शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए Poem On Education In Hindi

शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए Poem On Education In Hindi: शिक्षा जीवन में ज्ञान का  उजाला  देती  हैं निरक्षर जीवन को अभिशाप माना गया हैं. short and sweet poem on education में हम शिक्षा पर कविता जानेगे. और कविता के माध्यम से समझने की कोशिश करेगे कि शिक्षा क्या है शिक्षा का जीवन में महत्व क्या है तो चलिए आरम्भ करते हैं.

Poem On Education In Hindi (शिक्षा पर कविता)

शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए Poem On Education In Hindi

Hindi Poem on Importance of Child Education: शिक्षा को जीवन का आधार व गहना माना गया हैं. एक कहावत तो आपने सुनी ही होगी, अनपढ़ व्यक्ति के लिए काला अक्षर भैंस बराबर. अतः हमें भी अपने जीवन में निरक्षर नहीं रहना हैं बड़े होकर कुछ बनने के सपने साकार करने है तो शिक्षा जरुरी हैं क्यों पढिये इन कुछ कविताओं को.

शिक्षा की पहचान

शिक्षा सरोवर का रस पीने वाला है सर्वोतम,
इसको ग्रहण करने वाला बन जाता है उत्तम,

गुरुजानो की शिक्षा की बात है जिसने मानी,
इसके रस को पीने वाला बन जाता है ज्ञानी,

शिक्षा के मध्यम से आज पहूँचे हम चाँद पर,
इसके जरीये बनाया गया कुश्ती मैदान सागर पर,

औषधि, जल, हवा, खतरनाक गैसों का बोध कराती,
स्वस्थ, अच्छा खाना, कसरत करने का पाठ पढाती,

कभी ख्वाब देखते थे हम आसमान में उड़ने का,
आज ज्ञान से दम रखते हैं हम मंगल पर रहने का,

ये कभी ना ख़तम होने वाली है हमारी धरोहर,
डॉक्टर, इंजीनियर, उद्योगपति ये हैं इसकी मोहर,

शिक्षा दृढ़ संकल्प, समर्पण, त्याग करना सिखाती है,
जीवन में क्या गलत क्या सही का पाठ पढ़ाती है,

आओ करें संकल्प अपने को ज्ञानी बनाएंगे,
अपने भारत को सोने की चिड़िया सा चमकायेंगे,

By:Aruna Gupta

शिक्षा की पहचान kavita

शिक्षा का बोध

शिक्षा किसी घड़े को भरने जैसा नहीं है,
यह तो अग्नि प्रज्ज्वलित करने जैसा है।

शिक्षा माँ की एक गोंद के सामान निर्मल,
इसमें हमारे सपने पनपते पल-पल,

शिक्षा उज्ज्वल भविष्य के प्रकाश की ज्योति,
पुरस्कृत करके जीवन में रंग भर देती,

शिक्षा सुख समृद्धि का ईश्वरीय भंडार,
शैक्षिक महानता के लिए आसान उपहार,

यह हमें समृद्धि के मार्ग पर ले जाती ,
हमारे कल को एक अच्छी सुरक्षा देती ,

हमारी सोच को एक अलग रूप देती,
हमारी सारी अज्ञानता को दूर भगा देती,

भविष्य की कमाई में मदद करवाने वाली,
हमारे असली चरित्र को आकार देने वाली,

किताबी ज्ञान के बारे में सिखलाती,
व्यावहारिक ज्ञान का बोध करवाती,

सही और गलत के बीच का भेद कराती,
एक सीढ़ी जो हमें उस ऊंचाई तक ले जाती है,

जहाँ मिल जाये शिक्षा ग्रहण करलो वहीँ से,
कब कहाँ काम आ जाये करो इस्तेमाल वहीँ पे,

By:Aruna Gupta

शिक्षा कविता, Shiksha Poem In Hindi

आओं एक-जुटकर होकर सब,
एक शिक्षित समाज बनाएं,
संकुचित विचारों वाली मानसिकता को,
सबके मन से मिटायें।

धर्म-जाति का मेल मिटे सब,
बस मानव धर्म हो सर्वपरि,
जिससे हो सके समाज में,
एक नई चेतना और जागृति।

शिक्षित कर विचारों को सबके,
मनुष्यता का पाठ पढ़ाकर,
आओ सब मिलकर फिर से,
अपना कर्तव्य निभाएं।

ऐसे करे जागरूक सबको,
जिससे समाज में हो परिवर्तन,
शुद्ध, सुदृढ़ मानसिकता के संग,
एक नए विश्व का पर्दापण।

एक नए स्वप्न को पूरा करने,
एक नया जागरण लाने को,
आओं एक संकल्प उठाकर,
आगे कदम बढ़ाए।

short poem on education in hindi

अधकार को दूर कर जो प्रकाश फैला दे
बुझी हुई आश मे विश्वास जो जगा दे
जब लगे नामुमकिन कोई भी चीज
उसे मुमकिन बनाने की राह जो दिखा दे वो है शिक्षा
हो जो कोई असभ्य, उसे सभ्यता का पाठ पढ़ा दे..
अज्ञानी के मन में, जो ज्ञान का दीप जला दे..
हर दर्द की दवा जो बता दे.. वो है शिक्षा
वस्तु की सही उपयोगिता जो समझाए
दुर्गम मार्ग को सरल जो बनाए
चकाचौंध और वास्तविकता में अन्तर जो दिखाए
जो ना होगा शिक्षित समाज हमारा
मुश्किल हो जाएगा सबका गुजारा।।
इसानियत और पशुता के बीच का अन्तर है शिक्षा..
शाति, सुकून और खुशियों का जन्तर है शिक्षा
भेदभाव, छुआछुत और अधविश्वास दुर भगाने का मन्तर है शिक्षा
जहाँ भी जली शिक्षा की चिंगारी
नकारात्मकता वहा से हारी
जिस समाज में हों शिक्षित सभी नर-नारी
सफलता-समृद्धि खुद बने उनके पुजारी।।
इसलिए आओ शिक्षा का महत्व समझे हम
आओ पूरे मानव समाज को शिक्षित करें हम ||

शिक्षा का जादू तभी सर चढकर बोलेगा जब हम अपने शिक्षकों (Teachers) का आदर सत्कार करेगे समय पर स्कूल जाएगे तभी हमारे मन के अन्धकार को ज्ञान के उजाले में बदल पाएगे. शिक्षा के महत्व आवश्यकता पर एक और हिन्दी कविता आपके लिए प्रस्तुत हैं.

Poem About Education in Hindi, Poem on School in Hindi

ज्ञान का भंडार हैं जहां।
इससे बेहतर जगह है कहां।।
पुस्तकों की यहां कमी नहीं।
ज्ञान की जहां अल्पता नहीं।।
गुरु का साथ है यहां।
मेरा विद्यालय से बेहतर विद्यालय है कहांं।।
ज्ञान का मंदिर है ये।
मेरे लिए जन्नत है ये।।
दोस्तों का साथ यहां।
जिंदगी का आनंद यहां मिला।।
यहां आकर ऐसा लगता।
जैसे देख लिया हो काला सपना।।
बच्चों के लिए है कोई जेल जैसा।
अपने लिए है जिंदगी का बड़ा कोना।।
शिक्षकों की डांट मिलती।
जिंदगी हमेशा कुछ नया सिखाती।।
रोज का वो लड़ाई झगड़ा।
फिर से एक हो जाना।।
कोई स्कूल जाने से डरता।
तो किसी की इच्छा नहीं होती।।
हर रोज कुछ नया सिखाता।
ऐसा है मेरा विद्यालय।।

बालिका शिक्षा पर कविता Girl Education Poem In Hindi

बहुत ज़रूरी होती शिक्षा,
सारे अवगुण धोती शिक्षा.
चाहे जितना पढ़ ले हम पर,
कभी न पूरी होती शिक्षा.
शिक्षा पाकर ही बनते है,
नेता, अफ़सर शिक्षक.
वैज्ञानिक, यत्री व्यापारी,
या साधारण रक्षक.
कर्तव्यों का बोध कराती,
अधिकारो का ज्ञान.
शिक्षा से ही मिल सकता है,
सर्वोपरि सम्मान.
बुद्धिहीन को बुद्धि देती,
अज्ञानी को ज्ञान.
शिक्षा से ही बन सकता है,
भारत देश महान.

क्यों शिक्षा प्राप्त करे बालिका शिक्षा तथा महिला शिक्षा आज के समय की महत्ती आवश्यकता क्यों हैं. इस कविता के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया गया हैं कि गर्ल एजुकेशन क्यों जरुरी हैं. आशा करते हैं यह हिन्दी कविता आपकों पसंद आई होगी.

ऐसी कोई करें पढ़ाई

ऐसी कोई करें पढ़ाई,, जिससे कोई ना जी चुराए ।
नई-नई हों बातें उसमें, सारी बातें मन को भाएँ ।।

बोझ हमें क्यों लगे पढ़ाई, मन कभी भी टिक ना पाए।
कितना कुछ भी याद करें हम, फुर्र से गायब हो जाए ।।

दे कोई ऐसा ज्ञान हमें भी, मन की गाँठें खुलती जाएँ।
जिज्ञासा हो शान्त सभी की, भीतर का तम मिटता जाए ।।

मिलकर ऐसी करें पढ़ाई, सबका मन ललचाता जाए ।
फिर कुछ करेंगे जग की खातिर, सबका घर रोशन हो जाए ।।

Shiksha Par Kavita In Hindi| शिक्षा पर कविता हिंदी

शिक्षा एक ऐसी पूँजी जो कोई बाँट ना पाएगा
नहीं पड़ेंगा जो कोई बालक जीवन भर पछताएगा
चला गया जो स्वर्णिम अवसर लौट कभी ना आएगा
देख नौकरी साथी की तू भौचक्का रह जाएगा
नहीं

पूरी दुनिया घूम सकोगे यह विस्वास दिलाता हूँ
लक्ष आज तुम एक बनाओ यही बात समझाता हूँ
कल पर कोई काम न डालो प्लान धरा रह जाएगा
एक क़दम जो आगे आया ओह आगे बढ़ता जाएगा
नहीं

WhatsApp और Facebook के चक्कर में ना तुम आना
चैटिंग और twitter का सारा खेल चला है मनमाना
मात पिता के क़र्ज़ को क्या तू यू में ही झुठलायेगा
नहीं

एज़ेड होम में मा को रख कर सुखी नहीं रह पाएगा
घर में बूढ़ी माँ की आँखे ख़ुशी से नम हो जाएगी
बहन ख़ुशी से नाचेगी और लिपट गले से जाएगी
और पिता जी का सीना छप्पन इंची हो जाएगा

जिस दिन बेटा कामयाब हो कर अफ़सर बन जाएगा
कुंभकरन की तरह ना सोना कोई जगा ना पाएगा
शिक्षा एक ऐसी पूँजी जो कोई बाँट ना पाएगा
नहीं पड़ेंगा जो कोई बालक जीवन भर पछताएगा
नहीं- कवि रामकृष्ण गुप्ता

महिला शिक्षा पर कविता Poem On Women Education In Hindi

उठो चलो सब करे पढ़ाई
यही असली धन है भाई
क ख ग घ सब वर्ण रट लो
अंग्रेज़ी के ए बी सी डी से निपट लो
गुनाह भाग जोड़ सब सीख लो
मेहनत करो न भीख लो
चाहे बनो डॉक्टर इंजीनियर या प्रोफेसर
या करो अपना व्यापार
पढ़ाई का ही ज्ञान है
जो लगाएगा तुमको पार
बढ़ोगे अागे जब होगी सग पढ़ाई
इसके सिवा कुछ काम न आई

अनुष्का सूरी जी की महिला शिक्षा के महत्व पर दी गयी यह कविता उनके फेसबुक वाल से ली हैं. शिक्षा के संदेश को जन जन तक प्रसारित करने में इस तरह की प्रेरक कविताएँ बेहद कारगर हो सकती हैं. आप भी बाल शिक्षा की कविता को पढ़े तथा उन्हें अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे ताकि सभी बालक अनिवार्य निशुल्क शिक्षा के अधिकार के तहत शिक्षा हासिल कर सके.

जीवन में शिक्षा व सफलता Poems About Education And Success

आओ बच्चो हाथ मिलाए
शिक्षा का अभियान चलाये
भारत के कोने कोने से
निरक्षरता का भान मिटाये
सब को हमे समझाना है
शिक्षा का महत्व बताना है
बूढ़े बच्चे हो या जवान
सब को साक्षर बनाना है

साक्षरता है रोशन दान
नही कर सकता कोई अपमान
इस के बल पर ही बनते है
डॉक्टर इजीनियर वैज्ञानिक महान
अच्छी शिक्षा अच्छा ज्ञान
ऊची सोहरत मान सम्मान
ठाठ बाट जीवन का यान
शिक्षा है इसका निदान

निरक्षरता (Illiteracy) के अभिशाप को मिटाने के लिए साक्षरता/शिक्षा का व्यापक प्रचार प्रसार किया  जाना चाहिए, शिक्षा से ही जीवन की परम ऊँचाइयों को प्राप्त किया  जा सकता हैं. एक साक्षर व्यक्ति न केवल   अपनी आजीविका के साधन आसानी से जुटा सकता हैं बल्कि उसे समाज में यथेष्टं  सम्मान  भी मिलता हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए Poem On Education In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यहाँ हमने Education Poem साझा की हैं. लेख में दी जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ भी साझा करे.

One comment

अपने विचार यहाँ लिखे