Hijra Kaisa Hota Hai | हिजड़ा / किन्नर के जननांग

Hijra Kaisa Hota Hai: हिजड़ा / किन्नर के जननांग लोग इंटरनेट पर तरह तरह की जानकारियाँ फैक्ट्स खोजते है हमे भी मिला एक सवाल हिजड़ा कैसे होता है, किन्नर कौन क्या और कैसे होते हैं. बड़ा रोचक सवाल हैं. दरअसल जब हम लिंग यानि जेंडर की बात करते है तो हमारे सामने दो ही नाम आते मेल फिमेल मगर प्रकृति में तीसरी श्रेणी के इंसान भी है जिनमें नर और मादा दोनों के अल्प गुण पाए जाते है जिन्हें अक्सर किन्नर, हिजड़ा या ट्रांसजेंडर के नाम से जाना जाता हैं. आपकी भी इस सम्बन्ध में जानने की जिज्ञासा होगी कि  Hijra Kya Hota है. चलिए जानते हैं.Hijra Kaisa Hota Hai | हिजड़ा / किन्नर के जननांग

Hijra Kaisa Hota Hai | हिजड़ा / किन्नर के जननांग

चित्र देखकर भ्रमित मत होइए. हिजड़ा लोग ब्च्चे को जन्म नहीं दे सकते हैं. इनके जन्म से लेकर मृत्यु तक जननांग एक ही जैसे होते हैं. अर्थात सामान्य मनुष्य की तरह जननांग में परिपक्वता जैसी कोई विशेषता इनमें नहीं पाई जाती हैं. भारत में इस समुदाय के लोगों की संख्या काफी अधिक हैं. किन्नर लोग आम तौर पे साधारण लोगों से अलग जीते है उनकी मान्यताएं व रीती रिवाज भी अलग होते हैं.

किन्नर जन्म क्यों लेते हैं अथवा हिजड़ा कैसे होता हैं इस सम्बन्ध में हजारों साल बाद भी पता नहीं लगाया जा सका हैं. थर्ड जेंडर के जन्म को लेकर हिन्दू धर्म के पुराणों में कहा गया है कि जन्म के समय बालक की कुंडली के मुताबिक़ शुक्र और शनि आठवे घर में हो तो ऐसे होने से जनन क्षमता कम हो जाती है अथवा समाप्त भी हो जाती हैं.

What Is Hijra In Hindi Why Born Third Gender

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक़ चंद्रमा, मंगल, सूर्य और लग्न ही गर्भधारण के जिम्मेदार होते हैं. जिसके अनुसार माना जाता हैं. सम्भोग के समय यदि वीर्य का अधिक मिलन हो तो बेटा जन्म लेता है तथा यदि रक्त की मात्रा अधिक हो तो बेटी का जन्म होता हैं. यदि सम्भोग के समय वीर्य और रक्त दोनों की मात्रा ज्यादा हो तो एक किन्नर का जन्म होता हैं. किन्नर के जननांग

Amazing facts about Hijra, Kinnar in Hindi

किन्नर के जननांग कैसे होते है इस सम्बन्ध में अनुमान लगाना कठिन हैं. किन्नर अथवा हिजड़े वह अवस्था है जब शरीर के विकास की प्रक्रिया तक उनके एक का आधा लिंग स्वरूप बनता है इसके बाद यह विकास प्रक्रिया थम जाती हैं. तथा जब दूरी बार इन अंगों का विकास होता है तो दूसरे लिंग का आकार बनने लगता है इस तरह नर और मादा दोनों के लिंगों का मेल किन्नरों में पाया जाता हैं.

हिजड़ों के अंग स्वरूप तो स्त्री पुरुष के समान ही होता है मगर ये विकृत एवं अविकसित अवस्था लिए हुए होते हैं. कुछ इस समुदाय के लोगों में पुरुषों के अंडकोष के साथ ही मादा का गर्भाशय भई होता हैं. आम तौर पर एक किन्नर को आप तब तक नहीं पहचान पाएगे, जब तक कि वो आपकों लिंग न बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *