बहन पर कविता 2022 | Sweet Poem For Sister In Hindi

Sweet Poem For Sister In Hindiबहन पर कविता 2022 आज का लेख समस्त my sister को समर्पित हैं. जीवन में भाई बहिन के रिश्ते की महिमा के कई तरीके हो सकते हैं. मैं आपके लिए Sweet Poem Sister In Hindi के जरिये अपनी प्यारी बहिनों को अपनी भाषा में lines for sister in hindi शेयर करने जा रहा हूँ. स्कूल अथवा कॉलेज के स्टूडेंट्स इन बहिन पर कविता के माध्यम से अच्छा लेख भी तैयार कर सकते हैं चलिए जानते है कुछ inspirational sister poems.

बहन पर कविता 2022 Sweet Poem For Sister In Hindi

Sweet Poem For Sister In Hindi - बहन के लिए कुछ कविताएं

Here We Share Few Sweet Poem For Sister In Hindi or Bahin bhai Kavita

यह सच हैं कि रिश्ते बनाये नही जाते है बल्कि ये ऊपर से ही बनकर आते है कुछ ऐसा ही कुदरती रिश्ता भाई बहिन का भी हैं. जो प्यार से भरा भी है तथा कुछ चटपटा भी है बालपन से बड़े होने तक आपस में मनमुताब भी होते हैं मगर समझौता भी आसानी से ही हो जाता हैं.

1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 class students हिंदी फॉण्ट में बहिन भाई के रिश्ते पर सुंदर कविता की रचना हमारे इस संग्रह की मदद से कर सकते हैं.

भाई भाई का साथ जीवन भर होता है मगर युवावस्था में ही बहिन अपने भाइयों का घर छोड़ ससुराल चली जाती हैं. बहिन के जन्म पर सबसे अधिक खुशी तथा बहिन की विदाई पर सबसे अधिक दुःख एक भाई को ही होता हैं.

Sweet Poem For Sister In Hindi – Bhai Bahin Ka Pyar Rakhi Ka Tyohar

छोटी के पास गुड़िया मेरे पास गाड़ी थी
रोये थे दिनभर तब पापा ने दिलाई थी
शर्त रखी थी मम्मी हर दिन दिन दो घंटे पढ़ने की
पर उम्र थी हमारी छोटी लड़ने और झगड़ने की

एक एक रूपये को जोड़ जोड़ बहिन ने चिल्लर जोड़ी थी.
छिपकर मैंने अधियारे में उसकी गुल्लक फोड़ी थी
शर्ट है गंदी चश्मा अच्छा बहिन से मैंने सीखा था
डांट से पापा की बचने का उसके पास तरीका था

फूल सी कोमल थी मोम के जलती थी
मेरी गलती को मम्मी से कहती अपनी गलती थी
जब मायूस हुआ मेरा चेहरा तब उसकी रोई थी
बचपन बीता जिस आंगन में उस घर से बहिन खोई थी

सुनों देश के युवा साथियों बहिनों का सम्मान करो
आँख दिखाने के पहले अपनी बहिन का ख्याल करो
मेरी हो या तेरी हो आखिर हम सबकी बहिन है वो
माँ बाप की इज्जत का मानो साफ़ शुद्ध दर्पण है वो

है बचाना मेरी बहिनों को तुम पर कोई आंच न होगी
तेरे धर्म की रक्षा हो चाहे मेरी सांस न होगी
कीचड़ में खिलता पंकज भी करता इन्तजार है
न रहे हाथ मेरा सूना आया राखी त्योहार हैं.
Pankaj Pandit Lalitpur

Bahin Pukar Rahi hai Poem in hindi

शिक्षा के मंदिर में तुम ये कैसा काम कर बैठे।
तुम तो गुरु की महिमा को बदनाम कर बैठे।

कुछ नही करेगा कानून,हैवानो ने ऐसा सोच लिया।
देखो दरिंदो ने फूल सी बेटी को नोच लिया।

कोई नेता नही बोलेगा,सबके होंट सिले हुए हैं।
क्या उमीद है,प्रशासन से ये सब मिले हुए है।

इन नेताओ को तो बेटी नही बस वोट चाहिए।
क्या न्याय होगा,जहां सबको बस नोट चाहिए।

होता रहा ऐसा अन्याय तो मानवता मर जायेगी।
फिर बेटी कॉलेज पढ़ने के नाम से डर जायेगी।

भेजा था माँ-बाप ने पढ़ने बड़े अरमानो के साथ।
वो बेटी अस्मत खो बैठी कुछ हैवानो के हाथ।

तुमने डेल्टा नही,देश की एक प्रतिभा मारी है।
क्यों घूमते है बेख़ौफ़ ये दरिंदे ,क्या लाचारी है।

अपनी बहिन बेटियां मर रही अब तो आत्म बोध करो।
उत्तर पड़ो सड़को पर,जाहिलों का प्रतिसोध करो।

हे! भारत के जवानो अब तो एक हुंकार भरो।
नही कर सकते कुछ तो,चुल्लू भर पानी में डूब मरो।

इन हैवानो से न जाने कितनी बहिने हारी है।
अब कुछ करो,कल अपनी बहिन की बारी है।

कैसे पढ़ेगी बेटियां फिर घर से दूर होकर।
कब तक मरती रहेगी डेल्टाये मजबूर होकर।

सब के सब चुप क्यों है,क्यों कोई बोलता नही है।
खून नही पानी है क्या जो रगो में खोलता नही है।

कवि की कलम एक डेल्टा की चीक लिख रही है।
मुझे तो इस डेल्टा में सबकी बहिने दिख रही है।।

दरिंदो की नोची वो लास तुम्हे ललकार रही है।
बाहर निकलो भाइयों बहिन तुम्हें पुकार रही है।।

sister marriage poem in hindi

मेरे भैया तुम रखना संभाल के ये राखी है अनमोल गहना
बाबुल के आंगन में खेली कूदी, आँख रोई और डोली उठी
मेरे भैया तुम संभाल के ये राखी है अनमोल गहना

राखी तुम रक्षा करना, भाई को अमर करना
कदम चूमे दुनिया सारी, दिल से मैं दूँ सारी दुहाई
मेरे भैया तुम रखना संभाल के राखी है अनमोल गहना

कभी ना आए कोई गम, संसार की खुशियाँ पड़े कम
मेरे प्यार के अरमान बांधू, तुम जियो हजारो साल इतना मांगू
मेरे भैया तुम रखना संभाल के, राखी है अनमोल गहना

sweet poem for sister in hindi bhool Na Jana

जाओ जब राखी लेने बाजार तो ये बात हरगिज भूल न जाना तुम
जो भाई करता हैं रक्षा हरदम अनजाने में उसकी मौत का सामान न ले आना तुम

वों राखी नहीं हैं मौत का फंदा है बहिना
ये हरगिज भूल न जाना तुम
हर भाई ने बचाई आज तक लाज तुम्हारी बहना
आज भाई की लाज बचाना तुम
इस त्यौहार में छुपा है गहरा
बस इस प्यार को निभाना तुम

चली जाएगी जान तुम्हारे राखी खरीदने से
इसलिए बहिना चाइनीज राखी न लाना तुम
बांधकर रक्षा सूत्र रेशम का कलाई पर
अपने भाई का जान बचाना तुम

बहन पर कविता

यहाँ दी गई भाई बहिन की कविताओं को हमने इंटरनेट के विभिन्न स्रोतों से आपके लिए संग्रहित किया हैं. एक भाई के दिल में बहन के प्रति क्या भाव होते हैं इन कविताओं के जरिये समझा और अभिव्यक्त किया जा सकता हैं.

वैसे किसी भी रिश्ते को शब्दों में व्यक्त करना हो तो यह बेहद कठिन हैं, अगर रिश्ता भाई और बहन का हो तो फिर यह असम्भव हो जाता हैं. फिर भी इन लेखकों ने बहन को परिभाषित करने के लिए अपने शब्दों को इस रूप में प्रस्तुत किया हैं. हम उम्मीद करते हैं आपकों अपनी पसंद की कविताएँ यहाँ मिलेगी.

मासूम सा चेहरा , इंसानियत की मूरत है।
भोली और प्यारी सी, बहुत ही खूबसूरत है।।

तन उसका कोमल,और मन उसका सुन्दर है।
आँखों में प्यार झलकता है, दिल में उसके रब बसता है।।

कोई और नहीं वो प्यारी सी, मेरी छोटी बहना है।
खुशियों का वो सागर है, प्यार का वो दरिया है।।

छोटा हो या बड़ा हो कोई,हर इंसान के लिए।
उसके दिल में प्यार ही प्यार बरसता है।।

उसका हर शब्द दुआ बनकर निकलता ।
कोई और नहीं वो प्यारी सी,मेरी छोटी बहना है।।

वो प्यारा सा फूल है घर-फुलवारी का।
महकता उससे घर का आँगन है।।

चेहरा उसका जब मैं देखूं,मन प्रफुल्लित हो जाता है।
खुदा से वरदान के रूप में मिला मुझे अनमोल तोहफा है।।

कोई और नहीं वो प्यारी सी, मेरी छोटी बहना है।
कोई और नहीं वो प्यारी सी मेरी छोटी बहना है।।

Short Poem On Sister in Hindi

कहतीं है
‘एक बात कह रही हूँ
घबराना मत
घर में तो सब ठीक है
पर हाँ किसी की तार, चिठ्ठी, टेलीफोन पा कर
डरना नहीं
एक उम्र के बाद तो
जाना ही है सबको
कोई पहले भी चला जाए
तो भी डरना नहीं
हौसला रखना
हाँ हो सके तो कुछ दिन
घर आ जाना
माँ कुछ उदास है बस’प्रत्युतर में पूछता हूँ
‘माँ के नहीं रहने पर
तुम तो रहोगी न
मेरे पास!!

भाई बहन का प्रेम केवल वे लोग ही सही तरह से समझ पाते हैं जिन्होंने जीवन में बहन हों या जिनके बहन न हो. भाई बहन का प्रेम का ऐसा अटूट बंधन होता हैं जो दिखने में भलेही कभी लड़ाई या झगड़े के रूप में नजर आता हो परन्तु उसकी गहराई अथाह होती हैं.

एक भाई के लिए बहन सबसे बढ़कर प्रिय होती हैं, भाई अपनी बहिनों के खातिर सब कुछ करने को तैयार रहता हैं. यदि बहन को कोई छेड़ता है अथवा उसके साथ कोई बुरा बर्ताव करता हैं तो सदैव भाई ही उसका प्रतिशोध लेता हैं. भौतिकतावादी युग में भले ही आज भाई और बहिन उतना साथ नहीं रह पाते हैं परन्तु उनका प्यार कभी कम नहीं होता हैं.

Poem On Younger Sister In Hindi – छोटी बहन पर कविता शायरी

Poem On Younger Sister In Hindi इस लेख में आपका स्वागत है हम कुछ छोटी बहन पर कविता लेकर आए हैं. भाई और बहिन के रिश्ते पर आधारित इन शोर्ट बेस्ट sister कविता Younger Sister Kavita In Hindi को जन्मदिन और विवाह के अवसरों पर आप भेज सकते हैं. बड़ी छोटी यंगर लिटिल सिस्टर के लिए हिंदी कविता, शायरी, शेर यहाँ बताएं गये है, उम्मीद करते है हमारा यह प्रयास आपकों पसंद आएगा.

Here Is Few Best Short Elder & Younger Sister Poems Kavita In Hindi For School Students And Kids They Read In Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10. Let’s Read Our Suggested Sister Poem.

हरेक व्यक्ति के बचपन की यादे बहिन के साथ जुड़ी होती हैं, चाहे वह छोटी हो या बड़ी भाई बहिन के बीच रिश्ता चटपटा ही रहता हैं. हमउम्रः होने के कारण लगभग अधिकतर समय साथ ही बिताते है इस कारण नोकझोक भी आम बात हैं.

जब बहिन बड़ी होकर ससुराल हो जाती है तो दशकों का साथ एक दिन टूट ही जाता हैं. एक दूसरे की बीते लम्हों की यादें और राखी जैसे पर्वों पर मिलन की आस बिछोह के दर्द को कम अवश्य करती हैं. यहाँ हमने छोटी बहिन पर कुछ कविताएँ संग्रहित की हैं.

Poem On Brother And Sister Relationship In Hindi

बहन हो तुम झँकार सुनाती चली जाती हो।
हर घर-आँगन अपनी धुन से चहकाती चली जाती हो।।

तुम्हारी सबसे खास बात यही है।
तुम कुछ भी दिल पर भार नही लेती।।

बदलावों में आसानी से ढलती चली जाती हो।
गंगा का बहता नीर हो जो बहती चली जाती हो।।

सींचते हुए प्रकृति को राह में चलती चली जाती हो।
ना स्वार्थ ना चिंताएँ बस यूँ ही आनंद के साथ जीती चली जाती हो।।

मैं जानती हूँ तुमको जितना समंदर अपनी गहराई को जाना है।
मैं मानती हूँ तुमको जितना सूर्य ने अपने प्रकाश को माना है।।

कर दे सारी दुनिया भूल गर तुम्हें पहचानने में।
पर मैंने तुम्हें तुमसे अधिक जाना और पहचाना है।।

Pariyo Se Pyari Meri Chhoti Bahina Younger Sister Kavita In Hindi

परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो ।
भैया को स्नेह करने वाली एक बहिना हो ।।

बड़ी हो तो मम्मी पापा की फटकार से बचाने वाली ।
छोटी हो तो हमारे पीठ पीछे छिपने वाली बहिना हो ।।

बड़ी हो तो चुपके से भाई के पॉकेट मे रूपये रखने वाली ।
छोटी हो तो चुपके से रूपये निकाल लेने वाली बहिना हो।।

छोटी हो या बड़ी हर बात पर झगड़ने वाली ।
परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो ।

बड़ी हो तो गलती पर हमारे कान खीचने वाली ।
छोटी हो तुम अपनी गलती पर सोर्री भैया कहने वाली ।।

अपनें से ज्यादा भाई से प्यार करने वाली ।
परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो ।

Poem For Sister On Her Wedding Day In Hindi

ये जो बहनों का प्यार है,
खुशियों का संसार है।

दुनिया का सबसे अच्छा उपहार है,
लड़ना झगड़ना रूठना मनाना।

यही तो इनके रिश्तों का आधार है,
ये जो बहनों का प्यार है।

रिश्तों की अलग पहचान है,
उनके आने से महक उठा घर आंगन परिवार है।

पांवों में बजती घुंघरू कि झनकार है,
बगियाँ में चहकी चिड़ियों की चटकार है,
ये जो बहनों का प्यार है।

छोटी बहिन की कविता इन हिंदी

ये रिश्ता है हसी मजाक का।
हसी वाली मुस्कान और गम वाले आसू का ।।

हल्की हल्की बातो पर रूठ जाने का ।
और फिर अपने आप ही मान जाने का ।।

यह रिश्ता है भाई और बहिन का,
बहिन वो जो हर आसू छुपा दे भाई की खुशी के लिए ।
और भाई वो जो हर हद पार कर दे बहिन की खुशी के लिए ।।

बहिन वो जो है राखी पर अपने प्यार को ।
धागे मे सजोकर भाई की कलाई पर बाध दे ।।

और भाई वो जो बहन की पीड़ा को ।
देखकर दुनिया का हर बधन तोड़ दे ।।

यह रिश्ता है चिड़ने का और चिड़ाने का शरारतो के पिटारो का ।
कुछ कही और कुछ अनकही बातो का ।।

यह रिश्ता है बचपन की यादो का ।
यह रिश्ता है प्यार के उपवन मे विश्वास के फूल का ।।

जिसकी पखुड़ी हर आसू पी जाती है ।
जिसको देखकर चेहरे पर सिर्फ खुशी रह जाती है ।।

जिसकी खुशबू जहन मे और जिसकी फोटो यादो मे ।
हमेशा के लिए कैद हो जाती है यह रिश्ता है एक भाई का उसकी बहन से ।।

यह रिश्ता है मेरी राखी का तेरी कलाई

यह भी पढ़े

उम्मीद कर रहा हूँ दोस्तों Sweet Poem For Sister In Hindi बहन पर कविता 2022 का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपकों बहिन पर हिंदी कविताओं का लेख पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे. आपकों यह लेख कैसा लगा कमेंट कर अपनी राय जरुर दे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.