कोरोना पर शायरी | Shayari On Corona In Hindi

कोरोना पर शायरी Shayari On Corona In Hindi Coronavirus Covid 19 Par Hindi Shayari Poetry Kavita Poem Funny Coronavirus Jokes In Hindi

विगत एक डेढ़ साल से मानव जाति कोरोना महामारी के चंगुल से आजाद नहीं हो पाई हैं. लोगों की जिंदगियां आए दिन जा रही हैं. डोक्टर सिस्टम सब कुछ तबाह हो चूका हैं. श्मशानो में लाशों को जलाने और दफनाने की जगह तक नहीं मिल रही हैं कोरोना के आगे किसी का बस नहीं चल पाया हैं. हम सभी अपने भारत और पूरी दुनिया के लोगों के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं. वे जल्द इस जंग को जीतकर आए. कोरोना पर शायरी में कुछ लेखकों द्वारा साझा की गई हिन्दू उर्दू शायरी का कलेक्शन आपके लिए लेकर आए हैं. महामारी के इस दौर में शेरो शायरी यकीनन किसी को पसंद नहीं आएगी. परन्तु जिन लोगों ने इस वबा को अपने शब्दों में सिमेटा हैं उन्हें आपके सम्मुख प्रस्तुत कर रहे हैं. इस दानव बीमारी पर आप भी अपने शब्दों में शायरी लिखकर किसी अपने प्रिय को याद करते हुए कमेंट में पोस्ट अवश्य करें.

Shayari On Corona In Hindi

 Shayari On Corona In Hindi

Corona Shayari In Hindi

राह में उनसे मुलाक़ात हो गई
जिससे डरते थे वही बात हो गई

कोरोना पर हिंदी शायरी
दूर हो जाता है अपना चेहरा अपने हाथ से
मुकम्मल होती है वबा के दिनों में तन्हाई

हिंदी में कोरोना वायरस पर हिंदी
कोरोना बोले हाथ मिलाना छोड़ो
दूर से करो हाय हाय
वर्ना जिंदगी से प्यारे तुम्हारा
कर दूंगा बाय बाय

कोरोना के ऊपर शायरी
पास नहीं आइये
हाथ ना लगाइये
किजिए नजारा दूर दूर से
कीजिए इशारा दूर दूर से

दो लाइन कोरोना की शायरी
ये शहरों का सन्नाटा
बता रहा है
इंसान ने कुदरत को
नाराज बहुत किया हैं.

Shayari On Corona Crisis
कहाँ है वो मुल्क
जो डराते थे अपनी ताकत से
बेबस ही तो लग रहे है
एक कोरोना वायरस से

Shayari On Corona In Urdu

आज तक बनते रहे हैं जो हमारे ज़ामिन
उन से हम हाथ मिलाने से भी महरूम रहे
- जगदीश प्रकाश

कोरोना को हराना है

अजनबी रंग छलकता हो अगर आँखों से
उन से फिर हाथ मिलाने की ज़रूरत क्या है
- नदीम गुल्लानी

घर में रहना है

वक़्त के साथ 'सदा' बदले तअल्लुक़ कितने
तब गले मिलते थे अब हाथ मिलाया न गया
- सदा अम्बालवी

उर्दू शायरी 2021

वो वक़्त का जहाज़ था करता लिहाज़ क्या
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया
- हफ़ीज़ मेरठी

लॉकडाउन शायरी

वो कौन था जो हाथ मिला कर निकल गया
बरपा हिसार-ए-जिस्म में कोहराम क्यूँ हुआ
- हमदम कशमीरी

अच्छा वक्त भी आएगा

मेरी बर्बादी में था हाथ कोई पोशीदा
उस ने जब हाथ मिलाया तो मुझे याद आया
- हैरत फ़र्रुख़ाबादी

कोरोना से जंग लड़नी है

दुनिया तो हम से हाथ मिलाने को आई थी
हम ने ही एतिबार दोबारा नहीं किया
- अंबरीन हसीब अंबर

कोरोनावायरस शायरी इन हिंदी

आज तक बनते रहे हैं जो हमारे ज़ामिन
उन से हम हाथ मिलाने से भी महरूम रहे
- जगदीश प्रकाश

दो गज दूरी मास्क है जरूरी

अजनबी रंग छलकता हो अगर आँखों से
उन से फिर हाथ मिलाने की ज़रूरत क्या है
- नदीम गुल्लानी

कोरोना की उर्दू शायरी

वक़्त के साथ 'सदा' बदले तअल्लुक़ कितने
तब गले मिलते थे अब हाथ मिलाया न गया
- सदा अम्बालवी

कोरोना की बीमारी पर शायरी

वो वक़्त का जहाज़ था करता लिहाज़ क्या
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया
- हफ़ीज़ मेरठी

घर पर ही रहना

वो कौन था जो हाथ मिला कर निकल गया
बरपा हिसार-ए-जिस्म में कोहराम क्यूँ हुआ
- हमदम कशमीरी

हैरत फ़र्रुख़ाबादी

मेरी बर्बादी में था हाथ कोई पोशीदा
उस ने जब हाथ मिलाया तो मुझे याद आया

अंबरीन हसीब अंबर

दुनिया तो हम से हाथ मिलाने को आई थी
हम ने ही एतिबार दोबारा नहीं किया

Shayari On Coronavirus Covid 19 In Hindi

दोस्तों अच्छा वक्त भी आएगा. एक दिन ये महामारी हमारे हौसलों के आगे परास्त हो जाएगी. तब तक यह लड़ाई हमें लड़नी है अपने घरों में रहे अपने परिवार का ख्याल रखे. कोविड ने लाखों परिवार उजाड़ दिए हैं. वक्त रहते हम नहीं सम्भले तो आखिर हानि हमारी ही हैं. सरकारों के लिए एक इंसान मरने पर महज एक आंकड़ा ही होती हैं. परन्तु जिनके घर से किसी की मृत्यु होती हैं तो वह घर टूट जाता हैं. प्लीज सभी अपने घरों में रहे. अपना बचाव करें मास्क पहनकर रखे जरूरी हो तब ही घर से बाहर जाए.

कोरोना की ये शायरी स्टेटस अवश्य ही हमें कुछ न कुछ सिखाते हैं. हमें वक्त की नजाकत को समझते हुए महामारी को हराना हैं. पेश हैं आपके लिए कुछ और मजेदार कोरोना वायरस पर लिखी हुई हिंदी की शायरियाँ. जो कोरोना शायरी आपकों अच्छी लगी यानी एक अच्छा सोशल मेसेज देने वाली हो उन्हें अपने सोशल मिडिया अकाउंट पर जरुर शेयर करें. यह समय घर पर बैठकर अपनों का साथ देने का हैं.

Corona Shayari Sandesh In Hindi

पहुँच गई है गिनती लाखों में
इसे करोड़ो मत होने दो
रुक जाओ अपने घरों में
वतन को राख मत होने दो

Corona Ki Shayari

यूँ मायूस ना हो
तू जिन्दगी से प्यारे
ये बुरा वक्त भी
महज कुछ दिन की बात है

Corona Par Shayari

कोरोना को हम भगाकर रहेगे
जिन्दगी को हम बचाकर रहेगे
वक्त बुरा हो सकता है
जिन्दगी नहीं यारों

Positive Corona Shayari

बहुत गुरुर था लोगों को अपनी
शौहरत और दौलत पर
एक वायरस क्या आया शहर
के शहर वीरान हो गये

कोविड पर शायरी

बीतता वक्त खुद को खुद से मिलवा रहा है
ये हर पल अपने वजूद का एहसास दिला रहा है
कुछ चंद चीजों में भी जीवन गुजर सकता है,
ये यकीन दिला रहा है
बीतता वक्त खुद को खुद से मिलवा रहा हैं

Coronavirus Shayari In Hindi

घबराया तो यहाँ हर एक परिंदा है
लेकिन जो घर में रह सका वही जिंदा है.

कुछ लम्हों की लापरवाही में
जिन्दगी भर का रोना हो गया
सोचते रहे वो इश्क का बुखार है
और ग़ालिब को कोरोना हो गया

कोरोना का खौफ नहीं
मुझे अपने आप पर यकीन है
मुझे रहना है सोशल डिस्टेंस में यारो
जब तक आती नहीं कोई तगड़ी वैक्सीन है

खाली सड़के देखकर
मन में उठा सवाल है
जो सडकों पर ही बसते थे
उन लोगों का क्या हाल है

मेरा कत्ल करने की उनकी साजिश तो देखो
पास से गुजरे तो मास्क हटा के छींक दिया

Best Shayari For Corona Warriors
छोड़ दिया है लिखना हमनें
अपनी डायरी में
दिमाग लग गया है अब तो
कोरोना वायरस की दर्द ए शायरी में
Best Shayari On Corona In Hindi
बिछ गई है जगह जगह लाछे
अब नहीं रहा दिलों में सब्र
ना जाने कब बिछेगी
इस कोरोना की कब्र
Comedy Shayari Coronavirus
करोड़ो की भीड़ में कोरोना
मुठीभर लोग ही फैलाते हैं
वही लोग बचते हैं इस महामारी से
जो भीड़ में नहीं जाते हैं.

इस बीमारी ने हमें बहुत कुछ सिखाया हैं. मनुष्य कितनी भी प्रगति क्यों न कर ले व कभी कुदरत को नहीं जीत पाएगा. विश्व के बड़े से बड़े चिकित्सा सम्पन्न देशों की व्यवस्थाओं की साँसे टूट गई. सरकारे बेबस नजर आई. जीवन थम गया. लोग घरों में बंद हो गये. जिन जंगली जानवरों को भगाकर मानव ने शहर बसाएं आज के सूने पड़े हैं केवल जानवर ही घूम रहे हैं. जब जान पार आती हैं तो अपने भी साथ नहीं देते हैं.

गरीब तो बेचारा आम हालातों में ही मारा जाता हैं इस महामारी ने भी कमर तोड़ी पर आधी रोटी खाकर सोने का दर्द तो अमीर ने भी देखा. पैसे के दम पर सब कुछ पाने वालों के घमंड को निस्तानाबुत होते दुनियां ने देखा हैं. जो प्रदूषण दिन रात बढ़ रहा था अब सब कुछ ढप पड़ गया हैं. सैनिक, मजदूर और किसान आज भी अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं. हमारे हेल्थ वर्कर अपनी जान की परवाह किये बगैर लोगों के जीवन को बचाने की भरसक कोशिश कर रहे हैं. हम सभी का दायित्व हैं घरों में रहे तथा सरकार की ओर से जारी दिशा निर्देशों का पालन करें. अपनी बारी आने आने पर वैक्सीन अवश्य लगाएं.

Corona Aur Ishq Shayari
आँखों में मंजिले थी
गिरे और सम्भलते रहे
कोरोना में कहा दम था
डोक्टर महामारी में इलाज करते रहे
Corona Awareness Shayari In Hindi
जवानी के दिन चमकीले हो गये
हुस्न के तेवर अब नुकीले हो गये
हम कोरन्टीन में रह गये कोरोना के चक्कर में
और उधर उसके हाथ पीले हो गये
Corona Birthday Shayari
अर्ज किया है
हर चमकती चीज हीरा नहीं होती
और हर छींक कोरोना नहीं होती
Corona Birthday Wishes Shayari
अर्ज किया है
तेरे इश्क में कोरोना हो जाऊ
तू मुझे छू ले मैं तेरा हो जाऊ
Corona Dialogue Shayari

चीन चाहे कुछ भी कर ले
चाहे फैला दे चारो ओर कोरोना
हम सब हिन्दुस्तानियों ने हर जंग लड़ के जीता है
साथ मिलकर कोरोना की जंग में भी जाना

Corona Doctor Ke Liye Shayari

जीत जाएगें हम अगर हम सब संग है
घर में रहकर कोरोना से लड़ने की ये जंग है

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों कोरोना पर शायरी Shayari On Corona In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों कोरोना शायरी का यह कलेक्शन पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *