बवासीर के कारण लक्षण और घरेलू इलाज | Piles Causes & Treatment And Symptoms in Hindi

बवासीर के कारण लक्षण और घरेलू इलाज | Piles Causes & Treatment And Symptoms in Hindi: बवासीर दो प्रकार की होती है. अंदर की ओर बाहर की. अंदर की बवासीर में मस्से अंदर होते है. गोल चपटे उभरे हुए मस्से चने मसूर के दानो के बराबर होते है. कब्ज की वजह से जब अंदर मस्सा शौच करते समय जोर लगाने पर बाहर आ जाता है, तो मरीज दर्द से तडप उठता है और मस्से छिल जाए तो जख्म हो जाता है. बवासीर के कारण बवासीर के कारण इसका होम्योपैथिक इलाज एवं अचूक दवा/इलाज/मलहम तथा बवासीर के शुरुआती लक्षण के बारे में (Piles Causes & Treatment And Symptoms) आपकों जानकारी देगे.

बवासीर के कारण और लक्षण Piles Causes & Symptoms in Hindi)

बाहर की बवासीर में मस्सा गुदा वाली जगह पर होता है, इससे इतना दर्द नही होता है. कभी कभी मीठी खारिश या खुजली होती है. कब्ज होने पर इससे खून आने लगता है कि मरीज खून देखकर घबरा जाता है और चेहरा पीला पड़ जाता है.

बवासीर के लक्षण (symptoms of piles in hindi)

बवासीर की निशानी– पिल्स से मरीज का हाजमा खराब हो जाता है, भूख नही लगती, कब्ज रहने लगती है. पेट में कभी कभी गैस बनने लगती है. मेदा, दिल, जिगर कमजोर हो जाते है. आमतौर पर शारीरिक कमजोरी हो जाती है. मरीजों के मुह पर हल्की सूजन आ जाती है.

बवासीर का इलाज (piles treatment in homeopathy in hindi)

50 ग्राम रीठे लेकर तवे पर रखकर कटोरी से ढक दे और तवे के नीचे आधा घंटा आग जलाए. रीठे भस्म हो जाएगे. ठंडा होने पर कटोरी हटाकर बारीक करके रीठे की भस्म 20 ग्राम, कत्था सफ़ेद , कुश्ता फौलाद 3 ग्राम सबकों बारीक करके मिला दे. वजन खुराक 1 ग्राम सुबह को 1 ग्राम शाम को 20 ग्राम मक्खन में रखकर खाए उपर से 250 ग्राम दूध पी लिया करे.

10-15 दिन खाए, Piles के लिए यह बहुत बढिया दवा है. खूनी बादी बवासीर (Piles) को दूर करेगी.

बवासीर की मरहम (Hemorrhoids ointment)

वैसलीन सफेद 50 ग्राम कपूर 6 ग्राम, सल्फाडायजीन की 3 गोली, बोरिक एसिड 6 ग्राम सबकों बारीक करके वैसलीन में मिलाकर रात को सोते समय तथा सुबह शौच जाने से पहले दिन में एक बार रोजाना ऊँगली से अंदर बाहर के मस्सों पर लगाये.

खुनी बवासीर (Murderer piles)- गैंदे के हरे पते 10 ग्राम, काली मिर्च के 5 दाने, कुंजा मिश्री 10 ग्राम, 60 ग्राम पानी से रगड़ छानकर 4 दिन तक एक एक बार पीये. गर्म चीज न खाए और कब्ज न होने दे. Piles की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है.

बवासीर होने पर सावधानियाँ एवं उपचार (Precautions & Treatments on Hemorrhoids/piles)

दोस्तों आजकल बहुत सारे लोगों को बवासीर की बीमारी है परेशान होते है. बहुत सारे लोग इस बिमारी को समाप्त करने के लिए दवाओं की तरफ भागते है, फिर भी बवासीर की समस्या से उन्हें निजात नही मिल पाती है. बवासीर होने के कारण नसों का सूजन, दर्द खून का आना ऐसी कई समस्याएं झेलनी पडती है.

इस पोस्ट में आपकों piles Home Remedies बता रहे है जिनसे बवासीर की समस्या से कुछ हद तक आराम मिल सकता है.

  1. अकसर देखा जाता है कि बवासीर होने के समय सूजन और दर्द का सामना करना पड़ता है. इसलिए कई लोग इस समस्या के इलाज के लिए दवाइयों का उपयोग करते है. आपकों बता दे कि दर्द से राहत पाने के लिए आप आइस पैक का प्रयोग भी कर सकते है.
  2. बवासीर की बिमारी के कारण कई लोग पानी पीना बहुत कम कर देते है, मगर यदि इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते है तो आपकों अधिक से अधिक पानी का सेवन करना चाहिए.
  3. बवासीर की समस्या के चलते ठंडे पानी से नहाना खतरनाक सिद्ध हो सकता है, इसलिए पानी को गर्म या गुनगुना करके ही नहाना चाहिए, जिससे दर्द में कुछ राहत मिलती है.

बवासीर की बिमारी के कारण (piles causes in hindi)

बहुत से लोग बाजार की बहुत सारी फ़ालतू चीजों को खाते है, जैसे बर्गर, चाउमीन, चटपटी चीजे पकोड़े तथा तली हुई चीजो के प्रयोग से बवासीर जैसी समस्या होने की संभावना बढ़ जाती है.

पेट में गैस व कब्ज बार बार बन रही है तो इससे भी आपकों बवासीर की समस्या हो सकती है, ज्यादा मसाले वाली चीजे भी खाना हानिकारक होता है यदि आप घर में भी अधिक मसालेदार सब्जियां खाने का शौक रखते है तो बवासीर की समस्या होने का अधिक खतरा रहता है.

ज्यादा तीखी मिर्च खाने से बवासीर की संभावनाएं काफी बढ़ जाती है, इसलिए आवश्यकता से अधिक निरंतर तीखी सब्जियों का सेवन नही करे और लाल मिर्च के लगातार सेवन से यह बवासीर की समस्या होती है.

बवासीर का उपचार (Permanent Treatment For Piles)

piles in female & Men यदि समय रहते इसके लक्षणों को परख कर उपचार किया जाए तो इस पर पूर्ण नियन्त्रण किया जा सकता है, अन्यथा शल्य चिकित्सा के सिवाय और कोई साधन नही बचता है. बवासीर की समस्या की शिकायत हो रही हो तो कब्ज तथा गैस को दूर कर नित्य नियमित रूप में शौच आदि करे. वसा युक्त पदार्थ और हरे फल सब्जियों का भरपूर सेवन करे. रात को सोने से पूर्व इसबगोल की भूसी के दो चम्मच डालकर पीने से भी पाइल्स की समस्या से बचा जा सकता है. इसके अतिरिक्त अर्शकुमार रस, तीक्ष्णमुख रस, अष्टांग रस, नित्योदित रस, रस गुटिका, बोलबद्ध रस, पंचानन वटी, बाहुशाल गुड़, बवासीर मलहम, आयुर्वेदिक औषधियां का उपयोग कर भी आप बवासीर की बिमारी को नियंत्रित कर सकते है.

गुड़, गोश्त, शराब, आम, अंगूर का सेवन बिलकुल न करे कब्ज न होने दे और उपर बताई गई piles Home Remedies में से किसी पर नित्य अमल में लाकर इस समस्या को जड़ से मिटाया जा सकता है.

प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *