कल रात मैंने एक सपना देखा निबंध | Essay on maine ek sapna dekha in hindi

कल रात मैंने एक सपना देखा निबंध Essay on maine ek sapna dekha in hindi: हम बहुत बार रात में सपने देखते हैं कुछ स्वप्न मीठे तो कुछ बुरे एवं भयानक प्रकार के होते हैं. कल रात मैंने एक सपना देखा Essay on maine ek sapna dekha में स्टूडेंट्स के लिए सरल भाषा में विगत रात के एक सपने के बारे में निबंध बता रहे हैं.

कल रात मैंने एक सपना देखा Essay on maine ek sapna dekha in hindi

कल रात मैंने एक सपना देखा निबंध Essay on maine ek sapna dekha in hindi

last night i saw a dream essay: यह एक अचम्भा था. एक लकी द्रो में मुझे प्रथम स्थान मिला. इसमें डिजनीलैंड अमरीका की यात्रा बिलकुल मुफ्त थी. मैंने हवाई जहाज का टिकट मंगाया एवं आकाश से बातें करने लगा.

किन्तु यह ऊपर और ऊपर उड़ान भरने लगा तो मैं डर गया. जहाज अब उडान पर था तो एक उपग्रह से टकरा गया एवं टुकड़े टुकड़े हो गया, मैं नीचे गिरने लगा. तभी हेलीकॉप्टर जितना बड़ा मैंने एक पंछी देखा.

मैंने किसी तरह उसके पंख पकड़ लिए. वह पक्षी कुछ समय बाद एक पानी के जहाज पर उतर गया. अपनी जान बची देखकर मैं हैरान था, किन्तु ऐसा नही था. मुशिबते साथ ही आती हैं.

अचानक एक धमाके के साथ जहाज टूट गया, एक लकड़ी का तख्ता पकड़कर मैं तैरने लगा. समुद्र व्हेल मछलियों एवं शार्क से भरा हुआ था. डर के मारे मैं मम्मी मम्मी चिल्लाने लगा.

मेरी चिल्लाहट सुनकर माँ वहां आ गयी और मुझे जगाकर पूछने लगी क्या हुआ? अब मुझे समझ आया वह सब एक स्वप्न था. मैंने ईश्वर को धन्यवाद दिया कि वह सब केवल एक स्वप्न था- डरावना स्वप्न.

यह भी पढ़े-

आशा करता हूँ दोस्तों Essay on maine ek sapna dekha in hindi का यह काल्पनिक निबंध आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपकों इस एस्से में दी गयी जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों  के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *