भ्रष्टाचार क्या है अर्थ परिणाम प्रभाव व रोकने के उपाय | What Is Corruption In Hindi

भ्रष्टाचार क्या है अर्थ परिणाम प्रभाव व रोकने के उपाय What Is Corruption In Hindi : आज दुनियां की सबसे बड़ी समस्याओं में से भ्रष्टाचार एक हैं. करप्शन अर्थात भ्रष्टाचार कोई बाहरी अथवा थोपी गई समस्या न होकर देश के नागरिकों तथा सिस्टम में बैठे लोगों  का भ्रष्ट चरित्र ही हैं. आज हम जानने का प्रयत्न करेगे कि भ्रष्टाचार क्या है इसका अर्थ व परिभाषा, भ्रष्टाचार  का प्रभाव, भ्रष्टाचार का परिणाम, भ्रष्टाचार रोकने के उपाय कानून नियम आदि पर निबंध पढ़ेगे.

भ्रष्टाचार क्या है अर्थ परिणाम प्रभाव व रोकने के उपाय | What Is Corruption In Hindi

भ्रष्टाचार क्या है अर्थ परिणाम प्रभाव व रोकने के उपाय | What Is Corruption In Hindi

Here We Know About what is corruption in simple words In Hindi Language For Students & Kids They Want To Information About Corruption In India In Hindi.

भ्रष्टाचार का शाब्दिक अर्थ है- भ्रष्ट आचरण, जो कि दो शब्दों से मिलकर बना हैं. भ्रष्ट आचरण इसका अर्थ है कि ऐसा आचरण जो किसी भी दृष्टि में अनैतिक और अनुचित हो. जब कोई व्यक्ति न्याय व्यवस्था के मान्य नियमों के विरुद्ध जाकर अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए गलत आचरण करने लगता हैं. तो वह व्यक्ति भ्रष्टाचारी कहलाता हैं.

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडेक्स 2021 के नवीनतम सर्वे के अनुसार भारत को 180 देशों की सूची में 85 वां स्थान मिला हैं. भ्रष्टाचार पर निगरानी रखने वाली यह संस्था हर साल अपनी आंकलन रिपोर्ट जारी करती हैं. भारत अपने पिछले वर्ष की रिपोर्ट में भी इसी स्थान पर हैं.

भारत को इस सूची में 40 अंक मिले हैं. यदि मोदी सरकार के पिछले छः वर्षों की बात करें तो भारत की सर्वोच्च रैंक साल 2015 में 76 वां पायदान था.

भ्रष्टाचार क्या है (What Is Corruption In Hindi)

किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में भ्रष्टाचार दीमक की तरह होता हैं. जो उसे खोखला कर देता हैं. भ्रष्टाचार का अर्थ है कोई व्यक्ति अथवा संगठन अपने निर्धारित कानूनी दायरे से परे जाकर अनुचित ढंग से किसी व्यक्ति अथवा संगठन को लाभ पहुचाये तथा बदले में धन अथवा सुविधाएं प्राप्त कर सार्वजनिक हितों को नुकसान पहुचाए.

भ्रष्टाचार मुख्य रूप से चुनावों में व्यापारियों द्वारा दिए जाने वाले चंदे से आरम्भ होता हैं. प्रत्येक राजनीतिक दल को चुनाव लड़ने के लिए अपने व प्रत्याशी के प्रचार प्रसार हेतु धन की आवश्यकता होती हैं. राजनीतिक दलों को अपने इस कार्य के लिए जो धन प्राप्त होता हैं वह बड़े औद्योगिक घरानों व व्यापारियों से मिलता हैं.

इस प्रक्रिया के कारण चुनावों के पश्चात सत्ता में आने वाले दलों से व्यापारिक घराने और औद्योगिक संस्थान अनुचित लाभ उठाने का प्रयास करते हैं. और यही से आरम्भ होती हैं भ्रष्टाचार की व्यवस्था. भ्रष्टाचार के अधिकांश मामले, खरीद, अनुदान, निर्माण, लाइसेंस, परमिट आवंटन, ऋण, नियुक्ति, स्थानांतरण आदि क्षेत्रों से सम्बन्धित होते हैं.

भ्रष्टाचार रोकने के उपाय (Step To Control Corruption)

भ्रष्टाचार को रोकने के लिए अनेक कानून बने हुए हैं. इसके अंतर्गत भ्रष्टाचार निरोधक कानून सर्वाधिक महत्वपूर्ण हैं. इस कानून के प्रभावी क्रियान्वयन का दायित्व भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को सौपा गया हैं. ब्यूरो के अधिकारी किसी भी कर्मचारी अथवा अधिकारी के विरुद्ध शिकायत प्राप्त होते ही त्वरित कार्यवाही कर रंगे हाथों गिरफ्तार करते हैं.

तथा उनके विरुद्ध कानूनी कार्यवाही कर सजा दिलाते हैं. भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए सतर्कता आयुक्त प्रणाली भी लागू की हैं. इस प्रणाली के अंतर्गत प्रत्येक विभाग में एक अधिकारी को सतर्कता अधिकारी बनाया गया हैं. यह अधिकारी भ्रष्टाचार से सम्बन्धित मामलों की जांच कर उनके विरुद्ध कार्यवाही करता हैं.

सरकार ने यह निर्णय लिया है कि किसी भी मामले में आरोपित अधिकारी को क्षेत्र में महत्वपूर्ण पद पर पदस्थान नही दिया जाएगा. इसी प्रकार अन्वेषण ब्यूरों लोकायुक्त एवं निरीक्षण एवं अन्क्षेण विभाग आदि भी प्रभावी ढंग से भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने का कार्य करते हैं.

भ्रष्टाचार के परिणाम (Consequences Of Corruption)

भ्रष्टाचार के दुष्परिणामों पर निगाह डाली जाए तो यह अत्यंत भयावह और डरावने लगते हैं. इस व्यवस्था से उपजने वाले कुछ परिणाम इस प्रकार हैं.

  • सार्वजनिक निर्माण कार्यों का स्तर घटिया होता है तथा अनेक बार ये कार्य केवल कागजों पर ही होकर रह जाते हैं.
  • योग्य और निष्ठावान व्यक्तियों को समुचित अवसर नहीं मिल पाते हैं.
  • गरीब व्यक्तियों के जीवन जीने के प्राकृतिक अधिकारों पर प्रतिकूल असर पड़ता हैं.
  • समाज में आर्थिक विषमता पनपती हैं. इससे गरीबी अमीरी की खाई अधिक चौड़ी होती हैं.
  • काले धन का अम्बार लगता हैं. इस कारण देश की अर्थव्यवस्था पंगु बन जाती हैं.
  • बेरोजगारी को बढ़ावा मिलता हैं.
  • आम आदमी का सरकारी तंत्र पर विश्वास घटता हैं इससे जनहित के मुद्दों पर लोगों में असंतोष फैलता हैं.
  • उच्च स्तरों पर पनपने वाला भ्रष्टाचार निचले स्तर के कर्मचारियों को निकम्मा और कामचोर बना देता हैं.

भ्रष्टाचार को समाप्त करने का तरीका (Measures To Control Corruption)

  • नागरिकों को सरकारी निर्णयों प्रक्रियाओं एवं गतिविधियों को जानने का पूर्ण अधिकारी होना चाहिए.
  • दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति को त्वरित न्यायिक प्रक्रिया द्वारा कठोर दंड दिए जाने की आवश्यकता हैं.
  • सरकारी निर्णयों में कम से कम गोपनीयता होनी चाहिए अधिकांश मामले पारदर्शी रहे.
  • भ्रष्ट लोक सेवकों की गलत तरीकों से अर्जित की गई सम्पति कानूनी प्रक्रिया के अंतर्गत जब्त कर लेनी चाहिए.
  • उच्च स्तर पर लिए जाने वाले निर्णय त्वरित गति से नीचे तक पहुचने चाहिए.
  • सार्वजनिक महत्व के पदों पर संदिग्ध आचरण वाले लोक सेवकों को पदस्थापित नहीं किया जाना चाहिए.
  • बेनामी सौदा निषेध अधिनियम 1988 लप तत्काल प्रभाव से लागू किये जाने चाहिए.
  • राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे की पूरी तरह जांच पड़ताल की जानी चाहिए.
  • विमुद्रीकरण प्रक्रिया में काला धन बाहर लाया जाना चाहिए.

भ्रष्टाचार पर विमुद्रीकरण का प्रभाव (Impact Of Demonetisation On Corruption)

भ्रष्टाचार की रोकथाम व भारत के विभिन्न भागों में नकली मुद्रा को निष्प्रभावी करने के लिए केंद्र सरकार ने एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए 8 नवम्बर 2016 को पांच सौ व एक हजार रूपये के नोटों का विमुद्रीकरण कर दिया हैं. इस निर्णय का मुख्य उद्देश्य है काले धन का पता लगाना, भ्रष्टाचार को रोकना, आतंकवाद का पोषण कर रही नकली मुद्रा को निष्प्रभावी बनाना व चुनावों में काले धन के प्रयोग को बंद करना.

यह निर्णय भारतीय अर्थव्यवस्था के इतिहास में काले धन की सफाई अभियान के रूप में जाना जाता हैं. भारत में लोग अधिकांशतः नकद लेन देन के अभ्यस्त हैं. इस प्रकृति का समाज कंटकों द्वारा कालाधन अर्जन करने के लिए दुरूपयोग किया जाने लगा जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था को कमजोर बना दिया हैं.

बेहिसाब काले धन के प्रवाह से एक समान्तर अर्थव्यवस्था खड़ी कर दी गई जिससे राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि और विकास दोनों अवरुद्ध होने की आशंका बनने लगी. विमुद्रीकरण से एक ओर काले धन की समस्या पर लगाम लगेगी दूसरी ओर भारत में आतंकी गतिविधियों के नियंत्रण में मदद मिलेगी क्योंकि आतंकवादी अधिकांशतः नकली मुद्रा की सहायता से देश के कोने कोने में आतंकवादी गतिविधियाँ कर रहे थे.

FAQ

भ्रष्टाचार के मामलों पर निगरानी करने वाली अंतर्राष्ट्रीय संस्था कौनसी हैं?

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल

विश्व के तीन सर्वाधिक भ्रष्टाचार वाले देश कौनसे हैं?

अफगानिस्तान, उत्तरी कोरिया और यमन

सबसे कम करप्शन वाले देश कौनसे हैं?

डेनमार्क, फिनलैंड और न्यूजीलैंड

यह भी पढ़े-

What Is Corruption In Hindi पर आज का यह निबंध (Essay) कैसा लगा, कमेंट कर जरुर भारत में भ्रष्टाचार की समस्या पर निबंध इस टॉपिक से सम्बन्धित आपकों किसी प्रकार की जानकारी चाहिए, तो कमेंट कर अवश्य बताए.

Leave a Comment

Your email address will not be published.