.

इसलिए हमें अपने डेली रूटीन में खेलों को भी शामिल करना चाहिए तथा अवकाश के समय का सदुपयोग खेल में करने के अतिरिक्त कोई अच्छा विकल्प नहीं हो सकता हैं.

Essay On Importance Of Sports In Our Life In Hindi | जीवन में खेलों का महत्व पर निबंध

स्वस्थ शरीर में जीवन का आनंद निहित माना गया है. यदि शरीर रोगों का घर है तो वह व्यक्ति कभी आनंद की प्राप्ति नही कर सकता है. इसके लिए जरुरी है तन के साथ साथ हमारा मन भी स्वस्थ रहे.

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम योगासन तथा खेलों का बड़ा महत्व है. जीवन में ख़ुशी तथा आनंद के भंडार की प्राप्ति के लिए खेलों का महत्वपूर्ण स्थान है.

खेलों का महत्व- हमारी शिक्षा पद्दति में अन्य विषयों के साथ ही खेलकूद का भी समावेश किया गया है. वस्तुतः खेल मनोरंजन एवं शक्ति के भंडार है. खेलों से खिलाड़ियों का शरीर स्वस्थ तथा मजबूत रहता है. उनके शरीर में सुस्ती स्फूर्ति तथा ताकत आती है.

खेल खेलने से शरीर हल्का फुलका बन जाता है. पाचन क्रिया तेज हो जाती है, हड्डियाँ मजबूत हो जाती है तथा मानसिक विकास होता है. पसीना बाहर निकलने से अंदर का मल निकल जाता है और मन प्रत्येक काम में रमने लगता है.

खेलों में भाग लेने से मानसिक तनाव कम हो जाता है. बुद्दि प्रखर बन जाती है और शरीर में रोंग निरोधक क्षमता आ जाती है. इस प्रकार खेलों से हमें बहुत सारे स्वास्थ्य से जुड़े लाभ/फायदे है.

खेलों से व्यक्तित्व निर्माण (Personality building games)

विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में खेलकूद की सुविधाएं इसलिए उपलब्ध करवाई जाती है, ताकि युवकों के शारीरिक एवं मानसिक व्यक्तित्व का निर्माण हो सके. स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मन में स्वस्थ आत्मा निवास करती है.

खेलों में भाग लेने से जहाँ शारीरिक क्षमता में वृद्धि होती है. वहां व्यक्ति के चरित्र का भी निर्माण होता है. वह अन्याय, शोषण, उत्पीड़न एवं अनाचार का द्रढ़ता से मुकाबला कर सकता है.

महापुरुषों के जीवन पर प्रकाश डाले तो स्वामी विवेकानन्द, महाराणा प्रताप, अर्जुन, श्रीराम, श्रीकृष्ण आदि शक्तिशाली थे. वे किसी न किसी प्रकार की शारीरिक विद्या एवं कौशल में अग्रणी थे.

इसी कारण वे यशस्वी बने. अस्वस्थ व्यक्ति तो स्वयं के लिए बोझ होता है. अतएवं स्वस्थ व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास के लिए खेलों का विशेष महत्व है.

खेल भावना का विकास (The development of sports spirit)

खेलों में भाग लेने से ऐसी भावना का विकास होता है जिससे आदमी सुख और दुःख में एक समान रहता है. खेल भावना के कारण ही जीत हार को सहजता के साथ लिया जाता है.

तथा परस्पर मैत्री भावना का विकास होता है. खेलों में ओजस्वी तथा उद्दात भाव के साथ सहजता का गुण आ जाता है.प्रतिस्पर्धा बढ़ने से लक्ष्य प्राप्ति करने की भावना बढ़ती है.

हमारे जीवन में खेलों का विशेष महत्व है. मानसिक एवं शारीरिक विकास संतुलित होता है. इसी बात को ध्यान में रखकर विद्यार्थी खेल कूद एवं व्यायाम आदि का शिक्षण प्रशिक्षण दिया जाता है.

व्यक्तिगत जीवन से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक खेलों से जो लाभ मिलता है, उससे खेलों का महत्व स्वत ज्ञात हो जाता है.

यह भी पढ़े

आशा है, खेलकूद का महत्व पर निबंध Importance Of Games And Sports Essay In English And Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. इस निबंध में दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने मित्रों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *