सिंचाई के तरीके व साधन- Methods Of Irrigation In India In Hindi

types, sources, traditional, well water, tubewell, major Methods Of Irrigation In India In Hindi- सिंचाई के तरीके व साधन

भारत में अधिकतर कृषि मानसूनी वर्षा पर आधारित हैं. कृषि क्षेत्रफल के बड़े भाग पर कृत्रिम तरीकों से फसलों को पानी देकर फसल उगाने का कार्य किया जाता हैं. अधिकतर सूखे तथा जल की कमी वाले क्षेत्रों में कुँए, तालाब, नहर एवं ट्यूबवेल के जरिये कृषि में जल की आवश्यकता को पूरा किया जाता हैं. जो कृषि अपनी जल आवश्यकताओं के लिए पूरी तरह वर्षा पर निर्भर करती है उसे वर्षा-आधारित कृषि कहा जाता हैं. सिंचाई पद्धति से की जाने वाली खेती को कृत्रिम अथवा सिंचाई आधारित कृषि कहा जाता हैं.

major Methods Of Irrigation In India- सिंचाई के तरीके

types, sources, traditional, well water, tubewell, major Methods Of Irrigation In India In Hindi- सिंचाई के तरीके व साधन

सिंचाई का महत्व व आवश्यकता (Importance and requirement of irrigation)-

जीवित रहने के लिए प्रत्येक जीव को जल की आवश्यकता होती हैं. पौधों के फूल, फल एवं बीज की वृद्धि एवं परिवर्धन के लिए जल का विशेष महत्व हैं. पौधों की जड़ों द्वारा जल का अवशोषण होता हैं. पौधों में लगभग 90% जल होता हैं. जल आवश्यक हैं, क्योंकि बीजों का अंकुरण शुष्क स्थति में नही हो सकता.

जल में घुले हुए पोषकों का स्थानातरण पौधे के प्रत्येक भाग में होता हैं. यह फसल की पाले एवं गर्म हवा से रक्षा करता हैं. स्वस्थ फसल की वृद्धि के लिए खेत में नियमित रूप से जल देना आवश्यक हैं. विभिन्न अंतराल पर खेत में जल देना सिंचाई कहलाता हैं. सिंचाई का समय एवं बारम्बारता फसलों, मिट्टी एवं ऋतु के अनुसार भिन्न भिन्न होती हैं. गर्मी में पानी देने की बारम्बारता अपेक्षाकृत अधिक होती हैं.

सिंचाई के स्रोत (Sources of irrigation)

कुँए, नलकूप, तालाब, झील, नदियाँ, बाँध, नहर आदि जल के स्रोत हैं. कुओं, झीलों एवं नहरों में उपलब्ध जल को खेतों तक पहुचाने के तरीके भिन्न क्षेत्रों में भिन्न भिन्न हैं.

इन विधियों में मवेशी अथवा मजदूर किए जाते हैं. ये सस्ते हैं, परन्तु काम में दक्ष हैं. विभिन्न पारम्परिक तरीके (Traditional methods) निम्न हैं.

  • मोट (घिरनी)
  • चैन पम्प
  • ढेकली
  • रहट (उतोलक)

जल को ऊपर खीचने के लिए सामान्यत पम्प का उपयोग किया जाता हैं. पम्प चलाने के लिए डीजल, बायोगैस, विद्युत् एवं सौर ऊर्जा का उपयोग किया जाता हैं.

सिंचाई की आधुनिक विधियाँ (Modern methods of irrigation)

सिंचाई की आधुनिक विधियों द्वारा हम जल का उपयोग मितव्ययता से कर सकते हैं, ये विधियाँ निम्न हैं.

  • छिड़काव तंत्र (Sprinkler System)– इस विधि का उपयोग असमतल भूमि के लिए किया जाता हैं. जहाँ पर जल कम मात्रा में उपलब्ध होता हैं. उधर्व पाइपों के उपरी सिरों पर घूमने वाले नोजल लगे होते हैं. ये पाइप निश्चित दूरी पर एक मुख्य पाइप से जुड़े होते हैं. जब पाइप की सहायता से जल उपरी पाइप में भेजा जाता हैं तो वह घूमते हुए नोजल से बाहर निकालता हैं. इसका छिड़काव पौधों पर इस प्रकार होता हैं, जैसे वर्षा हो रही हो.
  • ड्रिप तंत्र (Drip System)- इस विधि में जल बूंद बूंद कर पौधों की जड़ों में गिरता हैं. अतः इसे ड्रिप तंत्र कहते हैं. फलीदार पौधों, बगीचों एवं वृक्षों को पानी देने का यह सर्वोत्तम तरीका हैं. इससे पौधों को बूंद बूंद करके जल प्राप्त होता हैं. इस विधि से जल व्यर्थ नही होता हैं. अतः यह जल की कमी वाले क्षेत्रों के लिए एक वरदान हैं.
  • कटवाँ या तोड़ विधि (Cut or break method)- यह सिंचाई का परम्परागत तरीका हैं, इसमें नहर अथवा तलाब के जल को खेत में एक नाले के द्वारा जोड़ा जाता हैं. मुख्य रूप से धान की फसलों में इस विधि का अधिक उपयोग किया जाता हैं. इस पद्धति में प्रवाहित जल अबाधित रूप से ढ़लान के अनुसार बहकर चला जाता हैं. इस विधि से जल का अपव्यय अधिक मात्रा में होता हैं.
  • थाला विधि (Lease method)- यह भी परम्परागत विधि हैं, जिसमें मुख्य से बागवानी अथवा वृक्षों को पानी देने के लिए इसका उपयोग किया जाता हैं. पेड़ के चारों ओर गोल अथवा चोकोर आकृति का घेरा (गड्डा) बनाया जाता हैं. उस गड्डे में जल को प्रवाहित कर भर दिया जाता हैं. जब पेड़ छोटा होता हैं तो गड्डा भी छोटे आकार का बनाया जाता हैं, पेड़ के बढ़ने के साथ साथ इस गड्डे के आकार को भी बढ़ा दिया जाता हैं.

READ MORE:-

Please Note :- अगर आपको हमारे Methods Of Irrigation In India In Hindi अच्छे लगे तो जरुर हमें Facebook और Whatsapp Status पर Share कीजिये.

Note:- लेख अच्छा लगा हो तो कमेंट करना मत भूले. These Methods Of Irrigation In India used on:- सिंचाई के तरीके व साधन इन हिंदी, the traditional method of irrigation, sources of irrigation in India, different types of irrigation methods.

प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *