वैदिक सभ्यता का इतिहास | Vedic Sabhyata In Hindi Pdf

religion, literature, History Fact, About Vedic Sabhyata In Hindi Pdf, वैदिक सभ्यता का इतिहास: वैदिक सभ्यता अथवा काल को आर्यों के भारत में आगमन का समय माना जाता हैं. इसी समय वेदों की रचना की गई थी. भारतीय इतिहासकारों के अनुसार वैदिक काल अनादिकाल से चला आ रहा हैं. यानि जब से सार्ष्टि की रचना हुई तब से वैदिक काल चला आ रहा हैं. मगर पश्चिमी विद्वान इसे १५०० ईसा पूर्व की टाइमलाइन बताते है जब भारत में आर्यो का आगमन हुआ, तभी से यह सभ्यता अस्तित्व में आई.

वैदिक सभ्यता इतिहास | vedic history in hindi

वैदिक सभ्यता का इतिहास Vedic Sabhyata In Hindi Pdf

वैदिक सभ्यता क्या थी उनकी टाइमलाइन व इतिहास (What was the Vedic period, its timeline and history)

अभी तक के उत्खनन से हमारे इतिहासकारों को कोई ऐसा साक्ष्य प्राप्त नही हुआ है, जो यह प्रमाणित कर सके कि भारत में आर्य कब आए थे.

मगर यह जगजाहिर हैं कि वर्तमान के हिन्दू धर्म का जन्म इसी वैदिक काल में हुआ, जो आज तक चला आ रहा हैं. इस कारण इसे वैदिक धर्म भी कहा जाता हैं.

वैदिक काल का साहित्य आज हमारे धर्मग्रंथो के रूप में स्थापित हैं जिनमें  वेदांगसूत्र, रामायण, महाभारत,और पुराण, ब्राह्मणग्रंथ और उपनिषद आदि की रचना इसी काल में हुई. वैदिक काल के बाद ही  चार्वाक , तान्त्रिकौं ,बौद्ध और जैन धर्म का जन्म हुआ.

वैदिक काल की जानकारी हिंदी में (Vedic period information in Hindi)

  • भारतीय इतिहास में १५०० ई.पू. से ६०० ई.पू तक के कालखंड को वैदिक सभ्यता की संज्ञा दी गई हैं.
  • वैदिक सभ्यता का विकास ग्रामीण अर्थव्यवस्था के आधार पर हुआ.
  • आर्यों के भारत में आगमन के विषय पर विद्वान एकमत नही हैं. इस सन्दर्भ में मैक्स मूलर का मत सर्वमान्य है इसके अनुसार मध्य एशिया से आए और उन्होंने खैबर दर्रे के जरिये भारत में प्रवेश किया.
  • ईरान की धार्मिक पुस्तक जैन्द अवेस्ता में इस बात का संकेत है कि आर्य ईरान के रास्ते भारत आये थे.
  • आर्य शब्द का अर्थ है श्रेष्ट, उत्तम, अभिजात्य, कुलीन एवं उत्कृष्ट होता हैं.
  • भारत में आर्यों की सफलता का मुख्य कारण अश्व चलित रथ, कांसे के अच्छे उपकरण तथा कवच था. आर्य संभवत विशिष्ट प्रकार के दुर्गों का निर्माण करते थे जिन्हें पुर कहा जाता था.
  • वैदिक सभ्यता को दो स्पष्ट काल खंडों में विभाजित किया जाता हैं. १५०० ई.पू. से १००० ई.पू. तक के कालखंड को ऋग्वैदिक काल और १००० ई.पू. से ६०० ई.पू के काल को उत्तर वैदिक काल के नाम से जाना जाता हैं.

ऋग्‍वैदिककालीन नदियां (Rig Ved Rivers)

प्राचीन नाम आधुनिक नाम
क्रुभ कुर्रम
कुभा काबुल
वितस्‍ता झेलम
आस्किनी चिनाव
परुषणी रावी
शतुद्रि सतलज
विपाशा व्‍यास
सदानीरा गंडक
दृसद्धती घग्‍घर
गोमल गोमती
सुवस्‍तु स्‍वात्

ऋग्‍वैदिककालीन देवता (List of Rig Vedic Religion |Gods & Goddesses)

  देवता                  संबंध
इंद्र युद्ध का नेता और वर्षा का देवता
अग्नि देवता और मनुष्‍य के बीच मध्‍यस्‍थ
वरुण पृथ्‍वी और सूर्य के निर्माता, समुद्र का देवता, विश्‍व के नियामक एवं शासक, सत्‍य का प्रतीक, ऋ‍तु परिवर्तन एवं दिन-रात का कर्ता
द्यौ आकाश का देवता (सबसे प्राचीन)
सोम वनस्‍पति देवता
उषा प्रगति एवं उत्‍थान देवता
आश्विन विपत्तियों को हरनेवाले देवता
पूषन पशुओं का देवता
विष्‍णु विश्‍व के संरक्षक और पालनकर्ता
मरुत आंधी-तूफान का देवता

वैदिक सभ्यता का इतिहास | Vedic Period In Hindi

सिन्धु सरस्वती सभ्यता के अवसान के बाद भारत में वैदिक सभ्यता का उदय हुआ. विद्वानों ने इस वैदिक सभ्यता का विकास करने वाले जन समुदाय को आर्य कहकर पुकारा है.

तथा इन आर्यों को ही वैदिक सभ्यता का संस्थापक व प्रसारक बताया गया है. vedic period in hindi में सभ्यता के जन्म से पतन तक लोगों के जीवन एवं परम्पराओं के बारे में विवरण.

कतिपय विद्वानों ने यह भी माना है कि ये आर्य भारत से बाहर से यथा उतरी ध्रुव, मध्य एशिया तिब्बत या यूरोप से आये, लेकिन वर्तमान पुरातात्विक एवं ऐतिहासिक साक्ष्यों से यह सिद्ध हो गया है

कि वैदिक सभ्यता सिन्धु सरस्वती की निरन्तरता में ही विकसित हुई, इस वैदिक सभ्यता का वर्णन वैदिक साहित्य में विस्तार से आता है.

आर्य कौन थे और भारत में कब आए (Who was Arya and when came to India)

वस्तुत आर्य किसी जाति का बोध कराने वाला शब्द नही है. यह तो गुणवाचक शब्द है जिसका अर्थ उतम, श्रेष्ठ, अच्छे आचरण करने वाले अर्थात सुसंस्कृत व्यक्ति है.

शास्त्रों में बताया गया है कि जो व्यक्ति समाज द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करते हुए समुचित व्यवस्था करता हो, विचार व वाणी में शुद्धता व पवित्रता रखता हो, ऐसें अच्छे आचरण वाले व्यक्ति को आर्य कहा जाता है.

वैदिक सभ्यता के जनक भारत के ही ऐसे सुसंस्कृत लोग थे ये वो लोग थे अथवा व मानव समुदाय था. जिसने तत्कालीन व्यवस्था व संस्कृति के उपयोगी पक्षों को अपनाकर अपने उन्नत रहन सहन को विकसित किया.

इस जन समूह को यदि आर्य शब्द का सम्बोधन दिया जाता है तो यह वास्तविक तथ्य उद्घाटित होता है. एक तथ्य यह भी है कि सिन्धु सरस्वती सभ्यता का अवसान भले ही हो गया हो, किन्तु इस सभ्यता में अच्छाईयाँ सिंधु सरस्वती नदी क्षेत्र से बाहर भी प्रभावी थी, उन अच्छाईयों का ही विकास आगे चलकर वैदिक सभ्यता (Vedic civilization) के रूप में हुआ.

वैदिक साहित्य का इतिहास (History of Vedic literature)

आर्य विद्वानों ने जिस साहित्य की रचना की वह वैदिक साहित्य के नाम से विख्यात है. भारत में विकसित होने वाली वैदिक सभ्यता की जानकारी कराने वाले स्रोतों में प्रमुख स्थान वैदिक साहित्य का है.

वेद, ब्राह्मण, उपनिषद, आरण्यक, षट वेदांग आदि वैदिक साहित्य के प्रमुख ग्रन्थ है. वेद चार है ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद. इस साहित्य के माध्यम से तत्कालीन वैदिक सभ्यता की विशेषताएं इस प्रकार थी.

वैदिक सभ्यता की विशेषताएं (Features of Vedic Civilization)

राजनीतिक संगठन (political organization)

वैदिक काल के राजनीतिक जीवन का आधार परिवार थे. कई परिवारों से मिलकर ग्राम बनते थे. कई ग्रामों का समूह का समूह जन होता था. जन के नेता को गोप रक्षक या राजन कहते थे. राजन का निर्वाचन प्रजा करती थी, शासन का सर्वोच्च अधिकारी राजन होता था.

समिति, सभा व मन्त्रणा (मंत्रीपरिषद) नामक जनतान्त्रिक संस्थाएँ राज्य कार्य में राजन का सहयोग करती थी. कालान्तर में सहज जनतंत्र वाले राजनितिक संगठन के स्थान पर भारत का समाज राजतंत्रतात्मक राजनैतिक संगठन की ओर अग्रसर हुआ और भारत में कई जनपद राज्य स्थापित हो गये.

ऐसे जनपद में कुरु, पांचाल, गांधार, कैकेय, मन्द्र, काशी, कलिंग, अंग, मगध, लिच्छवी, मल, अवन्ति, कौशल, शिवि आदि प्रमुख जनपद थे.

वैदिक सभ्यता का सामाजिक जीवन (The social life of the Vedic civilization)

वर्ण व्यवस्था– वैदिक काल में समाज में वर्ण व्यवस्था प्रचलित थी. वर्ण चार माने गये है-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र. यह वर्ण व्यवस्था जन्म आधारित न होकर कर्म आधारित थी. जिसमे व्यक्ति की योग्यता व कार्य से उसका वर्ण निर्धारित होता था. इस तरह वर्ण व्यवस्था का प्रारम्भिक स्वरूप अच्छा था वह कर्म और श्रम के सिद्धांत पर आधारित था.

परिवार– समाज की मूल इकाई परिवार थी, इस काल में संयुक्त परिवार की प्रथा थी, परिवार में सबसे बड़ा पुरुष परिवार का मुखिया होता था. उसे गृहपति कहा जाता था. वैदिक समाज में स्त्री का बहुत सम्मान था.

पर्दा प्रथा का प्रचलन नही था, विवाह एक अनुबंध न होकर धार्मिक संस्कार था. विवाह परिपक्व अवस्था में ही होता था. पुत्र की भांति पुत्री को भी उच्च शिक्षा का अधिकार था. स्त्री शिक्षा को समुचित सम्मान दिया जाता था. वैदिक साहित्य में ऐसी स्त्रियों का उल्लेख मिलता है, जो ज्ञान और विद्या के लिए प्रसिद्ध थी. गार्गी, मैत्रेयी, गंधर्वगृहीता आदि विदुषी महिलाएं इसी काल में हुई.

आश्रम और संस्कार व्यवस्था (Ashram and rite system)– वैदिक काल में सामाजिक संचालन के लिए आश्रम व्यवस्था प्रचलित थी. मनुष्य की आदर्श आयु 100 वर्ष की मानकर जीवन को चार कालों ब्रह्मचर्य आश्रम, गृहस्थ आश्रम, वानप्रस्थ आश्रम और संन्यास आश्रम में विभाजित किया गया था.

वैदिक काल के 16 संस्कार (16 rites of Vedic times)

यह आश्रम व्यवस्था विश्व में जीवन प्रबंधन का अनुपम उदहारण था. जीवन के श्रेष्ट गुणों को पैदा करने के लिए वैदिक काल में 16 संस्कारो का विधान था.

जिनमे पुंसवन संस्कार, अन्न प्रासन संस्कार, मुंडन संस्कार, नामकरण संस्कार, विद्यार्जन संस्कार, विवाह संस्कार आदि प्रमुख संस्कार थे. जो सामाजिक संस्कार पद्दति का कार्य करते थे.

वैदिक सभ्यता में लोगों का भोजन, वेशभूषा व मनोरंजन (Food, costumes and entertainment of people in the Vedic civilization)

वैदिक काल के लोग भोजन में गेहूं जो चावल उड़द, दही, दूध का विशेष प्रयोग करते थे. जहाँ तक वेशभूषा का सवाल है- सूती, ऊनी और रेशमी तीनों तरह के वस्त्रो का उपयोग किया जाता था. स्त्री व पुरुष दोनों आभूषन पहनते थे. आभूषणों में कर्ण फूल, कंठहार, कंगन आदि पहने जाते थे.

रथ दौड़, घुड़दौड़ शिकार व मल्लयुद्ध मनोरंजन के मुख्य साधन थे, संगीत व नृत्य लोकप्रिय थे. तथा प्रमुख वाद्ययंत्रो में वीणा, बांसुरी, शंख, झांझ व मृदग आदि प्रचलित थे.

वैदिक काल में लोगों का आर्थिक जीवन (The economic life of the people in the Vedic period)

वैदिक काल में आजीविका के मुख्य साधन थे- कृषि, पशुपालन, घरेलू, उद्योग धंधे, व्यापार एवं वाणिज्य. खेती का काम हल बैल से किया जाता था. गाय, हाथी, घोड़ा, भैस, बकरी, भेड़ बकरी व गधा घरेलू पशु थे. गाय को पवित्र व आर्थिक सम्रद्धि का केंद्र मानते थे. गायों की संख्या उन्नति का पैमाना था.

उद्योग धंधों में लकड़ी, धातु वस्त्र व चमड़े के काम प्रमुख थे. ऋग्वेद में भिषक नाम से चिकित्सक का भी उल्लेख मिलता है. व्यापार का माध्यम वस्तुओं का लेन देन था. गाय को मूल्य की इकाई माना जाता था. ऋग्वेद में निष्क नामक सोने के सिक्के के संकेत मिलते है.

यह न केवल उन्नत धातु के विज्ञान की जानकारी का प्रमाण है अपितु यह आधुनिक मुद्रा व्यवस्था का प्रारम्भिक संकेत भी है. दूर देशों व भारत के बिच जल व थल दोनों मार्गों से व्यापार होता था. वस्त्र उद्योग काफी उन्नत था. वस्त्रों से व्यापार होने के प्रमाण भी उपलब्ध है.

वैदिक काल का धार्मिक जीवन (Religious life of Vedic period)

वैदिक युग के निवासी मूलतः प्रकृति के उपासक थे. और विभिन्न देवीय शक्तियों की उपासना करते थे. जिन प्राकृतिक शक्तियों से उन्हें जीवन से शक्ति व प्रेरणा प्राप्त होती थी.

उनको उन्होंने अपने देवता के रूप में स्वीकार कर लिया था. इनमें इंद्र, सूर्य, अग्नि, वायु, उषा व वरुण प्रमुख थे. प्रार्थना, स्तुति व यज्ञों द्वारा वे देवताओं को प्रसन्न करते थे. उनका धार्मिक जीवन सरल व आडम्बर से रहित था. वैदिक काल के अंत में उपनिषदों ने ज्ञान का मार्ग प्रतिपादित किया था.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों वैदिक सभ्यता का इतिहास Vedic Sabhyata In Hindi Pdf का यह लेख पसंद आया होगा. यदि आपकों वैदिक इतिहास के बारे में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें.

अपने विचार यहाँ लिखे