सब्जी मंडी पर निबंध | Essay On Vegetable Market In Hindi Language

Essay On Vegetable Market In Hindi Language: नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है आज हम सब्जी बाजार या सब्जी मंडी पर निबंध बता रहे हैं. इस सरल निबंध, भाषण, स्पीच, अनुच्छेद, लेख के जरिये हम जानेगे कि सब्जी मंडी क्या होती है, इसका दृश्य कैसा रहता है, सब्जी मंडी में एक घंटा विषय पर बच्चों के लिए शोर्ट निबंध यहाँ दिया गया हैं चलिए पढ़ते हैं.

Essay On Vegetable Market In Hindi Language

Essay On Vegetable Market In Hindi Language

जिस तरह अलग अलग वस्तुओं के विक्रय के लिए बाजार होते है जैसे छोटी बड़ी घरेलू वस्तुओं के लिए हाट बाजार, पशुओं के लिए पशु बाजार, मांस के लिए मांस मंडी, दूध के लिए दूध डेयरी, अनाज के लिए अनाज मंडी बनी होती हैं उसी तरह सब्जियों के थोक विक्रय स्थल को सब्जी मंडी कहा जाता हैं. गाँव, शहर के सभी सब्जी वाले यही से ताज़ी एवं सस्ती सब्जी प्राप्त कर आगे बेचते हैं.

किसान अपने खेत में उगी सब्जियों को पकने के साथ ही ट्रक में भरकर मंडी में बेचने आता हैं. इस तरह सब्जियों के बाजार में निरंतर ताज़ी व हरी सब्जियों का भंडारण होता रहता हैं. देश के सभी छोटे बड़े शहरों में सब्जी मंडी होती है जो आमतौर पर सवेरे जल्दी पांच बजे खुलती हैं तथा उस समय खरीद के लिए व्यापारियों का हुजूम उमड़ पड़ता हैं.

हमारे शरीर के लिए आवश्यक विटामिन एवं खनिज लवणों की प्राप्ति का मुख्य स्रोत सब्जी ही होती हैं, जो विभिन्न प्रक्रमों के माध्यम से सब्जी मंडी से हमारे घर तक पहुँचती हैं. सब्जी मंडी के खुलने के समय का दृश्य बेहद भीडभाड से भरा एवं शौरगुल का होता हैं. सब्जियों के विक्रेता चिल्लाकर जोर से सब्जियों की कीमते बताते हुए ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं सब्जी के बड़े बड़े थोक व्यापारियों की दुकाने तरह तरह की सब्जी से अटी पड़ी रहती हैं. आँखों को सुकून देने वाली हरी सब्जियों को इतनी बड़ी संख्या में केवल सब्जी मंडी में ही देखा जा सकता हैं.

सब्जी मंडी में बिताया गया एक घंटा हमें जीवन की उन सच्चाइयों से रूबरू करवाता है जिससे हम अभी तक अनजान रहते है हम यहाँ आकर जान पाते है कि हमारी रसोई में बनने वाली सब्जी को घर तक पहुचने के लिए कहाँ कहाँ से गुजरना पड़ता हैं, मंडी में ग्राहकों को अपनी पसंद की सब्जी को देखने तथा स्वेच्छा से खरीदने की आजादी होती हैं. यहाँ काम करने वाले व्यापारी तथा मजदूर व्यस्त नजर आते हैं.

कुछ व्यापारी या ठेले वाले एक दूसरे से झगड़ते नजर आते हैं. बेचने के स्थान अथवा भाव को लेकर इनमें टकराव होता रहता हैं. यहाँ दस बीस से एक किवटल तक की सब्जी के छोटे बड़े पैकेट या कैरेट उपलब्ध रहते है, जिन्हें हम लम्बी दूरी तक आसानी से ले जा सकते हैं. कुछ दुकानदार अपने ग्राहकों को कुछ रूपयों की छुट के साथ सब्जी बेचते है जबकि कुछ लोग पैसे को लेकर झगड़े पर उतारू हो जाते हैं.

सब्जी मंडी में कुछ लोग ऐसे भी होते है जिन्हें ग्राहकों के साथ बिना मतलब की बहस और विवाद करना होता हैं जो बिना देखे सड़ी गली या पुरानी सब्जियाँ भी ग्राहकों को दे देते हैं वे उन्हें चुनने का अवसर नहीं देते है तथा लापरवाही से तौल भाव करते हैं इससे कई बार हुडदंग का माहौल भी उत्पन्न हो जाता हैं. भीड़ एकत्रित हो जाती हैं. कुल मिलाकर सब्जी बाजार का अनुभव मिला जुला रहता हैं ताज़ी सब्जियों की महक एवं आँखों को सुकून देने वाला यहाँ नजारा आमतौर पर देखने को मिलता हैं वही बहस, शौरगुल तथा भीडभाड़ का नजारा भी सब्जी मंडी में आम बात हैं.

Sabji mandi me ek ghanta essay hindi

कल सुबह मुझे अपने पिताजी के साथ सब्जी मंडी जाने का अवसर मिला. यह पहला अवसर था जब मैंने इतनी नजदीकी से सब्जियों के बाजार को देखा था. पापा के स्कूटर पर बैठकर हम जल्दी सब्जी मंडी पहुँच गये, वहा हमने एक घंटा बिताया, जिसका अनुभव मेरे लिए बिलकुल नया और बहुत कुछ सिखाने वाला रहा.

अब तक मैं सब्जियों के इस बाजार से अपरिचित था. मैंने वहां जाकर पाया कि सब्जियों के भाव क्या है कैसे इसकी खरीददारी होती है तथा इतनी सारी सब्जियाँ आखिर रोजाना कहाँ से आती हैं.

दुनियां में जितने तरह के लोग होते उन सभी से आप सब्जी मंडी में मिल सकते हैं. कुछ लोग पैसे देकर भी सब्जी को देख परख कर नहीं खरीदते है जबकि कुछ अच्छी तरह देखभाल ही सब्जियाँ खरीदते है तथा तौल का पूरा ध्यान रखते है जबकि कुछ ऐसे लोगों को भी देखा जो एक दो रूपये के लिए लड़ाई करने पर उतारू हो जाते हैं.

सर्दियों के मौसम में मिलने वाली सभी सब्जियों के यहाँ ढेर थे, मेरी पसंद की गाजर भी थी, पिताजी ने इसे खरीदा. मैंने भी खाना शुरू कर दिया. गाजर सर्दियों की अच्छी सब्जी है कुछ लोग इसे सलाद, अचार, सब्जी या हलवे के रूप में उपयोग करते हैं यह आँखों की रौशनी बढ़ाने तथा इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने में भी सहायक हैं. इस तरह मैंने पिताजी के साथ सब्जी मंडी में एक घंटा बिताया जो मेरे लिए सदैव यादगार रहेगा.

Sabzi Mandi se ghar Tak / सब्ज़ी मण्डी से घर तक

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Essay On Vegetable Market In Hindi Language का यह निबंध आपकों पसंद आया होगा, यदि आपकों सब्जी मंडी पर दिया गया निबंध अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *